चीन-पाकिस्तान इकॉनोमिक कॉरिडोर (CPEC)

Sansar LochanIndia and its neighboursLeave a Comment

हाल ही में “चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा प्राधिकरण” (China-Pakistan Economic Corridor Authority) के सन्दर्भ में दोहराया है कि कनेक्टिविटी परियोजनाओं में क्षेत्रीय स्वायत्तता का ध्यान रखा जाना चाहिए। चीन-पाकिस्तान इकॉनोमिक कॉरिडोर (CPEC) के बारे में CPEC चीन के One Belt One Road (OBOR) कार्यक्रम का एक अंग है. CPEC 51 अरब डॉलर की कई परियोजनाओं का समूह है. प्रस्तावित परियोजना के … Read More

जानें संयुक्त राष्ट्र संघ के अंग के बारे में

Sansar LochanWorldLeave a Comment

द्वितीय विश्वयुद्ध की विध्वंसता ने नेताओं को एक अंतर्राष्ट्रीय संस्था की आवश्यकता का अनुभव कराया। 24 अक्टूबर 1945 को सेन फ्रांसिस्को सम्मेलन में 50 देशों ने संयुक्त राष्ट्र संघ के चार्टर पर हस्ताक्षर किये और संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना हुई। वर्तमान में इसके 193 सदस्य हैं, इसका प्रधान कार्यालय न्यूयॉर्क में है। संयुक्त राष्ट्र विभिन्‍न वैश्विक मामलों के सम्बन्ध … Read More

क्यूबा मिसाइल संकट की पृष्ठभूमि

Sansar LochanWorldLeave a Comment

अक्टूबर 2022 में “क्यूबा मिसाइल संकट” को 60 वर्ष हो गए हैं। इसी संकट से विश्व को पता चला कि परमाणु युद्ध कितनी सरलता से शुरू किया जा सकता है। क्यूबा संकट की पृष्ठभूमि क्यूबा मध्य अमेरिका में वेस्टइंडीज का सबसे बड़ा टापू है। 1959 से पूर्व वहां अमेरिकी समर्थित सरकार थी लेकिन 2 जून 1959 को फिडेल कास्त्रो के … Read More

नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइन

Sansar LochanInternational AffairsLeave a Comment

स्वीडन के तट रक्षकों ने 29 सितंबर को कहा कि उन्होंने बाल्टिक के माध्यम से रूस से यूरोप तक गैस ले जाने के लिए डिज़ाइन की गई नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइनों (नॉर्ड स्ट्रीम 1 और नॉर्ड स्ट्रीम 2) में बोर्नहोम (Bornholm) द्वीप के करीब चौथा रिसाव देखा है। स्वीडिश नेशनल सिस्मिक नेटवर्क के अनुसार यह रिसाव पाइपलाइन के निकट हुए दो … Read More

[Sansar Editorial 2022] आर्थिक संकट से जूझ रहे श्रीलंका को मिला भारत का हाथ

Sansar LochanIndia and non-SAARC countries, Sansar Editorial 2022Leave a Comment

भारत ने गंभीर वित्तीय संकट से जूझ रहे श्रीलंका को आवश्यक सहायता प्रदान करने के लिए मदद का हाथ बढ़ाया है. भारत के शिक्षा मंत्रालय ने कहा कि भारत “भारतीय ऋण योजना” के अंतर्गत श्रीलंका के विद्यालयों (schools) को पाठ्यपुस्तकों (textbooks) के मुद्रण हेतु आवश्यक कागज और स्याही सहित आवश्यक कच्चा माल प्रदान करेगा. अनुमान है कि आगामी 4 वर्षों … Read More

[Sansar Editorial 2022] भारत और बांग्लादेश के बीच संबंध

Sansar LochanInternational Affairs, Sansar Editorial 2022Leave a Comment

हाल ही में बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने भारत यात्रा की। इस दौरान दोनों देशों ने आपसी सहयोग को आगे बढ़ाने के लिए कई पहलों की घोषणा की। इस आर्टिकल में हम पढ़ेंगे कि इन दोनों देशों के बीच हालिया क्या समझौते (agreements) हुए एवं भारत और बांग्लादेश के बीच कैसे संबंध हैं. भारत और बांग्लादेश के बीच प्रमुख … Read More

भारत और म्यांमार संबंध | India–Myanmar relations

Sansar LochanIndia and its neighbours1 Comment

अंतर्राष्ट्रीय संबंध | मेन्स पेपर 2 : द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक समूह और भारत से जुड़े समझौते – भारत और म्यांमार संदर्भ म्यांमार में हुए तख़्तापलट ने म्यांमार के सैन्य शासन (जुंटा) की तानाशाही के विरुद्ध विरोध प्रदर्शनों को भड़काया और देशव्यापी बहिष्कार, विरोध एवं अवज्ञा आंदोलन शुरू हुए.  म्यांमार में संकट तख़्तापलट के बाद से लगभग 40,000 लोग म्यांमार … Read More

[Sansar Editorial] रूस-यूक्रेन संकट की पृष्ठभूमि

Sansar LochanInternational Affairs, Sansar Editorial 2022Leave a Comment

रूस और यूक्रेन के बीच जो युद्ध हो रहा है इससे हम सभी अवगत हैं. क्या आप इसकी पृष्ठभूमि (background) जानते हैं? चलिए आज जानने की कोशिश करते हैं कि रूस-यूक्रेन war का कारण क्या है? क्या है इन दोनों के बीच का इतिहास और इससे भारत पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा – एक UPSC student के चश्मे से. रूस-यूक्रेन … Read More

[Sansar Editorial] अफगानिस्तान तालिबान के कब्जे में : भारत की रणनीति

Sansar LochanIndia and its neighbours, Sansar Editorial 2021Leave a Comment

अफगानिस्तान (Afghanistan) में 20 वर्ष के पश्चात् एक बार पुनः तालिबान (Taliban) का वर्चस्व आ गया है. हाल ही में काबुल (Kabul) पर तालिबान के कब्जे के पश्चात् राष्ट्रपति अशरफ गनी (Ashraf Ghani) देश छोड़कर भागना पड़ा और वहाँ की जनता भी अपनी जान बचाने में जुट गए हैं. अफगानिस्तान में तालिबान का कब्जा तो हो गया, परन्तु अब आगे … Read More

[Sansar Editorial] कुवैत का अप्रवासी कोटा मसौदा विधेयक – भारतीय श्रमिकों पर संकट

Sansar LochanIndia and non-SAARC countries, Sansar Editorial 2020Leave a Comment

कुवैत की नेशनल असेंबली की कानूनी और विधायी समिति ने अप्रवासी कोटा मसौदा विधेयक (draft expat quota bill) को स्वीकृति दे दी है, जिसमें यह कहा गया है कि भारतीयों की आबादी वहाँ की कुल जनसंख्या से 15 प्रतिशत से अधिक नहीं होनी चाहिए. अब इस विधेयक को संबंधित समिति में भेजा जाएगा ताकि एक व्यापक योजना बनाई जाए. नेशनल … Read More