USTR ने भारत को विकासशील देश की सूची से हटाया

Sansar LochanWorldLeave a Comment

USTR takes India off developing country list संयुक्त राज्य व्यापार प्रतिनिधि (United States Trade Representative – USTR) कार्यालय ने एक सूचना प्रकाशित की है जिसमें उन सूचियों में संशोधन किया गया है जिनमें वैसे विकासशील एवं कम विकसित देशों के नाम हैं जो काउंटरवेलिंग ड्यूटीज (countervailing duties – CVDs) से सम्बंधित जाँच-पड़ताल के सन्दर्भ में बेहतर व्यवहार के लिए योग्य … Read More

पश्चिम एशिया शान्ति योजना – West Asia Peace Plan

Sansar LochanWorldLeave a Comment

West Asia Peace Plan Explained in Hindi पिछले दिनों अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रम्प ने पश्चिम एशिया के लिए एक शान्ति योजना (West Asia Peace Plan) का अनावरण किया. इस योजना का उद्देश्य इजराइल और फिलिस्तीनियों के बीच स्थगित वार्ता को फिर से जीवित करना है. पश्चिम एशिया शान्ति योजना के मुख्य तत्त्व इसमें एक स्वतंत्र फिलिस्तीन देश के निर्माण तथा … Read More

ओस्लो समझौता – Oslo Accords Explained

Sansar LochanWorldLeave a Comment

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प ने घोषणा की है कि वे अगले सप्ताह पश्चिमी एशिया के लिए एक शांति योजना घोषित करेंगे. इस पर फिलिस्तीनियों ने धमकी दी है कि यदि ट्रम्प ऐसा करते हैं तो वे ओस्लो समझौते (Oslo Accords) से बाहर निकल जाएँगे. फिलिस्तीनियों की आशंकाएँ फिलिस्तीनियों की सबसे बड़ी चिंता यह है कि हो सकता है प्रस्तावित … Read More

परमाणु अप्रसार संधि (Nuclear Non-Proliferation Treaty – NPT) in Hindi

Sansar LochanWorldLeave a Comment

Non-Proliferation Treaty (NPT) in Hindi ईरान ने धमकी दी है कि यदि यूरोप के देश उसके परमाणु कार्यक्रम के मामले को संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद् में ले जाएँगे तो वह परमाणु अप्रसार संधि (Nuclear Non-Proliferation Treaty – NPT) से बाहर निकल जाएगा. विवाद क्या है? ब्रिटेन, फ़्रांस और जर्मनी ने ईरान पर आरोप लगाया है कि उसने 2015 की … Read More

होरमुज़ शान्ति वार्ता और होरमुज़ जलडमरूमध्य क्या है?

Sansar LochanWorldLeave a Comment

पिछले दिनों ईरान में होरमुज़ शान्ति वार्ता संपन्न हुई. इस वार्ता में ओमान और भारत समेत प्रमुख क्षेत्रीय देशों के अतिरिक्त अफगानिस्तान और चीन ने भी प्रतिभागिता की. होरमुज़ शान्ति वार्ता क्या है? यह एक पहल है जिसका नेतृत्व ईरान कर रहा है. इसका उद्देश्य होरमुज़ जलडमरूमध्य के विषय में सर्वमान्य निर्णय लेना है. ज्ञातव्य है कि इसी जलडमरूमध्य से … Read More

प्रोटेक्टिंग पॉवर की संकल्पना – 1961 और 1963 की वियना संधि

Sansar LochanWorldLeave a Comment

आज हम जानेंगे कि वैश्विक कूटनीति के सम्बन्ध प्रोटेक्टिंग पॉवर (Protecting Power) किसे कहते हैं और क्या है 1961 और 1963 की वियना संधि (Vienna Convention). पृष्ठभूमि अमेरिका द्वारा ईरान के मेजर जनरल कासिम सुलेमानी की हत्या की जाने के पश्चात् ईरान सरकार ने तेहरान में स्थित स्विट्ज़रलैंड के दूतावास में अपना विरोध पंजीकृत कर दिया है. पंजीकरण के लिए … Read More

वैश्विक शरणार्थी मंच – Global Refugee Forum

Sansar LochanWorldLeave a Comment

पिछले दिनों वैश्विक शरणार्थी मंच (Global Refugee Forum) की पहली बैठक स्विट्ज़रलैंड के जेनेवा नगर में आयोजित हुई. इसका आयोजन संयुक्त रूप से संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी प्राधिकरण (United Nations Refugee Agency – UNHCR) और स्विट्ज़रलैंड सरकार ने किया. वैश्विक शरणार्थी मंच (Global Refugee Forum) क्या है? यह एक वैश्विक मंच है जिसमें शरणार्थियों के प्रति अंतर्राष्ट्रीय दायित्व को पूरा करने … Read More

अमेरिका और चीन के बीच व्यापार युद्ध – Trade War between US-China

Sansar LochanInternational Affairs, World2 Comments

अमेरिका-चीन के व्यापार के विभिन्न आयाम हैं और इसमें कई प्रकार की जटिलताएं विद्यमान हैं. इन जटिलताओं का व्यापक प्रभाव वैश्विक अर्थव्यवस्था पर पड़ता है जिसमें उभरते हुए बाजार एवं व्यापार असंतुलन भी शामिल हैं. इसके पीछे कारण यह है कि पिछले 25 सालों से चीन का दबदबा जगजाहिर है. अमेरिका और चीन के बीच व्यापारिक प्रतिस्पर्धा अब शीतयुद्ध में … Read More

अजोव सागर का विवाद – Azov Sea Dispute Explained in Hindi

Sansar LochanInternational Affairs, World2 Comments

हाल ही में रूस ने विवादित अजोव सागर (Azov Sea) में यूक्रेन के तीन नौसैनिक जहाज़ों और 20 से अधिक जहाजकर्मियों को अपने आधिपत्य में ले लिया है और इस प्रकार एक बार फिर अजोव सागर को लेकर रूस और यूक्रेन के बीच की तनातनी सामने आ गयी है. आइये जानते हैं Azove Sea Dispute के बारे में. Azov Sea … Read More

कैस्पियन सागर से सम्बन्धित संधि – Caspian Sea Breakthrough Treaty

RuchiraWorld1 Comment

हाल ही में कैस्पियन सागर के पाँच तटवर्ती देशों – अज़रबेजान, ईरान, कजाखस्तान, रूस और तुर्कमेनिस्तान – ने कैस्पियन सागर के कानूनी दर्जे पर एक महत्त्वपूर्ण समझौते पर हस्ताक्षर किये. पृष्ठभूमि 5 देशों ने सोवियत संघ के विघटन के बाद कैस्पियन सागर के कानूनी दर्जे को परिभाषित करने का प्रयास किया है ताकि नई ड्रिलिंग और पाइपलाइनों के लिए जल … Read More