Sansar डेली करंट अफेयर्स, 18 February 2019

Sansar LochanSansar DCALeave a Comment

Sansar Daily Current Affairs, 18 February 2019 GS Paper 1 Source: The Hindu Topic : Scientists discover massive mountains under Earth’s crust संदर्भ वैज्ञानिकों ने हाल ही में यह पता लगाया है कि पृथ्वी के मेंटल में विशाल पहाड़ विद्यमान हैं. इस खोज से पृथ्वी की रचना के विषय में हमारी समझ में एक बड़ा अंतर आ सकता है. यह खोज क्या … Read More

तृतीय गोलमेज सम्मेलन – Third Round Table Conference

Dr. Sajiva#AdhunikIndiaLeave a Comment

1932 में पुनः एक गोलमेज सम्मेलन लंदन में हुआ. तृतीय गोलमेज सम्मेलन (Third Round Table Conference) का आयोजन 17 नवम्बर 1932 से 24 दिसम्बर 1932 तक किया गया. इस सम्मेलन में केवल 46 प्रतिनिधियों ने भाग लिया. तृतीय गोलमेज सम्मेलन में मुख्यतः प्रतिक्रियावादी तत्वों ने ही भाग लिया. भारत की कांग्रेस तथा ब्रिटेन की लेबर पार्टी ने इस सम्मेलन में … Read More

Sansar डेली करंट अफेयर्स, 16 February 2019

Sansar LochanSansar DCA3 Comments

Sansar Daily Current Affairs, 16 February 2019 GS Paper 2 Source: The Hindu Topic : MFN status संदर्भ हाल ही में पुलवामा में आतंकवादी कार्रवाई के पश्चात् भारत ने पाकिस्तान को 1996 में दिए गये मोस्ट फेवर्ड नेशन के दर्जे को वापस ले लिया है और पाकिस्तान को चेतावनी दी है कि यदि वह  भारत के विरुद्ध आतंकी कार्रवाई का समर्थन करता … Read More

साम्प्रदायिक पंचाट – Communal Award in Hindi

Dr. Sajiva#AdhunikIndiaLeave a Comment

16 अगस्त, 1932 की ब्रिटिश प्रधानमंत्री रेम्जे मेकडोनाल्ड ने “साम्प्रदायिक पंचाट” या “साम्प्रदायिक निर्णय” (Communal Award or Macdonald Award) की घोषणा की. यह अंग्रेजों द्वारा भारत में अपनाई गई “फूट डालो और राज करो” की नीति का एक अन्य उदाहरण था. साम्प्रदायिक पंचाट भारतीय राष्ट्रवाद के विकास को दबाने के लिए अंग्रेजों ने बल प्रयोग के अतिरिक्त छल-प्रपंच एवं कूटनीति … Read More

द्वितीय गोलमेज सम्मेलन – Second Round Table Conference

Dr. Sajiva#AdhunikIndia1 Comment

सरकार ने कांग्रेस को द्वितीय गोलमेज सम्मेलन (Second Round Table Conference) में सम्मिलित होने के लिए मनाने के प्रयास प्रारम्भ कर दिए. इसके तहत वाइसरॉय से वार्ता का प्रस्ताव दिया गया. इसके तहत वाइसरॉय से चर्चा के लिए आधिकारिक रूप से नियुक्त किया. गाँधी जी और वाइसरॉय इरविन की बातचीत 19 फरवरी, 1931 से शुरू हुई. 15 दिन की बातचीत … Read More

Sansar डेली करंट अफेयर्स, 15 February 2019

Sansar LochanSansar DCA2 Comments

Sansar Daily Current Affairs, 15 February 2019 GS Paper 2 Source: The Hindu Topic : World Sustainable Development Summit संदर्भ नई दिल्ली स्थित ऊर्जा एवं संसाधन संस्थान (The Energy and Resources Institute – TERI) द्वारा विश्व सतत विकास शिखर सम्मेलन, 2019 का आयोजन हो रहा है. विश्व सतत विकास शिखर सम्मेलन क्या है? यह TERI का एक मूर्धन्य वार्षिक आयोजन है. यह … Read More

प्रथम गोलमेज सम्मेलन (12 नवम्बर, 1930 – 19 जनवरी, 1931)

Dr. Sajiva#AdhunikIndiaLeave a Comment

जिस दौरान पूरे भारत में सविनय अवज्ञा आन्दोलन प्रगति पर था और सरकार का दमन चक्र तेजी से चल रहा था, उसी समय वायसराय लॉर्ड इर्विन और मि. साइमन ने सरकार पर यह दबाव डाला कि वह भारतीय नेताओं तथा विभिन्न वर्गों के प्रतिनिधियों से सलाह लेकर भारत की संवैधानिक समस्याओं का निर्णय करे. इसी उद्देश्य से लन्दन में तीन … Read More

Sansar डेली करंट अफेयर्स, 14 February 2019

Sansar LochanSansar DCALeave a Comment

Sansar Daily Current Affairs, 14 February 2019 GS Paper 2 Source: The Hindu Topic : Trans fatty acids (TFA) संदर्भ वाणिज्यिक रूप से उपलब्ध खाद्य पदार्थों में ट्रांस-फैटी अम्लों (TFA) के हानिकारक प्रभावों के प्रति जनसाधारण में जागरूकता उत्पन्न करने तथा स्थानीय खाद्य उद्योग को TFA के लिए निर्धारित वर्तमान वैधानिक सीमाओं को लागू करने हेतु प्रोत्साहित करने के लिए केंद्र सरकार … Read More

सविनय अवज्ञा आन्दोलन – Salt or Dandi March, Gandhi-Irwin Pact in Hindi

Dr. Sajiva#AdhunikIndia, Modern History8 Comments

Subhas_Chandra_Bose_with_Gandhi_Ji

असहयोग आन्दोलन के पश्चात् भी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का संघर्ष चलता रहा और 1930 ई. तक कांग्रेस ने भारत की स्वतंत्रता के लिए सरकार से कई माँगें कीं, लेकिन कांग्रेस की सभी माँगें सरकार द्वारा ठुकरा दी जाती थीं. जनता के मन में यह बात घर कर गई थी कि सरकार को कुछ करने के लिए मजबूर किया ही जाना चाहिए. … Read More

जिन्ना की चौदह मांगें (Fourteen points of Jinnah)

Dr. Sajiva#AdhunikIndia, Modern History1 Comment

1928 ई. के राष्ट्रीय सम्मलेन में नेहरु रिपोर्ट को स्वीकार कर लिया गया था. नेहरु रिपोर्ट के बारे में जिन्ना ने यह कहा था कि – “नेहरु रिपोर्ट को हिंदुओं की ओर से मुस्लिम प्रस्तावों का जवाब था.” जिन्ना ने कांग्रेस प्रस्ताव को, जिसमें नेहरु रिपोर्ट को स्वीकार किया गया था, मुस्लिम सम्प्रदाय का अपमान समझा और यह निष्कर्ष निकाला … Read More