[Sansar Editorial] लद्दाख का अतीतः संक्षिप्त प्रदर्शिका

Sansar LochanSansar Editorial 2020Leave a Comment

भारत के काश्मीर और बाल्टिस्तान के पूरब में तथा चीन के सिनकियांग के दक्षिण और चीन (तिब्बत) के पश्चिम में एक उच्च पर्वतीय प्रदेश लद्दाख नाम से है. लद्दाख में आज तिब्बती वंशों का बाहुल्य है पर पुराकाल में वहाँ मोन और दरद जातियों के समाजों का अधिकार था. उसके पूरब में शांगशुंग समाज का क्षेत्र था जिसे बाद में … Read More

[Sansar Editorial] 20 लाख करोड़ रु. के आर्थिक पैकेज में किसको क्या मिला?

Sansar LochanSansar Editorial 2020Leave a Comment

आत्म निर्भर भारत के तहत आर्थिक पैकेज – वित्त मंत्री सीतारमण के वक्तव्य का सार आत्म निर्भर भारत के तहत आर्थिक पैकेज का ध्यान इस बात पर है कि कैसे कर्मचारियों और कम्पनियों के हाथ में अधिक से अधिक पैसे आयें जिससे वे अधिक खर्चा कर सकें और अर्थव्यवस्था की गाड़ी फिर से पटरी पर आ सके. नॉन सैलरीड इनकम … Read More

[Sansar Editorial] बैंकों के विलय से कर्मचारियों और ग्राहकों पर प्रभाव

Sansar LochanBanking, Sansar Editorial 20201 Comment

आपने समाचारों में पढ़ा ही होगा कि अप्रैल 2020 से छह बैंक सिंडीकेट बैंक, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया, इलाहाबाद बैंक, कारपोरेशन बैंक और आंध्रा बैंक का अस्तित्व समाप्त हो चुका है. इन बैंकों का विलय 4 बैंकों में कर दिया गया है. ये जो चार बैंक होंगे, उनके नाम इस प्रकार हैं – केनरा बैंक, पंजाब … Read More

[Sansar Editorial] COVID-19 के चलते कृषि क्षेत्र कितना प्रभावित हुआ?

Sansar LochanSansar Editorial 20201 Comment

कृषि क्षेत्र गत कई वर्षों से संकट को झेल रहा है और कृषि से होने वाली कमाई में अनवरत गिरावट देखने को मिली है. परिणामस्वरूप, कृषि पर निर्भर परिवारों की बचत में कमी आई है. इसलिए कृषि क्षेत्र में निवेश भी घट रहा है और कृषि क्षेत्र की विकास दर भी लगातार पतन के राह पर है. यदि आँकड़ों की … Read More

आतंकवाद के विरुद्ध सुरक्षा बलों की सराहनीय भूमिका

Sansar LochanSansar Editorial 2020Leave a Comment

आतंकवाद के विरुद्ध कई सख्ती और कामयाब कार्रवाइयों के पश्चात् भी हर कुछ दिन के पश्चात् जिस प्रकार के आतंकी हमले समक्ष आते रहते हैं, उससे यही प्रतीत होता है कि अब भी इस दिशा में बहुत कुछ कुछ ठोस किया जाना शेष है. जम्मू-कश्मीर में पुलवामा जिले के त्राल क्षेत्र में सुरक्षा बलों ने गुप्त सूचना मिलने पर हाल … Read More

[Sansar Editorial] सिख विरोधी दंगे को लेकर जस्टिस ढींगरा समिति रिपोर्ट

Sansar LochanSansar Editorial 20201 Comment

1984 के सिख विरोधी दंगों के मामलों की जांच करने वाली विशेष जांच दल यानी एसआईटी (Special Investigation Team  – SIT) की रिपोर्ट आ गई है. यह रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट में जमा की गई है. विशेष जांच दल की रिपोर्ट में पुलिस प्रशासन और यहां तक कि न्यायपालिका की भूमिका पर उंगली उठाते हुए यह कहा गया है कि अपराधियों … Read More

[Sansar Editorial] कौन हैं ब्रू शरणार्थी? त्रिपुरा और मिजोरम सरकार का ब्रू-रियांग समझौता

Sansar LochanSansar Editorial 2020, UncategorizedLeave a Comment

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में 16 जनवरी को दिल्ली में भारत सरकार, त्रिपुरा और मिजोरम सरकार और ब्रू-रियांग प्रतिनिधियों के बीच में एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए. यह समझौता मिजोरम के ब्रू-रियांग शरणार्थियों को त्रिपुरा में बसाने के लिए चार पक्षीय समझौता है. इस नए समझौते से करीब 23 वर्षों से चल रही बड़ी मानव समस्या … Read More

[Sansar Editorial] WHO द्वारा निर्गत वैश्विक स्वास्थ्य सम्बन्धी 13 सबसे बड़ी चुनौती

Sansar LochanSansar Editorial 2020Leave a Comment

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वैश्विक स्वास्थ्य से सम्बंधित 13 सबसे बड़ी चुनौतियों की सूची निर्गत की है. ये चुनौतियाँ हैं – जलवायु संकट, संघर्ष और संकट के समय स्वास्थ्य की देखभाल, स्वास्थ्य सुविधा में समानता, औषधियों की उपलब्धता बढ़ाना, संक्रामक रोग, महामारियों के लिए तैयारी, खतरनाक उत्पाद, स्वास्थ्यकर्मियों में निवेश, 10 से 19 वर्ष के बच्चों को सुरक्षित रखना, लोगों … Read More

[Sansar Editorial] आचार समिति – राज्य सभा, लोक सभा, विधान सभा में इसकी भूमिका

RuchiraIndian Constitution, Sansar Editorial 2020Leave a Comment

राज्यसभा में समितियों की एक सुसंगत प्रणाली है. इन्हीं में से एक समिति है आचार समिति (Committees on Ethics). राज्यसभा की आचार समिति स्थाई समिति की श्रेणी में आती है. राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू चाहते हैं कि आचार समिति को लेकर लोगों में जागरूकता बढ़े. हाल ही में सभापति एम वेंकैया नायडू ने आचार समिति के कामकाज की … Read More

[Sansar Editorial] 2021 की जनगणना में क्या है खास? – सेन्सस से जुड़े मुख्य तथ्य

RuchiraSansar Editorial 2020Leave a Comment

किसी भी देश के नीति निर्धारण के लिए देश के नागरिकों की सही जनसंख्या का पता होना बहुत जरूरी है. सामाजिक-आर्थिक जानकारी के सही आंकड़ों की बदौलत कमजोर से कमजोर व्यक्ति तक पहुंचा जा सकता है और हर तबके के लिए सही नीति बनाई जा सकती है. यह प्रक्रिया हर 10 साल में की जाती है. वक्त के साथ जनगणना … Read More