ओस्लो समझौता – Oslo Accords Explained

Sansar LochanWorldLeave a Comment

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प ने घोषणा की है कि वे अगले सप्ताह पश्चिमी एशिया के लिए एक शांति योजना घोषित करेंगे. इस पर फिलिस्तीनियों ने धमकी दी है कि यदि ट्रम्प ऐसा करते हैं तो वे ओस्लो समझौते (Oslo Accords) से बाहर निकल जाएँगे. फिलिस्तीनियों की आशंकाएँ फिलिस्तीनियों की सबसे बड़ी चिंता यह है कि हो सकता है प्रस्तावित … Read More

परमाणु अप्रसार संधि (Nuclear Non-Proliferation Treaty – NPT) in Hindi

Sansar LochanWorldLeave a Comment

Non-Proliferation Treaty (NPT) in Hindi ईरान ने धमकी दी है कि यदि यूरोप के देश उसके परमाणु कार्यक्रम के मामले को संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद् में ले जाएँगे तो वह परमाणु अप्रसार संधि (Nuclear Non-Proliferation Treaty – NPT) से बाहर निकल जाएगा. विवाद क्या है? ब्रिटेन, फ़्रांस और जर्मनी ने ईरान पर आरोप लगाया है कि उसने 2015 की … Read More

पारस्परिक क्षेत्र (reciprocating territory) और सुपीरियर न्यायालय क्या होते हैं?

RuchiraIndia and non-SAARC countriesLeave a Comment

UAE has been declared ‘reciprocating territory’ by India पिछले सप्ताह विधि एवं न्याय मंत्रालय ने एक असाधारण राजपत्र अधिसूचना निर्गत की जिसमें संयुक्त अरब अमीरात को नागरिक प्रक्रिया संहिता, 1908 (Civil Procedure Code, 1908) के अनुभाग 44A के अंतर्गत एक “पारस्परिक क्षेत्र” (reciprocating territory) अर्थात् वैसा भूक्षेत्र घोषित किया गया जहाँ भारत के न्यायालयों द्वारा पारित आदेश लागू हो सकते … Read More

भारत और पाकिस्तान के बीच व्यापार ठप हो जाने के कारण हजारों प्रभावित

Sansar LochanIndia and its neighbours1 Comment

India-Pakistan trade freeze hits thousands: Report भारत और पाकिस्तान के बीच व्यापार ठप हो जाने के कारण सीमा पर रहने वाले लोगों पर क्या प्रभाव पड़ा है इसपर प्रकाश डालते हुए एक प्रतिवेदन “उद्योग एवं आर्थिक मूलाधार अनुसंधान ब्यूरो” (Bureau of Research on Industry and Economic Fundamentals – BRIEF) द्वारा प्रकाशित किया गया है जिसका शीर्षक “एकपक्षीय निर्णय, द्विपक्षीय क्षति” … Read More

होरमुज़ शान्ति वार्ता और होरमुज़ जलडमरूमध्य क्या है?

Sansar LochanWorldLeave a Comment

पिछले दिनों ईरान में होरमुज़ शान्ति वार्ता संपन्न हुई. इस वार्ता में ओमान और भारत समेत प्रमुख क्षेत्रीय देशों के अतिरिक्त अफगानिस्तान और चीन ने भी प्रतिभागिता की. होरमुज़ शान्ति वार्ता क्या है? यह एक पहल है जिसका नेतृत्व ईरान कर रहा है. इसका उद्देश्य होरमुज़ जलडमरूमध्य के विषय में सर्वमान्य निर्णय लेना है. ज्ञातव्य है कि इसी जलडमरूमध्य से … Read More

प्रोटेक्टिंग पॉवर की संकल्पना – 1961 और 1963 की वियना संधि

Sansar LochanWorldLeave a Comment

आज हम जानेंगे कि वैश्विक कूटनीति के सम्बन्ध प्रोटेक्टिंग पॉवर (Protecting Power) किसे कहते हैं और क्या है 1961 और 1963 की वियना संधि (Vienna Convention). पृष्ठभूमि अमेरिका द्वारा ईरान के मेजर जनरल कासिम सुलेमानी की हत्या की जाने के पश्चात् ईरान सरकार ने तेहरान में स्थित स्विट्ज़रलैंड के दूतावास में अपना विरोध पंजीकृत कर दिया है. पंजीकरण के लिए … Read More

वैश्विक शरणार्थी मंच – Global Refugee Forum

Sansar LochanWorldLeave a Comment

पिछले दिनों वैश्विक शरणार्थी मंच (Global Refugee Forum) की पहली बैठक स्विट्ज़रलैंड के जेनेवा नगर में आयोजित हुई. इसका आयोजन संयुक्त रूप से संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी प्राधिकरण (United Nations Refugee Agency – UNHCR) और स्विट्ज़रलैंड सरकार ने किया. वैश्विक शरणार्थी मंच (Global Refugee Forum) क्या है? यह एक वैश्विक मंच है जिसमें शरणार्थियों के प्रति अंतर्राष्ट्रीय दायित्व को पूरा करने … Read More

अमेरिका और चीन के बीच व्यापार युद्ध – Trade War between US-China

Sansar LochanInternational Affairs, World2 Comments

अमेरिका-चीन के व्यापार के विभिन्न आयाम हैं और इसमें कई प्रकार की जटिलताएं विद्यमान हैं. इन जटिलताओं का व्यापक प्रभाव वैश्विक अर्थव्यवस्था पर पड़ता है जिसमें उभरते हुए बाजार एवं व्यापार असंतुलन भी शामिल हैं. इसके पीछे कारण यह है कि पिछले 25 सालों से चीन का दबदबा जगजाहिर है. अमेरिका और चीन के बीच व्यापारिक प्रतिस्पर्धा अब शीतयुद्ध में … Read More

BIMSTEC की स्थापना एवं स्वरूप और भारतीय हित

Sansar LochanIndia and its neighbours, International AffairsLeave a Comment

30 मई, 2019 को अपनी दूसरी पारी में प्रधानमन्त्री पद की शपथ लेने के अवसर पर नरेंद्र मोदी ने BIMSTEC के नेताओं को आमंत्रित करने का निर्णय लिया है. साथ ही इस अवसर पर किर्गिस्तान और मॉरिशस के राष्ट्र प्रमुखों को भी बुलाया गया है. विशेषज्ञों का कहना है कि प्रधानमन्त्री ने ऐसा जान-बूझकर किया है जिससे कि बिम्सटेक देशों … Read More

[Sansar Editorial] भारत और अमेरिका के बीच सम्बन्ध – India-US Relations

Sansar LochanIndia and non-SAARC countries, Sansar Editorial 20191 Comment

त युद्ध के बाद की अवधि में आर्थिक सुधारों के साथ अमेरिका के साथ भारत के सम्बन्ध सुदृढ़ हुए. अमेरिका बाजार तक पहुँचने और वाणिज्यिक और सैन्य संबंधों को भी प्रोत्साहन मिला. इसने दक्षिण पूर्व एशियाई देशों और भारत-प्रशांत क्षेत्र में अपने संबंधों का विस्तार करने के लिए अपनी कूटनीति को संशोधित किया. लेकिन अमेरिका के बाद की संरक्षणवादी नीति … Read More