वैश्विक शरणार्थी मंच – Global Refugee Forum

Sansar LochanWorldLeave a Comment

पिछले दिनों वैश्विक शरणार्थी मंच (Global Refugee Forum) की पहली बैठक स्विट्ज़रलैंड के जेनेवा नगर में आयोजित हुई. इसका आयोजन संयुक्त रूप से संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी प्राधिकरण (United Nations Refugee Agency – UNHCR) और स्विट्ज़रलैंड सरकार ने किया. वैश्विक शरणार्थी मंच (Global Refugee Forum) क्या है? यह एक वैश्विक मंच है जिसमें शरणार्थियों के प्रति अंतर्राष्ट्रीय दायित्व को पूरा करने … Read More

अमेरिका और चीन के बीच व्यापार युद्ध – Trade War between US-China

Sansar LochanInternational Affairs, World2 Comments

अमेरिका-चीन के व्यापार के विभिन्न आयाम हैं और इसमें कई प्रकार की जटिलताएं विद्यमान हैं. इन जटिलताओं का व्यापक प्रभाव वैश्विक अर्थव्यवस्था पर पड़ता है जिसमें उभरते हुए बाजार एवं व्यापार असंतुलन भी शामिल हैं. इसके पीछे कारण यह है कि पिछले 25 सालों से चीन का दबदबा जगजाहिर है. अमेरिका और चीन के बीच व्यापारिक प्रतिस्पर्धा अब शीतयुद्ध में … Read More

BIMSTEC की स्थापना एवं स्वरूप और भारतीय हित

Sansar LochanIndia and its neighbours, International AffairsLeave a Comment

30 मई, 2019 को अपनी दूसरी पारी में प्रधानमन्त्री पद की शपथ लेने के अवसर पर नरेंद्र मोदी ने BIMSTEC के नेताओं को आमंत्रित करने का निर्णय लिया है. साथ ही इस अवसर पर किर्गिस्तान और मॉरिशस के राष्ट्र प्रमुखों को भी बुलाया गया है. विशेषज्ञों का कहना है कि प्रधानमन्त्री ने ऐसा जान-बूझकर किया है जिससे कि बिम्सटेक देशों … Read More

[Sansar Editorial] भारत और अमेरिका के बीच सम्बन्ध – India-US Relations

Sansar LochanIndia and non-SAARC countries, Sansar Editorial 20191 Comment

त युद्ध के बाद की अवधि में आर्थिक सुधारों के साथ अमेरिका के साथ भारत के सम्बन्ध सुदृढ़ हुए. अमेरिका बाजार तक पहुँचने और वाणिज्यिक और सैन्य संबंधों को भी प्रोत्साहन मिला. इसने दक्षिण पूर्व एशियाई देशों और भारत-प्रशांत क्षेत्र में अपने संबंधों का विस्तार करने के लिए अपनी कूटनीति को संशोधित किया. लेकिन अमेरिका के बाद की संरक्षणवादी नीति … Read More

[Sansar Editorial] भारत और चीन के बीच कूटनीतिक सम्बन्ध

Sansar LochanIndia and non-SAARC countries, International Affairs, Sansar Editorial 2019Leave a Comment

भारत और चीन ने आपसी हित के मुद्दों पर बातचीत की प्रक्रिया चालू रखी है. निरंतर बातचीत के बाद भी बड़ी समस्याओं का समाधान भले ही न हो पाया हो, परन्तु आर्थिक सम्बन्ध अब भी सुदृढ़ है और क्षेत्रीय मंचो पर सहयोग यथावत् है. इस समय सबसे विवादास्पद भारत-प्रशांत क्षेत्र में भारत के समुद्री हित हैं, जहाँ भारत और चीन … Read More

भारत-अफगानिस्तान के बीच सम्बन्ध – India and Afghanistan Relations

Sansar LochanIndia and its neighbours2 Comments

अफगानिस्तान एक भूआबद्ध देश है जिसकी सीमा पाक-अधिकृत कश्मीर से सटी हुई है. मध्य एशिया के देशों में पहुँचने के लिए अफगानिस्तान एक महत्त्वपूर्ण देश है. अफगानिस्तान समाज अभी भी कबीलों में विभाजित है. अफगानिस्तान भारत का एक परम्परागत मित्र रहा है. अफगानिस्तान विदेशी शक्तियों के हस्तक्षेप के कारण अस्थिर राज्य बन गया. इसकी शुरुआत सोवियत संघ द्वारा 1979 में … Read More

[Sansar Editorial] भारत और मालदीव के बीच सम्बन्ध – India and Maldives Relations

Sansar LochanIndia and its neighbours, International Affairs, Sansar Editorial 20184 Comments

The Hindu – Business Line Editorial : DECEMBER 21 (Original Article Link) हाल ही में मालदीव के नव-निर्वाचित राष्ट्रपति इब्राहीम मोहम्मद सोलीह भारत की सरकारी यात्रा पर पहुँचे थे. यहाँ वे भारत के प्रधानमंत्री से मिले. भारत ने मालदीव को $1.4 बिलियन की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है. मालदीव हिन्द महासागर में स्थित एक छोटा -सा द्वीपीय देश है जो सार्क का एक … Read More

अजोव सागर का विवाद – Azov Sea Dispute Explained in Hindi

Sansar LochanInternational Affairs, World2 Comments

हाल ही में रूस ने विवादित अजोव सागर (Azov Sea) में यूक्रेन के तीन नौसैनिक जहाज़ों और 20 से अधिक जहाजकर्मियों को अपने आधिपत्य में ले लिया है और इस प्रकार एक बार फिर अजोव सागर को लेकर रूस और यूक्रेन के बीच की तनातनी सामने आ गयी है. आइये जानते हैं Azove Sea Dispute के बारे में. Azov Sea … Read More

भारत और रूस के बीच सम्बन्ध – India-Russia Relations in Hindi

Sansar LochanIndia and non-SAARC countries, International AffairsLeave a Comment

india russia relations hindi

भारत और रूस के बीच 1947 से ही बेहतर सम्बन्ध रहे हैं. रूस ने भारी मशीन-निर्माण, खनन, ऊर्जा उत्पादन और इस्पात संयंत्रों के क्षेत्रों में निवेश के माध्यम से आर्थिक आत्मनिर्भरता के अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में भारत की सहायता की थी. भूमिका अगस्त 1971 में भारत और सोवियत संघ ने शांति, मैत्री एवं सहयोग संधि पर हस्ताक्षर किये. … Read More

कैस्पियन सागर से सम्बन्धित संधि – Caspian Sea Breakthrough Treaty

RuchiraWorld1 Comment

हाल ही में कैस्पियन सागर के पाँच तटवर्ती देशों – अज़रबेजान, ईरान, कजाखस्तान, रूस और तुर्कमेनिस्तान – ने कैस्पियन सागर के कानूनी दर्जे पर एक महत्त्वपूर्ण समझौते पर हस्ताक्षर किये. पृष्ठभूमि 5 देशों ने सोवियत संघ के विघटन के बाद कैस्पियन सागर के कानूनी दर्जे को परिभाषित करने का प्रयास किया है ताकि नई ड्रिलिंग और पाइपलाइनों के लिए जल … Read More