चालुक्य वंश के बारे में जानकारी – कला एवं स्थापत्य

Dr. SajivaAncient History2 Comments

आज हम चालुक्य वंश (Chalukya Dynasty) के बारे में जानेंगे in Hindi. चालुक्य कौन थे? चालुक्य दक्षिण और मध्य भारत में राज करने वाले शासक थे जिनका प्रभुत्व छठी से बारहवीं शताब्दी तक रहा. इतिहास में चालुक्यों के परिवारों का उल्लेख आता है. इनमें सबसे पुराना वंश बादामी चालुक्य वंश कहलाता है जो छठी शताब्दी के मध्य से वातापि (आधुनिक … Read More

हीनयान और महायान के सम्बन्ध में रोचक जानकारी

Dr. SajivaAncient History10 Comments

आज हम बौद्ध धर्म की दो शाखाओं हीनयान और महायान के बीच अंतर और कुछ रोचक तथ्यों के बारे में जानेंगे. बुद्ध के निर्वाण के 100 वर्ष बाद ही बौद्ध धर्म दो सम्प्रदायों में विभक्त हो गया – 1. स्थविरवादी और 2. महासांघिक.  बौद्धों की द्वितीय संगीति वैशाली में हुई. इसमें ये मतभेद और भी अधिक उभर कर आये. अशोक … Read More

महात्मा बुद्ध के समकालीन लोग – Buddha’s Contemporaries

Dr. SajivaAncient History1 Comment

महात्मा बुद्ध के बहुसंख्यक अनुयायियों में कुछ ऐसे थे जिन्होंने अपनी प्रतिभा, विद्वत्ता, सदाचारिता और श्रद्धा के कारण उनके ऊपर स्थायी प्रभाव डाला था और वे तथागत के परमप्रिय शिष्य बन गये थे. अपनी अनवरत साधना और कार्य परायणता से इन्होंने बौद्ध धर्म के प्रचार में महान् योगदान दिया था. इनमें से कुछ के नामोल्लेख कर देना आवश्यक प्रतीत होता … Read More

सिन्धु घाटी सभ्यता में व्यापार और उद्योग

Dr. SajivaAncient History4 Comments

पिछले पोस्ट में हमने सिन्धु घाटी सभ्यता में कृषि के विषय में पढ़ा था. आज इस पोस्ट में हम इस सभ्यता में उद्योग और व्यापार के बारे में चर्चा करेंगे. सिन्धु घाटी सभ्यता में उद्योग हड़प्पा संस्कृति में कला-कौशल का पर्याप्त विकास हुआ था. संभवतःईंटों का उद्योग भी राज-नियंत्रित था. सिन्धु सभ्यता के किसी भी स्थल के उत्खनन में ईंट … Read More

सिन्धु घाटी सभ्यता में कृषि – Agriculture in Indus Valley Civilization

Dr. SajivaAncient History4 Comments

सिन्धु और पंजाब में प्रतिवर्ष नदियों द्वारा लाइ गई उपजाऊ मिट्टी में कृषि कार्य अधिक श्रम-साध्य नहीं रहा होगा. इस नरम मिट्टी में कृषि के लिए शायद ताम्बे की पतली कुल्हाड़ियों को लकड़ी के हत्थे पर बाँध कर तत्कालीन किसान भूमि खोदते रहे होंगे. मोहनजोदड़ो से पत्थर के तीन ऐसे उपकरण मिले हैं जिनके आकार-प्रकार और भारीपन से इनके शस्त्र … Read More

सिन्धु घाटी सभ्यता स्थलों से प्राप्त अवशेष

Dr. SajivaAncient History1 Comment

आज इस पोस्ट में हम सिन्धु घाटी सभ्यता (Indus Valley Civilization) के विभिन्न स्थलों (हड़प्पा, मोहनजोदड़ो, धौलावीरा, लोथल, चन्हूदड़ो, रंगपुर, कालीबंगा, बनावली, सुरकोटड़ा इत्यादि) से प्राप्त अवशेषों एवं साक्ष्यों के विषय में क्रम से आपको बताने वाले हैं. हड़प्पा पाषाण नर्तक श्रमिक आवास काले पत्थर का शिव लिंग डेढ़ फीट का पैमाना स्वस्तिक (शुभ-लाभ) ताम्बे का वृषभ धोति पहने एवं … Read More

हड़प्पा समाज, राजनैतिक संगठन, प्रशासन एवं धर्म

Dr. SajivaAncient History6 Comments

आज इस पोस्ट में हड़प्पा समाज, राजनैतिक संगठन, प्रशासन एवं धर्म के विषय में बात करेंगे. इस पोस्ट को लिखने में NCERT, IGNOU आदि किताबों की मदद ली गई है और शोर्ट नोट्स बनाने का प्रयास किया गया है. सामाजिक व्यवस्था लिखित सामग्री के अभाव में सामाजिक व्यवस्था की पूर्ण जानकारी प्राप्त नहीं है, पर खुदाई में प्राप्त सामग्री के … Read More

सिन्धु घाटी सभ्यता में नगर-योजना – Town Planning in Hindi

Dr. SajivaAncient History6 Comments

सिन्धु सभ्यता में संपादित उत्खननों पर एक विहंगम दृष्टि डालने से प्रतीत होता है कि यहाँ के निवासी महान् निर्माणकर्ता थे. उन्होंने नगर नियोजन करके नगरों में सार्वजनिक तथा निजी भवन, रक्षा प्राचीर, सार्वजनिक जलाशय, सुनियोजित मार्ग व्यवस्था तथा सुन्दर नालियों के प्रावधान किया. हड़प्पा सभ्यता – नगर नियोजन वास्तव में सिन्धु घाटी सभ्यता अपनी विशिष्ट एवं उन्नत नगर योजना … Read More

प्रमुख बौद्ध स्थल – Buddhist Places in India

Dr. SajivaAncient HistoryLeave a Comment

किसी बौद्ध धर्म के व्यक्ति को इन चार स्थानों का वैराग्य की वृद्धि के हेतु दर्शन करना चाहिए. वे चार स्थान हैं – लुम्बिनी वन, जहाँ तथागत का जन्म हुआ. बोधगया, जहाँ उन्होंने ज्ञानप्राप्त किया. ऋषिपतन मृगदाव (सारनाथ), जहाँ उन्होंने प्रथम धर्मोपदेश, और कुशीनगर, जहाँ उन्होंने अनुपाधिशेष निर्वाण में प्रवेश किया. उपर्युक्त चार स्थलों के अतिरिक्त चार अन्य स्थल हैं, … Read More

मौर्य साम्राज्य का पतन – Decline of the Maurya Dynasty

Dr. SajivaAncient History1 Comment

साम्राज्यों का उत्थान और पतन एक ऐतिहासिक सत्य है, लेकिन यह भी एक महत्त्वपूर्ण प्रश्न है कि क्या साम्राज्यों के पतन के कारणों का ज्ञान होने के बावजूद भी उनके पतन को कभी रोका जा सकता है. इसका अर्थ यह हुआ कि साम्राज्यों के अंत के कारणों का विश्लेषण इतिहासकार के अपनी दृष्टिकोण पर निर्भर करता है. फिर भी साम्राज्य … Read More