मौर्यकालीन शब्दावली

Dr. SajivaAncient HistoryLeave a Comment

इस पोस्ट में हम कुछ मौर्यकालीन शब्दवाली (Mauryan period/era Glossary/vocabulary) को आपके सामने परोसने जा रहे हैं जो आपकी परीक्षा में काम आयेंगे. प्रायः मौर्य काल से सम्बंधित शब्दावली से विभिन्न परीक्षाओं में प्रश्न आ ही जाते हैं.

यदि आपको मौर्यकाल के विषय में पढ़ना है तो आप यहाँ पढ़ सकते हैं : मौर्यकाल

ashokan-pillar

मौर्यकालीन शब्दावली (GLOSSARY OF MAURYAN PERIOD)

  1. अहितक : अस्थायी दास जो स्वयं को बेचते थे
  2. अपचिति : छोटे के प्रति उचित व्यवहार
  3. आरामभूमि : जिस भूमि में उद्यान हो
  4. आहार : छोटे प्रशासनिक क्षेत्र जो महामात्रों के अधीन थे
  5. आटविक : वन राज्य
  6. आर्यपुत्र : राजा के निकट सम्बन्धी
  7. आमात्य : अधिकारी वर्ग
  8. अमात्य वर्ग : गुप्तचर विभाग का नियोक्‍ता
  9. अश्वदमक : शाही घोड़ों का प्रशिक्षक
  10. अंतपाल : सीमा क्षेत्र का सैन्य प्रभारी
  11. अंत महामात्र : सीमान्त अधिकारी जो जनता को धम्म व सभ्यता के उपदेश देते थे
  12. अध्यक्ष : मंत्री या विभागाध्यक्ष
  13. अग्रमहिषी : पटरानी
  14. अकृष्ट : बिना जुती हुई भूमि
  15. आकराध्यक्ष : खानों का अधिकारी
  16. आदेव मातृक : जिस भूमि पर वर्षा न हो
  17. अनुसंधान : अधिकारियों का धर्म प्रचार
  18. अनिकासनी : ऐसी स्त्रियाँ जो घर से बाहर न जाती हों…
  19. अंत्येवासिन : मिश्रित वर्ग
  20. अनीकस्थ : शाही हाथियों का प्रशिक्षक
  21. अग्रोनोमई : नगर के अधिकारी
  22. अग्रामात्य : प्रमुख आमात्य
  23. अक्षपटल : केन्द्रीय लेखा कार्यालय
  24. अन्तर्वशिक : शाही हरम का अध्यक्ष
  25. आयुधागार : राज शस्त्रागार
  26. अराकोसिया : चन्द्रगुप्त को दहेज में मिले चार राज्यों में से एक
  27. अग्निस्कंध : एक प्रकार की धर्मसभा
  28. अवन्ति : मौर्य का एक प्रांत जिसकी राजधानी उज्जैन थी
  29. अवांगमुखी कमल : स्तम्भों का शीर्ष भाग
  30. इफोरोई : अधिकारी
  31. इंडिका : मेगास्थनीज की कृति (इसका मूलरूप उपलब्ध नहीं, पर यह स्ट्रोबे, प्लिनी व डायोडोरस के वर्णन पर आधारित है)
  32. उट्ज : इस्पात
  33. उपवास : काश्तकार
  34. उपराजा : राजा का नायब
  35. उपगुप्त : उत्तरी भारत की अनुश्रुति के अनुसार अशोक को बौद्ध धर्म में दीक्षित करने वाला
  36. एरिया : चन्द्रगुप्त मौर्य को दहेज में प्राप्त प्रांत
  37. एंटियोकस प्रथम : सेल्यूकस का उत्तराधिकारी जिसने बिन्दुसार के पास डाइमेकस नामक दूत भेजा
  38. कृष्ट : जुती हुई भूमि
  39. कुप्याध्यक्ष : वन सम्पत्ति का अध्यक्ष
  40. कुमार : प्रांतीय शासक (शासक वर्ग से होता था)
  41. कंटशोधन : फौजदारी न्यायालय
  42. कृत्यगृह : वन उत्पादों का भण्डारगृह
  43. कुणाल : अशोक का उत्तराधिकारी
  44. कोषगृह : कोषागार
  45. कार्मातिक : धान्य कर्मशाला
  46. कर्मकार : खेत मजदूर
  47. खावेटिक : 200 गाँवों का न्यायालय
  48. खट्टालक : बिन्दुसार का मंत्री जिसने अशोक को राजा बनने में मदद दी
  49. गोप : छोटे स्तर का राजस्व अधिकारी
  50. गोध्यक्ष : पशु विभागाध्यक्ष
  51. ग्रामकूट : ग्राम प्रधान
  52. ग्रामणी : ग्रामीण प्रशासन का उत्तरदायी कर्मचारी
  53. गूढ़ पुरुष : गुप्तचर
  54. गेहविजय : राहुलोवादसुत्त का दूसरा नाम, जिससे धम्म का सार लिया गया
  55. धम्म : अशोक द्वार प्रतिपादित नैतिक धर्म
  56. धम्ममहामात्र : अशोक के राज्यारोहण के 14वें वर्ष नियुक्त, इसका कार्य जनता को धम्म समझाना व धर्म के प्रति रुचि पैदा करना
  57. धर्मविवर्धन : कुणाल का विरुद
  58. धर्म-चक्र-प्रवर्तन : सारनाथ में बुद्ध द्वारा पाँच ब्राह्मणों को दिया गया प्रथम उपदेश
  59. चार : गुप्तचर
  60. चक्र : प्रांत
  61. चांडिय : उग्र व्यवहार से बचाव
  62. दौवारिक : राजप्रसाद का द्वारपाल
  63. दण्डपाल : पुलिस मंत्री
  64. दुर्गपाल : गृह रक्षामंत्री
  65. द्रोणमुख : 400 गाँवों का न्यायालय
  66. दायक : राजा से सीधे आदेश प्राप्तकर्ता अधिकारी
  67. देवाध्यक्ष : धार्मिक संस्थाओं का अध्यक्ष
  68. द्रत्यवन : ऐसे वन जहाँ लकड़ी, लोहा व अन्य धातुएँ मिलती हैं
  69. तीर्थ : अधिकारियों के विभाग
  70. तक्षशिला : मौर्यों का प्रांत
  71. धर्मस्थीय : दीवानी न्यायालय
  72. नही : शूद्र का दास
  73. नायक : नगर कोतवाल
  74. नगरक : नगर मजिस्ट्रेट
  75. नावाध्यक्ष : जहाजों का अध्यक्ष
  76. नीवी ग्राहक : कोषाध्यक्ष
  77. नायक पदादिनेत : पैदल सेना प्रमुख
  78. निग्रोध : अशोक के बड़े भाई सुमन का पुत्र, जो भिक्षु था व जिसने अशोक को दीपवंश के अनुसार बौद्ध धर्म में दीक्षित किया
  79. प्रादेशिक : जिलाधिकारी
  80. प्रणय : आपातकालीन कर
  81. पादात : पैदल
  82. पत्तनाध्यक्ष : बन्दरगाह नगर प्रमुख
  83. पाण्याध्यक्ष : वस्तुओं की खरीद-बिक्री का नियंत्रणकर्ता
  84. प्रशास्ता : सेनापति के अधीन युद्ध कार्यालय
  85. प्रवहरण : सामूहिक समारोह
  86. प्रदेष्टा : नैतिक अपराधों का मुख्य न्यायाधीश
  87. परिषा : मंत्रिपरिषद
  88. पुलसिन : जनसम्पर्क अधिकारी
  89. पौतवाध्यक्ष : माप-तौल का अध्यक्ष
  90. प्लूटार्क : इसके अनुसार चन्द्रगुप्त ने सेल्यूकस को 500 हाथी दिये
  91. पेरीपेमिसदाई : चन्द्रगुप्त मौर्य को दहेज में मिला प्रांत
  92. पौर : राजधानी का प्रशासक
  93. प्रतिवेदक : राजा के समाचार वाहक
  94. वज्रभूमिक : गौशाला निरीक्षक
  95. बंधनागाराध्यक्ष : कारागृह अध्यक्ष
  96. बुद्धशाक्य : राज्याभिषेक से सम्बन्धित लघु शिलालेख में अशोक ने अपने को कहा
  97. बृहद्रथ : अंतिम मौर्य सम्राट
  98. ब्रह्मदेय : राजा के शिक्षक, पुरोहित व वेदपाठी ब्राह्मण को दी जाने वाली भूमि
  99. भिक्षुकी : महिला गुप्तचर
  100. भृत : भाड़े के सैनिक
  101. भाग : भूमिकर में राजा का हिस्सा
  102. भोगागम : जेट्ठकों को निर्वाह हेतु ग्राम की ओर से मिलने वाला कर
  103. मानवक : गुप्तचर
  104. मूलवाप : जिस भूमि में जड़ वाली खेती हो
  105. मगध : चाट या चारण
  106. महामात्यापसर्प : गुप्तचर विभाग का अध्यक्ष
  107. मूषिक कर : प्लेग फैलने पर नागरिकों से लिया जाने वाला कर
  108. मित्रबल : मित्र राज्य की सेना
  109. मेगास्थनीज : चन्द्रगुप्त मौर्य के दरबार में आया राजदूत
  110. मौहूर्तिक : राज ज्योतिष
  111. मौल : प्रान्तीय सैन्य टुकड़ी युक्त खोई हुई सम्पत्ति प्राप्त होने पर उसकी रक्षा करने वाला अधिकारी
  112. योनिपोषक : राजभवन का पशु अधिकारी
  113. युक्त : जिला कोषाध्यक्ष या शाही सचिवालय का लेखा अधिकारी
  114. रक्षिण : पुलिसकर्मी (आन्तरिक)
  115. रथिक : सारथी
  116. रज्जु : भूसर्वेक्षण से सम्बन्धित कर
  117. राष्ट्रमुख्य : राज्यपाल, राष्ट्रपाल या ईश्वर
  118. रंगोपजीवी : पुरुष कलाकार
  119. रूपाजीवा : मुक्त रूप से वेश्यावृत्ति करने वाली
  120. रूपदर्शक : सिक्के का अधिकारी
  121. राजुक : चौथे स्तम्भ लेख के अनुसार अशोक कहता है कि मैंने प्रजा के सुख व कल्याण के लिए राजुकों की नियुक्ति की है, 26वें वर्ष अशोक ने स्वतन्त्रतापूर्वक कार्य करने की इजाजत दी
  122. लक्षणाध्यक्ष : मुद्रा विभाग का निरीक्षक
  123. लवणाध्यक्ष : नमक विभाग का अध्यक्ष
  124. वात भूमि : गन्ना उगाये जाने वाली भूमि
  125. वर्धकी : राज बढ़ई
  126. विविताध्यक्ष : चारागाहों का प्रमुख
  127. वार्ता : व्यापार, पशुपालन व कृषि का संयुक्त शब्द
  128. वोहारिक : न्याय प्रशासन महामात्र
  129. शण्ड भूमि : फल उगाने वाली भूमि
  130. शूनाध्यक्ष : बूचड़खाना अध्यक्ष
  131. शैलखनक : मूर्तिकार
  132. शुल्काध्यक्ष : उत्पाद शुल्क अध्यक्ष
  133. शून्यपाल : राजा के बाहर होने पर यह अधिकार उसका भार लेता था
  134. संस्था : एक स्थान पर कार्य करने वाले गुप्तचर
  135. संचारा : भ्रमणशील गुप्तचर
  136. सामन्त दुर्ग : विदेशी राजा का दुर्ग
  137. समाहर्ता : राजस्व वसूलने वाला
  138. सप्तांग : कौटिल्य के अनुसार राज्य के जरूरी सात तत्त्व – 1. राजा, 2. अमात्य, 3. जनपद, 4. दुर्ग, 5. कोष, 6. सेना, 7. मित्र
  139. सीताध्यक्ष : कृषि विभाग का अध्यक्ष
  140. सन्निधाता : कोषाध्यक्ष
  141. सीता : सरकारी भूमि से आय
  142. संस्थाध्यक्ष : व्यापारिक मार्गों का प्रमुख
  143. संग्रहण : 10 ग्रामों का मुख्यालय
  144. स्थानिक : जिला राजस्व अधिकारी
  145. सुराध्यक्ष : आबकारी अध्यक्ष
  146. सुत्राध्यक्ष : कताई-बुनाई अध्यक्ष
  147. सौवर्णिक : सुनार
  148. हिरण्य : नकद लिया जाने वाला कर

यह भी पढ़ें : वैदिक शब्दावली

Leave a Reply

Your email address will not be published.