ब्रिटिशकालीन भारत के सामाजिक संगठन एवं सामाजिक सुधार अधिनियम

Dr. Sajiva#AdhunikIndiaLeave a Comment

#AdhunikIndia के इस पोस्ट में हम ब्रिटिशकालीन भारत की संस्थाओं और संगठन (important institutions and organisations in British India) के बारे में पढ़ेंगे और सामाजिक सुधार अधिनियमों (social reforms acts) के बारे में भी जानेंगे. आशा है कि आपने हमारा #AdhunikIndia का यह सीरीज पहले से पढ़ा होगा >> धर्म तथा समाज सुधार आन्दोलन भारत में ईस्ट इंडिया कंपनी के … Read More

प्रमुख बौद्ध स्थल – Buddhist Places in India

Dr. SajivaAncient HistoryLeave a Comment

किसी बौद्ध धर्म के व्यक्ति को इन चार स्थानों का वैराग्य की वृद्धि के हेतु दर्शन करना चाहिए. वे चार स्थान हैं – लुम्बिनी वन, जहाँ तथागत का जन्म हुआ. बोधगया, जहाँ उन्होंने ज्ञानप्राप्त किया. ऋषिपतन मृगदाव (सारनाथ), जहाँ उन्होंने प्रथम धर्मोपदेश, और कुशीनगर, जहाँ उन्होंने अनुपाधिशेष निर्वाण में प्रवेश किया. उपर्युक्त चार स्थलों के अतिरिक्त चार अन्य स्थल हैं, … Read More

Sansar डेली करंट अफेयर्स, 09 January 2019

Sansar LochanSansar DCA4 Comments

GS Paper 2 Source: The Hindu Topic : Indian Forest and Tribal Service संदर्भ भारत सरकार के कार्मिक, लोक शिकायत एवं पेंशन मंत्रालय ने भारतीय वन सेवा (Indian Forest Service) का नामकरण भारतीय एवं जनजाती सेवा (Indian Forest and Tribal Service) करने के लिए विभिन्न मंत्रालयों के साथ परामर्श की प्रक्रिया आरम्भ कर दी है. नामकरण का यह प्रस्ताव NCST द्वारा … Read More

ब्रिटिश भारत में जाति आन्दोलन (Caste Movements)

Dr. Sajiva#AdhunikIndia2 Comments

#AdhunikIndia की पिछली सीरीज में हमने 19वीं सदी में भारतीय महिलाओं की दशा एवं स्त्री-समाज सुधारक के विषय में पढ़ा. आज हम लोग ब्रिटिश भारत में जाति आंदोलनों के विषय में पढ़ेंगे.अंग्रेजी शासनकाल में पश्चिमी शिक्षा एवं विचारधारा के सम्पर्क में आने के परिणामस्वरूप भारत में नवीन चेतना की लहर प्रवाहित हुई. इस चेतना ने न केवल ब्रिटिश औपनिवेशक शासन … Read More

मौर्य साम्राज्य का पतन – Decline of the Maurya Dynasty

Dr. SajivaAncient History1 Comment

साम्राज्यों का उत्थान और पतन एक ऐतिहासिक सत्य है, लेकिन यह भी एक महत्त्वपूर्ण प्रश्न है कि क्या साम्राज्यों के पतन के कारणों का ज्ञान होने के बावजूद भी उनके पतन को कभी रोका जा सकता है. इसका अर्थ यह हुआ कि साम्राज्यों के अंत के कारणों का विश्लेषण इतिहासकार के अपनी दृष्टिकोण पर निर्भर करता है. फिर भी साम्राज्य … Read More

Sansar डेली करंट अफेयर्स, 08 January 2019

Sansar LochanSansar DCA3 Comments

GS Paper 2 Source: The Hindu Topic : Section 66A of the IT Act संदर्भ हाल ही में सर्वोच्च न्यायालय ने सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 के अनुभाग 66A का अभी भी प्रयोग होने के विषय में सम्बन्धित पक्षों को नोटिस निर्गत किया है. विदित हो कि इस विषय में पीपुल्स यूनियन फॉर सिविल लिबर्टीज (PUCL) नामक संगठन ने सर्वोच्च न्यायालय में याचिका … Read More

[संसार मंथन] मुख्य परीक्षा लेखन अभ्यास – Eco-Bio-Tech GS Paper 3/Part 18

Sansar LochanGS Paper 3, Sansar ManthanLeave a Comment

TOPICS – बाह्य वाणिज्यिक उधार (ECB), विधिक संस्था पहचानकर्ता (Legal Entity Identifier) Q1. बाह्य वाणिज्यिक उधार (ECB) क्या है? ECB से जुड़े विवाद और इसके लाभों की चर्चा कीजिए. Syllabus, GS Paper III : भारतीय अर्थव्यवस्था तथा योजना, संसाधनों को जुटाने, प्रगति, विकास तथा रोजगार से सम्बंधित विषय. उत्तर :- हाल ही में भारतीय रिज़र्व बैंक ने अवसंरचनात्मक क्षेत्र में बाह्य … Read More

UPSC में प्राचीन भारत से आये सवालों के One-Liner नोट्स : Part 2

Dr. SajivaAncient HistoryLeave a Comment

आशा है कि आपने प्राचीन इतिहास से सम्बंधित One-Liner का पार्ट 1 पढ़ लिया होगा. यदि नहीं पढ़ा है तो यहाँ क्लिक करें > One Liner Part 1. One-Liner में हमने UPSC के सवालों को (प्राचीन भारत – Ancient India) आपके सामने परोसा ही है, साथ-साथ UPSC Prelims परीक्षाओं में जो चार ऑप्शन होते हैं – उनके विषय में भी हमने one liner … Read More

Sansar डेली करंट अफेयर्स, 07 January 2019

Sansar LochanSansar DCA2 Comments

Sansar Daily Current Affairs, 07 January 2019 GS Paper 1 Source: Down to Earth  Topic : Polar vortex संदर्भ मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि इस बार जनवरी और फरवरी में अमेरिका के पूर्वोत्तर क्षेत्रों में तथा साथ ही अधिकांश उत्तरी यूरोप में और एशिया के कुछ भागों में भयंकर ठण्ड पड़ेगी. इसका कारण ध्रुवीय भँवर (polar vortex) बताया जा रहा है. विदित … Read More

19वीं सदी में भारतीय महिलाओं की दशा एवं स्त्री-समाज सुधारक

Dr. Sajiva#AdhunikIndia3 Comments

आधुनिक विचारधारा एवं दृष्टिकोण से 19वीं सदी के समाज सुधारकों को प्रगतिशील सामाजिक तत्त्वों के प्रचार-प्रसार एवं विकास के लिए पूरा सहयोग प्राप्त हुआ. समाज सुधार के क्रम में सुधारकों का ध्यान तत्कालीन सामाजिक व्यवस्था के विभिन्न पक्षों की ओर गया. इसी क्रम में महिलाओं की दशा में सुधार कैसे करना है, यह यक्ष प्रश्न चुनौती के रूप में सामने … Read More