T+1 या T+2 सेटलमेंट प्रणाली क्या है? स्टॉक एक्सचेंज स्पेशल जानकारी

Sansar LochanFinanceLeave a Comment

GS Paper 3 Source : The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus: प्रौद्योगिकी में नवीनतम विकास.

Topic : T+1 system for settlement of shares

संदर्भ

25 फरवरी से भारत में स्टॉक एक्सचेंजों को शेयरों के लेन-देन (सेटलमेंट) को पूरा करने हेतु वर्तमान “T+2” सेटलमेंट प्रणाली के बदले “T+1” प्रणाली को लागू करने की शुरुआत की गई है. भारत इसे अपनाने वाला चीन के बाद दूसरा देश बन गया है.

“T+2” सेटलमेंट प्रणाली से सम्बन्धित तथ्य

  • लेन-देन (transaction) को “T” से तथा लेन-देन को पूरा होने में लगने वाले समय (सेटलमेंट) को T+1, T+2 आदि के रूप में दर्शाया जाता है.
  • भारत में वर्तमान में T+2 लेन देन प्रणाली प्रचलन में है यानी लेन-देन वाले दिन के दो कार्य दिवस बाद सेटलमेंट प्रक्रिया सम्पूर्ण होती है.
  • सेटलमेंट प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही शेयर खरीदने वाला उसका असल धारक माना जाता है.
  • यदि स्टॉक एक्सचेंज “T+1″ सेटलमेंट प्रणाली का विकल्प चुनता है, तो उसे अनिवार्य रूप से न्यूनतम 6 महीने तक इसे जारी रखना होगा. दोबारा T+2 प्रणाली अपनाने के लिए स्टॉक एक्सचेंज एक माह का अग्रिम नोटिस देकर ऐसा कर सकता है.
  • T+1 प्रणाली अपना लिए जाने से सेटलमेंट में लगने वाले समय में कमी आएगी. इसके अलावा अनसुलझे सेटलमेंटों की संख्या में भी कमी आएगी.

इस टॉपिक से UPSC में बिना सिर-पैर के टॉपिक क्या निकल सकते हैं?

  1. भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड
  2. ‘T+1’ और ‘T+2’ निपटान प्रणालियों में अंतर
  3. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज
  4. NIFTY 50
  5. मार्केट इंफ्रास्ट्रक्चर इंस्टीट्यूशन
  6. करेंसी डेरिवेटिव 
T+1 प्रणाली से आप क्या समझते हैं? इससे होने वाले संभावित लाभ पर चर्चा कीजिए.”200-शब्द

मेरी राय – मेंस के लिए

‘T+1’ निपटान प्रणाली के लाभ

  • कम निपटान समय
  • अस्थिर व्यापार में कमी
  • अवरुद्ध पूंजी में कमी
  • प्रणालीगत जोखिमों में कमी

विदेशी निवेशकों की चिंताएँ

  • विदेशी निवेशकों ने विभिन्न भौगोलिक टाइम ज़ोन से परिचालन से जुड़े मुद्दों (सूचना प्रवाह प्रक्रिया और विदेशी मुद्रा समस्याओं) पर चिंता व्यक्त की है.
  • T+1 प्रणाली के अंतर्गत दिन के अंत में उन्हें डॉलर के संदर्भ में भारत में अपने नेट एक्सपोज़र (Net Exposure) को हेज या बाधित करना भी कठिन होगा.

Tags: Stock exchange, t+1,t+2 system explained in Hindi. UPSC GS Paper 3.

For all Economy related current affairs, visit here – Economics Notes in Hindi

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.