“वेज एंड मीन्स एडवांसेज” (Ways and Means Advances – WMA)

Sansar LochanBankingLeave a Comment

भारतीय रिज़र्व बैंक ने सरकार द्वारा उससे मांगे जाने वाले अल्पावधि ऋण की सीमा बढ़ा दी है. 2020-21 के पहले पूर्वार्द्ध में यह सीमा बढ़कर अब 1.2 लाख करोड़ रु. हो गई है. ज्ञातव्य है कि इस ऋण सुविधा को “वेज एंड मीन्स एडवांसेज” (Ways and Means Advances – WMA) कहा जाता है. महत्त्व ऋण सीमा की यह बढ़ोतरी ऐसे … Read More

EASE 3.0 कार्यक्रम क्या है? – महत्व और इतिहास

Sansar LochanBankingLeave a Comment

Ease 3.0 for tech-enabled banking explained in Hindi पिछले दिनों वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने तकनीक से युक्त बैंकिंग के लिए EASE 3.0 कार्यक्रम का अनावरण किया. इस कदम का उद्देश्य सार्वजनिक बैंकों में जाने वाले ग्राहकों के अनुभव में परिवर्तन लाना है. EASE 3.0 कार्यक्रम क्या है? EASE का पूरा नाम Enhanced Access and Service Excellence है. इसका उद्देश्य … Read More

जमा बीमा (deposit insurance) क्या होती है? – Explained in Hindi

Sansar LochanBankingLeave a Comment

भारत सरकार के वित्त मंत्रालय और भारतीय बीमा विनियामक एवं विकास प्राधिकरण (IRDAI) ने सुझाव दिया है कि एक लाख रु. से ऊपर के बैंक जमा (deposit insurance) पर बीमा होनी चाहिए. यह सुझाव पंजाब एवं महाराष्ट्र सहकारिता बैंक घोटाले को दृष्टि में रखकर आया है. जमा बीमा (deposit insurance) क्या होती है? जमा बीमा में ग्राहक द्वारा जमा की … Read More

[Sansar Editorial] भारत में बैंक विलय और अधिग्रहण का इतिहास – History of Bank Mergers

Sansar LochanBanking, Economics Notes, Sansar Editorial 20187 Comments

आज हम इस आलेख में बैंक विलय के विषय में पढेंगे और जानेंगे कि भारत में बैंक विलय और अधिग्रहण का इतिहास (History of Indian Banks’ mergers) क्या रहा है. कोई भी अर्थव्यवस्था बैंक विलय के लिए कब बाध्य हो जाती है, यह भी जानने की कोशिश करेंगे. अभी Bank Merger का topic काफी चर्चा में है. PCA Framework क्या … Read More

विकास बैंक क्या होता है? – Development Bank in Hindi

Sansar LochanBankingLeave a Comment

भारत में कोई विकास बैंक (development bank) नहीं है. अतः बड़ी-बड़ी निर्माण योजनाओं के लिए वित्त पोषण में समस्या देखी जाती है. अतः दीर्घकालिक वित्त उपलब्ध कराने के उद्देश्य से सरकार ने एक ऐसे संगठन को स्थापित करने का प्रस्ताव दिया है जो भवन निर्माण और आवास-परियोजनाओं के लिए अधिक से अधिक ऋण मुहैया कराएगा. इस घोषणा से भारत के … Read More

[Sansar Editorial] सकल गैर- निष्पादित परिसंपत्ति अनुपात (Gross Non-Performing Assets Ratio)

Sansar LochanBanking, Sansar Editorial 20182 Comments

Signs of a turnaround: on RBI’s Financial Stability Report The Hindu –  DECEMBER 31 अभी हाल ही में भारतीय रिजर्व बैंक की वित्तीय स्थिरता रिपोर्ट (Financial Stability Report) में यह बताया गया है कि बैंको के सकल गैर- निष्पादित परिसंपत्ति अनुपात (Gross Non-Performing Assets Ratio) में कमी दर्ज की गई है जो अर्थव्यवस्था और बैंको की वित्तीय सेहत के हिसाब से … Read More

[Sansar Editorial] MDR क्या होता है? Merchant Discount Rate in Hindi

Sansar LochanBanking, Economics Notes, Sansar Editorial 20185 Comments

कई बार हम टीवी या लैपटॉप आदि का क्रय करने के बाद जब भुगतान के लिए अपना डेबिट या कार्ड प्रयोग करना चाहते हैं तो दुकानदार कुछ अतिरिक्त शुल्क लगाने की बात कहता है. क्या आपके दिमाग में ऐसा प्रश्न कभी आया कि दुकानदार अतिरिक्त भुगतान की माँग क्यों करता है? आपका यह अतिरिक्त धन कहाँ चला जाता है? वहीं … Read More

भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम का Section 7 – RBI Act Explained in Hindi

Sansar LochanBanking, Economics Notes4 Comments

कहा जा रहा है कि भारत सरकार भारतीय रिजर्व बैंक को विशेष निर्देश देने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम के अनुभाग 7 (Section 7 of the Reserve Bank of India Act) का प्रयोग करने जा रही है. ऐसा कयास भी लगाया जा रहा है कि RBI के गवर्नर उर्जित पटेल इस धारा के अंतर्गत एक विशिष्ट दिशानिर्देश जारी किए … Read More

Bitcoin के बारे में Full जानकारी – Mining, Wallet and Types

Sansar LochanBanking, Economics Notes27 Comments

bitcoin_hindi

आपने पैसे के कई रूप देखे होंगे जैसे भारतीय रुपये, अमेरिकी डॉलर, ब्रिटिश पाउंड, जापानी येन और यूरोप का यूरो. ये तमाम currencies लक्ष्मी का ही रूप हैं. इनमें से ज्यादातर currencies कागज़ से बनी होती हैं जिन्हें आप अपनी आँखों से देख सकते हैं, अपनी जेब में रख सकते हैं और इन्हें छूकर महसूस भी कर सकते हैं. आप … Read More

NPA क्या होता है? Non-Performing Asset in Hindi

Sansar LochanBanking, Economics Notes51 Comments

सरल शब्दों में कहें तो जब बैंक किसी व्यक्ति को लोन देती है तो कभी-कभी ऐसा होता है कि लोन लेना वाला इंसान बैंक को regular payment नहीं कर पाता है. फिर बैंक उसे एक नोटिस भेजती है कि भाई तुम अपना देख लो, नहीं तो तुम्हारे खिलाफ लीगल एक्शन लिया जायेगा…फिर भी वह आदमी payment नहीं करता है या … Read More