आर्थिक पुनरुत्थान (Economic Recovery) की आकृतियां

Sansar LochanSector of Economy1 Comment

अधिकांश अर्थशास्त्रियों में इस बात को लेकर सहमति है कि चालू वित्तीय वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था सिकुड़ जायेगी. यदि मतभेद है तो इस बात को लेकर कि यह सिकुड़न कितनी होगी. कुछ लोग कहते हैं कि -4% तो अन्य कहते हैं -14%. कई अर्थशास्त्रियों का यह मत है कि इस वर्ष अर्थव्यवस्था न्यूनतम धरातल तक पहुँच जायेगी, परन्तु अगले वित्तीय … Read More

[Video] कोविड-19 के दौरान भी भारतीय विदेशी मुद्रा भंडार कैसे बढ़ रहा है?

Sansar LochanFiscal Policy and Taxation, VideoLeave a Comment

1991 के विपरीत, जब भारत को एक बड़े वित्तीय संकट से बचने के लिए अपने सोने के भंडार पर निर्भर होना पड़ा था, देश कोरोना की वजह से झेल रहे व्यापक आर्थिक मंदी  के संकट से निपटने के लिए अपने बढ़ते विदेशी मुद्रा भंडार पर निर्भर हो सकता है. भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में वृद्धि हो रही है और … Read More

भुगतान अवसंरचना विकास कोष

Sansar LochanBankingLeave a Comment

हाल ही में भारत भर में डिजिटल भुगतान को प्रोत्साहन देने के उद्देश्य से RBI (Reserve Bank of India-RBI) ने 500 करोड़ रुपए का ‘भुगतान अवसंरचना विकास कोष’ (Payments Infrastructure Development Fund-PIDF) स्थापित किया है. भुगतान अवसंरचना विकास कोष का उद्देश्य भुगतान अवसंरचना विकास कोष का उद्देश्य देश के टियर-3 से लेकर टियर-6 तक के केन्द्रों और पूर्वोत्तर राज्यों में … Read More

सोशल स्टॉक एक्सचेंज क्या है?

Sansar LochanFinance2 Comments

बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) की ओर से गठित विशेषज्ञ समिति ने भारत में सोशल स्टॉक एक्सचेंज (Social Exchange Exchange – SSE) हेतु कर प्रोत्साहन, उदाहरणार्थ – प्रतिभूति लेनदेन कर और पूंजीगत लाभ कर से छूट देने की अनुशंसा की है. सरल शब्दों में कहा जाए तो सामाजिक क्षेत्र में काम करने वाले संगठनों (गैर-लाभकारी संगठनों) के … Read More

[आर्थिक सर्वेक्षण 2020] Vol1 अध्याय 09 – निजीकरण और धन सृजन

Sansar LochanEconomic SurveyLeave a Comment

मित्रों!  आप जानते होंगे कि हम लोग आर्थिक सर्वेक्षण 2019-20 की समीक्षा कर रहे हैं. इस बार के economic survey 2019-20 में कुल 11 चैप्टर हैं. चैप्टर 11 और 10 की चर्चा हम लिखित रूप में कर चुके हैं. पर इस बार हम चैप्टर 9 की चर्चा विडियो के माध्यम से कर रहे हैं. नीचे विडियो है. जरुर देखें. Other … Read More

खुला बजट सर्वेक्षण – Open Budget Survey

Sansar LochanBudgetLeave a Comment

खुला बजट सर्वेक्षण बजट से सम्बंधित सूचनाओं को लोगों के बीच पहुँचाने तथा उत्तरदायित्वपूर्ण बजट प्रणालियों के अंगीकरण को बढ़ावा देने के लिए अभिकल्पित वैश्विक शोध कार्यक्रम – अंतर्राष्ट्रीय  खुला बजट भागीदारी पहल (International Budget Partnership’s Open Budget Initiative) – के अंगस्वरूप खुला बजट सर्वेक्षण (Open Budget Survey) प्रकाशित किया गया. यह सर्वेक्षण अंतर्राष्ट्रीय बजट भागीदारी (International Budget Partnership – IBP) … Read More

[Sansar Editorial] बैंकों के विलय से कर्मचारियों और ग्राहकों पर प्रभाव

Sansar LochanBanking, Sansar Editorial 20201 Comment

आपने समाचारों में पढ़ा ही होगा कि अप्रैल 2020 से छह बैंक सिंडीकेट बैंक, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया, इलाहाबाद बैंक, कारपोरेशन बैंक और आंध्रा बैंक का अस्तित्व समाप्त हो चुका है. इन बैंकों का विलय 4 बैंकों में कर दिया गया है. ये जो चार बैंक होंगे, उनके नाम इस प्रकार हैं – केनरा बैंक, पंजाब … Read More

विशेष आहरण अधिकार : Special Drawing Rights (SDR)

Sansar LochanFiscal Policy and Taxation1 Comment

पिछले दिनों अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने निर्णय किया कि वह अपने सभी 189 सदस्यों को काविड-19 से उत्पन्न संकट से लड़ने के लिए बिना शर्त के निकासी के विशेष आहरण अधिकार (Special Drawing Rights – SDR) प्रदान करेगा. परन्तु, भारत इस प्रस्ताव का समर्थन नहीं कर रहा है क्योंकि उसे लगता है कि इससे महामारी-जन्य वित्तीय संकट को दूर करने … Read More

यूरो कोरोना बांड्स के बारे में जानकारी

Sansar LochanFinanceLeave a Comment

Euro Corona bonds in Hindi कोरोना वायरस आपदा से उत्पन्न वित्तीय संकट  को दूर करने के लिए कोरोना बांड निर्गत करने का प्रस्ताव है. परन्तु यूरोपीय संघ के देशों में इसको लेकर अलग-अलग प्रतिक्रियाएँ आ रही हैं. कोरोना बांड क्या हैं? कोरोना बांड यूरोपीय संघ के सदस्य देशों को वित्तीय राहत देने के लिए एक सामूहिक ऋण होगा. तात्पर्य यह … Read More

प्रतिचक्रीय पूँजी बफर योजना – COUNTER CYCLICAL CAPITAL BUFFER (CCYB)

Sansar LochanBankingLeave a Comment

भारतीय रिज़र्व बैंक ने पिछले दिनों प्रतिचक्रीय पूँजी बफर (Counter cyclical capital buffer – CcyB) योजना के कार्यान्वयन को टाल दिया और निर्यात से होने वाले लाभ के लिए वसूली की अवधि बढ़ा दी. पृष्ठभूमि प्रतिचक्रीय पूँजी बफर योजना भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा 5 फ़रवरी, 2015 को आरम्भ की गई थी जिसमें यह कहा गया था कि CCyB को परिस्थितियों के अनुसार समय-समय पर … Read More