भारत 22 विनिमय वाणिज्य कोश (ETF) – Exchange Traded Funds

Sansar LochanFinanceLeave a Comment

अपने विनिवेश कार्यक्रम के लिए भारत सरकार एंकर तथा गैर-एंकर निवेशकों के लिए भारत 22 विनिमय वाणिज्य कोश (ETF) के “Further Fund Offer 2” (FFO 2) प्रस्ताव को शीघ्र ही खोलने जा रही है. Exchange Traded Fund (ETF) क्या है? ETF का पूरा नाम Exchange Traded Funds है. ये म्यूच्यूअल फण्ड हैं जो शेयरों की भाँति स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध … Read More

[Sansar Editorial] भारत में बैंक विलय और अधिग्रहण का इतिहास – History of Bank Mergers

Sansar LochanBanking, Economics Notes, Sansar Editorial 20187 Comments

आज हम इस आलेख में बैंक विलय के विषय में पढेंगे और जानेंगे कि भारत में बैंक विलय और अधिग्रहण का इतिहास (History of Indian Banks’ mergers) क्या रहा है. कोई भी अर्थव्यवस्था बैंक विलय के लिए कब बाध्य हो जाती है, यह भी जानने की कोशिश करेंगे. अभी Bank Merger का topic काफी चर्चा में है. PCA Framework क्या … Read More

विकास बैंक क्या होता है? – Development Bank in Hindi

Sansar LochanBankingLeave a Comment

भारत में कोई विकास बैंक (development bank) नहीं है. अतः बड़ी-बड़ी निर्माण योजनाओं के लिए वित्त पोषण में समस्या देखी जाती है. अतः दीर्घकालिक वित्त उपलब्ध कराने के उद्देश्य से सरकार ने एक ऐसे संगठन को स्थापित करने का प्रस्ताव दिया है जो भवन निर्माण और आवास-परियोजनाओं के लिए अधिक से अधिक ऋण मुहैया कराएगा. इस घोषणा से भारत के … Read More

मसाला बॉन्ड क्या है? Masala Bond in Hindi

Sansar LochanFinanceLeave a Comment

विदेशी बाजार से धनराशि उठाने के लिए केरल अवसंरचना निवेश कोष बोर्ड ने मसाला बॉन्ड निर्गत किये हैं. आइये जानते हैं मसाला बांड (masala bond) किसे कहते हैं और यह किस देश में निर्गत हो सकता है? मसाला बॉन्ड क्या है? यह बांड रूपया पर आधारित एक बॉन्ड है जिससे विदेशी बाजार से भारतीय रूपये में धनराशि उठाई जायेगी. ऐसे … Read More

स्थायी विदेशी कार्यालय क्या है? Permanent Foreign Establishment in Hindi

Sansar LochanPIB Hindi, Sector of EconomyLeave a Comment

Profit Attribution to Permanent Establishment(PE) in India / विदेशी कम्पनियों के भारत में स्थित स्थायी कार्यालयों से होने वाली आय पर करारोपण भारत में स्थायी कार्यालय को लाभ-वितरण (Profit Attribution to Permanent Establishment – PE) के विषय में तैयार एक प्रतिवेदन पर केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने सभी हितधारकों से मंतव्य माँगा है. पृष्ठभूमि दोहरा कराधान निवारण समझौते (Double … Read More

[Sansar Editorial] सकल गैर- निष्पादित परिसंपत्ति अनुपात (Gross Non-Performing Assets Ratio)

Sansar LochanBanking, Sansar Editorial 20182 Comments

Signs of a turnaround: on RBI’s Financial Stability Report The Hindu –  DECEMBER 31 अभी हाल ही में भारतीय रिजर्व बैंक की वित्तीय स्थिरता रिपोर्ट (Financial Stability Report) में यह बताया गया है कि बैंको के सकल गैर- निष्पादित परिसंपत्ति अनुपात (Gross Non-Performing Assets Ratio) में कमी दर्ज की गई है जो अर्थव्यवस्था और बैंको की वित्तीय सेहत के हिसाब से … Read More

[Sansar Editorial] MDR क्या होता है? Merchant Discount Rate in Hindi

Sansar LochanBanking, Economics Notes, Sansar Editorial 20183 Comments

कई बार हम टीवी या लैपटॉप आदि का क्रय करने के बाद जब भुगतान के लिए अपना डेबिट या कार्ड प्रयोग करना चाहते हैं तो दुकानदार कुछ अतिरिक्त शुल्क लगाने की बात कहता है. क्या आपके दिमाग में ऐसा प्रश्न कभी आया कि दुकानदार अतिरिक्त भुगतान की माँग क्यों करता है? आपका यह अतिरिक्त धन कहाँ चला जाता है? वहीं … Read More

भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम का Section 7 – RBI Act Explained in Hindi

Sansar LochanBanking, Economics Notes4 Comments

कहा जा रहा है कि भारत सरकार भारतीय रिजर्व बैंक को विशेष निर्देश देने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम के अनुभाग 7 (Section 7 of the Reserve Bank of India Act) का प्रयोग करने जा रही है. ऐसा कयास भी लगाया जा रहा है कि RBI के गवर्नर उर्जित पटेल इस धारा के अंतर्गत एक विशिष्ट दिशानिर्देश जारी किए … Read More

[संसार मंथन] मुख्य परीक्षा लेखन अभ्यास – Eco-Bio-Tech GS Paper 3/Part 8

Sansar LochanEconomics Notes, Fiscal Policy and Taxation, GS Paper 3, Sansar Manthan3 Comments

सामान्य अध्ययन पेपर – 3 वित्तीय समावेशन क्या है? इसके उद्देश्य और महत्त्व की विस्तार से चर्चा करें. (250 words) अपने उत्तर में अंडर-लाइन करना है  = Green आपके उत्तर को दूसरों से अलग और यूनिक बनाएगा = Yellow यह सवाल क्यों? यह सवाल UPSC GS Paper 3 के सिलेबस से प्रत्यक्ष रूप में लिया गया है – समावेशी विकास … Read More

[Sansar Editorial] रुपये में गिरावट (Falling Rupee) के कारण, प्रभाव और उठाये जाने योग्य कदम

Sansar LochanEconomics Notes, Sansar Editorial 2018, Sector of EconomyLeave a Comment

हाल ही में भारतीय रुपये के मूल्य में गिरावट आई और यह पहली बार 71 रु./डॉलर के स्तर से भी नीचे चला गया. इस पोस्ट के जरिये हम रुपये के मूल्य में इस गिरावट के कारण को जानने की कोशिश करेंगे और इससे भारतीय अर्थव्यवस्था पर क्या प्रभाव पड़ सकता है, यह भी जानेंगे. साथ-साथ यह भी चर्चा करेंगे कि … Read More