भ्रष्टाचार और उसके कारण – Ethics Notes in Hindi

RuchiraEthicsLeave a Comment

यह बात सर्वविदित है कि सार्वजनिक सेवाओं में अनेक प्रकार के भ्रष्टाचार आ गए हैं.  भारतीय प्रशासन में इसकी अधिकता और बढ़ गई है. भ्रष्टाचार भारतीय प्रशासन का सबसे बड़ा दुर्भाग्य रहा है. आज संपूर्ण भारतीय समाज में यह व्याप्त है और सारी जनता इससे परेशान हो गई है. प्रत्येक सरकारी विभाग में ऐसे लोगों की कोई कमी नहीं है, … Read More

नौकरशाही के दोषों को दूर करने के सुझाव – Ethics Notes

RuchiraEthicsLeave a Comment

नौकरशाही के गुण-दोषों की विवेचना करने के बाद यही कहा जा सकता है कि नौकरशाही स्वयं बुरी चीज नहीं है. उसमें कुछ दोष अवश्य विद्यमान है, परंतु वे दोष ऐसे नहीं है कि उन्हें दूर न किया जा सके. उसमें दोष तभी आ जाते हैं जब वह अनियंत्रित हो जाता है. अतः, उसको नियंत्रण में रखना आवश्यक है. रैमजे म्योर … Read More

नौकरशाही के गुण-दोष | Ethics Study Material

RuchiraEthicsLeave a Comment

साधारणत: “नौकरशाही” शब्द का प्रयोग अनादर अथवा तिरस्कार के साथ ही किया जाता है. प्रजातांत्रिक व्यवस्था में इसे कटु आलोचना की कसौटी पर कसा गया है. रैमजे ग्योर, लॉर्ड हेवार्ट और एलन ने इस बात के लिए दुःख प्रकट किया है कि ब्रिटेन में नौकरशाही और तानाशाही स्थापित हो गई है. रैमजे ग्योर ने कहा है कि ब्रिटेन में “नौकरशाही … Read More

नौकरशाही की विशेषताएँ – Ethics Notes

RuchiraEthicsLeave a Comment

विभिन्न विद्वानों ने नौकरशाही (Bureaucracy) की विभिन्न विशेषताओं पर प्रकाश डाला है. उन विशेषताओं के आधार पर नौकरशाही की निम्नलिखित विशेषताओं का वर्णन किया जा सकता है –   नौकरशाही की विशेषताएँ – Characteristics of Bureaucracy निश्चित कार्यक्षेत्र इसकी पहली विशेषता यह है कि इसका कार्यक्षेत्र निश्चित होता है. विधानमंडल द्वारा बनाए गए नियमों तथा कार्यपालिका द्वारा बनाए गए नियमों … Read More

नौकरशाही (Bureaucracy) – एक आलोचनात्मक टिप्पणी | Ethics Notes

RuchiraEthicsLeave a Comment

आधुनिक युग में प्रत्येक देश के प्रशासन में असैनिक सेवा की महत्ता बहुत बढ़ गई है. वास्तव में, प्रशासन की सफलता असैनिक सेवाओं की योग्यता और कार्यकुशलता पर ही निर्भर करती है. संसदीय शासन-व्यवस्था में मंत्रियों को अपने विभाग के कार्यों का कोई अनुभव और ज्ञान नहीं रहता, अतः उन्हें विशेषज्ञ कर्मचारियों के इशारे पर ही नाचना पड़ता है.  इसके … Read More

असैनिक सेवाओं द्वारा संपादित कार्य – Ethics Notes

RuchiraEthicsLeave a Comment

पिछले पोस्ट में हमने जो सिविल सेवाओं की विशेषताओं का विवरण किया उससे स्पष्ट हो जाता है कि प्रशासन में उनका कितना महत्त्वपूर्ण स्थान है. अपने कार्यों के निर्वाह के लिए उनमें ईमानदारी, कर्तव्यनिष्ठा, उत्तरदायित्व एवं जनसेवा की भावना कूट-कूट कर भरी रहनी चाहिए. वास्तव में, उनके उत्तरदायित्व दिनों-दिन बढ़ते जा रहे हैं. उनका कार्य अब नीति-निर्धारण को कार्यान्वित करने … Read More

सिविल सेवकों की विशेषताएँ – Ethics Notes

RuchiraEthicsLeave a Comment

आधुनिक असैनिक कर्मचारियों की अनेक विशेषताएँ हैं, जिनमें ये मुख्य हैं— Features of Modern Civil Servants असैनिक सेवा में प्रशिक्षित, कुशल, स्थायी तथा बैतनिक अधिकारियों का एक पदाधिकारी वर्ग है. अन्य व्यवसायों में व्यस्त व्यक्तियों की ही तरह, असैनिक सेवा के पदाधिकारी प्रशासन के कार्यों में व्यस्त रहते हैं. उनका प्रमुख कार्य प्रशासन का कार्य करना ही है. असैनिक सेवाओं … Read More

आधुनिक युग में असैनिक सेवाओं का महत्त्व (Ethics Notes)

RuchiraEthicsLeave a Comment

ई भी प्रशासकीय संगठन चाहे कितना भी अच्छा क्‍यों नहीं हो, अंततोगत्वा इसकी सफलता या असफलता उन लोगों की समझ, योग्यता तथा सभ्यता पर निर्भर है, जो प्रशासकीय कार्यों को संपन्‍न करते हैं. प्रत्येक देश में प्रशासन की सफलता का उत्तरदायित्व उसके कर्मचारियों की योग्यता, कार्यकुशलता और ईमानदारी पर आधारित है. देश के प्रशासन के लिए नीति निर्धारित करना राजनीतिक कार्यपालिका … Read More

[संसार मंथन 2021] मुख्य परीक्षा लेखन अभ्यास – Ethics Theory| GS Paper 4/Part 01

Sansar LochanGS Paper 4 Theory EthicsLeave a Comment

Based on the Daily Current Affairs of 02 Jan, 2021. From this link you can visit all questions of 2st Jan, 2021 – SMA Assignment 52 Click here “न केवल न्याय किया जाना चाहिए, अपितु यह होते हुए दिखना भी चाहिए।” परीक्षण कीजिए। (GS Paper 4) “Not only must Justice be done; it must also be seen to be done.” Examine. … Read More

नैतिक वीगनवाद (Ethical veganism) का अर्थ और इसके प्रकार

Sansar LochanEthicsLeave a Comment

यूनाइटेड किंगडम के एक आजीविका न्यायाधिकरण ने यह व्यवस्था दी है कि ब्रिटेन के कानून के द्वारा जिन दार्शनिक विश्वासों के प्रति भेदभाव न करने की सुरक्षा दी गई है उनमें नैतिक वीगनवाद (Ethical veganism) भी सम्मिलित है. मामला क्या है? जोर्डी केस्मीजना (Jordi Casamitjana) नाम के एक मनुष्य ने यह दावा किया था कि “लीग अगेंस्ट क्रुअल स्पोर्ट्स” नामक … Read More