[भारतीय इतिहास] धर्म तथा समाज सुधार आन्दोलन

Sansar Lochan#AdhunikIndia, History, Modern History22 Comments

social_reforms

19वीं शताब्दी में भारत नवजागरण की जिन प्रवृत्तियों के दौर से गुजर रहा था, उन्हें “समाज सुधार आन्दोलन (Social Reform Movements)” की संज्ञा दी जाती है. विभिन्न संस्थाओं तथा संगठनों ने धार्मिक तथा सामजिक सुधार के माध्यम से वैज्ञानिक तथा आधुनिक वैचारिक प्रवृत्तियों को स्थापित करने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई. आज हम 19वीं शताब्दी में धर्म तथा समाज सुधार आन्दोलन … Read More

IAS छात्रों के लिए आधुनिक भारत इतिहास के लिए नई मुहीम – #AdhunikIndia

Dr. SajivaUncategorized11 Comments

[vc_row][vc_column width=”1/2″][vc_column_text]कल इस ब्लॉग के एडिटर संसार जी ने मुझे कहा कि सर आप Modern History के Short Notes लिखो और उसकी एक series दिसम्बर के अंत तक ख़त्म कर दो. वैसे तो रिश्ते में मैं एडिटर जी (संसार लोचन) का पिता हूँ पर मुझे वह “सर” कहकर ही पुकारते हैं. सच कहूँ तो आधुनिक इतिहास को इतनी जल्दी कवर … Read More

स्वतंत्रता संग्राम के दौरान समाचार पत्र तथा पत्रिकाएँ व उनके संस्थापक

Dr. SajivaHistory, Modern History7 Comments

आज हम आपको भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के दौरान (freedom struggle era) समाचार पत्र तथा पत्रिकाएँ (newspapers and magazines) व उनके संस्थापक/सम्पादक (writers/founders/editors) के नाम बताने वाले हैं. इस list को हमारे experts के द्वारा तैयार किया गया है, अगर फिर भी कोई mistake है तो कृपया कमेंट में लिखें. Writers/Founders of Newspapers and Magazines During Freedom Struggle in Indian History … Read More

अरबिंदो घोष का जीवन परिचय और राजनीतिक विचार

Babli GautamHistory, Modern History11 Comments

aurobindo-ghosh-essay

आज इस पोस्ट में हम अरबिंदो घोष के जीवन परिचय, राजनीतिक विचार और उनकी कुछ रचनाओं के विषय में चर्चा करेंगे. जीवन परिचय अरबिंदो घोष का जन्म 15 अगस्त 1872 को कलकत्ता में हुआ. वे लगभग 13 वर्ष इंग्लैंड में रहे और वहीँ ICS बनने की तैयारी की और ICS लिखित परीक्षा पास की किन्तु घुड़सवारी में असफल होने के कारण … Read More

मार्शल लॉ – अंग्रेजों की क्रूरता की हद!

Dr. SajivaHistory, Modern History1 Comment

जालियाँवाला बाग़ के हत्याकांड ने पंजाब सरकार की उग्रता को शांत न करके और अधिक प्रज्वलित कर दिया. 13 अप्रैल के हत्याकांड ने न केवल अमृतसर में बल्कि पंजाब के अन्य नगरों में भी भयानक आतंक फैला दिया था. फिर भी पंजाब  लैफ्टिनेंट गवर्नर ने आवश्यक समझा कि अमृतसर में और अन्य कुछ स्थानों पर मार्शल लॉ अथवा सैनिक कानून लगा दिया जाए. … Read More

1857 से पूर्व के महत्त्वपूर्ण विद्रोह

Dr. SajivaHistory, Modern History3 Comments

आपने 1857 के विद्रोह के विषय में लिखे हुए हमारे पोस्ट को पढ़ा ही होगा. आज हम 1857 ई. से पूर्व हुए महत्त्वपूर्ण विद्रोहों की चर्चा करेंगे – संन्यासी विद्रोह 1770 इस संन्यासी विद्रोह का उल्लेख बंकिम चन्द्र चटर्जी ने अपने उपन्यास “आनंदमठ” में किया है. तीर्थ स्थानों पर लगे प्रतिबंधों से संन्यासी लोग बहुत क्षुब्ध हुए. संन्यासियों के बीच अन्याय के … Read More

गुरु नानक देव की संक्षिप्त जीवनी और शिक्षाएँ

Dr. SajivaHistory, Modern HistoryLeave a Comment

guru_nanak

गुरु नानक का प्रारंभिक जीवन सिख धर्म के प्रणेता गुरुनानक देव रावी के तट पर स्थित तलवंडी (आधुनिक ननकाना साहिब, पाकिस्तान) में नवम्बर 1469 ई. में एक खत्री परिवार में उत्पन्न हुए थे. उनके पिता का नाम मेहता कालू चंद था. उनका विवाह 18 वर्ष की आयु में ही हो गया था और उन्हें पिता के व्यवसाय से सम्बंधित लेखा-जोखा … Read More

प्रथम कर्नाटक युद्ध (1746-48 ई.) : कारण एवं परिणाम

Dr. SajivaHistory, Modern History3 Comments

first_carnatic_war

प्रथम कर्नाटक युद्ध : भूमिका मुगलों के पतन के बाद राजनैतिक प्रभुत्व के लिए देशी शासकों के साथ-साथ विदेशी ताकतें भी संघर्षरत हो गयीं. देशी ताकतों में मुख्य रूप से मराठे थे तो विदेशी ताकतों में असली लड़ाई अंग्रेजों और फ्रांसीसियों के बीच थी. इन दोनों शक्तियों में प्रभुत्व का यह संघर्ष 60-70 साल चला और नेपोलियन के पतन के … Read More

शिवाजी की विजयें और प्रमुख सफलताएँ – List of Conquests

Dr. SajivaHistory, Modern History1 Comment

शिवाजी ने 1645-47 ई. के मध्य जिन तीन किलों पर अधिकार किया वे पहाड़ी दुर्ग थे. कुछ समय बाद (1656 ई. में) उन्होंने जावली (Jawali) पर विजय की. यह विजय शिवाजी के लिए बहुत महत्त्वपूर्ण विजय थी. इस विजय के बाद – अब उनके लिए अपने राज्य को दक्षिण-पश्चिम में फैलाना आसान हो गया. यहाँ से प्राप्त सैनिक (मालवी सैनिक) … Read More

पूना सार्वजनिक सभा 1870 ई. के विषय में विस्तृत जानकारी

Dr. SajivaHistory, Modern History1 Comment

पूना सार्वजनिक सभा (मराठी – पुणे सार्वजनिक सभा) की स्थापना 2 अप्रैल, 1870 ई. को महादेव गोविंद रानडे ने की थी. पूना सार्वजनिक सभा सरकार और जनता के बीच मध्यस्थता कायम करने के लिए बनाई गई थी. भवनराव श्रीनिवास राव इस संस्था के प्रथम अध्यक्ष थे. बाल गंगाधर तिलक, गोपाल हरि देशमुख, महर्षि अण्णासाहेब पटवर्धन जैसे कई प्रतिष्ठित व्यक्तित्वों ने इस संगठन के … Read More