मुस्लिम लीग की स्थापना – Birth of Muslim League

Dr. SajivaHistory, Modern History7 Comments

muslim_league

आज हम मुस्लिम लीग की स्थापना (formation of Muslim League) कब और किन परिस्थियों में हुई, इसका प्रथम और दूसरा अधिवेशन (first and second session) कब हुआ, इसके अध्यक्ष कौन थे आदि की चर्चा करेंगे. इस लीग के प्रमुख नेता कौन थे और भारतीय आधुनिक इतिहास को मुस्लिम लीग ने किस तरह पलट कर रख दिया, ये भी जानेंगे. भूमिका  … Read More

प्रत्यक्ष कार्रवाई दिवस – The Direct Action Day 1946

Dr. SajivaHistory, Modern HistoryLeave a Comment

direct action day

शुरुआत में कांग्रेस और मुस्लिम लीग दोनों ने ही कैबिनेट मिशन (<<Click to read it) को स्वीकार कर लिया पर अंतरिम सरकार की योजना को कांग्रेस स्वीकार नहीं कर सकी. यह एक हास्यास्पद स्थिति थी. लीग का दावा था कि वह कांग्रेस के बिना भी आन्तरिक सरकार का गठन कर सकती है. वायसराय ने लीग के प्रस्ताव को ठुकरा दिया. इससे जिन्ना … Read More

पबना विद्रोह 1873-76 (Pabna Peasant Revolt in Hindi)

Dr. SajivaHistory, Modern History4 Comments

pabna_revolt

19वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में बंगाल के पबना नामक जगह में भी किसानों ने जमींदारी शोषणों के विरुद्ध विद्रोह किया था. पबना राजशाही राज की जमींदारी के अन्दर था और यह वर्धमान राज के बाद सबसे बड़ी जमींदारी थी. उस जमींदारी के संस्थापक राजा कामदेव राय थे. पबना विद्रोह (Pabna Revolt) जितना अधिक जमींदारों के खिलाफ था उतना सूदखोरों और महाजनों … Read More

पिट्स इंडिया एक्ट (The Pitt’s India Act, 1784) in Hindi

Dr. SajivaHistory, Modern History4 Comments

Regulating Act की कमजोरियों को दूर करने और अंग्रेजों के हितों की रक्षा करने के लिए 1784 ई. में ब्रिटिश संसद ने पिट्स इंडिया एक्ट (Pitt’s India Act) पास किया. इस एक्ट ने कंपनी का मामलों और भारत में उसके प्रशासन पर ब्रिटिश सरकार को सर्वोपरि नियंत्रण का अधिकार दे दिया. आइये जानते हैं Proposals, Significance and Features of Pitt’s … Read More

लाला लाजपत राय का जीवन और भारतीय इतिहास में उनका स्थान

Dr. SajivaBiography, History, Modern History2 Comments

लाला लाजपत राय

कांग्रेस के उग्रवादी नेताओं में लाला लाजपत राय का बहुत ही महत्त्वपूर्ण स्थान है. तिलक की ही भाँति पंजाब में लाला लाजपत राय ने नयी सामाजिक और राजनीतिक चेतना लाने की कोशिश की. पंजाब के रहने वाले लोग लाला लाजपत राय को श्रद्धा से “पंजाब केसरी (Punjab Kesari)” कहते थे. लाला लाजपत राय की जीवन लाला लाजपत राय का जन्म … Read More

सहायक संधि – Lord Wellesley’s Subsidiary Alliance in Hindi

Dr. SajivaHistory, Modern History8 Comments

सहायक संधि

Lord Wellesley एक बहुत बड़ा साम्राज्यवादी था. साम्राज्यवादी से हमारा तात्पर्य है कि अपने साम्राज्य को फैलाने वाला. यानी Lord Wellesley चाहता था कि कम्पनी का शासन (East India Company) पूरे भारत में हो. क्या आपको पता है कि Lord Wellesley कब से कब तक भारत का Governor General रहा? नहीं पता तो पता कीजिए, यही सब चीजें तो परीक्षा … Read More

मोपला विद्रोह (The Moplah Rebellion – 1921) in Hindi

Dr. SajivaHistory, Modern History2 Comments

पूर्व बंगाल के पबना नामक स्थान के ही समान मद्रास प्रेसिडेंसी के मालाबार में मोपला का विद्रोह हुआ जिसे मालाबार विद्रोह (Malabar rebellion) भी कहते हैं. यदि आपसे Prelims परीक्षा में पूछा जाए कि मोपला विद्रोह (Moplah Rebellion) कहाँ हुआ तो इसका जवाब है मद्रास! खैर, मालाबार एक मुस्लिम बहुसंख्यक इलाका था. ये मुसलमान मोपला के नाम से जाने जाते थे. … Read More

बिरसा मुंडा आन्दोलन – Birsa Munda Movement in Hindi

Dr. SajivaHistory, Modern History4 Comments

1857 ई. के बाद मुंडाओं ने सरदार आन्दोलन चलाया जो एक शांत प्रकृति का आन्दोलन था. पर इससे आदिवासियों की स्थिति में कोई ख़ास परिवर्तन नहीं आया. मुंडाओं ने आगामी आन्दोलन को उग्र रूप देने का निर्णय लिया. सरदार आन्दोलन के ठीक विपरीत बिरसा मुंडा आन्दोलन उग्र और हिंसक था. इस आन्दोलन के नेता बिरसा मुंडा (Birsa Munda), एक पढ़े-लिखे … Read More

1857 विद्रोह के प्रमुख नेता – Prominent Leaders of 1857

Dr. SajivaHistory, Modern History16 Comments

आशा है कि इस पोस्ट को पढ़ने से पहले आपने 1857 की क्रांति वाला हमारा पोस्ट जरुर पढ़ा होगा. यदि नहीं पढ़ा तो आप अभी क्लिक करके पढ़ सकते हैं >> 1857 की क्रांति. यहाँ पर हम 1857 की क्रांति के कुछ प्रमुख नेताओं (leaders) के नाम लेने जा रहे हैं. इन्होंने किन क्षेत्र का नेतृत्व किस प्रकार किया, इस … Read More

चंपारण का किसान आन्दोलन – Peasant Movement of Champaran

Dr. SajivaHistory, Modern HistoryLeave a Comment

20वीं शताब्दी के शुरुआती चरणों में चंपारण के किसानों (farmers of Champaran) का भी आन्दोलन (movement) हुआ जिसकी गूँज पूरे भारत में हुई. इस आन्दोलन का महत्त्व इसलिए भी अधिक है क्योंकि यहीं से महात्मा महात्मा गाँधी जी भारतीय राजनीति में सक्रिय रूप से प्रवेश होता है. सत्याग्रह की शुरुआत चंपारण से ही हुई. चलिए जानते हैं चंपारण आन्दोलन/सत्याग्रह (Champaran … Read More