BPSC Questions : Mock Practice Test Series Part 12

Dr. SajivaBPSC2 Comments

आज हम बिहार सामान्य अध्ययन सामग्री (General Knowledge Study Material) आपके सामने प्रस्तुत करने जा रहे हैं. आशा है कि आपको हमारा यह प्रयास पसंद आएगा. यदि पसंद आये तो जरुर बताएँ ताकि हम इस तरह के Question and Answer सीरीज BPSC के लिए और भी ला सकें. यदि आपने हमारे पुराने Test series को सॉल्व नहीं किया है, तो … Read More

SMA 01 – GS PAPER I PART 1 UPSC MAINS ASSIGNMENT 2019

Dr. SajivaSMA 011 Comment

सामान्य अध्ययन/ GENERAL STUDIES – प्रश्न-पत्र I/Paper I  –  2019 SMA Assignment No. 1            मुख्य परीक्षा लेखन अभ्यास –संसार मंथन 10 Marks Questions = 10×6 = 60 Q1. मौर्योत्तर कालीन भारतीय राजनीति जीवन की प्रमुख विशेषताओं एवं शासकीय वंशों का संक्षिप्त परिचय दीजिये. Q2. शुंग वंश का संस्थापक कौन था? उसका एक विजेता एवं धार्मिक व्यक्ति के रूप में मूल्यांकन … Read More

डॉ. अम्बेडकर की जीवनी, विचार और रचनाएँ

Dr. SajivaBiography, Modern History1 Comment

आज हम डॉ. भीमराव अम्बेडकर की जीवनी, विचार और रचनाओं के बारे में जानेंगे. चलिए पढ़ते हैं – Ambedkar Biography को हिंदी में. आप चाहें तो इसका PDF भी डाउनलोड कर सकते हैं. Biography of B.R. Ambedkar दलितों के मसीहा, सामाजिक समानता के लिए संघर्षशील, समाज सुधारक एवं भारतीय संविधान के प्रमुख निर्माता डॉ. अम्बेडकर का जन्म 14 अप्रैल, 1891 … Read More

वीर सावरकर से सम्बंधित मुख्य तथ्य

Dr. SajivaBiography, Modern HistoryLeave a Comment

28 मई, 2019 को स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर की जयंती मनाई गई. वीर सावरकर से सम्बंधित मुख्य तथ्य सावरकर का पूरा नाम गणेश दामोदर सावरकर था. सावरकर ने 1904 में नासिक में ‘मित्रमेला’ नाम से एक संस्था आरंभ की थी जो शीघ्र ही मेजनी के ‘तरुण इटली’ की तर्ज पर एक गुप्त सभा ‘अभिनव भारत’ में परिवर्तित हो गयी. अभिनव … Read More

[कालक्रम] Modern History Important Topics Part 3

Dr. Sajiva#AdhunikIndiaLeave a Comment

आगामी परीक्षा के लिए आधुनिक इतिहास के कुछ शोर्ट नोट्स पॉइंट के रूप में दे रहा हूँ. इस नोट्स को आप रिवीजन नोट्स भी कह सकते हैं. वैसे हम लोगों ने कई बार ऐसे पोस्ट डाले हैं. आप उन्हें इन दोनों लिंक में ढूँढ़ सकते हैं – History Notes in Hindi Modern India Notes in Hindi Modern History Short Notes … Read More

सरदार पटेल और रियासतों का एकीकरण और विलय

Dr. Sajiva#AdhunikIndiaLeave a Comment

भारतीय रियासतें क्या थीं? औपनिवेशिक भारत में, करीब-करीब इसका 40% भूभाग छोटे या बड़े ऐसे 56 रियासतों द्वारा घिरा था, जिस पर शासन करने वाले राजाओं को ब्रिटिश पारामाउंटसी (सर्वोच्चता) के अंतर्गत विभिन्न प्रकार की स्वायत्तता प्राप्त थी. अंग्रेजी शासन उन्हें अपनी जनता से बचाने के साथ-साथ बाहरी आक्रमणों से तब तक बचाती थी, जब तक कि वे अंग्रेजों की … Read More

[कालक्रम] Modern History Important Topics Part 2

Dr. Sajiva#AdhunikIndia1 Comment

अभी तक हमने #Adhunik India By Sajiva Sir Notes में पढ़ा –  CHRONOLOGY OF HISTORY OF MODERN INDIA – Part 2 अंग्रेजों की उपनिवेशवादी नीतियों के खिलाफ जब पूरा देश उठ खड़ा हुआ था तो मध्य प्रदेश भी उससे अछूता नहीं रहा. 1818 ई. में प्रदेश के महाकौशल क्षेत्र में सर्वप्रथम विद्रोह की चिंगारी दिखाई पड़ी थी. जब नागपुर के तत्कालीन देशभक्त शासक … Read More

भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में सहायक तत्त्व

Dr. Sajiva#AdhunikIndiaLeave a Comment

भारत की स्वतंत्रता एक महान ऐतिहासिक घटना है. यह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेतृत्व में 62 वर्षों के संघर्ष का परिणाम है. अन्य देशों के स्वतंत्रता संग्राम से इसकी प्रकृति भिन्न है. यह मुख्यतः एक अहिसंक लड़ाई थी. इसने न तो प्रधानमन्त्री एटली और मजदूर दल की उदारता का परिणाम और न ही भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रयत्नों का परिणाम … Read More

माउंटबेटन योजना – The Mountbatten Plan

Dr. Sajiva#AdhunikIndiaLeave a Comment

आज हम इस पोस्ट में माउंटबेटन योजना (The Mountbatten Plan in Hindi) के बारे में पढ़ने जा रहे रहे हैं. एटली की घोषणा के पश्चात् यह निश्चित हो गया कि अब भारत को स्वतंत्रता मिलने ही वाली है. स्वतंत्रता मिलने की संभावना जब साकार होने जा रही थी तो लोगों पर सांप्रदायिकता का जुनून सवार हो गया. बड़े पैमाने पर … Read More

कैबिनेट मिशन योजना – 16 May, 1946

Dr. Sajiva#AdhunikIndia, Modern History2 Comments

cabinet_mission

द्वितीय विश्वयुद्ध समाप्त हो गया था और इंगलैंड ने पहले आश्वासन दे रखा था कि युद्ध में विजयी होने के बाद वह भारत को स्वशासन का अधिकार दे देगा. इस युद्ध के फलस्वरूप ब्रिटिश सरकार की स्थिति स्वयं दयनीय हो गयी थी और अब भारतीय साम्राज्य पर नियंत्रण रखना सरल नहीं रह गया था. बार-बार पुलिस, सेना, कर्मचारी और श्रमिकों … Read More