सित्तनवासल – एक जैन विरासत स्थल

Dr. SajivaCultureLeave a Comment

सित्तनवासल में अधिकांश कला पर्यटकों द्वारा क्षतिग्रस्त या नष्ट कर दी गई हैं. भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) ने कुछ संरक्षण के उपाय किए हैं और उन तक सार्वजनिक पहुँच को ट्रैक करने के लिए डिजिटल जाँच भी शुरू की है। यहाँ 7वीं शताब्दी के उत्कृष्ट भित्तिचित्रों के अवशेष हैं। भित्तिचित्रों को मंदिर के अंदर स्तंभों और छत के शीर्ष भागों … Read More

पोन्नियिन सेलवन क्या है और क्यों चर्चा में है?

Dr. SajivaHistory Current AffairsLeave a Comment

भारतीय फिल्म निर्माता मणिरत्नम द्वारा एक उपन्यास पर आधारित एक फिल्म शृंखला रूपांतरण का निर्माण किया जा रहा है जिसका नाम है पोन्नियिन सेलवन. पोन्नियिन सेलवन क्या है? पोन्नियिन सेलवन एक उपन्यास है जिसको कल्कि कृष्णमूर्ति द्वारा लिखा गया है. यह एक तमिल साहित्य का उपन्यास है जो अब तक का सबसे उत्कृष्ट उपन्यास माना जाता है। यह पहली बार 1950 के … Read More

हैदराबाद मुक्ति दिवस के पीछे रक्तरंजित इतिहास

Dr. SajivaModern HistoryLeave a Comment

भारत सरकार ने 17 सितंबर, 2022 से 17 सितंबर, 2023 तक चलने वाले ‘हैदराबाद मुक्ति दिवस’ (Hyderabad-Liberation Day) के वर्ष-भर लंबे स्मृति उत्सव को स्वीकृति दी है। संस्कृति मंत्रालय 17 सितंबर 2022 को हैदराबाद मुक्ति दिवस के वर्ष-भर चलने वाले स्मरण उत्सव के उद्घाटन कार्यक्रम का आयोजन करने वाला है। इस स्मृति दिवस पर उन सभी को श्रद्धांजलि दी जाएगी … Read More

आदि शंकराचार्य

Dr. SajivaAncient HistoryLeave a Comment

हाल ही में प्रधानमंत्री मोदी ने कोच्चि के कालडी गांव स्थित श्री आदि शंकराचार्य की जन्मभूमि क्षेत्र का दौरा किया। आदि शंकराचार्य के बारे में आदि शंकराचार्य का जन्म 11 मई, 788 ईस्वी को कोच्चि, केरल के पास कलाडी नामक स्थान पर हुआ था। उन्होंने अद्वैतवाद के सिद्धांत को प्रतिपादित किया और संस्कृत में वैदिक सिद्धांत (उपनिषद, ब्रह्म सूत्र और … Read More

थलावेट्टी मुनियप्पन मंदिर विवाद – UPSC Notes

Dr. SajivaAncient HistoryLeave a Comment

जैसा कि हम सब जानते हैं तमिलनाडु के सलेम में थलावेट्टी मुनियप्पन मंदिर (Thalavetti muniyappan temple) स्थल लंबे समय से हिंदू तीर्थस्थल रहा है। परन्तु अब शायद यह संभव नहीं रहेगा। मद्रास उच्च न्यायालय द्वारा आदेशित स्थल की एक पुरातात्विक जांच से पता चला है कि जो सदियों से गाँव के देवता के रूप में पूजे जाते थे, वह वास्तव … Read More

भारतीय इतिहास में ऐतिहासिक कथन | Historical statements in Indian History

Dr. SajivaModern HistoryLeave a Comment

Famous Statements in Indian History इस पोस्ट में हम कुछ ऐतिहासिक कथनों (historical statements) का उल्लेख करेंगे जो भारतीय इतिहास – “प्राचीन, मध्यकालीन और आधुनिक इतिहास” में कुछ महान या प्रसिद्ध व्यक्तित्वों, इतिहासकारों आदि ने बोला है या किसी पौराणिक कथाओं, महाकाव्यों, वेदों व अन्य ऋचाओं में उद्धृत हैं. UPSC मेंस आंसर राइटिंग में इस तरह के statement लिख देने … Read More

संगम काल से सम्बंधित शोर्ट नोट्स

Dr. SajivaAncient History1 Comment

अभी तक UPSC और अन्य PCS प्रारम्भिक परीक्षा (prelims exam) में आये संगम काल (Sangam Age) से आये सवालों को एकत्रित कर के आपके सामने दे रहा हूँ. वैसे तो प्राचीन इतिहास से सवाल कम ही आते हैं पर हो सकता है संगम युग से सम्बंधित यह नोट्स आपके कुछ काम आ जाये – संगमकालीन प्रमुख तथ्य (विभिन्न परीक्षा में … Read More

मध्य प्रदेश के मंदिर

Dr. SajivaCultureLeave a Comment

गुप्तकाल के बाद मध्य प्रदेश में प्रतिहार, परमार, कल्चुरि, कच्छपघात आदि विभिन्न राजवंशों के राजाओं द्वारा मन्दिर-निर्माण की परम्परा निरन्तर विकसित होती रही. ग्वालियर, ग्यारसपुर, उदयपुर, बरुआसागर, नरेसर, खरोद, नोहटा, सोहागपुर, भेड़ाघाट, गुर्गी, सुरवाया, सुहनिया, मितावली, मैहर, नचना-कुठार आदि अनेक स्थानों पर विभित्र प्रकार के मन्दिरों का निर्माण किया गया था. मध्य प्रदेश के कुछ प्रसिद्ध मंदिर नरेसर (जिला मोरेना) … Read More

मुख्य परीक्षा लेखन अभ्यास – Modern History GS Paper 1/Part 18

Dr. SajivaGS Paper 1 2020-21, Sansar Manthan5 Comments

Q1. स्त्री शिक्षा के प्रसार का वास्तविक कार्य 19वीं-20वीं शताब्दी के धर्म एवं समाजसुधार आंदोलन के नेताओं ने किस प्रकार किया? कुछ उदाहरणों के साथ वर्णन कीजिए. क्या करें ✅प्रश्न में “वास्तविक कार्य” लिखा है इसका मतलब आपको अपने उत्तर में यह लिखना चाहिए कि इससे पहले स्त्री शिक्षा की क्या स्थिति चल रही थी. तब जा कर आप “वास्तविक … Read More

मुख्य परीक्षा लेखन अभ्यास – Modern History GS Paper 1/Part 17

Dr. SajivaGS Paper 1 2020-21, Sansar ManthanLeave a Comment

Q1. “1784 ई. का एक्ट एक चतुर और कुटिल प्रस्ताव था जिसने संचालक-समिति की राजनीतिक सत्ता को मंत्रिमंडल के गुप्त और प्रभावशाली नियंत्रण में कर दिया था.” आप इससे कहाँ तक सहमत हैं?  “The 1784 Act was a cunning and crooked proposal that put the political power of the Board of Directors under the confidential and influential control of the … Read More