भारतीय संविधान की प्रस्तावना के मुख्य सिद्धांत – Preamble in Hindi

RuchiraIndian Constitution, Polity Notes12 Comments

bharat_ka_samvidhan
Print Friendly, PDF & Email

भारतीय संविधान की प्रस्तावना में निहित मुख्य सिद्धांत हैं:– Main Principles of the Preamble in the Indian Constitution

1. प्रस्तावना (Preamble) में संविधान के स्रोत का उल्लेख है और कहा गया है–

“हम, भारत के लोग …..संविधान को अंगीकृत, अधिनियमित तथा आत्मार्पित करते हैं.”

इससे यह निष्कर्ष निकलता है कि संविधान का निर्माण भारतीय जनता के द्वारा किया है. इस प्रकार भारत की जनता ही समस्त राजनीतिक सत्ता का स्रोत है. यह सच है कि समस्त भारतीय जनता ने इसका निर्माण नहीं किया है, फिर भी यह एक सच्चाई है कि इसके निर्माता जनता के प्रतिनिधि थे. इन प्रतिनिधियों ने यह स्वीकार किया कि सम्पूर्ण राज्यशक्ति का मूल स्रोत भारतीय जनता में निहित है. 1950 ई. में “गोपालन बनाम मद्रास राज्य (A.K. Gopalan vs The State Of Madras)” नामक मुक़दमे में सर्वोच्च न्यायालय ने इसी आशय का निर्णय दिया और इसमें स्पष्ट किया कि भारतीय जनता ने अपनी सर्वोच्च इच्छा (Supreme Will) को व्यक्त करते हुए लोकतंत्रात्मक आदर्श अपनाया है.

2. प्रस्तावना भारतीय संविधान के उन उच्च आदर्शों का परिचय देती है जिन्हें भारतीय जनता ने शासन के माध्यम से लागू करने का निर्णय किया है. इन आदर्शों का उद्देश्य न्याय, स्वंतंत्रता, समानता, बंधुत्व या राष्ट्र की एकता एवं अखंडता स्थापित करना है.

3. प्रस्तावना भारत संघ की संप्रभुता तथा उसके लोकतंत्रात्मक स्वरूप की आधारशिला है. प्रस्तावना (Preamble) में कहा गया है कि भारत ने इस संविधान द्वारा एक सम्पूर्ण प्रभुत्वसम्पन्न लोकतंत्रात्मक गणराज्य की स्थापना की है.

4. संविधान के 42वें संशोधन अधिनियम द्वारा प्रस्तावना में “धर्मनिरपेक्ष” शब्द जोड़ दिया गया है. इस प्रकार भारत एक धर्मनिरपेक्ष राज्य घोषित किया गया है. इसका अभिप्राय यह हुआ कि संविधान सभी नागरिकों को विश्वास, धर्म तथा उपासना-पद्धति की स्वतंत्रता प्रदान करता है.

5. पाँचवें, प्रस्तावना द्वारा भारत को एक “समाजवादी” राज्य घोषित किया गया है.  42वें संशोधन अधिनियम के द्वारा ही प्रस्तावना में यह शब्द जोड़ा गया है.

इस प्रकार हम कह सकते हैं कि संविधान की प्रस्तावना उसकी आत्मा है. मात्र प्रस्तावना के अवलोकन से ही स्पष्ट हो जाता है कि स्वतंत्र भारत के नागरिकों द्वारा किस तरह के संविधान का निर्माण किया गया है.

भारतीय संविधान की प्रस्तावना Quiz

Quiz on Preamble to the Indian Constitution

भारतीय संविधान की प्रस्तावना

Congratulations - you have completed भारतीय संविधान की प्रस्तावना.You scored %%SCORE%% out of %%TOTAL%%.Your performance has been rated as %%RATING%%
Your answers are highlighted below.
Question 1
42वें संशोधन द्वारा निम्नलिखित शब्दों में किस एक को भारतीय संविधान की प्रस्तावना में जोड़ा गया है?
A
न्याय एवं स्वतंत्रता
B
बंधुत्व और न्याय
C
समाजवादी एवं धर्मनिरपेक्ष
D
संप्रभु एवं लोकतांत्रिक
Question 2
भारतीय संविधान की प्रस्तावना है---
A
एक लघु कथा
B
एक प्राक्कथन या परिचय
C
एक लम्बी कहानी
D
एक लम्बी कविता
Question 3
भारतीय संविधान ने प्रस्तावना का विचार लिया है
A
फ़्रांसिसी संविधान से
B
ब्रिटिश संविधान से
C
इटली के संविधान से
D
अमेरिकी संविधान से
Question 4
निम्नलिखित शब्दों में किस एक का भारतीय संविधान की प्रस्तावना में प्रयोग किया गया है?
A
न्याय एवं बंधुत्व
B
स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व
C
स्वतंत्रता एवं समानता
D
न्याय, स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व
Question 5
निम्नलिखित में कौन एक सही नहीं है?
A
भारतीय संविधान की प्रस्तावना को कानूनी मान्यता है
B
प्रस्तावना संविधान का अंग है
C
उपर्युक्त में कोई नहीं
D
भारतीय संविधान की प्रस्तावना को कानूनी मान्यता नहीं है
Once you are finished, click the button below. Any items you have not completed will be marked incorrect. Get Results
There are 5 questions to complete.

Books to buy

12 Comments on “भारतीय संविधान की प्रस्तावना के मुख्य सिद्धांत – Preamble in Hindi”

  1. This post is very good. For posts related to similar type of knowledge and job notifications, you can visit exambhai.com. This site is a student supported site. Use this site to make you work for government jobs or privet job notifications. Additionally, you can also study the question asked in Exam. So visit this link http://exambhai.com/online-quiz-hindi/

  2. Kaun sahi nahi me 2 option preamble samvidhan ka bhag nahi,air preamble ko kanooni manyata hai.ques k 2 ans.hue.

  3. Question no.1 option d thik nahi hai.in re berubari union ke case me preamble ko constitution ka ang nahi mana gaya tha,lekin keshwanand bharti vs uoi me case me berubari k decision ko ulat diya gaya aur preamble ko constitution ka bhag man gaya.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.