कोरियाई युद्ध विराम समझौता (KPA) और असैन्यीकृत जोन (DMZ)

Dr. SajivaWorld HistoryLeave a Comment

संयुक्त राष्ट्र कमान (United National Command – UNC) ने पिछले दिनों बताया कि मई 3, 2020 को उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया ने गोलीबारी करके युद्ध विराम समझौते (Korean Armistice Agreement) का उल्लंघन किया है. उसने बताया कि यह ठीक से कहा नहीं जा सकता कि पहले किसने गोली चलाई और यह जान-बूझकर हुआ या गलती से. संयुक्त राष्ट्र कमान … Read More

Battle of Çanakkale/Gallipoli Explained in Hindi

Dr. SajivaWorld HistoryLeave a Comment

Battle of Çanakkale/Gallipoli Explained in Hindi पिछले दिनों तुर्की का राष्ट्रपति रेसेप तैयब अर्दोगान (Recep Tayyip Erdogan) पाकिस्तान की संसद के संयुक्त अधिवेशन में गया और भाषण दिया. अपने भाषण में उसने कश्मीर पर पाकिस्तान का पक्ष लिया और कश्मीर में होने वाली घटनाओं की तुलना प्रथम विश्व युद्ध के समय Çanakkale  युद्ध (Battle of Çanakkale) से की. Çanakkale युद्ध … Read More

ईरान की इस्लामी क्रांति क्या थी? – कारण और परिणाम

Dr. SajivaWorld HistoryLeave a Comment

Iran celebrates 1979 Islamic Revolution – Explained in Hindi फ़रवरी 11 को ईरान ने 1979 की इस्लामी क्रांति (Islamic Revolution) को मनाया. इस्लामी क्रांति क्या थी? यह एक लोकप्रिय विद्रोह था जो 1978-79 में ईरान में हुआ था और जिसके कारण फ़रवरी 11, 1979 को तत्कालीन राजशाही का अंत हुआ और एक इस्लामी गणतंत्र की स्थापना हुई. इस्लामी क्रांति के … Read More

यूरोपियन यूनियन (European Union) का विकास और उसके अंग

Babli GautamWorld History6 Comments

परिचय यूरोपियन यूनियन यूरोपीय देशों का राजनैतिक व आर्थिक संगठन है. इसका विकास विभिन्न स्तरों पर हुआ है अर्थात यूरोपीय संघ की स्थापना किसी एक समझौते या संधि द्वारा नहीं बल्कि विभिन्न संधिओं तथा उनमे संशोधन के बाद हुई है. इसके विकास में  “पेरिस की संधि (1951)”,”रोम की संधि (1957)”,”मास्त्रिच की संधि (1993)” तथा “लिस्बन की संधि (2009)” का महत्वपूर्ण … Read More

औद्योगिक क्रांति – Industrial Revolution in Hindi

Dr. SajivaWorld History17 Comments

औद्योगिक क्रांति

“क्रांति” शब्द से साधारणतया आकस्मिक उथल-पुथल का बोध होता है. लेकिन औद्योगिक क्रांति (Industrial Revolution) के साथ हम वैसी बात नहीं पाते हैं. साधारणतः लोहे, काँसे और दूसरी-दूसरी चीजों के उत्पादन के ढंग में आमूल परिवर्तन को “औद्योगिक क्रांति (Industrial Revolution)” की संज्ञा दी जाती है. दस्तकारी के स्थान पर वैज्ञानिक अनुसंधानों के परिणामस्वरूप कारखानों का जन्म हुआ, उत्पादन में … Read More

इंग्लैंड की गौरवपूर्ण क्रांति -Glorious Revolution 1688 in Hindi

Dr. SajivaWorld History6 Comments

england_kranti

जेम्स द्वितीय 1685 ई. में इंग्लैंड का राजा बना. उसे बहुत सुरक्षित सिंहासन प्राप्त हुआ था. परिस्थिति राजतंत्र के पक्ष में थी. विरोधी दल कुचला जा चूका था. राज्य के प्रति निर्विरोध आज्ञाकारिता का सिद्धांत स्वीकृत हो चूका था. संसद के अधिकांश सदस्य राजा के दैवी अधिकार सिद्धांत के समर्थक थे. जेम्स द्वितीय ने स्वयं ही परिस्थिति को विपरीत बना … Read More

बोस्टन की चाय-पार्टी की घटना क्या थी?

Dr. SajivaWorld History1 Comment

boston_tea_incident

ब्रिटिश संसद ने चाय के व्यापार के सम्बन्ध में नया कानून बनाया था. इस कानून के अनुसार ईस्ट इंडिया कंपनी को अमेरिका में चाय भेजने की अनुमति दी गई थी. चाय के व्यापार को बढ़ाने के लिए मूल्य में कमी की गई थी. फलस्वरूप अमेरिकनों को सस्ती चाय मिल जाती थी और ईस्ट इंडिया कंपनी को भी आर्थिक लाभ हो … Read More

जर्मनी का एकीकरण – Unification of Germany in Hindi

Dr. SajivaHistory, World History17 Comments

unification_germany

19वीं सदी के पूर्वार्द्ध में जर्मनी भी इटली की तरह एक “भौगोलिक अभिव्यक्ति” मात्र था. जर्मनी अनेक छोटे-छोटे राज्यों में विभाजित था. इन राज्यों में एकता का अभाव था. ऑस्ट्रिया जर्मनी के एकीकरण (Unification of Germany) का विरोधी था. आर्थिक और राजनीतिक दृष्टि से जर्मनी पिछड़ा और विभाजित देश था. फिर भी जर्मनी के देशभक्त जर्मनी के एकीकरण (Unification of … Read More

यूरोप का पुनर्जागरण – Renaissance in Europe

Dr. SajivaHistory, World History31 Comments

Renaissance_in_Europe

पुनर्जागरण (Renaissance in Europe) का शाब्दिक अर्थ होता है, “फिर से जागना”. चौदहवीं और सोलहवीं शताब्दी के बीच यूरोप में जो सांस्कृतिक प्रगति हुई उसे ही “पुनर्जागरण” कहा जाता है. इसके फलस्वरूप जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में नवीन चेतना आई. यह आन्दोलन केवल पुराने ज्ञान के उद्धार तक ही सीमित नहीं था, बल्कि इस युग में कला, साहित्य और विज्ञान … Read More

अमेरिका का स्वतंत्रता-संग्राम – American Revolution

Dr. SajivaHistory, World History16 Comments

american revolution

आपको पता ही होगा कि क्रिस्टोफ़र कोलम्बस ने अमेरिका का पता लगाया था. अमेरिका का पता लगने के बाद यूरोप के बड़े-बड़े धनवान लोगों ने अमेरिका को बाँटना शुरू कर दिया. स्पेन, पुर्तगाल, हॉलैंड, फ्रांस औरइंग्लैंड ने वहाँ अपनी बस्तियाँ बसायीं. अमेरिका में अंग्रेजों के 13 उपनिवेश (Colonies) थे. उपनिवेशों में रहनेवाले अंग्रेज स्वतंत्रता-प्रेमी थे. वे अपनी स्वतंत्रता की रक्षा के … Read More