टॉप रिस्क 2020 प्रतिवेदन – मुख्य निष्कर्ष

RuchiraGovernanceLeave a Comment

यूरेशिया ग्रुप नामक अमेरिका की एक प्रभावशाली आकलन कम्पनी ने टॉप रिस्क 2020 शीर्षक प्रतिवेदन प्रकाशित कर दिया है.

टॉप रिस्क 2020 प्रतिवेदन – मुख्य निष्कर्ष

भारत के सन्दर्भ में  :-

  1. भू-राजनैतिक जोखिम की दृष्टि से भारत विश्व का पाँचवाँ सबसे बड़ा जोखिम माना गया है.
  2. प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल में आर्थिक प्रगति पर ध्यान न देकर कई सामाजिक विवादास्पद नीतियों को बढ़ावा दिया है.
  3. इसके परिणामस्वरूप 2020 में सामुदायिक और पन्थगत अस्थिरिता तो होगी ही, साथ ही विदेश नीति और आर्थिक नीति को भी धक्का पहुंचेगा.
  4. देश की तिमाही वृद्धि 4.5% है जो छह वर्षों में सबसे कम है. ऐसी स्थिति में मोदी के पास संरचनात्मक सुधार करने के लिए जगह कम बची है.
  5. अर्थव्यवस्था के दुर्बल पड़ने से आर्थिक राष्ट्रवाद और संरक्षणवाद को बढ़ावा मिलेगा जो 2020 में भारत के लिए अड़चन सिद्ध होगा.

विश्व के सन्दर्भ में :-

  1. अमेरिका को इस प्रतिवेदन में इस वर्ष का सबसे बड़ा भू-राजनैतिक जोखिम माना गया है.
  2. यह वर्ष अमेरिका के लिए सबसे उथल-पुथल का वर्ष होगा क्योंकि यहाँ महाभियोग चल रहा है और न्यायालय में अनेक चुनौतियाँ निर्णय हेतु पड़ी हुई हैं. साथ ही आगामी चुनाव को कुछ लोग अवैध मानेंगे.
  3. विदेश नीति का परिवेश भी अवांछनीय होगा.
  4. अमेरिका और चीन के बीच तनाव इस वर्ष बने रहेंगे जिससे विश्व स्तर पर चुनतियाँ खड़ी होंगी.
  5. फलस्वरूप सुरक्षा, प्रभाव और मान्यताओं को लेकर खुला टकराव देखने को मिलेगा.
  6. अनेक देश और सरकारें बहुराष्ट्रीय निगमों के प्रति कठोरता अपनाएंगे और नियमावलियों में कट्टर राष्ट्रवाद के तत्त्व डालेंगे.
  7. अमेरिका और चीन के द्वारा प्रदर्शित एकपक्षीयता यूरोपीय संघ को भी कष्ट में डालेगी.
  8. जलवायु परिवर्तन का दुष्प्रभाव कम्पनियों और देशों पर समान रूप से पड़ेगा जिससे कार्बन उत्सर्जन को नियंत्रित करना कठिन होगा.
  9. शिया देश स्थानीय अस्थिरता उत्पन्न करेंगे.
  10. तुर्की वर्चस्व दिखाना चाहता है जोकि मध्य-पूर्व के लिए एक संकट खड़ा कर सकता है.
  11. लैटिन अमेरिका में अस्थिरता और विप्लव का जोखिम बना हुआ है.

Tags : Eurasia Group released its report titled “Top Risks 2020”.

Leave a Reply

Your email address will not be published.