[संसार मंथन] मुख्य परीक्षा लेखन अभ्यास – Polity GS Paper 2/Part 8

Sansar LochanGS Paper 2, India and its neighbours, International Affairs, Sansar Manthan5 Comments

सामान्य अध्ययन पेपर – 2

भारत और चीन के बीच वर्तमान मुद्दे क्या-क्या हैं? चीन की उन पहलों की चर्चा करें जिनसे भारत को अपना अहित दिखता है. (250 शब्द)

  • अपने उत्तर में अंडर-लाइन करना है  = Green
  • आपके उत्तर को दूसरों से अलग और यूनिक बनाएगा = Yellow

यह सवाल क्यों?

यह सवाल UPSC GS Paper 2 के सिलेबस से प्रत्यक्ष रूप से लिया गया है –

“शासन व्यवस्था, संविधान, राजव्यवस्था, सामाजिक न्याय तथा अंतर्राष्ट्रीय संबंध”

सवाल का मूलतत्त्व

यदि आप दैनिक जागरण/दैनिक भास्कर/जनसत्ता आदि का editorial पढ़ते हैं तो इस बारे में आपको जानकारी होगी. चीन और भारत के बीच के मुद्दों को अक्सर अखबारों के एडिटोरियल में दिया जाता है. यदि आप अखबार पढ़ते होंगे तो ब्रह्मा चेलानी को जानते होंगे. वे अक्सर चीन और भारत के बीच संबंधों के विषय में लिखते रहते हैं.

वैसे तो इसमें अनेक points हम लिख सकते हैं पर अधिक स्वार्थ नहीं करना है क्योंकि आपको Answer sheet में उत्तर लेखन के लिए जगह सीमित मिलेगी. हमने भी NSG वाला मुद्दा इस उत्तर में छोड़ दिया है क्योंकि word limit ज्यादा हो रहा था.

उत्तर :-

भारत और चीन के बीच विद्यमान मुद्दे तो अनेक हैं पर मोटे तौर पर इन मुद्दों को निम्नलिखित रूप से वर्गीकृत किया जा सकता है –

सीमा विवाद

भारत और चीन के मध्य लगभग 3,488 km. लम्बी सीमा है. इस सीमा के अभी तक स्पष्ट रूप से निर्धारित न होने के चलते भारत को सीमा पार घुसपैठ/अतिक्रमण जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है. दोनों देशों के मध्य अरुणाचल प्रदेश जैसे कई विवादित क्षेत्र हैं. अरुणाचल प्रदेश और कश्मीर में चीन का बड़े भारतीय भूभाग पर आधिपत्य है.

चीन द्वारा अरुणाचल प्रदेश के निवासियों को स्टेपल वीजा जारी किया जाता है. इसके अतिरिक्त चीन ने अरुणाचल प्रदेश में छह स्थानों के लिए “मानकीकृत” आधिकारिक नामों की भी घोषणा की है क्योंकि चीन अरुणाचल प्रदेश को तिब्बत का एक भाग मानता है.

नदी जल विवाद

चीन द्वारा ब्रह्मपुत्र नदी (तिब्बत में सान्गपो) के ऊपरी क्षेत्रों में बाँधों (जिक्सू, झांगमू और जियाचा) का निर्माण किया जा रहा है. हालाँकि भारत ने इस सम्बन्ध में आपत्ति जताई है पर ब्रह्मपुत्र के जल बँटवारे को लेकर कोई औपचारिक संधि नहीं हुई है.

दलाई लामा और तिब्बत

दलाई लामा ने अपने वर्तमान निर्वासन के दौरान एक तिब्बती सरकार का गठन किया था जो वर्तमान में भी बिना किसी वास्तविक अधिकार के जनता के लिए कार्यरत है. हाल ही में विस्थापित तिब्बतियों ने दलाई लामा के नेतृत्व में भारत को उन्हें शरण देने के लिए “थैंक यू इंडिया” नामक कार्यक्रम अरुणाचल प्रदेश में आयोजित किया था. चीन के भारी विरोध को देखते हुए बाद में इस कार्यक्रम का स्थल बदल दिया गया था.

आतंकवाद

भारत का मानना है कि पाकिस्तान आतंकवाद का एक स्रोत बन चुका है जबकि चीन ने संयुक्त राष्ट्र में जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख अजहर पर प्रतिबंध लगाने के लिए भारत द्वारा किये गये प्रयासों को बाधित किया है.

चीन द्वारा प्रारम्भ की गई विभिन्न पहलों पर भारत द्वारा संदेह व्यक्त किया गया है, जैसे –

OBOR

भारत द्वारा 2017 में बीजिंग में आयोजित One Belt, One Road शिखर सम्मेलन का बहिष्कार किया गया जबकि इसमें जापान और अमेरिका जैसे चीन के प्रतिद्वंदी देशों ने भाग लिया था.

स्ट्रिंग ऑफ़ पर्ल्स

यह कोकोस द्वीप (म्यांमार), चटगाँव (बांग्लादेश), हंबनटोटा (श्रीलंका), मारो एटॉल (मालदीव) और ग्वादर (पाकिस्तान) जैसे भारत की समुद्री पहुँच के निकट स्थित बंदरगाहों और नौसैनिक अड्डों के निर्माण के जरिये भारत को घेरने की नीति है. दूसरी ओर भारत जापान, दक्षिण कोरिया और वियतनाम के साथ ही नहीं बल्कि चीन के निकटवर्ती अन्य मध्य-एशियाई पड़ोसी देशों के साथ भी घनिष्ठ सम्बन्ध बनाने करने का प्रयत्न कर रहा है.

चीन-पाकिस्तान-इकनोमिक-कॉरिडोर (CPEC)

भारत CPEC परियोजना को भारत की सम्प्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता में चीन के हस्तक्षेप के रूप में देखता है क्योंकि यह कॉरिडोर पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर, जिसे भारत अपना अटूट भूभाग मानता है, से होकर गुजरेगा. इस आप्पत्ति के बावजूद चीन निरंतर इस परियोजना की दिशा में आगे बढ़ रहा है.

सामान्य अध्ययन पेपर – 2

वुहान, चीन में सम्पन्न भारत और चीन के अनौपचारिक शिखर सम्मेलन के क्या परिणाम निकलकर सामने आए? समीक्षा करें. (250 शब्द)

  • अपने उत्तर में अंडर-लाइन करना है  = Green
  • आपके उत्तर को दूसरों से अलग और यूनिक बनाएगा = Yellow

यह सवाल क्यों?

यह सवाल UPSC GS Paper 2 के सिलेबस से प्रत्यक्ष रूप से लिया गया है –

“शासन व्यवस्था, संविधान, राजव्यवस्था, सामाजिक न्याय तथा अंतर्राष्ट्रीय संबंध”

सवाल का मूलतत्त्व

इसके बारे में यदि आप नहीं जानते तो आप कुछ नहीं लिख सकते. इस type के सवाल काफी सटीक प्रकृति के होते हैं जो facts पर आधारित होते हैं. यदि आप इसमें गलत तथ्यों को रखने की कोशिश करते हैं तो परीक्षक पर ख़राब impression पड़ेगा.

पर इतना याद रखें कि सभी प्रश्न अनिवार्य होते हैं. इसलिए आपको कुछ न कुछ तो लिखना ही है. यह मुद्दा चीन और भारत के बीच का है तो आपने ऊपर के सवाल में देखा ही कि चीन और भारत के बीच क्या-क्या राजनैतिक मुद्दे विद्यमान हैं. इसलिए जाहिर है कि वुहान शिखर सम्मेलन में भी वही चर्चाएँ हुई होंगी. इसलिए आप उत्तर नहीं जानते हुए भी थोड़ा-थोड़ा प्रयास कर सकते हैं पर उत्तर गलत होने की संभावना अधिक है.

इसलिए आप यदि facts को नहीं जानते तो संसार मंथन से नोट्स तैयार करते रहें ताकि जब भी मौका मिले आप इन फैक्ट्स को अपने उत्तर में उतार सकें.

उत्तर :-

हाल ही में चीन के वुहान नगर में भारत और चीन के शीर्षस्थ नेताओं के बीच एक अनौपचारिक शिखर सम्मलेन हुआ. इस शिखर सम्मलेन में दोनों देशों ने आपसी मुद्दों पर चर्चा की. इस सम्मलेन के परिणामों का वर्णन निम्नवत् है –

सीमा विवाद

दोनों देशों द्वारा सीमा से सम्बंधित मामलों के समाधान के लिए आपस में संवाद बनाए रखने पर बल दिया गया. सीमा पर स्थित सेनाओं की गतिविधियों पर पर्याप्त नजर रखने का निर्णय लिया गया.

व्यापार असंतुलन

दोनों देशों के बीच वर्तमान में 52 बिलियन डॉलर का व्यापार असंतुलन है जोकि चीन के पक्ष में है. भारत ने प्रस्ताव रखा कि चीन भारत से दवाओं और कृषि उत्पादों को अधिक से अधिक आयातित करे जिससे कि व्यापार संतुलन का लक्ष्य पाया जाया सके.

अफगानिस्तान

दोनों देशों के नेताओं ने अफगानिस्तान में एक संयुक्त आर्थिक परियोजना पर चर्चा की है.

वैश्विक चुनौतियाँ

भारत और चीन ने जलवायु परिवर्तन, सतत विकास एवं खाद्य सुरक्षा जैसी वैश्विक चुनौतियों के समाधान के लिए संयुक्त रूप से कार्य करने की आवश्यकता जताई.

भारत का NSG में प्रवेश का विषय

चीन भारत को NSG में प्रवेश नहीं करने देना चाहता है और इस विषय में किये गये प्रस्तावों पर Veto लगता रहता है. वार्ता से इस विषय में चीन के दृष्टिकोण में कोई अंतर नहीं आया.

पाकिस्तानी आतंकवाद और OBOR

आंतकवाद, OBOR जैसे मुद्दों पर दोनों देशों में सहमति नहीं बन सकी.

“संसार मंथन” कॉलम का ध्येय है आपको सिविल सेवा मुख्य परीक्षा में सवालों के उत्तर किस प्रकार लिखे जाएँ, उससे अवगत कराना. इस कॉलम के सारे आर्टिकल को इस पेज में संकलित किया जा रहा है >> Sansar Manthan

[stextbox id=’info’ color=’ad1d1d’ bgcolor=’f5f3d7′]SMA 01, 02 (Sansar Manthan Assignment) को डाउनलोड करने के लिए App को डाउनलोड कर लें और वहाँ जाकर SMA बटन पर क्लिक करें >> App Link Download[/stextbox]

Tags: Indo China Relationship Disputes in Hindi, India and China relationship essay/निबंध, OBOR, CPEC सम्बंधित तथ्य, Border disputes between India and China. Issues about Brahmputra river Sino-Indian dispute.

Books to buy

5 Comments on “[संसार मंथन] मुख्य परीक्षा लेखन अभ्यास – Polity GS Paper 2/Part 8”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.