वैश्विक पोषण रिपोर्ट – 2020

Sansar LochanGeography Current AffairsLeave a Comment

Global Nutrition Report 2020 2020 का वैश्विक पोषण प्रतिवेदन (Global Nutrition Report) निर्गत हो चुका है. ज्ञातव्य है कि इस प्रतिवेदन से विश्वभर में पोषण के प्रति सरकारों, सहायता प्रदान करने वालों, सिविल सोसाइटियों, संयुक्त राष्ट्र एवं व्यवसाय जगत के 100 हितधारकों की प्रतिबद्धता का अनुगमन किया जाता है. यह विडियो जरुर देखें > इसकी परिकल्पना 2013 में सम्पन्न प्रथम … Read More

नमूना पंजीकरण प्रणाली (2018 Data Updated)

Sansar LochanGeography Current AffairsLeave a Comment

भारत के महापंजीयक द्वारा नमूना पंजीकरण प्रणाली (Sample Registration System – SRS) बुलेटिन जारी किया गया है. यह 2018 के लिए एकत्र किए गए आंकड़ों पर आधारित है. मुख्य निष्कर्ष जन्म दर 2018 में राष्ट्रीय जन्म दर 20 थी. ज्ञातव्य है कि यह दर 1971 में 36.9 थी. जन्म दर की सूची में बिहार (26.2) इस बार भी सबसे ऊपर … Read More

BoBBLE – बे ऑफ बंगाल बाउंड्री लेयर एक्सपेरिमेंट

Sansar Lochanविश्व का भूगोल3 Comments

बोबल (Bay of Bengal Boundary Layer Experiment – BoBBLE) के अंतर्गत मानसून, उष्णकटिबंधीय चक्रवात और मौसम से जुड़ी सटीक भविष्यवाणी के लिए बेंगलुरु के भारतीय विज्ञान संस्थान और यूनाइटेड किंगडम के ईस्ट एंगलिया विश्वविद्यालय ने मिलकर एक कार्ययोजना बनाई है. BoBBLE क्या है? BoBBLE एक संयुक्त भारत-यूनाइटेड किंगडम परियोजना है जो मानसून प्रणाली पर बंगाल की खाड़ी में चलने वाली … Read More

मैग्नेटोस्फीयर क्या है और इसकी उत्पत्ति कैसे होती है?

Sansar Lochanविश्व का भूगोलLeave a Comment

पृथ्वी के चुम्बकीय मंडल मैग्नेटोस्फीयर (Magnetosphere) अर्थात् पृथ्वी से सटे प्लाज्मा पर्यावरण में स्थित विद्युत् क्षेत्र के ढाँचों के अध्ययन के लिए भारतीय भूचुम्बकत्व संस्थान (Indian Institute of Geomagnetism – IIG) के वैज्ञानिकों ने एक एक-आयामी (one-dimensional) द्रव अनुकरण संहिता (fluid simulation code) तैयार की है. यह संहिता भविष्य में अन्तरिक्ष अभियानों की योजना में लाभकारी होगी. मैग्नेटोस्फीयर क्या है? … Read More

राष्ट्रीय नदी-जोड़ो परियोजना (NRLP)

Sansar Lochanभारत का भूगोलLeave a Comment

केंद्र सरकार नदियों को जोड़ने की परियोजनाओं को लागू करने के लिए एक विशेष निकाय की स्थापना पर कार्य करने जा रही है जिसे राष्ट्रीय नदी अन्तराबंधन प्राधिकरण (National Interlinking of Rivers Authority – NIRA) कहा जाएगा. इतिहास दरअसल, नदियों की इंटरलिंकिंग का विचार 161 वर्ष पुराना है. 1858 में ब्रिटिश सैन्य इंजीनियर आर्थर थॉमस कॉटन ने बड़ी नदियों के … Read More

महाराष्ट्र का वधावन बंदरगाह – लैंडलॉर्ड मॉडल क्या है?

Sansar LochanGeography Current AffairsLeave a Comment

महाराष्ट्र में दहानु के पास वधावन में 65,545 करोड़ रु. की राशि से एक बड़ा बंदरगाह बनाने पर केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने अपनी स्वीकृति प्रदान कर दी है. वधावन बंदरगाह से सम्बंधित प्रमुख तथ्य यह भारत का 13वाँ बड़ा बंदरगाह होगा. इस परियोजना में जवाहरलाल नेहरु पत्तन न्यास (Jawaharlal Nehru Port Trust – JNPT) अग्रणी प्रतिभागी होगा अर्थात् इस परियोजना में … Read More

संसार के सबसे तेजी से बढ़ रहे नागरिक क्षेत्रों की सूची – EIU Report

Sansar LochanGeography Current AffairsLeave a Comment

इकनॉमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट (Economist Intelligence Unit – EIU) ने पिछले दिनों संसार के सबसे तेजी से बढ़ रहे नागरिक क्षेत्रों की सूची (world’s fastest-growing urban areas) बनाई है जिसमें भारत के भी तीन नगरों के नाम आये हैं. नगरों को किस प्रकार रैंक दिया जाता है? यह सूची संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या प्रभाग (United Nations Population Division) के डाटा पर आधारित … Read More

पूर्वोत्तर (शीतकालीन) मानसून क्या है? Northeast monsoon in Hindi

Sansar Lochanविश्व का भूगोल1 Comment

पूर्वोत्तर मानसून (northeast monsoon) अर्थात् शीतकालीन मानसून पिछले दिनों समाप्त हुआ. इस बार कुल मिलाकर इस समय औसत से अधिक वृष्टिपात हुआ. एक बड़ी विरल घटना यह हुई कि जिस दिन दक्षिण-पश्चिम का मानसून समाप्त हुआ, उसी दिन शीतकालीन मानसून चालू हुआ. पूर्वोत्तर (शीतकालीन) मानसून क्या है? उत्तर भारत के लोग इस मानसून के बारे में कम जानते हैं. परन्तु … Read More

पश्चिमी समर्पित माल ढुलाई गलियारा – Western Dedicated Freight Corridor (DFC)

Sansar Lochanभारत का भूगोलLeave a Comment

भारत के पश्चिमी समर्पित माल ढुलाई गलियारे (Western Dedicated Freight Corridor – DFC) के रेवाड़ी (हरियाणा) से लेकर माडर (राजस्थान) तक जाने वाले 300 किलोमीटर के अनुभाग को वाणिज्यिक प्रयोग के लिए खोल दिया गया है. पश्चिमी समर्पित माल ढुलाई गलियारा क्या है? यह एक ब्रॉड गेज (broad gauge corridor) वाला गलियारा है. यह पश्चिमी गलियारा कुल मिलाकर 1,504 किलोमीटर … Read More

आसमान से बिजली पृथ्वी पर कैसे गिरती है? – Lightning in Hindi

Sansar Lochanविश्व का भूगोलLeave a Comment

आज हम जानेंगे कि आसमान से बिजली पृथ्वी पर कैसे गिरती है और यह बनती कैसे है. बिजली गिरने को ही वज्रपात (thunderbolt or Lightning strikes or lightning) कहते हैं. चलिए जानते हैं इस रोचक पर भयावह तथ्य के बारे में. वज्रपात क्या है? वज्रपात वस्तुतः वायुमंडल में होने वाला एक अत्यंत तीव्र और भारी विद्युत प्रवाह है जिसमें कुछ … Read More