गौतम बुद्ध : बौद्ध धर्म के विषय में संक्षिप्त जानकारी

गौतम बुद्ध : बौद्ध धर्म के विषय में संक्षिप्त जानकारी

गौतम बुद्ध का जन्म

बौद्ध धर्म के संस्थापक गौतम बुद्ध थे. गौतम बुद्ध का जन्म 567 ई.पू. (born, according to Wikipedia) कपिलवस्तु के लुम्बनी नामक स्थान पर हुआ था. इनके बचपन का नाम सिद्धार्थ था. गौतम बुद्ध का विवाह 16 वर्ष की अवस्था में यशोधरा के साथ हुआ. इनके पुत्र का नाम राहुल था.

गृह-त्याग और शिक्षा ग्रहण

सिद्धार्थ ने 29 वर्ष की अवस्था में गृह-त्याग किया, जिसे बौद्धधर्म में “महाभिनिष्क्रमण” कहा गया है. गृह-त्याग करने के बाद सिद्धार्थ (बुद्ध) ने वैशाली के आलारकलाम से सांख्य धर्षण की शिक्षा ग्रहण की. आलारकलाम सिद्धार्थ के प्रथम गुरु हुए थे. आलारकलाम के बाद सिद्धार्थ ने राजगीर के रुद्र्करामपुत्त से शिक्षा ग्रहण की.

ज्ञान प्राप्ति

35 वर्ष की आयु में वैशाख की पूर्णिमा की रात निरंजना (फल्गु) नदी के किनारे, पीपल के वृक्ष के नीचे, सिद्धार्थ को ज्ञान प्राप्त हुआ था. ज्ञान प्राप्ति के बाद सिद्धार्थ बुद्ध के नाम से जाने गए.

प्रथम उपदेश

बुद्ध ने अपना प्रथम उपदेश सारनाथ (ऋषिपतनम)  में दिया, जिसे बौद्ध ग्रंथों में “धर्मचक्र प्रवर्त्तन” कहा गया है. बुद्ध ने अपने उपदेश पालि भाषा में दिए.

मृत्यु

बुद्ध की मृत्यु 80 वर्ष की अवस्था में 483 ई.पू. में कुशीनगर (देवरिया, उत्तर प्रदेश) में चुंद द्वारा अर्पित भोजन करने के बाद हो गयी, जिसे बौद्ध धर्म में “महापरिनिर्वाण” कहा गया है.

निर्वाण-प्राप्ति

बुद्ध ने निर्वाण प्राप्ति के लिए निम्न दस शीलों पर बल दिया है. ये शील हैं –

  1. अहिंसा
  2. सत्य
  3. अस्तेय (चोरी नहीं करना)
  4. अपरिग्रह (किसी प्रकार की संपत्ति नहीं रखना)
  5. मदिरा सेवन नहीं करना
  6. असमय भोजन नहीं करना
  7. सुखप्रद बिस्तर पर नहीं सोना
  8. धन-संचय नहीं करना
  9. स्त्रियों से दूर रहना और
  10. नृत्य-गान आदि से दूर रहना

अष्टांगिक मार्ग (Astangik Marg)

बुद्ध ने अष्टांगिक मार्ग की बात कही है. ये मार्ग हैं –

  • सम्यक् कर्मान्त
  • सम्यक् संकल्प
  • सम्यक् वाणी
  • सम्यक् कर्मान्त
  • सम्यक् आजीव
  • सम्यक् व्यायाम
  • सम्यक् स्मृति एवं
  • सम्यक् समाधि

बौद्ध सभाएँ

सभा समयस्थानअध्यक्षशासनकाल
प्रथम बौद्ध संगति483 ई.पू.राजगृहमहाकश्यपअजातशत्रु
द्वितीय बौद्ध संगति383 ई.पू.वैशालीसबाकामीकालाशोक
तृतीय बौद्ध संगति255 ई.पू.पाटलिपुत्रमोग्गलिपुत्त तिस्सअशोक
चतुर्थ बौद्ध संगतिई. की प्रथम शताब्दीकुंडलवनवसुमित्र/अश्वघोषकनिष्क

 

“विश्व दुःखों से भरा है” का यह सिद्धांत बुद्ध ने उपनिषद् से लिया था. बौद्धसंघ में प्रविष्ट होने को “उपसंपदा” कहा गया है. बौद्ध धर्म के तीन रत्न (त्रिरत्न) हैं – बुद्ध, धम्म और संघ. चतुर्थ बौद्ध संगीति के पश्चात् बौद्ध धर्म दो भागों में विभाजित हो गया – हीनयान और महायान.

3 Responses to "गौतम बुद्ध : बौद्ध धर्म के विषय में संक्षिप्त जानकारी"

  1. ankit verma   January 25, 2017 at 6:24 pm

    pcs

    Reply
  2. Prince sharma   January 27, 2017 at 9:55 pm

    HELLO SIR,MERA NAAM PRINCE SHARMA HAI ME B.SC II YEAR ME HU.SIR ME PHYSICALLY HANDICAPPED HU.SIR ME DAINIK BHASKAR NEWSPAPER KARIB 1 YEAR SE FOLLOW KAR RAHA HU.ME NCERT KI 9 CLASS KI GEOGRAPHY PADH RAHA HU.SIR PLEASE MUJHE BATAE KI

    1)MUJHE PHYSICALLY HANDICAPPED HONE KA KOI ADVANTAGE MILEGA KYA???

    2)ME NESWPAPER SE NOTES KAB BANAU?

    3)ME P.I.B SE KON SI NEWS NOTE KARU YA READ KARU?

    4)SIR ME 1 GHANTA RAJYASHABHA AND DD NEWS DEKH NE KI SOACH RAHA THA.PLEASE BTAE KI ME ME KYA KARU OR KON SE NEWS CHANNEL DEKHU

    5)ME DIN ME EK GHANTA HI PADH PATA HU JISME ME NCERT BOOK OR SSC NOTES PADHTA HU….

    Sir please help me

    Reply
  3. Sandeep Garg   February 10, 2017 at 7:47 pm

    Nice…..

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.