Sansar डेली करंट अफेयर्स, 26 October 2019

Sansar LochanSansar DCALeave a Comment

Sansar Daily Current Affairs, 26 October 2019


GS Paper 1 Source: PIB

pib_logo

UPSC Syllabus : Indian culture will cover the salient aspects of Art Forms, Literature and Architecture from ancient to modern times.

Topic : Vishwa Shanti Stupa

संदर्भ

इस वर्ष राजगीर में निर्मित विश्व शांति स्तूप की स्वर्ण जयंती है.

विश्व शांति स्तूप क्या है?

  • राजगीर की रत्नगिरी पहाड़ी की चोटी पर निर्मित यह विश्व का सबसे ऊँचा शांति स्तूप है.
  • इसकी संकल्पना प्रसिद्ध बौद्ध भिक्षु Nipponzan Myohoji ने की थी और इसे जापान के भिक्षु Fujii Guruji ने बनाया था.
  • पूर्णतः संगमरमर के बने इस स्तूप में भगवान् बुद्ध की चार स्वर्णिम मूर्तियाँ हैं जो उनके जीवन में जन्म, ज्ञान प्राप्ति, उपदेश और निर्वाण से जुड़ी घटनाओं का प्रतिनिधित्व करती हैं.
  • विदित हो कि भारत में सात शान्ति स्तूप हैं जिनमें प्रमुख हैं – वैश्विक विपस्सना स्तूप (मुंबई), दीक्षाभूमि स्तूप (नागपुर) और बुद्ध स्मृति उद्यान स्तूप (पटना).

राजगीर से सम्बंधित जानकारियाँ

  • राजगीर बिहार में पटना के पास स्थित एक ऐतिहासिक स्थल है जहाँ कभी मगध की राजधानी हुआ करती थी.
  • भगवान् बुद्ध के निर्वाण के पश्चात् पहली बौद्ध संगीति यहीं हुई थी.
  • राजगीर में स्थित ग्रिध्रकूट पहाड़ी पर ही बुद्ध मगध सम्राट बिम्बिसार से मिलते थे और उसको अपना शिष्य बनाया था.
  • राजगीर पाँच पवित्र पहाड़ियों से घिरा हुआ है. इसलिए इसे पंचपहाड़ी भी कहते हैं.
  • पाँचवी शताब्दी ई.पू. तक राजगीर ही मगध सम्राटों की राजधानी रही थी. उसके पश्चात् अजातशत्रु मगध की राजधानी को पाटलिपुत्र (पटना) ले गया था.
  • जैन तीर्थंकर महावीर ने भी राजगीर और इसके आस-पास अपने जीवन के 14 वर्ष बिताये थे.

GS Paper 1 Source: The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : Role of women and women’s organization and related issues.

Topic : Kanya Sumangala Yojana

संदर्भ

उत्तर प्रदेश सरकार ने बालिकाओं के लिए कन्या सुमंगला योजना नामक एक योजना आरम्भ की है.

कन्या सुमंगला योजना की विशेषताएँ

  1. इस योजना के अंतर्गत उस हर परिवार को किश्तों में 15,000 रु. दिए जाएँगे जहाँ कोई लड़की जन्मी हो.
  2. योजना के अनुसार दी गई राशि से अभिभावक अपनी बेटी के स्वास्थ्य, शिक्षा और अन्य विषयों में खर्च करेंगे जिससे कि उसकी समुचित देखभाल होती रहे.

GS Paper 3 Source: The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : Indian Economy and issues relating to planning, mobilization of resources, growth, development and employment.

Topic : What is AGR?

संदर्भ

पिछले दिनों सर्वोच्च न्यायालय ने दूरसंचार विभाग के द्वारा समंजित समग्र राजस्व (Adjusted Gross Revenue – AGR) की गणना के लिए निर्धारित पद्धति को सही मानते हुए दूरसंचार कम्पनियों को आदेश दिया कि वे सरकार को 92,642 करोड़ रुपयों का भुगतान करें.

समंजित समग्र राजस्व क्या है?

समंजित समग्र राजस्व (AGR) वह लाइसेंस शुल्क है जो दूरसंचार संचालकों द्वारा दूरसंचार विभाग को जमा करना होता है. इसमें 3-5% स्पेक्ट्रम उपयोग का शुल्क होता है और 8% लाइसेंस का शुल्क होता है.

AGR की गणना कैसे होती है?

दूरसंचार विभाग AGR की गणना करते समय दूरसंचार कम्पनी द्वारा अर्जित पूर्ण राजस्व को आधार बनाता है. इसका तात्पर्य यह है कि इसमें दूरसंचार से पृथक स्रोतों, जैसे – जमा ब्याज और सम्पदा विक्रय, से प्राप्त आय को भी जोड़ा जाता है. दूसरी ओर, टेलिकॉम कंपनियों की माँग है कि AGR में केवल दूरसंचार सेवा से जनित राजस्व को ही आधार बनाया जाए.

न्यायालयीन आदेश का निहितार्थ

  • भारत का दूरसंचार उद्योग वित्तीय संकट से जूझ रहा है और इसमें मात्र चार ही संचालक बचे हुए हैं. ऐसी स्थिति में सर्वोच्च न्यायालय के द्वारा दिए गये आदेश के अनुसार 92, 642 करोड़ रु. देने से उद्योग और भी संकट में पड़ सकता है.
  • दूरसंचार कम्पनियों ने विश्वस्तरीय नेटवर्क बनाने में अनेक बिलियन डॉलर लगा दिए हैं. ऐसी स्थिति में न्यायालय के आदेश के अनुपालन से दो कम्पनियों को बहुत घाटा होगा.

GS Paper 3 Source: PIB

pib_logo

Topic : Nanopharmaceuticals

संदर्भ

भारत सरकार ने अतिसूक्ष्म दवाइयों के मूल्यांकन से सम्बंधित दिशानिर्देश निर्गत कर दिए हैं. ये दिशानिर्देश DBT (जैव प्रौद्योगिकी विभाग), ICMR (भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद्) और CDSCO (केन्द्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन) ने तैयार किये हैं.

ये मार्गनिर्देश 1945 की औषधि एवं कॉस्मेटिक नियमावली (अनुसूची Y) तथा 2019 की नवीन औषधि एवं उपचार परीक्षण नियमावली (दूसरी अनुसूची) के अनुरूप बनाये गये हैं.

मार्गनिर्देश का उद्देश्य

अतिसूक्ष्म दवाइयों के बाजार में आ जाने से अतिसूक्ष्म वाहकों के माध्यम से शरीर में औषधि पहुँचाने की पद्धति तेजी से उभर रही है. इस पद्धति से रोगी को दिए जाने वाली अतिसूक्ष्म औषधियाँ अधिक कारगर तो होती ही हैं, साथ ही विषाक्तता कम होने के कारण पारम्परिक औषधियों की तुलना में ये अधिक निरापद होती हैं. भारत में ऐसी दवाइयों के प्रयोग की पद्धति को पारदर्शी और एकरूप बनाने के लिए नियामक व्यवस्था स्थापित करने की आवश्यकता बहुत दिनों से अनुभव की जा रही थी. इन मार्गनिर्देशों से इस उद्देश्य का पालन होगा, इसमें कोई संदेह नहीं है.

अतिसूक्ष्म दवाइयाँ क्या हैं?

अतिसूक्ष्म दवाइयाँ अपेक्षाकृत एक नई श्रेणी की दवाइयाँ होती हैं. ये अत्यंत छोटी होती हैं. इनके भौतिक/रासायनिक गुण अनूठे होते हैं और इनका सतह-मात्रा-अनुपात अति उच्च होता है. इनके गुणों को कम या अधिक करने की सम्भावना होती है.

पारम्परिक दवाइयों से शरीर के उस भाग तक पहुँचना कठिन होता था जहाँ दवाई की आवश्यकता होती थी. किन्तु अतिसूक्ष्म दवाइयों में यह विशेषता है कि इन्हें सरलता से ऐसी जगहों पर पहुँचाया जा सकता है.


GS Paper 3 Source: The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : Conservation, environmental pollution and degradation, environmental impact assessment.

Topic : Global mobility report

संदर्भ

SuM4All ने पिछले दिनों वैश्विक गतिशीलता प्रतिवेदन निर्गत कर दिया है.

SuM4All क्या है?

  • इसका पूरा नाम है – Sustainable Mobility for All.
  • इस पहल का आरम्भ 2017 में हुआ था.
  • यह एक महामंच है जिससे 55 सरकारी और निजी संगठन/कम्पनियाँ जुड़ी हुई हैं. इसका उद्देश्य सतत विकास लक्ष्य के अंतर्गत परिवहन प्रक्षेत्र से जुड़े लक्ष्यों तक पहुंचना है.

प्रतिवेदन के मुख्य निष्कर्ष

  • इस प्रतिवेदन से पता चलता है कि परिवहन से जुड़े सतत विकास लक्ष्य को पाने की दिशा में किसी भी देश में संतोषजनक काम नहीं हुआ है.
  • परिवहन से सम्बंधित प्रति व्यक्ति ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन की मात्रा को छोड़कर परिवहन से जुड़े सभी नीतिगत लक्ष्यों के परिपालन में विकसित देश विकासशील देशों से आगे चल रहे हैं.
  • विकसित और विकासशील देशों का यह अंतर सबसे अधिक सुरक्षा और वायु प्रदूषण के मामले में देखा जाता है.
  • अन्य संकेतकों के संदर्भ में भी विकसित और विकासशील देशों में अंतर देखा गया.
  • बढ़ते हुए शहरीकरण, विश्व व्यापार और नई तकनीकों के कारण विश्व-भर की परिवहन प्रणाली दबाव में चल रही है.
  • सभी मौसम में उपयोग के योग्य सड़कों और यातायात सेवाओं से 1 बिलियन लोग अर्थात् संसार-भर की ग्रामीण जनसंख्या का 1/3 अंश वंचित है.
  • प्रतिवेदन में परिस्थिति को सुधारने के लिए एक कार्ययोजना का सुझाव दिया गया है जिसका नाम है – ग्लोबल रोडमैप फॉर एक्शन (GRA).

GRA (Global Roadmap for Action) क्या है?

इस कार्ययोजना में ऐसे नीतिगत उपायों की सूची अंकित की गई है जिनके माध्यम से सार्वभौम उपलब्धता, कुशलता, हरित परिवहन एवं सुरक्षा के चार लक्ष्यों को प्राप्त किया जा सकता है.

GRA का मुख्य एजेंडा निम्नलिखित है –

  1. 183 विकसित और विकासशील देशों के परिवहन से सम्बंधित प्रदर्शन का चार्ट बनाना.
  2. परिवहन से सम्बंधित चार नीतिगत लक्ष्यों (जिसका वर्णन ऊपर किया जा चुका है) को पाने के लिए उन उपयुक्त उपायों की सूची उपलब्ध कराना, जिनका पूरे संसार में प्रयोग किया गया है और जिनका परीक्षण हो चुका है.
  3. नीतियों की इस सूची में से सम्बंधित देश के लिए सर्वाधिक उपयोगी एवं परीक्षित उपायों का चयन करते हुए चयन की पद्धति प्रस्तुत करना.

Prelims Vishesh

Thotlakonda monastery :-

  • पिछले दिनों आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम के निकट स्थित थोटलकोंडा बौद्ध संकुल के 2,000 वर्ष सातवाहन-कालीन पुराना हीनयान महास्तूप चर्चा में था क्योंकि विगत अतिवृष्टि के कारण यह ध्वस्त हो गया था.
  • विदित हो कि इस पुराने महास्तूप का 2016 में राज्य पुरातत्त्व विभाग ने जीर्णोद्धार करवाया था.

Sarayu River :-

  • पिछले दिनों उत्तर प्रदेश में सरयू नदी के किनारे अयोध्या में 50 करोड़ मिट्टी के दीये जलाए गये जो गिनिस बुक का विश्व कीर्तिमान बन गया.
  • ज्ञातव्य है कि उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में बहने वाली इस नदी का उद्गम स्थल हिमालय का मानसरोवर झील है.
  • इस नदी को घाघरा और मानस नंदिनी भी कहा जाता है.
  • यह अंत में जाकर बिहार के सारण जिले में गंगा से मिल जाती है.

Kyarr- first Super Cyclone in Arabian Sea in 12 years :-

  • पिछले दिनों 12 वर्षों में पहली बार अरब सागर में एक महाचक्रवात आया जिसे क्यार नाम दिया गया है.
  • 12 वर्ष पहले ऐसा ही एक महाचक्रवात आया था जिसका नामकरण गोनू हुआ था.
  • ऐसे महाचक्रवातों में चार से अधिक 2hpa अंतराल वाले आइसोबार होते हैं और वायु की गति 120Kts या उससे अधिक होती है.

Click here to read Sansar Daily Current Affairs – Sansar DCA

September, 2019 Sansar DCA is available Now, Click to Download

Books to buy

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.