Sansar डेली करंट अफेयर्स, 23 February 2021

Sansar LochanSansar DCALeave a Comment

Sansar Daily Current Affairs, 23 February 2021


GS Paper 1 Source : PIB

pib_logo

UPSC Syllabus : Indian culture will cover the salient aspects of Art Forms, Literature and Architecture from ancient to modern times.

Topic : Khajuraho

संदर्भ

21 फरवरी, 2021 को मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले के खजुराहो में छह-दिवसीय खजुराहो नृत्य महोत्सव प्रारम्भ हुआ. यह महोत्सव 44 वर्षों के पश्चात् मंदिर परिसर में आयोजित किया जा रहा है.

पृष्ठभूमि

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (Archaeological Survey of India – ASI) द्वारा स्थल पर उत्सव आयोजित करने की अनुमति दी गई थी.

nagar_shaili_mandir

खजुराहो के मंदिरों के विषय में परिचय

  • खजुराहो के मंदिर मध्य भारत में वास्तुकला के शताब्दियों के विकास के पश्चात्‌ उसके चरमोत्कर्ष रूप को दर्शाते हैं.
  • मंदिर निर्माण की नागर शैली में निर्मित इन हिंदू, जैन धर्म से जुड़े मंदिरों को चंदेल शासकों द्वारा 900 ईस्वी से 1130 ईस्वी के बीच बनाया गया था.
  • 12वीं सदी में यहाँ लगभग 85 मन्दिर थे लेकिन अब घटकर केवल 20 मंदिर ही रह गए हैं.
  • खजुराहो के मंदिरों का पहला उल्लेख अबू रेहान अल बिरूनी (1022 ईस्वी) और इब्न बतूता (1335 ईस्वी) के पुस्तकों में है.
  • ये मंदिर चंदेल काल के निवासियों के आर्थिक, सामाजिक और धार्मिक जीवन पर प्रकाश डालते हैं.
  • ये मंदिर यूनेस्को की विश्व विरासत स्थलों की सूची में शामिल हैं.
  • प्रमुख मंदिर : कन्दरिया महादेव मंदिर, विश्वनाथ मंदिर, चौसठ योगिनी मंदिर, देवी जगदम्बा मंदिर, लक्ष्मण मंदिर.

प्रमुख विशेषताएँ

  • खजुराहो के लगभग सभी मंदिर ऊँचे चबूतरे पर बनाए गए है.
  • मंदिरों का मुख सूर्योदय कीनागर दिशा में है.
  • खजुराहो के मंदिरों को केन नदी के पूर्वी तट से पन्‍ना की खदानों से मँगवाए गए हल्के रंग के रेतीले पत्थर से बनाया गया है.
  • खजुराहो के मंदिर अपनी मूर्तियों के लिए विश्व विख्यात हैं, ये मूर्तियाँ हिंदू धर्म में जीवन के चार लक्ष्यों अर्थात्, धर्म, काम, अर्थ, मोक्ष को दर्शाती है.

नागर शैली

  • इस शैली के सबसे पुराने उदाहरण गुप्तकालीन मंदिरों में, विशेषकर, देवगढ़ के दशावतार मंदिर और भितरगाँव के ईंट-निर्मित मंदिर में मिलते हैं.
  • नागर शैली की दो बड़ी विशेषताएँ हैं – इसकी विशिष्ट योजना और विमान.
  • इसकी मुख्य भूमि आयताकार होती है जिसमें बीच के दोनों ओर क्रमिक विमान होते हैं जिनके चलते इसका पूर्ण आकार तिकोना हो जाता है. यदि दोनों पार्श्वों में एक-एक विमान होता है तो वह त्रिरथ कहलाता है. दो-दो विमानों वाले मध्य भाग को सप्तरथ और चार-चार विमानों वाले भाग को नवरथ कहते हैं. ये विमान मध्य भाग्य से लेकर के मंदिर के अंतिम ऊँचाई तक बनाए जाते हैं.
  • मंदिर के सबसे ऊपर शिखर होता है.
  • नागर मंदिर के शिखर को रेखा शिखर भी कहते हैं.
  • नागर शैली के मंदिर में दो भवन होते हैं – एक गर्भगृह और दूसरा मंडप. गर्भगृह ऊँचा होता है और मंडप छोटा होता है.
  • गर्भगृह के ऊपर एक घंटाकार संरचना होती है जिससे मंदिर की ऊँचाई बढ़ जाती है.
  • नागर शैली के मंदिरों में चार कक्ष होते हैं – गर्भगृह, जगमोहन, नाट्यमंदिर और भोगमंदिर.
  • प्रारम्भिक नागर शैली के मंदिरों में स्तम्भ नहीं होते थे.
  • 8वीं शताब्दी आते-आते नागर शैली में अलग-अलग स्थानों पर अलग-अलग नए लक्षण भी प्रकट हुए. बनावट में कहीं-कहीं विविधता आई. जैसा कि हम जानते हैं कि इस शैली का विस्तार उत्तर में हिमालय से लेकर दक्षिण में बीजापुर तक और पश्चिम में पंजाब से लेकर पूरब में बंगाल तक था. इसलिए स्थानीय विविधता का आना अनपेक्षित नहीं था, फिर भी तिकोनी आधार भूमि और नीचे से ऊपर घटता हुआशिखर का आकार सर्वत्र एक जैसा रहा.
  • बोधगया का मंदिर और भुवनेश्वर में स्थित लिंगराज मंदिर इसका एक उत्कृष्ट उदाहरण है.

विभिन्न शैलियों के बारे में यहाँ पढ़ें – नागर, द्रविड़ और वेसर


GS Paper 1 Source : PIB

pib_logo

UPSC Syllabus : Modern Indian history from about the middle of the eighteenth century until the present- significant events, personalities, issues

Topic : Sahajanand Saraswati

संदर्भ

22 फ़रवरी को स्वामी सहजानन्द सरस्वती जयंती मनाई गई.

sahajanand saraswati

स्वामी सहजानन्द सरस्वती

  • स्वामी सहजानन्द सरस्वती भारत के राष्ट्रवादी नेता एवं स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे.
  • वे भारत में किसान आन्दोलन के जनक थे.
  • वे आदि शंकराचार्य सम्प्रदाय के दसनामी संन्यासी अखाड़े के दण्डी संन्यासी थे.
  • वे एक बुद्धिजीवी, लेखक, समाज-सुधारक, क्रान्तिकारी, इतिहासकार एवं किसान-नेता थे.
  • उन्होंने “हुंकार” नामक एक पत्र भी प्रकाशित किया.
  • इन्होंने अपनी आत्मकथा ‘मेरा जीवन संघर्ष’ के नाम से लिखा.
  • भारतीय समाज में जातिगत भेदभाव को मिटाने के लिए इन्होंने ब्राह्मणेतर जाति के लोगों के सन्यास की वकालत की.
  • किसान आंदोलन में मील का पत्थर माने जाने वाले 1936 में लखनऊ में गठित ‘अखिल भारतीय किसान सभा’ के प्रथम अध्यक्ष बनने की उपलब्धि भी स्वामी सहजानंद सरस्वती को प्राप्त हुई.
  • इनके योगदान को देखकर राष्ट्रकवि दिनकर के द्वारा इन्हें दलितों के सन्यासी की उपाधि प्रदान की गई.

GS Paper 2 Source : Indian Express

indian_express

UPSC Syllabus : Issues relating to poverty and hunger. Population and associated issues, poverty and developmental issues, urbanization, their problems and their remedies.

Topic : Draft of National Policy on Migrant Labour

संदर्भ

नीति आयोग द्वारा प्रथम राष्ट्रीय प्रवासी श्रमिक नीति (National Policy on Migrant Labour) का मसौदा तैयार किया गया.

पृष्ठभूमि

विदित हो कि इस प्रारूप को प्रवासी श्रमिकों पर कोविड-19 के प्रभाव की पृष्ठभूमि में तैयार किया गया है. इसमें अंतर्राष्ट्रीय प्रवासन संगठन; शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र उच्चायुक्त (UNHCR); संयुक्त राष्ट्र मानव अधिवासन कार्यक्रम (UN-Habitat) और विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रतिनिधि शामिल थे.

मुख्य बिंदु

  • नीति का प्रारूप “अधिकार-आधारित” दृष्टिकोण (rights-based approach) अपनाने पर जोर देता है. यह प्रवासी अमिक को खाद पदार्थ आदि आवश्यक वस्तुओं के वितरण और नकद-अंतरण के स्थान पर उनकी क्षमता के निर्माण पर केंद्रित है.
  • एक मानवाधिकार-आधारित दृष्टिकोण लोगों को उनके अधिकारों के विषय में जानने और उनकी माँग करने के लिए सशक्त बनाने तथा ऐसे व्यक्तियों एवं संस्थानों की क्षमता व जवाबदेही बढ़ाने पर आधारित है, जो अधिकारों सम्मान, सुरक्षा और पूर्ति के लिए उत्तरदायी हैं.

प्रमुख प्रस्ताव

  • प्रवासी श्रमिकों के कल्याण हेतु राजनीतिक नेतृत्व की जवाबदेही बढ़ाने के लिए संबंधित राज्यों में उनके मतदान को संभव बनाना.
  • प्रमुख प्रवास गलियारों, जैसे – उत्तर प्रदेश और मुंबई; बिहार एवं दिल्‍ली; पश्चिमी ओडिशा व आंध्र प्रदेश; राजस्थान और गुजरात तथा ओडिशा व गुजरात को शामिल करते हुए एक अंतर्राज्यीय प्रवास प्रबंधन निकाय (Inter-state migration management body) की स्थापना करना.
  • शहरी केंद्रों में आपदा जोखिम न्यूनीकरण कार्यक्रम में प्रवासियों को शामिल करना.
  • राज्यों को अपने श्रम विभाग के अंतर्गत एक प्रवासी श्रमिक अनुभाग (migrant workers section) स्थापित करना चाहिए.
  • सामाजिक सुरक्षा कार्यक्रमों को राज्य की सीमाओं से परे भी वहनीय (portable) होना चाहिए.

GS Paper 2 Source : The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : Effect of policies and politics of developed and developing countries on India’s interests, Indian diaspora.

Topic : India, Ethiopia sign agreements on visa facilitation & leather technology

संदर्भ

भारत और इथियोपिया ने 20 फ़रवरी, 2021 को वीजा सुविधा और चमड़ा प्रौद्योगिकी से सम्बंधित दो समझौतों पर हस्ताक्षर किए. विदित हो कि भारत और इथियोपिया के बीच द्विपक्षीय संबंध सभ्यता के संबंधों और सांस्कृतिक संबंधों पर आधारित हैं. दोनों देशों के बीच संबंध लगभग 2,000 वर्ष से भी पुराने हैं.

भारत-इथियोपिया के आर्थिक/व्यापारिक संबंध

  • इथियोपिया के लिए भारत तीसरा सबसे महत्त्वपूर्ण व्यापारिक भागीदार है.
  • 2018-19 में, दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय व्यापार 1.28 बिलियन अमरीकी डॉलर था.
  • इथियोपिया में सभी आयातों में 11% माल भारत द्वारा निर्यात किया जाता है जिसमें मुख्य रूप से प्राथमिक और अर्ध-तैयार लोहा और इस्पात उत्पाद शामिल हैं.
  • इसके अतिरिक्त भारत, दवा और फार्मास्यूटिकल उत्पादों, मशीनरी और उपकरण, प्लास्टिक रसायन, धातु, परिवहन उपकरण और बिजली की सामग्री भी निर्यात करता है.
  • जबकि भारत, इथियोपिया से कपास, दालों और मसालों का आयात करता है.
  • भारत, इथियोपिया में कृषि में तकनीकीकरण को प्रोत्साहन देने की दिशा में महत्त्वपूर्ण निवेश भी कर रहा है.

हाल में इथियोपिया क्यों चर्चा में था?

  • 2020 साल के अंत में इथियोपिया, ‘गृह युद्ध’ की स्थिति में पहुँच चुका था. देश के उत्तरी टिग्रे (Northern Tigray) क्षेत्र में आंतरिक संघर्ष हुआ.
  • इथियोपिया में संघीय प्रणाली संरचना के अंतर्गत देश में दस क्षेत्रों को महत्त्वपूर्ण स्वायत्तता प्रदान की गयी है. इन क्षेत्रों की अपनी संसद तथा निजी सुरक्षा बल हैं, और इन्हें स्वतंत्र शासन के लिए जनमत संग्रह कराने का अधिकार भी प्राप्त है.

हॉर्न ऑफ अफ्रीका पर प्रभाव

  1. इथियोपिया में जारी सशस्त्र संघर्षों से, टिग्रे का निकटस्थ देश ‘इरीट्रिया’ सर्वाधिक प्रभावित हो सकता है.
  2. यदि यह संघर्ष व हिंसा इथियोपिया की सीमाओं के फैलटी है, तो यह संभवतःपूरे हॉर्न ऑफ़ अफ्रीका क्षेत्र को अस्थिर कर सकती है.
  3. इस क्षेत्र में अमेरिका और चीन के कई रणनीतिक सैन्य ठिकाने हैं, इनमेजिबूती (Djibouti), टिग्रे के सर्वाधिक नजदीक सैन्य ठिकाना है. यदि सशस्त्र उपद्रवों की वजह से इन सैन्य-ठिकानों को कोई क्षति पहुँचती है, तो इस क्षेत्रीय संघर्ष में विदेशी सैन्य शक्तियां भी सम्मिलित हो सकती हैं.

हॉर्न ऑफ अफ्रीका

  • अफ्रीका का सींग, वैकल्पिक रूप से पूर्वोत्तर अफ्रीका और कभी कभी सोमाली प्रायद्वीप, पूर्वीअफ्रीकाका एक प्रायद्वीप है जो अरब सागर में सैकड़ों किलोमीटर तक फैला है और अदन की खाड़ी के दक्षिणी किनारे पर स्थित है. मानचित्र पर इसका स्वरूप एक सींग के समान लगता है इसी लिए इसे यह नाम दिया गया है. यह अफ्रीकी महाद्वीप का सबसे पूर्वी विस्तार है. इसको मध्ययुगीन काल में बिलाद अल बरबर (“बरबरों की भूमि”) कहा जाता था.
  • अफ्रीका का सींग के क्षेत्र मेंइरिट्रिया, जिबूती, इथियोपिया और सोमालिया जैसे देश स्थित हैं. इसका क्षेत्रफल लगभग 2000000 किमी² (772200 वर्ग मील) है और लगभग 10.02 करोड़ लोग यहाँ निवास करते हैं (इथियोपिया: 7.5 करोड़, सोमालिया: 1.0 करोड़, इरिट्रिया: 45 लाख और जिबूती: 7 लाख). इथियोपिया अध्ययन और सोमाली अध्ययन के अंतर्गत अफ्रीका का सींग पर क्षेत्रीय अध्ययन किए गए हैं.

GS Paper 2 Source : The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : Important International institutions, agencies and fora, their structure, mandate.

Topic : International Atomic Energy Agency

संदर्भ

हाल ही में, अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (IAEA) के मुखिया ने बताया है, कि ईरान में, एजेंसी को निगरानी जारी रखने की अनुमति देने के संबंध में तीन महीने का एक “अस्थायी समाधान” खोजा गया है. हालाँकि इसके अंतर्गत एजेंसी की पहुंच का स्तर सीमित होगा.

संबंधित प्रकरण

ईरान की रूढ़िवादी-प्रभुत्व वाली संसद द्वारा पिछले वर्ष दिसंबर में एक कानून पारित किया गया था, जिसमे, यदि अमेरिका, ईरान पर लगाए गए प्रतिबंध समाप्त नहीं करता है, तो देश में किए जा रहे कुछ निरीक्षणों को स्थगित करने का प्रावधान किया गया था. यह कानून मंगलवार से लागू होने वाला है.

इस कदम का माहात्म्य

यह अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन के प्रशासन, यूरोपीय शक्तियों और ईरान द्वारा वर्ष 2015 के परमाणु समझौते को बचाने का एक प्रयास है. यह समझौता, पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा, एकपक्षीय रूप से अमेरिका को पृथक् करने के बाद से टूटने की स्थिति में है.

IAEA क्या है?

  • अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (International Atomic Energy Agency – IAEA) आणविक विषयों के लिए विश्व की सबसे प्रधान एजेंसी है. इसकी स्थापना 1957 में संयुक्त राष्ट्र के एक अवयव के रूप में परमाणु के शान्तिपूर्ण प्रयोग पर बल देने के लिए की गई थी.
  • इसका उद्देश्य है परमाणु तकनीकों के सुरक्षित, निरापद (secure) एवं शान्तिपूर्ण उपयोग को बढ़ावा देना.
  • यह एजेंसी परमाणु के सैनिक उपयोग पर रोक लगाती है.
  • IAEA संयुक्त राष्ट्र महासभा तथा सुरक्षा परिषद् के प्रति उत्तरदायी होती है.
  • इसका मुख्यालय ऑस्ट्रिया के वियेना शहर में है.

Prelims Vishesh

Influenza A (H5N8) virus :-

  • रूस में बर्ड फ्लू (Bird Flu Virus) के वायरस से इंसान के संक्रमित होने का पहला मामला सामने आया है. एवियन एन्फ्लूएंजा ए वायरस के एच5एन8 स्ट्रेन (A-H5N8) से एक मुर्गीपालन-फार्म में काम करने वाले सात लोगों को संक्रमित पाया गया है. इसकी जानकारी विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization, WHO) को दे दी गई है.
  • एवियन इन्फ्लूएंजा (Avian influenza-AI) पक्षियों, मनुष्यों और अन्य जानवरों को संक्रमित करने में सक्षम एक एक वायरल संक्रमण है. हालांकि इस वायरस के अधिकांश प्रकार केवल पक्षियों को संक्रमित करने तक सीमित हैं.
  • यह एक अत्यधिक संक्रामक बीमारी है जो खाद्य पदार्थो के रूप में उपयोग होने वाले पक्षियों (मुर्गियों, टर्की, बटेर, गिनी फाउल, आदि) सहित पालतू पक्षियों और जंगली पक्षियों की कई प्रजातियों को प्रभावित करती है.

International Mother Language Day :-

  • अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस प्रतिवर्ष 21 फरवरी को अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस के रूप में मनाया जाता है.
  • इसकी घोषणा पहली बार 17 नवम्बर, 1999 को यूनेस्को ने की थी.
  • दरअसल, मातृभाषा दिवस को मनाने का विचार बांग्लादेश की पहल थी.
  • इस प्रकार 21 फरवरी, 2000 से इन दिन को प्रतिवर्ष अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस के रूप में मनाया जाता है.
  • भारतीय संविधान के अनुच्छेद 350 के अंतर्गत प्रावधान किया गया है कि भाषायी अल्पसंख्यक वर्गों के बच्चों को मातृभाषा में प्राथमिक शिक्षा दी जाये.

Click here to read Sansar Daily Current Affairs – Sansar DCA

January, 2020 Sansar DCA is available Now, Click to Download

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.