Sansar डेली करंट अफेयर्स, 09 October 2019

Sansar LochanSansar DCALeave a Comment

Sansar Daily Current Affairs, 09 October 2019


GS Paper 2 Source: PIB

pib_logo

UPSC Syllabus : Issues related to development and management of social sector/services.

Topic : Youth Co:Lab

संदर्भ

पिछले दिनों अटल नवाचार मिशन (Atal Innovation Mission – AIM), नीति आयोग और संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम भारत (UNDP India) ने सम्मिलित रूप से यूथ को:लैब नामक एक कार्यक्रम का अनावरण किया है जिसका उद्देश्य युवाओं के नेतृत्व में सामाजिक उद्यमिता और नवाचार की गति तेज करना है.

Youth Co:Lab क्या है?

  • यह एक नए ढंग का मंच है जहाँ युवा अपने विचारों और संभावनाओं की पड़ताल कर सकेंगे और सतत विकास लक्ष्यों (SDGs) के संदर्भ में भारत की प्रगति को तेज करने के लिए उपायों का प्रस्ताव रख सकेंगे.
  • यूथ को:लैब की स्थापना 2017 में UNDP और सिटी फाउंडेशन ने संयुक्त रूप से की थी.
  • यह कार्यक्रम एशिया प्रशांत क्षेत्र के 25 देशों में चल रहा है.

पहले चरण में जिन छह लक्ष्यों पर ध्यान किया जाएगा वे हैं –

  1. एसडीजी 5 (लैंगिक समानता).
  2. एसडीजी 6 (स्वच्छ जल और स्वच्छता).
  3. एसडीजी 7 (सस्ती और स्वच्छ ऊर्जा)
  4. एसडीजी 8 (अच्छा कार्य और आर्थिक वृद्धि)
  5. एसडीजी 12 (सतत उपभोग और उत्पादन)
  6. एसडीजी 13 (जलवायु विषयक कार्रवाई)

Youth Co:Lab का काम क्या होगा?

  • यूथ को:लैब राष्ट्रीय और उप-राष्ट्रीय स्तर पर सामाजिक नवाचार से सम्बंधित प्रतियोगिताएं आयोजित करेगा जिनमें 18-29 वर्ष के आयुवर्ग के युवाओं एवं स्टार्ट-अपों को आमंत्रित किया जाएगा.
  • ये युवा प्रतियोगिता में आकर अपने-अपने क्षेत्र की सबसे बड़ी सामाजिक चुनौतियों के हल के लिए प्रस्तावित विचार और समाधान लाकर सब को दिखाएँगे.
  • यूथ को:लैब के माध्यम से युवा उद्यमियों और नवाचारियों को सरकारों, मंत्रणा दाताओं, इनक्यूबेटरों एवं निवेशकों से मिलने-जुलने का अवसर मिलेगा, जिनसे उन्हें उद्यमिता से जुड़े कौशल सीखने में सहायता मिलेगी.

GS Paper 2 Source: PIB

pib_logo

UPSC Syllabus : Statutory, regulatory and various quasi-judicial bodies.

Topic : National Health Systems Resource Centre (NHSRC)

संदर्भ

पिछले दिनों राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्रणाली संसाधन केंद्र (National Health Systems Resource Centre – NHSRC) को विश्व स्वास्थ्य संगठन का एक सहयोगी केंद्र घोषित किया गया.

NHSRC क्या है?

  • यह एक तकनीकी सहयोग के लिए बना एक सर्वोच्च निकाय है जिसकी स्थापना राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत 2006 में हुई है.
  • इसका कार्य राज्यों को तकनीकी सहयोग देकर नीति एवं रणनीति का निर्माण करने में सहायता देना है और साथ ही केंद्र और राज्यों के स्तर पर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के लिए क्षमता संवर्धन करना है.

NHSRC का गठन एवं स्वरूप

  • इसमें एक प्रशासी निकाय होता है जिसमें 23 सदस्य होते हैं.
  • भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण के सचिव अध्यक्ष तथा राष्ट्रीय ग्रामीण मिशन के निदेशक उपाध्यक्ष होते हैं.
  • प्रशासी निकाय के 23 सदस्यों में 14 सदस्य पदेन वरिष्ठ स्वास्थ्य प्रशासक होते हैं जिनमें से चार सदस्य राज्यों से आते हैं. इसके अतिरिक्त 9 सदस्य सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ एवं प्रबंधन विशेषज्ञ होते हैं.
  • राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्रणाली संसाधन केंद्र का कार्यकारी निदेशक प्रशासी निकाय के साथ-साथ कार्यकारी समिति दोनों का सदस्य सचिव होता है.
  • NHRC के अंतर्गत सात प्रभाग होते हैं, ये हैं – सामुदायिक प्रक्रियाएँ, स्वास्थ्य देखभाल से सम्बंधित वित्तपोषण, स्वास्थ्य देखभाल से सम्बंधित प्रौद्योगिकी, स्वास्थ्य से सम्बंधित मानव संसाधन, सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रशासन, सार्वजनिक स्वास्थ्य नियोजन, स्वास्थ्य देखभाल में गुणवत्ता का संवर्धन.

GS Paper 2 Source: The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : Statutory, regulatory and various quasi-judicial bodies / Government policies and interventions for development in various sectors and issues arising out of their design and implementation.

Topic : District mineral foundations

संदर्भ

राजस्थान सरकार ने जिला खनिज फाउंडेशन की धनराशि से एक न्यूमोकोनियोसिस निधि बनाने का निर्णय किया है. इस निधि का प्रयोग राज्य के खदानों क्षेत्रों में व्यापक रूप से फैले हुए रोगों से सम्बंधित नीति संचालित करने में किया जाएगा.

न्यूमोकोनियोसिस क्या है?

न्यूमोकोनियोसिस फेफडों का एक रोग है जो अधिकांशतः उन लोगों को होता है जो खानों में और भवन निर्माण में काम करते हैं.

यह रोग मिट्टी, सिलिका, कोयले की धूल और एस्बेस्टस के संपर्क से उत्पन्न होता है. इस रोग के कई उप-प्रकार हैं – जैसे एस्बेस्टोसिस (asbestosis), सिलीकोसिस (silicosis) आदि.

जिला खनिज फाउंडेशन (DMF) क्या हैं?

ये लाभरहित न्यास हैं  जो 2015 के खान एवं खनिज संशोधन अधिनियम के द्वारा गठित हुए हैं. इनका उद्देश्य खनन से दुष्प्रभावित लोगों और क्षेत्रों के हितों की रक्षा करना और उन्हें लाभ पहुँचाना है. DMF सम्बंधित राज्य सरकार के अधिकार क्षेत्र के अधीन आता है.

DMF के उच्च प्राथमिकता वाले विषय

प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना के अनुसार DMF का प्रयोग जिन उच्च प्राथमिकता वाले मामलों में होना चाहिए, वे हैं – पेयजल, स्वास्थ्य, महिला एवं बाल कल्याण, शिक्षा, आजीविका एवं कौशल विकास, वृद्ध एवं दिव्यांग कल्याण, स्वच्छता.

प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना (PMKKKY) क्या है?

यह भारत सरकार का एक कार्यक्रम है जिसके अंतर्गत जिला खनिज फाउंडेशनों के द्वारा जनित धनराशि का प्रयोग करते हुए खदानकर्म से जुड़े क्षेत्रों और उसके दुष्प्रभाव से पीड़ित लोगों का कल्याण किया जाता है.


GS Paper 2 Source: PIB

pib_logo

UPSC Syllabus : Issues related to health.

Topic : Transfats

संदर्भ

FSSAI ने पिछले दिनों ट्रांस-फैट मुक्त खाद्य वस्तुओं के लिए एक “लोगो (logo)” का अनावरण किया है.

different kind of fats

ट्रांस-फैट क्या है?

  • ट्रांस फाइट या ट्रांस फैटी एसिड (TFAs) सबसे हानिकारक प्रकार के वसा होते हैं जो हमारे शरीर पर किसी भी अन्य आहार से अधिक प्रतिकूल प्रभाव डाल सकते हैं.
  • यह वसा मानव निर्मित वसा है. इसका कुछ ही भाग प्रकृति में निर्मित होता है.
  • कृत्रिम TFAs तेल में हाइड्रोजन प्रविष्ट कराकर उत्पन्न किया जाता है.
  • इस प्रक्रिया में तेल का स्वरूप शुद्ध घी या मक्खन जैसा हो जाता है.
  • जहाँ तक प्राकृतिक TFAs का प्रश्न है यह माँस और पशु उत्पादों में सूक्ष्म मात्रा में मिलता है.
  • हमारे भोजन में कृत्रिम ट्रांस-फैट के सबसे बड़े स्रोत हाइड्रोजनेटेड वनस्पति तेल/मार्गरीन हैं.

ट्रांस फैट के स्वास्थ्य खतरे

विभिन्न अध्ययनों के अनुसार, ट्रांस फैट के रूप में ऊर्जा ग्रहण करने में 2% की वृद्धि हृदय रोग की संभावना में 23% की वृद्धि करती है. WHO द्वारा एक अन्य अनुमान के अनुसार:-

  • इसके उपभोग से कम-घनत्व वाले लिपोप्रोटीन या LDL (जिसे “ख़राब” कोलेस्ट्रोल भी कहा जाता है) के स्तर में वृद्धि होती है. इसके फलस्वरूप हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है. साथ ही यह उच्च-घनत्व वाले लिपोप्रोटीन या HDL (जिसे “अच्छा” कोलेस्ट्रोल भी कहते हैं) के स्तर को कम करता है.
  • इन्हें Type-2 मधुमेह का मुख्य कारण माना जाता है, जो इन्सुलिन प्रतिरोध से जुड़ा हुआ होता है.

TFA की अनुमान्य सीमा

विश्व स्वास्थ्य की यह अनुशंसा है कि एक व्यक्ति जितनी ऊर्जा लेता है उसमें से मात्र 1% ही ट्रांसफैट होना चाहिए. इस संगठन का आह्वान है कि 2023 तक पूरे विश्व से TFAs  समाप्त हो जाना चाहिए. जहाँ तक FSSAI का प्रश्न है, उसने भोजन में TFAs की सीमा 2% तक रखी है और इसके पूर्ण उन्मूलन के लिए 2022 का वर्ष निर्धारित किया है.


GS Paper 3 Source: The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : Awareness in space.

Topic : Deep Carbon Observatory

संदर्भ

गहन कार्बन वेधशाला (Deep Carbon Observatory – DCO) ने पिछले दिनों कार्बन, इसके उत्सर्जन और उपलब्धता के विषय में एक प्रतिवेदन प्रकाशित किया है.

प्रतिवेदन के मुख्य निष्कर्ष

  • धरती के कार्बन का 1% से कम अंश सतह के ऊपर पाया जाता है.
  • शेष कार्बन धरती की पर्पटी और केन्द्रीय भाग में दबा पड़ा है और इसकी मात्रा लगभग 1.85 बिलियन गीगाटन है.
  • समुद्र, स्थल और वायुमंडल में जो कार्बन पाया जाता है उसमें से अधिकांश मानवीय गतिविधि से प्रभावित होता रहता है.
  • मनुष्य द्वारा उत्सर्जित ग्रीन हाउस गैसों की मात्रा पृथ्वी की सभी ज्वालामुखियों से 100 गुना अधिक है.
  • मानवीय गतिविधियों के चलते प्रत्येक वर्ष वायुमंडल में 10 गीगाटन कार्बन डाइऑक्साइड पहुँचता है. दूसरी ओर, प्राकृतिक भूगर्भीय प्रक्रिया से उत्सर्जित वैश्विक तापवर्धक गैस की मात्रा इससे दस गुनी कम होती है.
  • ज्वालामुखियों से वायुमंडल और महासागरों में उत्सर्जित होने वाले कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन का भार 280 से 360 मिलियन टन होता है.
  • मानवीय गतिविधियों से जितना कार्बन उत्सर्जन होता है उसमें से अधिकांश जीवाश्म ईंधनों के जलाने और वनों के उजड़ने से होता है.

गहन कार्बन वेधशाला क्या है?

यह एक वैश्विक शोध कार्यक्रम है जिसमें विश्व के 1,000 से अधिक वैज्ञानिक लगे हुए हैं. यह कार्यक्रम 10 वर्ष चलेगा और इसमें यह पता लगाया जाएगा कि पृथ्वी में कार्बन की उत्पत्ति कहाँ से होती है, इसके रूप क्या-क्या हैं, इसका आवागमन कैसे होता है और इसकी मात्रा कितनी है.


Prelims Vishesh

Nomadic Elephant 2019 :-

  • नोमेडिक एलीफैंट XIV 2019 उस सैन्य अभ्यास का नाम है जो भारत और मंगोलिया की सेनाएँ संयुक्त रूप से आयोजित कर रही है.
  • इस सैन्य अभ्यास का उद्देश्य सैनिकों को विप्लव एवं आतंकवाद से निबटने के लिए प्रशिक्षित करना है.

Vande Bharat Express train :-

  • पिछले दिनों दिल्ली से कटड़ा जाने वाली रेलगाड़ी वन्दे भारत एक्सप्रेस का लोकार्पण किया गया.
  • स्वदेश में निर्मित यह रेलगाड़ी 160 किलोमीटर प्रतिघंटे तक की गति से चल सकती है.

PRAKASH portal :-

  • बिजली संयंत्रों तक कोयला पहुँचाने की प्रक्रिया में पारदर्शिता और बेहतर समन्वय लाने के ध्येय से भारत सरकार ने “प्रकाश” नामक एक पोर्टल आरम्भ किया है.
  • इस पोर्टल का निर्माण NTPC ने किया है.
  • इस पोर्टल पर उपलब्ध सूचनाएँ PDF/Excel के रूप में उपलब्ध होंगे.

Bandipur Tiger Reserve :-

कर्नाटक की बांदीपुर व्याघ्र आश्रयणी से होकर गुजरने वाले राष्ट्रीय उच्च मार्ग NH 766 पर रात में गाड़ी चलाने पर लगाये गये प्रतिबंध को लेकर केरल के वायनाड जिले में  आन्दोलन हो रहे हैं.

Elephant Endotheliotropic Herpesvirus (EEHV) :-

  • पिछले दिनों ओडिशा में पाँच हाथी एलीफैंट एंडोथेलियोट्रोपिक हेर्पीजवायरस (EEHV) नामक दुर्लभ रोग के कारण मर गये.
  • यह वायरस एक से लेकर बारह वर्ष की आयु के एशियाई हाथियों को संक्रमित करता है.
  • इस आयु के हाथी प्रजनन की क्षमता नहीं रखते हैं, अतः इनके मरने से हाथियों की संख्या की वृद्धि पर प्रभाव पड़ता है.
  • यह वायरस हाथी से हाथी में संक्रमित होता है, पर इसका संक्रमण किसी अन्य पशु अथवा मनुष्य में नहीं होता है.

Click here to read Sansar Daily Current Affairs – Sansar DCA

September, 2019 Sansar DCA is available Now, Click to Download

Books to buy

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.