Sansar डेली करंट अफेयर्स, 01 May 2021

Sansar LochanSansar DCALeave a Comment

Sansar Daily Current Affairs, 01 May 2021


GS Paper 1 Source : Indian Express

indian_express

UPSC Syllabus : Important Geophysical phenomena such as earthquakes, Tsunami, Volcanic activity, cyclone etc.

Topic : Shift in Earth’s Axis

संदर्भ

हाल ही में एक अध्ययन से पता चला है कि वैश्विक स्तर पर जलवायु परिवर्तन के चलते पृथ्वी के अक्ष (Earth’s axis) में विस्थापन (Shift) हुआ है.

shift in Earth’s axis

प्रमुख बिन्दु

  • अमेरिकन जियोफिजिकल यूनियन (American Geophysical Union – AGU) के जियोफिजिकल रिसर्च लेटर्स (Geophysical Research Letters) में उक्त अध्ययन प्रकाशित हुआ है.
  • इस अध्ययन में बताया गया है कि वैश्विक तापमान (global temperature) में वृद्धि के चलते वैश्विक स्तर पर जलवायु परिवर्तन देखने को मिल रहा है जिसके चलते ग्लेशियरों में जमी बर्फ बहुत ही अधिक मात्रा में पिघली है.
  • ग्लेशियरों में जमी बर्फ के अधिक मात्रा में पिघलने से 1990 के दशक के पश्चात् से पृथ्वी के अक्ष (Earth’s axis) में सामान्य से अधिक गति से विस्थापन (Shift) हुआ है.
  • 1990 के दशक के बाद से वैश्विक तापमान (global temperature) में असामान्य बढ़ोतरी हुई है. ग्लेशियरों के रूप में जमी अरबों टन हिमाच्छादित बर्फ ने पिघलकर समुद्री जलस्तर में वृद्धि है, जिसके चलते पृथ्वी के ध्रुवों का नई दिशाओं में विस्थापन हुआ है.
  • पृथ्वी के ध्रुवों का नई दिशाओं में विस्थापन से ही पृथ्वी के अक्ष (Earth’s axis) में सामान्य से अधिक गति से विस्थापन (Shift) हुआ है.

पृथ्वी का अक्ष (Earth’s axis)

  • पृथ्वी के घूर्णन अक्ष (axis of rotation) को ही सामान्य भाषा में पृथ्वी का अक्ष (Earth’s axis) कहते हैं.
  • पृथ्वी का अक्ष (Earth’s axis), पृथ्वी के केंद्र से होती हुई खींची गई वह काल्पनिक रेखा है जिसके सहारे पृथ्वी अपने अक्ष या धुरी पर घूर्णन (rotation) करती है.
  • दरअसल पृथ्वी, सूर्य के चारों ओर परिक्रमण करने के साथ-साथ पृथ्वी अपने अक्ष के परितः घूर्णन भी करती है. पृथ्वी, जिस अक्ष या धुरी के परितः घूर्णन करती है वह पृथ्वी का अक्ष (Earth’s axis) कहलाता है.

GS Paper 2 Source : Economic Times

sansar_economic_times

UPSC Syllabus : Important International institutions, agencies and fora, their structure, mandate.

Topic : Network For Greening Financial System

संदर्भ

हाल ही में, भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ‘सेंट्रल बैंक्स एंड सुपरवाइजर्स नेटवर्क फॉर ग्रीनिंग द फाइनैन्शल सिस्टम’ (NGFS) का सदस्य बन गया है.

NGFS के बारे में

  1. इसका प्रारम्भ 12 दिसंबर 2017 को पेरिस वन प्लैनेट समिट’ (Paris One Planet Summit) में किया गया था.
  2. यह सर्वोतम पद्धतियों को साझा करने तथा वित्तीय क्षेत्र में पर्यावरण और जलवायु जोखिम प्रबंधन के विकास में योगदान देने के लिए इच्छुक केंद्रीय बैंकों और पर्यवेक्षकों का एक समूह है.
  3. यह संवहनीय अथवा स्थाई अर्थव्यवस्था की दिशा में आगे बढ़ने के लिए सहयोग देने के लिए मुख्यधारा विषयक वित्त उपलब्ध कराने का प्रयास भी करता है.
  4. संरचना: इसमें केंद्रीय बैंक और वित्तीय पर्यवेक्षक सम्मिलित होते हैं.
  5. सचिवालय: इसके सचिवालय का प्रबंधन ‘बंक डी फ्रांस’ (Banque de France) द्वारा किया जाता है.

GS Paper 2 Source : PIB

pib_logo

UPSC Syllabus : Important International institutions, agencies and fora, their structure, mandate.

Topic : Quality standards for 4 more spices

संदर्भ

‘मसालों और पाक–कला में काम आने वाली जड़ी-बूटियों’ पर कोडेक्स समिति (Codex Committee on Spices and Culinary Herbs- CCSCH) द्वारा लौंगअजवायनतुलसी और अदरक के लिए गुणवत्ता मानकों को अंतिम रूप देकर उसे लागू करने के लिए संस्तुति की गई है.

‘समिति’ ने इन चार नए मानकों को ‘कोडेक्स एलेमेंट्रिस कमीशन’ (CAC) के पास अंतिम स्वीकृति और उसको लागू करने के लिए भेज दिया है.

कोडेक्स कमेटी ऑन स्पाइसेस एंड कलिनरी हर्ब्स’ (CCSCH) क्या है?

  • वर्ष 2013 में गठित CCSCH, कोडेक्स कमोडिटी समितियों में नवीनतम है.
  • ‘कोडेक्स कमेटी ऑन स्पाइसेस एंड कलिनरी हर्ब्स’ का अध्यक्ष भारत है, और मसाला बोर्ड (वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय) इसके सचिवालय का दायित्व निभाता है.
  • इस समिति का प्रमुक कार्य, उपभोक्ता संरक्षण से सम्बंधित कोडेक्स सिद्धांतों और निष्पक्ष व्यापार पद्धतियों के अनुसार, ‘मसालों और पाक–कला में काम आने वाली जड़ी-बूटियों’ के सूखे हुए, निर्जलित साबुत अवस्था, पिसे, टूटे एवं कुटे हुए, प्रकारों के लिए वैश्विक मानकों का विकास एवं प्रचार करना है.

कोडेक्स एलेमेंट्रिस कमीशन’ (CAC) क्या है?

  • यह आयोग वर्ष 1963 में संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (Food and Agriculture Organisation) तथा विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation – WHO) द्वारा संयुक्त रूप से स्थापित एक अंतर-सरकारी निकाय है इसकी बैठक FAO के मुख्यालय (रोम) में आयोजित होती है.
  • इसे उपभोक्ताओं के स्वास्थ्य की रक्षा और खाद्य व्यापार में उचित व्यवहार सुनिश्चित करने के लिये स्थापित किया गया था.
  • इसका नियमित सत्र जिनेवा और रोम के बीच बारी-बारी से एक वर्ष में एक बार आयोजित किया जाता है.

GS Paper 3 Source : The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : Issues related to direct and indirect farm subsidies and minimum support prices.

Topic : Fair and Remunerative Price – FRP

संदर्भ

किसान संगठन ने सरकार के क्रमबद्ध उचित एवं लाभप्रद मूल्य (Fairand Remunerative Price – FRP) भुगतान से सम्बंधित प्रस्ताव को लागू करने का विरोध किया है.

केंद्र सरकार ने नीति आयोग द्वारा गन्ना उत्पादकों को क्रमबद्ध भुगतान करने वाले मॉडल को लागू करने वाली अनुशंसाओं पर विचार करने के लिए एक उच्च-स्तरीय समिति का गठन किया है.

मुख्य बिंदु

  • नीति आयोग के अनुसार, यदि किसानों को गन्ना FRP का 60 प्रतिशत अग्रिम के रूप में भुगतान किया जाता है, तो यह उनकी संपूर्ण A2+FL (कृषि श्रम) लागत को सम्मिलित करेगा. साथ ही साथ उन्हें कुछ अधिक भुगतान भी प्राप्त होगा.
  • किसानों के लिए A2 लागत में उन सभी भुगतान लागतों को शामिल किया जाता है, जो किसानों द्वारा प्रत्यक्ष रूप से बीजों, उर्वरकों, कीटनाशकों, आदि के लिए किए जाते हैं.
  • 2+FL की लागत में A2 लागत के साथ-साथ अवैतनिक पारिवारिक श्रम का मूल्य भी शामिल होता है.

उचित एवं लाभप्रद मूल्य क्या है?

  • उचित एवं लाभप्रद मूल्य वह न्यूनतम मूल्य है जो गन्ना मिल मालिकों को गन्ना किसानों को देना होता है.
  • इस प्रकार के मूल्य पर ही किसान यह निर्णय करते हैं कि वे अगले साल कितना गन्ना लगायेंगे.
  • FRP को गन्ना (नियंत्रण) आदेश, 1966 के तहत निर्धारित किया जाता है.
  • केंद्र सरकार ने कृषि लागत और मूल्य आयोग (CACP) की अनुशंसाओं के आधार पर गन्ने के #क को निश्चित कर दिया है.
  • हालाँकि, कुछ राज्य सरकारें राज्य परामर्शी मूल्य (State Advised Price: SAP) की घोषणा करती हैं, जो सामान्यतः केंद्र के FRP से अधिक होता है.

Prelims Vishesh

World Asthma Day – 2021 :-

  • हाल ही में 5 मई को विश्व अस्थमा दिवस-2021 (World Asthma Day-2021) को मनाया गया है.
  • विश्व अस्थमा दिवस को ग्लोबल इनिशिएटिव फॉर अस्थमा (Global Initiative for Asthma – GINA) द्वारा प्रत्येक वर्ष मनाया जाता है.
  • इस दिवस को मनाने की शुरुआत वर्ष 1998 में हुई थी.
  • वर्ष 2021 के विश्व अस्थमा दिवस (World Asthma Day) की थीम “अस्थमा की भ्रांति को उजागर करना” (Uncovering Asthma Misconceptions) है.

Click here to read Sansar Daily Current Affairs – Current Affairs Hindi

February, 2020 Sansar DCA is available Now, Click to Download

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.