JPSC Questions : Mock Practice Test Series Part 11

Sansar LochanJPSCLeave a Comment

जोहार! आज हम झारखण्ड के Miscellaneous सवाल आपके सामने प्रस्तुत करने जा रहे हैं. आशा है कि आपको हमारा यह प्रयास पसंद आएगा. यदि पसंद आये तो इस पोस्ट पर कमेंट करके जरूर बताएँ ताकि 2021 की JPSC परीक्षा होने के पहले एक टेस्ट सीरीज आपके लिए ला सकें.

वैसे तो हमारा भरपूर प्रयास रहा है कि तथ्यों में त्रुटि नहीं हो, पर यदि गलती हो तो हमें अवश्य सूचित करें. 

JOIN JPSC TEST SERIES new_gif_blinking

Important Info
👉यदि हमारा प्रयास अच्छा लगे तो जरुर अपने झारखंडी और बिहारी दोस्तों के साथ हमारे इस मटेरियल को फेसबुक और व्हाट्सऐप में शेयर करें.

⏳Jharkhand – JPSC – Test Series Part 11

JPSC Questions : Mock Practice Test Series Part 11

Congratulations - you have completed JPSC Questions : Mock Practice Test Series Part 11. You scored %%SCORE%% out of %%TOTAL%%. Your performance has been rated as %%RATING%%
Your answers are highlighted below.
Question 1
किस वंश के शासनकाल में नरबलि प्रथा का प्रचलन था?
A
ढाल वंश
B
चेरो वंश
C
मान वंश
D
सिंह वंश
Question 1 Explanation: 
➦ शासन क्षेत्र – पूर्वी सिंहभूम ( ढालभूम/धालभूम)। ➦ संस्थापक – धोबी जाति के लोग। ➦ढालभूम के संस्थापक का पिता धोबी तथा माता ब्राह्मण थी। ➦ये नरबलि प्रथा के पोषक थे।
Question 2
झारखंड में 1857 के विद्रोह की शुरुआत 12 जून 1857 को देवघर के किस गाँव से हुई थी?
A
मोहिनी
B
दीवली
C
रोहिणी
D
लक्ष्मी
Question 2 Explanation: 
रोहिणी में तीन रणबांकुड़ों ने अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ बगावत का झंडा खड़ा कर दिया। इसके पहले सिदो-कान्हू, चांद-भैरव द्वारा ऊलगुलान किया गया था। लोगों के दिलों-दिमाग पर ब्रितानी शासन के खिलाफ असंतोष की ज्वाला धधक रही थी। इस दौरान रोहिणी में इसका विस्फोट हुआ। बात 12 जून 1857 की है। रोहिणी में 5वीं घुड़सवार सेना की छावनी हुआ करती थी। जिसमें मुख्य अधिकारी सर नार्मल लेजली एवं अन्य अधिकारी रहते थे। 12 जून की संध्या को सर नार्मल लेजली अपने एक सहकर्मी डॉ. ग्रांट के साथ चाय पी रहे थे। इसी दौरान तीन सैनिक सलामत अली, अमानत अली व शेख हारून वहां आ धमके और भारत माता की जय का नारा लगाते हुए लेजली पर वार कर दिया। जिससे उनकी मौत हो गई। सैनिकों ने डॉ. ग्रांट पर भी हमला किया, लेकिन वे बच निकले। इस घटना को लेकर अंग्रेजों में खलबली मच गई। बाद में तीनों वतनपरस्तों को फिरंगी सरकार ने कोर्ट मार्शल कर दिया और फांसी पर लटका दिया गया। दुनिया के इतिहास में यह पहला अवसर था जब अपने को सभ्य शासक होने का दावा करनेवाली अंग्रेजी हुकूमत ने बिना किसी न्यायिक प्रक्रिया अपनाए तीनों जवानों को 16 जून को फांसी पर लटका दिया। तीनों जवानों ने हंसते-हंसते फांसी का फंदा चूम लिया। इस घटना के बाद बैरकपुर छावनी में मंगल पांडेय द्वारा विद्रोह का शंखनाद किया गया। इस प्रकार 1857 के विद्रोह के पूर्व रोहिणी का विद्रोह काफी अहमियत रखता है।
Question 3
झारखंड में 2016 में मेरी बेटी मेरी पहचान योजना की शुरुआत कहाँ से हुई थी?
A
राँची से
B
जमशेदपुर से
C
लातेहार से
D
धनबाद से
Question 3 Explanation: 
"मेरी बेटी, मेरी पहचान" बालिका समृद्धि को लेकर झारखण्ड के जमशेदपुर क्षेत्र से आरम्भ किया गया एक अभियान है जो धीरे-धीरे पूरे देश में चर्चा का विषय बना।
Question 4
झारखंड के किस जिले में कुंडा/कुंदा का किला  स्थित है?
A
हजारीबाग
B
चतरा
C
पूर्वी सिंहभूम
D
लातेहार
Question 4 Explanation: 
आज भी अपने देश भारत मे राजाओं के कई ऐसे किले हैं, जो जर्जर अवस्था मे पड़ी हुई है। जिस पर ना तो आज तक सरकार की नजर गई और ना ही पुरातत्व विभाग की। हम जिस किले के बारे में आपको बताने जा रहे हैं, वो चतरा जिले के घोर नक्सल प्रभावित प्रखंड कुंदा मे पड़ता है। यह किला सोलहवीं शताब्दी काल की बनी हुई है। इस किले में रहने वाले राजघराने के लोग जयपुर और राजस्थान के खैरवार राजपूत जाती से ताल्लुकात रखते थे। इस किले के बारे में यह कहा जाता है, कि यहां अकूत संपत्ति छुपी हुई है। इस वीरान पडे़ किले का पुराना इतिहास व हकीकत जानकर आपका भी मन यहां आने को मचल जायेगा।
Question 5
अफजल खां ने किसके शासनकाल में पलामू के चेरो राजाओं के विरुद्ध एक सैन्य अभियान चलाया?
A
अकबर
B
औरंगजेब
C
शाहजहाँ
D
जहाँगीर
Question 5 Explanation: 
पलामू में चेरो राजा अनंत राय की बढ़ती शक्ति ने जहाँगीर को चिंतित कर दिया था। उसने सन् 1607 में बिहार के सूबेदार पद पर अफजल खाँ को नियुक्त किया, जो अबुल फजल का बेटा था।
Question 6
भीम कर्ण के काल में सरगुजा के रक्सेल राजा ने नागवंशी राज्य पर आक्रमण किया था. इस लड़ाई को किस नाम से जाना जाता है?
A
बरवा की लड़ाई
B
घाघरा की लड़ाई
C
सरगुजा की लड़ाई
D
दोइसा की लड़ाई
Question 6 Explanation: 
नागवंशी राजा भीम कर्ण (1095-1184ई0) एक प्रतापी शासक था। वह पहला नागवंशी शासक था, जिसने ’राय’ के स्थान पर ’कर्ण’ उपाधि धारण की। यह उपाधि परिवर्तन कल्वुरि राजवंश से संपर्क का परिणाम था क्योंकि कल्चुरि नरेशों की उपाधि कर्ण थी। उसके शासन काल में सरगुजा के रक्सेल राजा ने 12,000 घुड़सवारों तथा एक बड़ी पैदल सेना के साथ नागवंशी राज्य पर आक्रमण किया पर उसे मुँह की खानी पड़ी। भीम कर्ण ने इस सेना को बरवा की लड़ाई में पराजित कर सरगुजा की ओर धकेल दिया। भीम कर्ण ने रक्सेलों को लूटा तथा अरवा और पलामू के टोरी परगना पर कब्जा जमा लिया। लूट से प्राप्त बस्तुओं में वासुदेव की एक मूर्ति उल्लेखनीय है। रक्सेलों की पराजय के कारण नागवंशी राज्य की सीमा गढ़वाल राज्य की सीमा तक फैल गई। भीम कर्ण ने चुटिया के स्थान पर खुखरा को अपनी राजधानी बनाया (1122 ई0) उसने राजधानी परिवर्तन मुस्लिम आक्रमणकारियों के संभावित आक्रमण से बचने के लिए किया क्योंकि चुटिया, बंगाल पर आक्रण करने वाले तुर्कों के मार्ग के अत्यंत निकट था। दूसरी ओर, खुखरा नागवंशी राज्य के प्रायः मध्य भाग में पड़ता था, अतः राजधानी बनने के लिए बहुत उपयुक्त स्थल था। धीरे-धीरे खुखरा नाम ही सम्पूर्ण नागवंशी राज्य का पर्यायवाची बन गया। भीम कर्ण ने भीम सागर का निर्माण करवाय जो आज भी विद्यमान हैं।
Question 7
सिंह वंश का 13वाँ राजा जगन्नाथ सिंह द्वितीय के उत्पीड़न से तंग आकर ____ के लोगों ने विद्रोह कर दिया था.
A
सिंह समाज
B
भुइयां समाज
C
दास जाति
D
हो जनजाति
Question 8
हजारीबाग के बारहखंड नामक स्थान से किस धातु के 49 खान के अवशेष प्राप्त हुए हैं?
A
लोहा
B
सोना
C
कांसा
D
तांबा
Question 9
प्रथम पंचवर्षीय योजना के अंतर्गत सन 1951 ई. में स्थापित भारत का उर्वरक कारखाना कहाँ अवस्थित है?
A
सिंदरी
B
राँची
C
जपला
D
बरौनी
Question 9 Explanation: 
सिन्दरी (3 इकाइयाँ, स्थापना- 1951 में , एशिया का सबसे बड़ा उर्वरक संयत्र)
Question 10
हाथी परियोजना का प्रारम्भ किस वन्यजीव अभयारण्य से किया गया था?
A
पालकोट अभयारण्य, गुमला
B
लावालौंग अभयारण्य, चतरा
C
पारसनाथ अभ्यारण्य, गिरिडीह
D
दलमा वन्य जीव अभयारण्य, जमशेदपुर
Question 10 Explanation: 
यह अभयारण्य पूर्वी सिंहभूम जिले के मुख्यालय जमशेदपुर से 15-20 किमी दूर 193.22 वर्ग किमी क्षेत्र में फैला है. दलमा वन्य अभ्यारण्य की स्थापना 1978 में की गई थी. यह जंगली जानवरों से भरा पड़ा है. झारखंड के किसी अन्य शहर को यह सौभाग्य प्राप्त है नहीं है, जहाँ इतनी कम दूरी पर हाथियों की चिंघाड़ और तेंदुए की दहाड़ सुनाई दे. यहां एलीफेंट प्रोजेक्ट लागू की गई है. यहाँ लगभग 300 हाथी है.
Once you are finished, click the button below. Any items you have not completed will be marked incorrect. Get Results
There are 10 questions to complete.

Leave a Reply

Your email address will not be published.