IAS की तैयारी से सम्बंधित आपके कुछ सवाल और मेरे जवाब

Sansar LochanCivil Services Exam, Success Mantra1609 Comments

planning_quote
Print Friendly, PDF & Email

IAS UPSC FAQ (IAS Sawal Jawab in Hindi)

कई दिनों से ब्लॉग पर सिविल सर्विसेज/IAS की तैयारी को लेकर लगातार मैसेज आ रहे हैं. कदाचित् UPSC की परीक्षा नजदीक होने के कारण लोगों ने मेरे इस आर्टिकल के कमेंट सेक्शन पर सवालों का बाढ़ ला दिया है. एक-एक कर के मैं उन सारे सवालों का जवाब इस नए पोस्ट में देने की कोशिश कर रहा हूँ.

क्या IAS भगवान् बनते हैं?

IAS इंसान ही बनते हैं. कई सवाल मुझे मेल पर आये, कई लोगों ने ब्लॉग पर पूछा कि आईएएस बनने के लिए इंसान के अन्दर क्या होना चाहिए, क्या IAS सिर्फ अच्छे पढ़ने वाले, मेधावी विद्यार्थी ही बन सकते हैं जिनका पास्ट अकेडमिक रिकॉर्ड अच्छा रहा हो?

ऐसा बिल्कुल नहीं है. आप भी आईएएस बन सकते हैं. यह बिल्कुल मैटर नहीं करता कि आपने 10वीं या 12वीं में क्या स्कोर किया है….भले आपने ग्रेजुएशन थर्ड डिवीज़न से पास की हो….पास्ट पास्ट होता है. पास्ट को भूलकर आपको आगे देखना चाहिए. यदि आप पास्ट की गलतियों को देखकर अपने आज को ख़राब कर रहे हैं तो आपको अपने भविष्य में अन्धकार ही अन्धकार मिलेगा. इसलिए अच्छा है कि पीछे मुड़ कर कभी न देखें.

पढ़ाई के दौरान एकाग्रचित कैसे हों?

क्या आपने अपने शहर में टमटम को चलते देखा है? नहीं देखा है तो यह पिक्चर देखें:–

taanga_ghoda

घोड़े के दोनों आँखों के बगल में चमड़े की पट्टी लगा दी जाती है. ऐसा इसीलिए क्योंकि वह सीधा देख पाए. चलते वक़्त उसके बगल में होने वाली सड़क की गतिविधियों पर उसका ध्यान न जा पाए और वह सिर्फ सीधा देख कर अपने लक्ष्य की ओर चले. ऐसा विद्यार्थी जीवन में होना चाहिए. आप अपने अगल-बगल की गतिविधियों पर ध्यान मत दें. कौन आपके बारे में क्या कह रहा है, आपके बारे में क्या विचार रखता है, आपके फूफा आपका मजाक उड़ाते हैं, आपके पड़ोसी आपके घर पर बैठने को लेकर तंज कसते हैं….यदि आपका ध्यान इन सब पर चला गया तो आप अपने लक्ष्य को पाने से चूक जायेंगे.

आप सफल हो जायेंगे तो यही लोग आपको बधाई भी देंगे. दूसरों को कहते फिरेंगे कि देखिए मेरा भतीजा/भाँजा आईएएस है. अन्दर ही अन्दर वे भले ही कुढ़ते रहें पर शान से आपकी तारीफ़ दूसरों के सामने करेंगे ताकि उनका स्टेटस भी ऊँचा हो. इसीलिए इन मामूली फैक्टर से अपने जीवन को नष्ट मत कीजिए. लोगों को कहते रहने दीजिए.

IAS की परीक्षा कोई बैंकिंग या SSC की परीक्षा नहीं है. यह एक high-level परीक्षा है. इनके सवाल अच्छे-अच्छों की छुट्टी कर देते हैं. आपने लाख तैयारी की हो, 24 घंटे ही क्यों न पढ़ लिया हो, पर आप जनरल नॉलेज के 200 के 200 सवाल कभी सही नहीं कर सकते जैसा CAT या अन्य MBA परीक्षा में लोग कर लेते हैं. इसलिए आपकी मंजिल टेढ़ी-मेढ़ी है और न ही इसका कोई शोर्ट-कट है. हम अपनी मंजिल तभी पूरी कर पायेंगे जब हम स्वयं में यह दृढ़संकल्प करें कि हम किसी भी बाहरी नकारात्मक शक्तियों को अपने आस-पास भी नहीं फटकने देंगे और दिन -रात एक कर के अपने लक्ष्य की ओर बढ़ेंगे.

कितना पढ़ना पड़ेगा?

आईएएस की तैयारी के लिए एक साल पर्याप्त माना जाता है. वैसे ये विद्यार्थी के क्षमता पर निर्भर करता है. किसी के लिए 6 महिने की पढ़ाई भी काफी है और किसी के लिए 2 साल की पढ़ाई भी काफी नहीं. पर इसमें निराश होने की जरुरत नहीं. क्षमता को बढ़ाया और घटाया जा सकता है. आप ठान लें कि आज से और अभी से आप अगले साल तक रोजाना 6 घंटे की पढ़ाई करेंगे तो आप इस टेढ़े-मेढ़े सफ़र को सरलता से पार कर जायेंगे. पर ऐसा अक्सर होता नहीं. हर लोगों का मोटिवेशन लेवल अलग-अलग होता है और यही मोटिवेशन लेवल हार और जीत का फैसला करता है. आप हो सकता है आज यह आर्टिकल पढ़ कर कसम खा लें कि मैं रोजाना आईएएस की पढ़ाई के लिए अगले मेंस तक 6 घंटे दूंगा….और यह भी हो सकता है कि आप आज और कल तक अपने संकल्प पर कायम भी रहें….मगर तीसरे दिन आते-आते तक …कुछ ऐसा होगा कि आप फिर वापस वहीं पर चले जायेंगे जहाँ पहले थे. सब छूट जायेगा. किसी की गर्लफ्रेंड नाराज़ हो जाएगी, कभी व्हाट्सएप गुनगुनाने लगेगा, कभी पिताजी की डांट पड़ने से उदास हो जाओगे….कुछ न कुछ ऐसा हो ही जायेगा कि आप अपने लक्ष्य से भटक जाओगे.

वहीं जिसका सफल होना लिखा है…वह अपने लक्ष्य पर डटा रहेगा. चाहे आँधी आए, चाहे तूफान….चाहे गर्लफ्रेंड ने बात करना बंद कर दिया, चाहे पापा की डांट ही क्यूँ न पड़ गयी हो..उसे कोई फर्क नहीं पड़ेगा. वह दिन रात एक कर देगा. इन्टरनेट पर भी वही चीजें देखेगा जो उसकी काम की हों, जो उसे प्रोत्साहित करती हों…जो उसके नोट्स बनाने के काम आए.

मेरी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं…

कई छात्रों का मुझे मेल आता है कि उनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं हैं, लक्ष्य की प्राप्ति के लिए वे कैसे आगे बढ़ें? हाँ. हमारे नसीब में हर कुछ नहीं होता. किसी के पास किताबें खरीदने के पैसे-ही-पैसे हैं….हज़ारों की किताबें वह खरीद सकता है मगर दुर्भाग्य है कि उन्हें पढ़ने का उसके पास समय ही नहीं. किन्हीं को एक किताब को खरीदने के लिए 100 बार सोचना पड़ता है. पुरानी किताबों को बेचकर उन्हें नयी किताबें लेनी पड़ती हैं. पर सोचिए, आपके पास सिर्फ पैसे नहीं हैं, किन्हीं-किन्हीं के पास लिखने के लिए हाथ भी नहीं है, किन्हीं की आँखें कमजोर हैं, उन्हें कुछ दिखता नहीं….

इसलिए पीड़ा की कोई सीमा नहीं है. आप गरीब हैं, अमीर हैं…फर्क तो पड़ता है. पर उतना नहीं जितना हम सोच लेते हैं. किताबें उधार भी ली जा सकती हैं, पुरानी किताबों को भी कम दामों में ख़रीदा जा सकता है….बस दिमाग में यह रहना चाहिए कि हमें रुकना नहीं है, चलते रहना है…चलते रहना है….जितना कठिन संघर्ष होगा उतनी ही शानदार जीत होगी. अपनी सोंच को संकुचित नहीं कीजिए. मेरे पास ये नहीं है, वो नहीं है से अच्छा है कि जो है उसका पूर्ण प्रयोग करना सीखें. छोटी सोंच और पैर में पड़ी मोच से आगे कभी नहीं बढ़ा जा सकता.

क्या दिल्ली जाना जरुरी है?

यूपीएससी परीक्षा में सफल होने के लिए दिल्ली जाने की आवश्यकता नहीं है. आप घर बैठे भी तैयारी कर सकते हैं. घर में बैठने से बहुत बार मन टूटता है. कभी चीनी ले आओ, कभी सब्जियाँ …पढ़ाई के बीच-बीच में आपको कई बार उठना पड़ता है. आप अन्दर से चिढ़ जाते हैं और यही चिढ़ आपमें नकारात्मकता लाता है जो आपके लक्ष्य के लिए खतरनाक है. घर के कुछ काम कर देने से आपका बहुत सारा समय बर्बाद नहीं होता, हद से हद 2 घंटे, वह भी रोज नहीं…कभी-कभी. मगर इसको लेकर स्वयं को स्ट्रेस मत दें…पॉजिटिव सोचें….आपको इस परीक्षा के लिए समाज के बारे में भी जानना है. याद कीजिए UPSC आपसे decision making से भी सवाल पूछती है. जैसे कि आप किसी दवाई की दुकान गए, आप गौर करते हैं कि दवाई वाले भैया ने आपको दवाई की खरीद पर रसीद नहीं दिया, कच्चा चिट्ठा दे कर पैसे ले लिए…तो ऐसे में आप क्या करेंगे? i) उसे इस बात से अवगत करायेंगे कि आपको रसीद देनी चाहिए और रसीद देने की माँग करेंगे ii) बगल के थाने में रिपोर्ट कर देंगे iii) उसे डरायेंगे-धमकाएंगे iv) चुप-चाप दवा ले कर घर लौट जायेंगे.

इसलिए जब तक आप समाज को जानोगे नहीं, बाहर घूमोगे नहीं…तो इन सवालों का जवाब आप दोगे कैसे? इसलिए हर चीजों को पॉजिटिव वे  में लें….आपको कोई डिस्टर्ब  भी कर रहा है तो उसमें भी कोई पोसिटिवनेस  ढूँढिए. दिल्ली जाना तभी ठीक है, जब आपके पास पर्याप्त पैसे हों याआप घर में बैठ कर बिल्कुल पढ़ नहीं सकते या आपके अगल-बगल परिवार में कोई भी इस बैकग्राउंड  से न हो.

मैं नया खिलाड़ी हूँ, शुरुआत कहाँ से करूँ?

पहले हिंदी में दिए गए सिलेबस को ध्यान से देखिए. फिर पिछले साल आये सवालों को देखिए. उन पर रिसर्च कीजिए. यह भी एक अभ्यास है. धीरे-धीरे आप UPSC में पूछे जाने वाले सवालों के पैटर्न को अच्छी तरह समझने लगेंगे. आपको पता लग जायेगा कि UPSC डायरेक्ट सवाल नहीं पूछती ….जैसे- वर्तमान वित्त मंत्री कौन हैं, यह सब SSC लेवल के सवाल हैं. UPSC को पूछना होगा तो वह वित्त मंत्री के कार्यक्षेत्र क्या-क्या हैं…यह पूछेगी. इस तरह आप पैटर्न को समझेंगे. पैटर्न को जब आप समझ जायेंगे और फिर जा कर किताबों को पढ़ेगें तो आप पायेंगे कि आप किताब को अलग ढंग से पढ़ रहे हैं. आपको सिर्फ वही चीज उस किताब में दिखेगी जो आपके काम की हो. किताबों में वाक्यों पर पेंसिल से लाइन भी ड्रा करिए जो वाक्य आपको इम्पोर्टेन्ट लगे. Hindi Recommended किताबों के बारे में मैं पहले ही लिख चुका हूँ, यहाँ पढ़ें.

UPSC में लेखन अभ्यास का क्या रोल है?

आपको पढ़ने के साथ-साथ लिखने का भी अभ्यास करते रहना चाहिए क्योंकि लेखन के क्षेत्र में जब तक आपका हाँथ नहीं खुलेगा आप मेंस में अच्छा परफॉर्म नहीं कर पाओगे. किसी भी टॉपिक को संक्षेप में (लगभग 200 शब्द) लिखने का रोज अभ्यास करें. यदि आपकी लेखन शैली को कोई जाँच करने वाला या व्याकरण चेक करने वाला हो तो सोने पर सुहागा है.

मैं लगातार मिल रही विफलता से टूट चुका हूँ

विफलता मिलने से टूटना स्वभाविक है. विफलता परेशान ही करती है और अन्दर से विचलित भी. पर अब तो आपके पास attempts भी कई सारे हैं. जरुरी नहीं कि हर कोई पहली या दूसरी बार में ही सफलता प्राप्त कर ले क्योंकि हमारे जीवन में भाग्य का भी रोल होता है. आपने कई बार देखा होगा कि आपका दिन कभी-कभी जरुरत से ज्यादा अच्छा जाता है और जिस दिन कुछ खराब होना रहता है तो उस दिन सब कुछ लगातार खराब ही ख़राब होता है. हिम्मत मत हारिये. कभी-कभी गुच्छे की आखरी चाभी भी ताला खोल देती है इसलिए डटे रहिए.

ये चुनिन्दा सवाल मैंने कमेंट से एकत्रित किए थे. यदि अब भी कोई IAS परीक्षा से related सवाल है तो इस पोस्ट के कमेंट सेक्शन में आप कमेंट कर के पूछ सकते हैं.

ऑप्शनल विषय का चुनाव कैसे करें, इसके लिए यहाँ पढ़ें.

1,609 Comments on “IAS की तैयारी से सम्बंधित आपके कुछ सवाल और मेरे जवाब”

  1. sir मुझे math थोड़ी कम आती है , बाकी अन्य सभी विषय ठीक है, क्या math का अधिक रोल रहता है , इस परीक्षा मे । बताइये sir जी

  2. sir ias exam m English aur maths ka kitna roll h .mujhe English aur maths m problem h. Mai ias Banna chahta hu Lekin Maine Abhi tk Gk ya koi aur subjects Abhi tak nhi padha m .Maine biology graduate Kiya h m Kewal scienc k bare m Janta hu .Mai Delhi dristi ya vajirao coaching m Jane k liye soch rha hu .sir mere minde me roj ias banne k bare m khayal aata h. aap bataye m kya Karu ? kha se taiyari kru please meri help kijiye sir.

  3. Sir apka bahut bahut thanks apne reply kiya
    Sir me self study kar sakta hu
    Mere ghar bale mujhe kahi bahar jake coaching nahi karne de rahe h or itna paisa v nahi h
    Apne ek bat sahi kahi me bahut confused hota hu kya padhu kya na padhu kaise padhu
    But sir mujhe ias banna hai
    Me guidance ke liye mobile ka use kar raha hu
    And sir apka guidance bahut hi accha hai hindi medium balo ke liye
    Me apse hi request karta hu
    Aap ek yesa topic taiyar kijiye jisse logo ko apna aim saralta se prapt ho
    Aap hi ek topic jodiye apne questions me
    Jisse pata chale ki students ko kaise padhna chaiye kon kon si book se padhna chaiye current ke liye mobile se kya or konsi magazine padhna chaiye
    Daily kya kya padhna chaiye kya sunna chaiye
    Or books ki list with writer v bataiye
    Thank you so much
    Mujhe aasha hai aap isko ghambirta se sochke meri or other students ki help karenge 🙏

    1. आपका सुझाव अच्छा है. इसके लिए मैं भी काफी दिन से सोच रहा था क्योंकि हमारे वेबसाइट पर न्यू कमर की संख्या की काफी अधिक है जिन्हें इस परीक्षा के विषय में कुछ नहीं पता.

      फिलहाल आप हमारा app google play store से install कर लें और वहाँ रोज़ हिंदी में न्यूज़ और discussion सुनने की आदत डालें जो बहुत फायदेमंद होता है. यह रहा app का link >> Download App

  4. Sir me v ias banna chata hu but
    Mene ek didi se pucha ki me ghar pe kaise preparation start karu kya kya padhna start karu to unhone mujhe bataya ki agar tum coaching nahi jate ho to gk ke concept clear kaise karoge kaise kya kabar kar sakoge
    Unhone bataya pehle tumhare concept clear hona chaiye or bo bina coaching ke nahi ho sakte hai
    Agar tumko kuch doubt hoga ye kaise hota kyo hota hai
    Is chij ka pata tum books se nahi kar sakte ho
    Ye sab bataya sir aap please mujhe sahi raasta bataye me kya kab or kaise karu jisse home study me ek success ias banu

    1. आपके दीदी ने कुछ-कुछ बातें सही कहीं हैं. यदि आप बिल्कुल नए हो और इस परीक्षा के विषय में ABC भी नहीं जानते तो किसी न किसी guide की जरूरत होती है. कैसे पढ़ना है, क्या पढ़ना है….यह जान पाना बहुत मुश्किल हो जाता है और अधकांश समय यही सब बातें समझने में बीत जाता है.

      पर यह भी सच है कि इसकी कोई guarantee नहीं है कि कोचिंग में आपको अच्छी गाइडेंस मिले और इतनी भीड़ में आप पर कोई ध्यान दे. कोचिंग में यदि शिक्षक अच्छे हैं तो आप कोचिंग ज्वाइन कर सकते हैं. पर कोचिंग सावधानी से ही ज्वाइन करें क्योंकि काफी कोचिंग money minded हैं. आप वहाँ पढ़ रहे छात्रों से feedback लें.

      यदि आप कोचिंग ज्वाइन करने में असमर्थ हैं तो घर बैठ कर बेसिक क्लियर करें. पिछले सालों के प्रश्नों से प्रश्नों की प्रकृति को समझने में अपना दिमाग लगाएँ. आपको अपना टीचर खुद बनना पड़ेगा और हर बार नई-नई चीजों को सीखना और समझना होगा.

  5. Sir G.N
    Sir problem koi nahi h but problem h
    Problem ye h ki jo mere sir h jinhone mujhe padaya bo mujase kehte h ki tumhe teacher banana but sir mai apane sir k samane kuchh bhi nahi bol Pata hu mai kabhi bhi unase koi baat nahi Keh Pata hu ki mujhe ias banana h
    Par Sach sir mera dil dimag or mera poora sareer IAS banane k liye excited h
    I m really saying sir kya karna chahiye mai sochta hu ki main sir se kahunga ki mujhe teacher banana h to unhe bura na lage kahi bo ye na kahe ki tum mere apposite khade ho gaye sir mai apane sir ko apani language se heart nahi karna chahata
    Sir
    Plz let me proper suggestion
    Thank’s sir G.N

    1. आपको अपने भविष्य का फैसला आपको खुद करना पड़ेगा. कोई दूसरा आपके भविष्य को न बना सकता है और न बिगाड़ सकता है. इसलिए विवेक से निर्णय लें, अपनी क्षमताओं को पहचानें और यह भी जान लें कि सिविल सेवा परीक्षा के लिए मानसिक रूप से बहुत मजबूत होना पड़ता है और कड़ी मेहनत तो करनी पड़ती ही है.

      इतना भावुक होने की जरुरत नहीं. कौन क्या सोचेगा यदि आप इतना दिमाग खर्च करेंगे तो आप एक IAS अधिकारी होकर कड़े निर्णय कैसे ले पायेंगे?

  6. Sir mene 12th science se ki h or abb me 1year me hu or mene bA liya h sir me abhi se teyari krna cahti hu to aap mujhe btaye ki mujhe Kya Kya padba h sir mere garr ki condition think nhi h to me koi coching nhi krr sakti or me general ketegary see hu sir mujhe btaye ki me grr se hi ias ki teyari kese kru sir please answer me

  7. Sir main B.sc.ag. (1year) kar rahan hoon kya main I A S ban sakta hoon aur uske liye kya karna hoga

  8. Hello sir mai inter first year me hu aur mai d aur b farma kar ke ias ki tayari karna chahta hu kaise tayari karu sir

  9. Hello sir mai abhi inter fast year me hu aur inter ke bad mai d farma aur b farma karna chahta hu aur iske bad ias ki tayari karna chaita hu kya mai ias ki tayari kar sakta hu aur mai ias oficer ban gaya to meri d aur b farma ki digri se medical chal sakta hai kya sir

  10. Ty completed karne ke bad kya direct isa exam diya ja sakta he IAS. Ki padhai kitane sal karni padti he name IAS baneme kitna samy lagsakta he ty ke bad kahasr IAS ki padhi karni chahiye kya iska bhi koi college hota he

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.