Agricultural Economics से प्रश्न – Kurushetra MCQ in Hindi (PART 1)

Sansar LochanQuiz 2021Leave a Comment

आज हम आपके सामने कृषि अर्थशास्त्र (Agricultural economics) से सम्बंधित कुछ प्रश्न रख रहे हैं जो कुरुक्षेत्र magazine की सहायता से बनाए गए हैं. ये प्रश्न UPSC आदि परीक्षा में आ सकते हैं. 

Agricultural-Economics से प्रश्न - Kurushetra MCQ in Hindi (PART 1)

Congratulations - you have completed Agricultural-Economics से प्रश्न - Kurushetra MCQ in Hindi (PART 1). You scored %%SCORE%% out of %%TOTAL%%. Your performance has been rated as %%RATING%%
Your answers are highlighted below.
Question 1
कृषि श्रम हेतु उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई-एएल) किसके द्वारा संकलित किया जाता है - Consumer Price Index for Agricultural Labour (CPI-AL) is compiled by -
A
केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (CSO) / Central Statistical Office (CSO)
B
श्रम ब्यूरो (LB)/ Labour Bureau (LB)
C
राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण कार्यालय (NSSO) / National Sample Survey Office (NSSO)
D
आर्थिक सलाहकार, वाणिज्य मंत्रालय / Economic Advisor, Ministy of Commerce
Question 2
शब्द "धूसर क्रांति" निम्न में से किससे सम्बंधित है? Term "Grey Revolution" is concerned with - 
A
दूध उत्पादन / milk production
B
ऊन उत्पादन / wool production
C
मत्स्य उत्पादन / fish production
D
फल उत्पादन / horticultural crops
Question 2 Explanation: 
इसी क्रांति के कारण देश में 25.5 मिलियन टन उर्वरक की खपत हो रही है. Grey Revolution is related to the production of wool as well as the increase and growth in the use of fertilizers. The grey revolution had been implied since the green revolution.
Question 3
ऐसे बाजार जिसमें किसी एक वस्तु का एक ही विक्रेता हो, कहलाता है -- A market in which there is only one seller, and there is no close substitute for the product...
A
पूर्ण स्पर्धा बाजार (Perfect Competitve market)
B
अल्पाधिकार बाजार (Oligopoly market)
C
एकाधिकार बाजार (Monopoly market)
D
इनमें से कोई नहीं
Question 3 Explanation: 
अर्थशास्त्र में जब कोई एक व्यक्ति या संस्था का किसी उत्पाद या सेवा पर इतना नियंत्रण हो कि वह उसके विक्रय से सम्बन्धित शर्तों एवं मूल्य को अपनी इच्छानुसार लागू कर सके तो इस स्थिति को एकाधिकार (monopoly) कहते हैं। अर्थात बाजार में प्रतियोगिता का अभाव एकाधिकार की मुख्य विशेषता है। Monopoly शब्द की उत्पत्ति ग्रीक शब्द से हुई है। मूल शब्द है monopollein जो दो शब्दो से मिलकर बना है- mono और pollein अर्थात् mono का अर्थ है एक एवं pollein का अर्थ है बाजार । एकाधिकार का अर्थ हुआ। वैसा बाजार जिसमे एक विक्रेता एवं अधिकतम संख्या मे क्रेता मौजूद हो प्रो लर्नर के अनुसार एकाधिकार का अर्थ उस विक्रेता से है जिसकी वस्तु का मांग वक्र गिरता हुआ हो एकाधिकारी वस्तु का खुद कीमत निर्धारक होता है प्रत्येक विक्रेता की तरह से एकाधिकारी का भी यही उद्देश्य होता है की उसे अधिकतम लाभ अधिकतम निवल आय प्राप्त हो निवल आय का अभिप्राय प्रति इकाई अधिकतम लाभ से है. A market structure characterized by a single seller, selling a unique product in the market. In a monopoly market, the seller faces no competition, as he is the sole seller of goods with no close substitute. All these factors restrict the entry of other sellers in the market.
Question 4
कपास और बिनौला, गेहूं तथा भूसा आदि का उत्पादन निम्नलिखित में से किस प्रकार के उद्यम के उदाहरण हैं? Production of cotton and cottonseed, wheat and chaff etc. are an example of which of the following type of enterprise?
A
संयुक्त उद्यम (joint enterprise)
B
पूरक उद्यम (complementary enterprise)
C
परिशिष्ट उद्यम (supplementary enterprise)
D
प्रतियोगी उद्यम (competitive enterprise)
Question 4 Explanation: 
संयुक्त उत्पाद दो या दो से अधिक उत्पाद हैं जो एक ही समय में एक ही मूल विनिर्माण प्रक्रिया के साथ-साथ उस उत्पादन प्रक्रिया में आवश्यक कच्चे माल का उपयोग करके उत्पादित किए जाते हैं। अनिवार्य रूप से, उत्पाद एक ही बिंदु तक एक ही विनिर्माण या शोधन प्रक्रिया का पालन करते हैं, जब वे शाखा बंद हो जाते हैं और अंत में दो या दो अलग-अलग उत्पादों में समाप्त हो जाते हैं। संयुक्त उत्पाद निर्माण की प्रक्रिया कई उद्योगों में आम है, जिसमें पेट्रोलियम और खाद्य उद्योग दो उदाहरण हैं। When the production of two or more products of similar value, are made together with same input and process, is called joint product. Joint products have same economic value.
Question 5
निम्नलिखित में से कौन-सा आर्थिक सिद्धांत एक किसान को अपने सीमित संसाधनों को दो अलग-अलग उद्यमों को आवंटित करने में मदद करता है?
A
परिवर्तनशील अनुपात का नियम / The law of variable proportions
B
तुलनात्मक लाभ का नियम / The law of comparative advantage
C
सम-सीमांत उपयोगिता नियम / The law of equimarginal returns
D
स्थिर और परिवर्तनशील के सिद्धांत/ The principles of fixed and variable
Question 5 Explanation: 
सम-सीमांत उपयोगिता के नियम के अनुसार, एक उपभोक्ता संतुलन में तब होगा, जब एक वस्तु की सीमांत उपयोगिता और कीमत का अनुपात दूसरी वस्तु की सीमांत उपयोगिता और उसकी कीमत के अनुपात के बराबर हो। The law of equimarginal return states that profit from a limited amount of variable input is maximized when that input is used in such as way that marginal return from that input is equal in all the enterprises.
Once you are finished, click the button below. Any items you have not completed will be marked incorrect. Get Results
There are 5 questions to complete.
Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.