तीनों पानीपत युद्धों का संक्षिप्त विवरण – War of Panipat in Hindi

Dr. SajivaHistory, Medieval History42 Comments

panipat_war पानीपत

आज इस पोस्ट में हम पानीपत की पहली, दूसरी और तीसरी लड़ाई (Panipat First, Second and Third War) की कहानी आपके सामने रखेंगे. इन युद्धों के क्या कारण थे, ये युद्ध किनके बीच हुआ और इन युद्धों के क्या परिणाम निकले, इन सब तथ्यों की चर्चा करेंगे. भारतीय इतिहास में ये तीनों युद्ध बहुत महत्त्वपूर्ण हैं. पेश है आपके सामने तीनों पानीपत युद्धों का संक्षिप्त विवरण. पेश है आपके सामने पानीपत के तीनों युद्धों का संक्षिप्त विवरण Hindi में.

पानीपत की प्रथम लड़ाई – First Panipat War

पानीपत में तीन भाग्यनिर्णायक लडाईयाँ यहाँ हुई, जिन्होंने भारतीय इतिहास की धारा ही मोड़ दी. पानीपत की पहली लड़ाई -Panipat War 1 21 अप्रैल, 1526 ई. को दिल्ली के सुलतान इब्राहीम लोदी और मुग़ल आक्रमणकारी बाबर के बीच हुई. इब्राहीम के पास एक लाख संख्या तक की फ़ौज थी. उधर बाबर के पास मात्र 12,000 फ़ौज तथा बड़ी संख्या में तोपें थीं. रणविद्या, सैन्य-सञ्चालन की श्रेष्ठता और विशेषकर तोपों के नए और प्रभावशाली प्रयोग के कारण बाबर ने इब्राहीम लोदी के ऊपर निर्णयात्मक विजय प्राप्त की. लोदी ने रणभूमि में ही प्राण त्याग दिया. पानीपत की पहली लड़ाई के फलस्वरूप दिल्ली और आगरा पर बाबर का दखल हो गया और उससे भारत में मुग़ल राजवंश का प्रचालन हुआ.

पानीपत की दूसरी लड़ाई – Second Panipat War

पानीपत की दूसरी लड़ाई -Panipat War 2 ( 5 नवम्बर, 1556 ई. को अफगान बादशाह आदिलशाह सूर के योग्य हिन्दू सेनापति और मंत्री हेमू और अकबर के बीच हुई, जिसने अपने पिता हुमायूँ से दिल्ली का तख़्त पाया था. हेमू के पास अकबर से कहीं अधिक बड़ी सेना थी. उसके पास 1500 हाथी भी थे. प्रारम्भ में मुग़ल सेना के मुकाबले में हेमू को सफलता प्राप्त हुई परन्तु संयोगवश एक तीर हेमू के आँख में घुस गया और यह घटना युद्ध में जीत रहे हेमू के हार का कारण बन गई. तीर लगने से हेमू अचेत होकर गिर पड़ा और उसकी सेना भाग खड़ी हुई. हेमू को गिरफ्तार कर लिया गया और उसे किशोर अकबर के सामने ले जाया गया. अकबर ने उसका सर धड़ से अलग कर दिया. पानीपत की दूसरी लड़ाई के फलस्वरूप दिल्ली और आगरा अकबर के कब्जे में आ गए. इस लड़ाई के फलस्वरूप दिल्ली के तख़्त के लिए मुगलों और अफगानों के बीच चलनेवाला संघर्ष अंतिम रूप से मुगलों के पक्ष में निर्णीत हो गया और अगले तीन सौ वर्षों तक दिल्ली का तख़्त मुगलों के पास रहा.

पानीपत की तीसरी लड़ाई – Third Panipat War

पानीपत की तीसरी लड़ाई -Panipat War 3 ने भारत का भाग्य निर्णय कर दिया जो उस समय अधर में लटक रहा था. पानीपत का तीसरा युद्ध 1761 ई. में हुआ. अफगान का रहने वाला अहमद अब्दाली वहाँ का नया-नया बादशाह बना था. अफगानिस्तान पर अधिकार जमाने के बाद उसने हिन्दुस्तान पर भी कई बार चढ़ाई की और दिल्ली के दरबार की निर्बलता और अमीरों के पारस्परिक वैमनस्य के कारण अहमद अब्दाली को किसी प्रकार की रुकावट का सामना नहीं करना पड़ा. पंजाब के सूबेदार की पराजय के बाद भयभीत दिल्ली-सम्राट ने पंजाब को अफगान के हवाले कर दिया. जीते हुए देश पर अपना सूबेदार नियुक्त कर अब्दाली अपने देश को लौट गया. उसकी अनुपस्थिति में मराठों ने पंजाब पर धावा बोलकर, अब्दाली के सूबेदार को बाहर कर दिया और लाहौर पर अधिकार जमा लिया. इस समाचार को सुनकर अब्दाली क्रोधित हो गया और बड़ी सेना ले कर मराठों को पराजित करने के लिए अफगानिस्तान से रवाना हुआ. मराठों ने भी एक बड़ी सेना एकत्र की, जिसका अध्यक्ष सदाशिवराव और सहायक अध्यक्ष पेशवा का बेटा विश्वासराव था. दोनों वीर अनेक मराठा सेनापतियों तथा पैदल-सेना, घोड़े, हाथी के साथ  पूना से रवाना हुए. होल्कर, सिंधिया, गायकवाड़ और अन्य मराठा-सरदारों ने भी उनकी सहायता की. राजपूतों ने भी मदद भेजी और 30 हजार सिपाही लेकर भरतपुर (राजस्थान) का जाट-सरदार सूरजमल भी उनसे आ मिला. मराठा-दल में सरदारों की एक राय न होने के कारण, अब्दाली की सेना पर फ़ौरन आक्रमण न हो सका. पहले हमले में तो मराठों को विजय मिला पर विश्वासराव मारा गया. इसके बाद जो भयंकर युद्ध हुआ उसमें सदाशिवराव मारा गया. मराठों का साहस भंग हो गया. पानीपत की पराजय तथा पेशवा की मृत्यु से सारा महाराष्ट्र निराशा के अन्धकार में डूब गया और उत्तरी भारत से मराठों का प्रभुत्व उठ गया.

42 Comments on “तीनों पानीपत युद्धों का संक्षिप्त विवरण – War of Panipat in Hindi”

  1. पानीपत का तीनो युद्ध पानीपत में ही क्यों लड़ा गया था? इसके क्या कारण थे?

    1. Kyu ki 1st panipath war babar jo ki Uzbekistan se hota huaa kabul or kandhar ko jit kar Punjab ki taraf chala or Agra ke sasak ibrahim lodhi ko pta chala, to wo bhi aapne mantri or seniko k sath chal to or dono sasako ka aamna saamna haryana k panipath mai hua esliye ye panipath ka yudh kahlaya or babur ki jit hye

    2. Es ladai ka name panipath isliye pada kyu ki ye ladai panipath namak ek chhote se gaw me hua tha.
      Or ye ladai lagbhag 3 dino tak chali thi

    1. Rakhi ji uske kuch factor rahe the jese. 1.jitne bhi attack huye bo sabhi khabar pass se aaye the
      2.panipat ek fertile land tha to unki force k liye food or water ki availability easily ho jati thi
      3.force ko senye help ki dristi se commodities ko easily pahuchaya ja skta tha.
      4 pass cross krne k baad ye hi sabse big area hota tha punjab or delhi k between.

  2. क्योकी पानीपत एक गांव है। वहां पे लड़ाई हुई
    पानीपत हरियाणा district में,,,इस लिये उसे पानीपत युद्ध कहते

    1. बाबर. 1530 में बाबर की मृत्यु के बाद उसका पुत्र हुमायूं राजगद्दी पर बैठा.

      1. बाबर का पुत्र हुमायूँ । हुमायूँ का पुत्र अकबर । अकबर का पुत्र जहाँगीर

  3. आपके सहयोग से मुझे काफ़ी मदद मिली
    जो चीज़े मुझे किताबो में नहीं मिली वो आपके द्वारा मिली उसके लिए आपका धन्यवाद्

  4. Maratha har gaye lekin abdali ki bahut badi hani huye .aur mauke par baki ke sabhi rajaone maratho ko madad nhi ki blki abdali ko madad ki, lekin iske bad marathao ne 20 Sal me phir se dilli jeetli

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.