Strategies for reading and solving English Comprehension -Hindi में पढ़ें

Strategies for reading and solving English Comprehension -Hindi में पढ़ें

 

बैंक की परीक्षा हो या आईएएस (Bank exam or IAS exam) की, इंग्लिश (English) को निम्नलिखित भागों में बांटा जाता है—

  1. Comprehension
  2. Spotting errors
  3. Selecting correct sentences
  4. Sequence of sentences (Parajumbles)
  5. Vocabulary
  6. Fill in the blanks with suitable word, preposition, conjunction, punctuation etc.
  7. Synonyms
  8. Antonyms

आज हम कॉम्प्रिहेंशन (comprehension) के बारे में कुछ टिप्स एंड ट्रिक्स (tips and tricks) जानेंगे. Reading comprehension strategies का भी जिक्र करेंगे. यह जानेंगे कि English comprehension को कैसे जल्दी से पढ़ें (read) करें और उसे कैसे solve करें.

अक्सर परीक्षाओं में कॉम्प्रिहेंशन (comprehension) के सवालों से परीक्षार्थियों के पसीने छूट जाते हैं. कॉम्प्रिहेंशन (comprehension) में चार तरह की समस्याएँ (problems) आती हैं—-

  1. इसका लेंदी होना
  2. टफ वोकैब्लरी
  3. कॉम्पलेक्स्ड सेंटेंस

 

1. सवालों का lengthy होना (Reading English Comprehension Strategies for lengthy English comprehension)

कभी-कभी दुर्भाग्यवश हम lengthy कॉम्प्रिहेंशन के चक्कर में फँस जाते हैं. वे इतने lengthy होते हैं कि यदि हम उसके हर लाइन को गंभीरतापूर्वक पढ़ने लगें तो अंग्रेजी सेक्शन के अन्य सवाल हमसे छूट जायेंगे या बाकी के बचे प्रश्नों को हमें हड़बड़ी में बनाना पड़ेगा जिससे गलतियाँ होने की संभावना बढ़ जाएगी.

कोचिंग में शिक्षकों के दो मत रहते हैं:–

  1. कोई कहता है कि पहले सवाल पढ़ लो उसके बाद पूरे पैसेज (passage) को पढ़ो (read) तब अधिक समझ में आयेगा
  2. कोई कहता है कि पैसेज जल्दी से पढ़ने (reading) का अभ्यास (practice) करो. कैट (CAT) या अन्य एम.बी.ए. (other MBA) की तैयारी वाले स्टूडेंट्स (aspirants) से कुछ सीखो जो एक नज़र में पैसेज पढ़ डालते हैं.

पर सच्चाई इन सब से परे है. सच्चाई यह कि इंग्लिश कॉम्प्रिहेंशन (English comprehension) को सोल्व करने का कोई shortcut नहीं है.

अब मेरी सुनिए:—

First Step

जब आपके सामने एक लम्बा-चौड़ा कॉम्प्रिहेंशन (comprehension) पड़ा हो तो सबसे पहले आप नज़र दौड़ा लें कि उस पैसेज में कितने paragraphs हैं. आपको हर paragraph के शुरू के 2-3 वाक्य  और अंत के एक वाक्य को जरुर पढ़ लेना चाहिए. ऐसा करने में आपको अधिक से अधिक डेढ़ मिनट लगेगा. पर आपको डेढ़ मिनट के समय में सामने दिए गए पैसेज की थीम और कॉनक्लूजन  (theme of passage and its conclusion) का पता लग जायेगा. पूरा पैराग्राफ पढ़ना अपने पैर पर कुल्हाड़ी मारना है.

 

A Comprehension passage from a previous year question of CAT:-

Election year or no election year, prices of essential commodities are rising sharply. This is inspite of the year having a second good monsoon in succession. The wholesale price index, which stood at 156.8 on 1 April, 1989, has risen to 167.7 by 16 Sept, 1989; a rise of nearly 7 percent in 6 months. Primary articles and manufactured products rose by 7.7 percent and 7.6 percent respectively.

The rise in prices of sugar; edible oils and tea is alarming, to say the least, the price increase in sugar is so phenomenal that it leaves a bitter taste. Wholesale prices have shot up from Rs. 700 a quintal last year to Rs. 1100 a quintal, at the major trading centres, up by 57 percent. Retail prices have risen even more. Tea prices have gone 40% in the last six months. The story is the same for commodities like pulses, meat and other household items.

In India, the prices of essential commodities rise because of excessive demand pull and that of luxury items because of cost push. Sometimes, government policies misfire, commodities and hoarded and sold in the black market, all of which aggravate the price instability.

The official reason for the sharp rise in the price of sugar is the fall in sugar production from 9.11 million tones in 1988 to 8.7 million tones this year. The delay in imports was prompted by the optimism that sugar production would touch a new high of 10.2 million tonne this year. It was only in June that the government, waking up at last, decided to import 500,000 tonne of sugar. But, by then, the harm was done and prices soared.

In the case of groundnut oil, the problem was not of fall in production but of government bungling. The production of groundnut oil actually increased from 570,000 tonne to 790,000 tonne this year, bringing down the price of the oil to a value much below the target price range of Rs. 20,000-25,000. But when the government started mopping up substantial amounts of groundnut oil, the prices soared.

The steady increase in support prices over the years mostly to placate the “farmer lobby” has had a lot to do with inflation in the country. The same is the case with administered prices of industrial goods like coal, steel, cement, other non-ferrous metals, fertilizers and drugs. These increases have lead a cascading effect on other industrial products.

Interestingly, production shortfalls and procurement prices make only one side of the story.  

 

अब हम STEP 1 के अनुसार हर पैराग्राफ (paragraph) के शुरू और अंत के 2-3 लाइन्स को हाईलाइट (highlight) करेंगे..

आपको हाईलाइट करने की जरुरत नहीं, बस आपको समझाने के लिए हाईलाइट कर रहा हूँ…

बस मेरा प्रयास आपको पूरे comprehension reading से बचाना है और आपके समय को बर्बाद करने से रोकना है. हाईलाइट करने के बाद हम STEP 2 के लिए जम्प करेंगे.

Election year or no election year, prices of essential commodities are rising sharply. This is inspite of the year having a second good monsoon in succession. The wholesale price index, which stood at 156.8 on 1 April, 1989, has risen to 167.7 by 16 Sept, 1989; a rise of nearly 7 percent in 6 months. Primary articles and manufactured products rose by 7.7 percent and 7.6 percent respectively.

The rise in prices of sugar; edible oils and tea is alarming, to say the least, the price increase in sugar is so phenomenal that it leaves a bitter taste. Wholesale prices have shot up from Rs. 700 a quintal last year to Rs. 1100 a quintal, at the major trading centres, up by 57 percent. Retail prices have risen even more. Tea prices have gone 40% in the last six months. The story is the same for commodities like pulses, meat and other household items.

In India, the prices of essential commodities rise because of excessive demand pull and that of luxury items because of cost push. Sometimes, government policies misfire, commodities and hoarded and sold in the black market, all of which aggravate the price instability.

The official reason for the sharp rise in the price of sugar is the fall in sugar production from 9.11 million tones in 1988 to 8.7 million tones this year. The delay in imports was prompted by the optimism that sugar production would touch a new high of 10.2 million tonne this year. It was only in June that the government, waking up at last, decided to import 500,000 tonne of sugar. But, by then, the harm was done and prices soared.

In the case of groundnut oil, the problem was not of fall in production but of government bungling. The production of groundnut oil actually increased from 570,000 tonne to 790,000 tonne this year, bringing down the price of the oil to a value much below the target price range of Rs. 20,000-25,000. But when the government started mopping up substantial amounts of groundnut oil, the prices soared.

The steady increase in support prices over the years mostly to placate the “farmer lobby” has had a lot to do with inflation in the country. The same is the case with administered prices of industrial goods like coal, steel, cement, other non-ferrous metals, fertilizers and drugs. These increases have lead a cascading effect on other industrial products.

Interestingly, production shortfalls and procurement prices make only one side of the story.  

जिस वाक्य में ज्यादा डाटा (data) हो, परसेंटेज (percentage) या ऐसा कुछ आंकड़ा (figures) हो, तो उसे ignore कर दीजिये क्योंकि आंकड़ों से related questions कम ही आते हैं. अब हम second step की ओर रुख करेंगे.

 

Second Step

दूसरे स्टेप में अब हम सीधे प्रश्न पर जम्प करेंगे. प्रश्न में कुछ ख़ास की-वर्ड/की-फ्रेज होते हैं. की-वर्ड अर्थात् ऐसे शब्द जो उस प्रश्न में सबसे ख़ास हैं और वे शब्द जरुर पैसेज में कहीं न कहीं छुपे हैं.

 

यदि एक शब्द  ख़ास लगे तो उसको हम नाम देंगे:– की-वर्ड

यदि एक से अधिक शब्द  ख़ास लगें तो उनको हम नाम देंगे:– की-फ्रेज

यदि हमें एक प्रश्न में एक से अधिक की-फ्रेज नज़र आयें तो हम उन्हें महत्त्व के अनुसार अवरोही क्रम में रखेंगे. नहीं समझे?

इसे विस्तार से समझाता हूँ. ऊपर दिए गए कॉम्प्रिहेंशन (English comprehension) पैसेज  से निकले इस प्रश्न (questions) को देखिये:—

The incredible rise in the price of sugar could be avoided if:–

  1. there was a rise in the production of sugar
  2. the government imported sugar earlier
  3. the people consumed less sugar
  4. there was rationing in sugar distribution

“The incredible rise in the price of sugar could be avoided if”

पहले यह जानने की कोशिश करेंगे कि इस सवाल में ऐसा किसके बारे में पूछा जा रहा है जो सबसे महत्तवपूर्ण है.

 

Sugar: यह शब्द यहाँ सबसे महत्तवपूर्ण लग रहा है क्योंकि सारा सवाल उसी पर टिका है. इसीलिए इसे हम अंडरलाइन (underline) कर लेंगे.

Price: चूंकि यह शब्द sugar के साथ जुड़ा हुआ है. इसीलिए इसकी महत्ता (importance) स्वयं बढ़ जाती है. अब हम यहाँ इतना जान गए कि यह प्रश्न price of sugar से सम्बंधित है. पर अभी और कुछ जानना है. आखिर इस प्रश्न में price of sugar से सम्बन्धित पूछा क्या जा रहा है?

Rise: यह है तीसरा महत्तवपूर्ण शब्द. इससे पता चल रहा है कि जरुर इस प्रश्न में sugar के price में rise के बारे में पूछा जा रहा है.

Avoided:- यह चौथा महह्त्व्पूर्ण शब्द है. जिसमें rise in price of sugar को अवॉयड करने के लिए कहा जा रहा है. और चूँकि प्रश्न के अंत में  if लगा है तो प्रश्न में rise in price of sugar को कैसे avoid किया जाए, उसका उपाय पूछा जा रहा है.

यदि if के बदले because शब्द रहता तो हम पाते कि इस प्रश्न में  rise in price of sugar का कारण पूछा जा रहा है, उपाय नहीं.

तो इस तरह हमने  इस प्रश्न में keywords पाया:-

Sugar, price, rise, avoid

मगर इन keywords को देखने से ही पता लग रहा है कि sugar, price, rise….ये तीन शब्द दिए गए पैसेज में तो हो सकते हैं, मगर avoid शब्द शायद ही इस पैसेज में हो या उसके बदले कोई और शब्द हो या लेखक के लिखने का स्टाइल ही ऐसा कुछ हो जिससे लगेगा कि rise of sugar price को अवॉयड किया जा सकता है.

इसीलिए हम सिर्फ sugar, price, rise इन तीन वर्ड्स को दिमाग में रखकर जल्दी से उन वाक्यों पर नजर दौड़ाएंगे जिसको हमने ऊपर हाईलाइट किया है (1st step)

Second Paragraph में rise in prices of sugar लिखा है मगर ऐसा कुछ नहीं लिखा जिससे पता चले कि how it can be avoided.

Fourth Paragraph में sharp rise in the price of sugar लिखा है. और साथ में reason भी लिखा है.

इसलिए जरुर यहीं-कहीं उत्तर है.

अगले लाइन में the delay in imports was prompted by the optimism that sugar production was prompted by the optimism that sugar production would touch a new high of 10.2 million tonne this year.

चाहे आप इस पूरे टेढ़े वाक्य का मतलब समझे या नहीं, आप अब guess करने लायक हो गए हैं कि आंसर (answers) इन्हीं दो लाइन (lines) में है.

 

Delay in imports का अर्थ , आयात में देरी.

 

अब आप्शन (options) B देखिये जहाँ लिखा है, if

b) the government imported sugar earlier

यदि गवर्नमेंट चीनी पहले आयात कर लेती तो शायद चीनी का दाम नहीं बढ़ता….एक hindi-medium स्टूडेंट ज्यादा से ज्यादा इतना ही सोच सकता है. पर यहाँ इतना ही काफी है. हमें आंसर मिल चुका है.

आप सोच रहे होंगे कि इतना process कौन follow करे

मगर विश्वास कीजिये, धीरे-धीरे practice से यह सब आप बहुत जल्दी-जल्दी करने लगेंगे और आपकी आँखें पैसेज में सिर्फ वही ढूंढेगी जिसकी आप तलाश कर रहे हैं

 

आप स्वयं इन दो प्रश्नों को बनाने का प्रयास करें

प्रत्येक प्रश्न ऊपर दिए गए पैसेज पर आधारित है. स्टार्ट बटन दबाएँ.
Start
Congratulations - you have completed आप स्वयं इन दो प्रश्नों को बनाने का प्रयास करें .You scored %%SCORE%% out of %%TOTAL%%.Your performance has been rated as %%RATING%%
Your answers are highlighted below.
Return
Shaded items are complete.
12End
Return

 

2. टफ वोकैब्लरी (Tips and strategy of reading English comprehension which is full of Tough Vocabulary)

वोकैब्लरी की समस्या (problem of vocabulary) का समाधान निम्नलिखित प्रकार से संभव है:-

  1. रोज़ नए-नए शब्दों से भिड़ना. आप भिड़ोगे तब ही जब कुछ पढ़ोगे. आपको मैगज़ीन, इंग्लिश-पेपर रोज़ पढ़ने का अभ्यास करना होगा. इसके अलावा कोई उपाय नहीं है. चाहे आप कोई भी अखबार पढो, Hindu, Times of India, Pioneer, Hindustan Times etc. बहुत लोग पूछते रहते हैं कि कौन-सा अखबार पढूँ? भाई, आप कोई-सा भी अखबार पढ़ो…सब आपको लाभ ही देंगे.
  2. कोई भी सेक्शन पढ़िए. स्पोर्ट्स (sports related) अच्छा लगता है तो स्पोर्ट्स पढ़िए, सिने-जगत् (movies etc.) से पढ़िए, पॉलिटिक्स (politics related) पढ़िए, कुछ भी पढ़िए, फर्क नहीं पड़ता.
  3. जब भी नया शब्द मिले, उसको एक नोटपैड (worksheet or notepad) में उतार लें.
  4. नोटपैड (worksheet or notpad) में उतारने के बाद डिक्शनरी (dictionary) उलटें. उसका मतलब देखे.
  5. मतलब देखने के बाद उस शब्द से अपना एक वाक्य बनाने का प्रयास करें. चाहे सही चाहे गलत. पर नए शब्द से जब आप एक वाक्य स्वयं का बनाओगे तो वह वाक्य आपका अपना होगा. चूंकि आपने उसे बनाया है तो आपको वह शब्द long-term  याद रहेगा.
  6. वोकैब्लरी को बढ़ाने के लिए शब्दों के root word को जानना अच्छा रहता है. मगर इसके लिए बहुत practice की जरुरत है. रूट वर्ड क्या है? आइए इसे थोडा समझें:-

root_word_list

हर English word का एक root word होता है, जो अधिकतर लैटिन, ग्रीक भाषाओं से बना होता है. जैसे aquatic, aquarium में root word aqua है जिसका अर्थ water है. इसलिए जो भी इंग्लिश वर्ड जिसमें aqua रूट वर्ड जुड़ा हो उसका अर्थ पानी से सम्बंधित ही होगा. इसी तरह हजारों उदाहरण (root word examples) हैं. यह किताब जो नीचे दी गयी है, रूट वर्ड को समझने के लिए एक विश्वसनीय पुस्तक है.

 

3. कॉम्पलेक्स्ड सेंटेंस (Tips for understanding the complexed sentences in given English Comprehension)

कभी-कभी सेंटेंस काफी कॉम्प्लेक्सड (complexed sentences) मिल जाते हैं. इसके बारे में मैं ज्यादा चर्चा नहीं करूँगा क्योंकि इस तरह के सेंटेंस को आप तब ही समझ पाओगे जब आप रोज़-रोज़ अंग्रेजी-अखबारों (english newspapers), मैगज़ीन (magazines) से भिड़ोगे. हिंदी माध्यम के स्टूडेंट्स (hindi medium students) को सबसे ज्यादा दिक्कत होती है – – clauses को समझने में.

 

clauses वैसे छोटे वाक्य होते हैं जो किसी वाक्य के बीच में घुसे रहते हैं.

 

जैसे:— क्या आपने उस लड़के को देखा है जो नीली शर्ट पहने हुए है?

इस वाक्य में सबसे महत्तवपूर्ण है कि क्या आपने उस लड़के को देखा है?

जो नीली शर्ट पहने हुए है….यह एक clause है.

जैसे ऊपर दिए गए कॉम्प्रिहेंशन में देखिये….

The wholesale price index, which stood at 156.8 on 1 April, 1989, has risen to 167.7 by 16 Sept, 1989.

इसमें which stood at 156.8 on 1 April, 1989 एक क्लॉज़ (clause) है जो सेंटेंस (sentence) में जुड़ा हुआ है. यदि हम क्लॉज़ को हटा दें तो सेंटेंस में बचेगा—

The wholesale price index has risen to 167.7 by 16 Sept, 1989.

यह सेंटेंस (sentence) अपने आप में पूरा है. यदि आप इतना भी पढ़ लें तो आप जान जाइएगा कि यह वाक्य क्या कह रहा है. मगर क्लॉज़ के साथ पढने में कभी-कभी सर चकरा जाता है क्योंकि क्लॉज़ सेंटेंस को लंबा (clauses make sentences longer) बना देते हैं. वे महत्तवपूर्ण जरुर होते हैं मगर एक बार बिना क्लॉज़ के सेंटेंस को पढ़ लेने से कम से कम सेंटेंस का अर्थ पता लग जाता है.

इसी कॉम्प्रिहेंशन से दूसरा उदहारण लीजिये (another example of clause from the same comprehension)….

It was only in June that the government, waking up at last, decided to import 500,000 tonne of sugar. 

इसमें waking up at last एक clause है जिसके बिना भी वाक्य (sentence) को समझा जा सकता है.

 

खैर, यह आर्टिकल यहीं ख़त्म नहीं होता है. यह तब ख़त्म होगा जब आप कुछ सीख कर उसे implement करोगे. आगे भी लिखता रहूँगा यदि आपका सहयोग मिलता रहे तो.

 

Summary of the article in English
:-

Today we discussed about some tips and tricks to solve English comprehension. Sometimes English comprehension passages are long and take our enough time to solve them in a limited time. We discussed about some strategies to solve English comprehension questions. We face three kinds of problems while reading comprehension: 1st, its lengthiness, tough vocabulary and complexed sentences. To tackle the comprehension’s lengthiness, we adopted formula of selective reading. We highlighted few important sentences of each para. Then we jumped to the 2nd step where we have decided to choose some important words from questions so that we can search those words easily in the given comprehension. Then we discussed how to tackle tough vocabularies. Reading newspapers, magazines is an important practice. We should note down the new word in a notepad or worksheet and then we should take help from dictionary to make our own sentence from that word. In the final paragraph of our article we had a discussion on how to tackle complexed sentences in a given comprehension passage. We did not go in detail. We only talked about clauses that very often create problems for the Hindi medium students.

20 Responses to "Strategies for reading and solving English Comprehension -Hindi में पढ़ें"

  1. Mukesh   September 21, 2015 at 11:13 am

    Thanx a lot……Sir common errors rules or sequence of sentence ke bare me batae……

    Reply
  2. bikash   September 21, 2015 at 1:37 pm

    sir sach mai aap ka har article ekdum sahi hota hai, aap student ki man ki baat samajh jate ho.. plz aap likhte rahe

    Reply
  3. NISHANT   September 22, 2015 at 11:04 am

    Thank you very much sir for think about us.

    Reply
  4. arti   December 2, 2015 at 12:08 pm

    thanks

    Reply
  5. Meera Agrawal   January 11, 2016 at 7:27 pm

    sir in this site only display abut comprehansion not for all topic if prensent then tell me how we access them

    Reply
    • Sansar Lochan   January 13, 2016 at 10:17 am

      Comprehension topics you can find in various books. I have mentioned only how to solve them.

      Reply
  6. AMAR SINGH   July 15, 2016 at 5:04 pm

    THANKS SIR JI

    Reply
  7. dipika   July 29, 2016 at 9:55 am

    Thanks sir,
    Apka comprehension skill bhut accha hai . Sir clause ko thora or bistar dai.

    Reply
  8. amit bharti   July 30, 2016 at 1:33 pm

    sir apne jo comprehension bnane ka tarika btaye.mera Rasta asan ho gya.thank u very much sir.

    Reply
  9. dimple   September 19, 2016 at 10:36 pm

    Hello sir,
    I am dimple
    I like the most this article.
    Appne comprehension ke baare me Jo bhi likha h. I really inspired..
    And apne Jo bhi solution btaya h main jarur karungi .

    Sir apse ek request h jaise comprehension ko lekr apne itna ache se btaya h. Kya aap is I trah letter writing me baare me bta doge plz.because mujhe problem bohot hoti h. Bohot time consume hota h.I know sir practice ki kami km wajah se hota h ye Sab. But ek format pta lag jaaye jaise ki comprehension ka h. Plz sir help me.
    From
    Dimple

    Reply
  10. prem pandey   September 20, 2016 at 8:53 pm

    Sir plz give us such a banking awareness for Ibps po

    Reply
  11. dimple   September 20, 2016 at 9:09 pm

    Sir plz reply me.!

    Reply
  12. dimple   September 21, 2016 at 6:17 pm

    Good evening sir
    You did not give reply

    From
    Dimple

    Reply
  13. rajan   October 6, 2016 at 8:01 pm

    Thanks sir par english me catching power kaise banegi si please tell me

    Reply
  14. Narendra bhati   January 6, 2017 at 6:53 am

    Thanks sir
    I am always in problem for English English is my weak point
    But no spent more time
    Bcoz you come
    Thank u sir

    Reply
  15. Ranjesh kumar   May 5, 2017 at 4:57 pm

    Viil.gadalpura
    Post.rasulabad
    Dist.Firozabad
    Tehsheel.Tundla
    Pincode.283204

    Reply
  16. Anjali   May 13, 2017 at 10:35 am

    Sir ias ka exam English hindi dono may aata h

    Reply
  17. Anonymous   October 5, 2017 at 2:48 pm

    Sir passage me pick out sale sentence ko Keefe solve Karen’s

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.