थलावेट्टी मुनियप्पन मंदिर विवाद – UPSC Notes

Dr. SajivaAncient HistoryLeave a Comment

जैसा कि हम सब जानते हैं तमिलनाडु के सलेम में थलावेट्टी मुनियप्पन मंदिर (Thalavetti muniyappan temple) स्थल लंबे समय से हिंदू तीर्थस्थल रहा है। परन्तु अब शायद यह संभव नहीं रहेगा। मद्रास उच्च न्यायालय द्वारा आदेशित स्थल की एक पुरातात्विक जांच से पता चला है कि जो सदियों से गाँव के देवता के रूप में पूजे जाते थे, वह वास्तव में बुद्ध हैं.

मंदिर का प्रशासन व स्वामित्व भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (Archaeological Survey of India – ASI) को करने का भी आदेश पारित हुआ है। यह मंदिर तमिलनाडु हिंदू धार्मिक और धर्मार्थ बंदोबस्ती (एचआर एंड सीई) के स्वामित्व में था।

UPSC Syllabus:भारतीय संस्कृति में प्राचीन काल से आधुनिक काल तक के कला के रूप, साहित्य और वास्तुकला के मुख्य पहलू शामिल होंगे।

पृष्ठभूमि

पूरी जांच तब प्रारम्भ हुआ जब 2011 में एक व्यक्ति पी रंगनाथन ने उच्च न्यायालय का रुख करते हुए कहा कि सलेम जिले में मंदिर एक बौद्ध स्थल है, जिसमें कहा गया है कि साइट को सलेम स्थित बुद्ध ट्रस्ट को सौंप दिया जाना चाहिए। 20 नवंबर, 2017 को, न्यायालय ने राज्य के पुरातत्व विभाग को साइट का निरीक्षण करने और एक रिपोर्ट दर्ज करने का निर्देश दिया।

न्यायालय के अनुसार- इस तरह की रिपोर्ट मिलने के बाद, हिंदू धार्मिक और धर्मार्थ बंदोबस्ती विभाग को इस प्रतिमा को ‘थलाइवेटी मुनियप्पन’ के रूप में बनाए रखने की अनुमति देना उचित नहीं होगा।

मूर्ति के हाथ “ध्यान मुद्रा” में हैं, जबकि सिर बुद्ध से जुड़ी विशेषताओं को दर्शाता है जैसे घुंघराले बाल, उशनिसा और लम्बी ईयरलोब ,जबकि तब से याचिकाकर्ता की मृत्यु हो गई है, मामला न्यायालय में लंबित था और अंत में बुद्ध की मूर्ति के रूप में मान्य किया गया था। न्यायालय ने सरकारी वकील के उस प्रस्ताव को भी खारिज कर दिया, जिसमें कहा गया था कि इस जगह को मंदिर के रूप में जारी रखा जाना चाहिए क्योंकि यह काफी समय से पूजा स्थल रहा है।

थलावेट्टी मुनियप्पन मंदिर में स्थापित प्रतिमा की प्रमुख विशेषताएँ

  • निरीक्षण रिपोर्ट (Inspection Report) के अनुसार, मंदिर में स्थापित प्रतिमा ‘कठोर पत्थर’ से निर्मित है।
  • यह आकृति, कमल के आसन पर ‘अर्ध-पद्मासन’ के रूप में विराजमान स्थिति में है।
  • हाथों को ‘ध्यान मुद्रा’ में रखा गया है।
  • स्थापित मूर्ति ‘सगती’ (Sagati) है।
  • प्रतिमा के सिर में ‘बुद्ध’ के लक्षण जैसे घुंघराले बाल, उष्निशा और लम्बी कान की लोबिया दिखाई देते हैं।
  • माथे पर ‘उरना’ (Urna) दिखाई नहीं देता है।
  • मूर्ति का सिर धड़ से अलग कर दिया गया था, जिसे कुछ साल पहले सीमेंट और चूने के मिश्रण से चिपका दिया गया था।
  • हालांकि, मानवीय भूल या किसी अन्य कारण से, सिर धड़ से ठीक से नहीं जुड़ पाया और फलस्वरूप, मूर्ति का सिर, शरीर के बाईं ओर थोड़ा मुड़ा हुआ प्रतीत होता है।
  • अर्ध-पद्मासन मुद्रा में बैठी हुई प्रतिमा की ऊंचाई 108 सेमी है।
  • प्रतिमा का पिछला भाग बिना किसी कलात्मक कार्य के सपाट है।

बुद्ध की 10 विभिन्न मुद्राएं एवं हस्त संकेत और उनके अर्थ

आप सभी ने बुद्ध की मूर्तियों को कई मुद्राओं के साथ देखा होगा। इन अलग-अलग मुद्राओं में बुद्ध की मूर्तियों को देखकर आपके मन में इन मुद्राओं का अर्थ जानने की इच्छा तो उत्पन्न होती ही होगी।

इस लेख में, हम जानेंगे बुद्ध की 10 विभिन्न मुद्राएं एवं हस्त संकेत और उनके अर्थ।

  1. धर्मचक्र मुद्र
  2. ध्यान मुद्रा
  3. भूमिस्पर्श मुद्रा
  4. वरद मुद्रा
  5. करण मुद्रा
  6. वज्र मुद्रा
  7. वितर्क मुद्रा
  8. अभय मुद्रा
  9. उत्तरबोधी मुद्रा
  10. उत्तरबोधी मुद्रा

 

ASI क्या है?

  • भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण भारत सरकार के संस्कृति विभाग के अन्तर्गत एक सरकारी एजेंसी है, जो कि पुरातत्व अध्ययन और सांस्कृतिक स्मारकों के अनुरक्षण के लिये उत्तरदायी होती है.
  • भारतीय पुरातत्‍व सर्वेक्षण का प्रमुख कार्य राष्ट्रीय महत्‍व के प्राचीन स्‍मारकों तथा पुरातत्‍वीय स्‍थलों और अवशेषों का रखरखाव करना है.
  • इसके अतिरिक्‍त, प्राचीन स्मारक तथा पुरातात्त्विक स्‍थल और अवशेष अधिनियम, 1958 के प्रावधानों के अनुसार यह देश में सभी पुरातात्त्विक गतिविधियों को विनियमित करता है.
  • यह पुरावशेष तथा बहुमूल्‍य कलाकृति अधिनियम, 1972 को भी विनियमित करता है.

You would also love reading this –

  1. बुद्ध के समकालीन लोग
  2. बुद्ध के उपदेश
Read them too :
[related_posts_by_tax]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.