[संसार मंथन] मुख्य परीक्षा लेखन अभ्यास – Ethics GS Paper 4/Part 2

Sansar LochanGS Paper 46 Comments

सामान्य अध्ययन पेपर – 4 प्रशासनिक नैतिकता को बनाए रखने या नैतिकता स्तर को ऊँचा उठाने के उपाय सुझाएँ. (250 words)  यह सवाल क्यों? यह सवाल UPSC GS Paper 4 के सिलेबस से प्रत्यक्ष रूप से लिया गया है – “लोक प्रशासनों में लोक/सिविल सेवा मूल्य तथा नीतिशास्त्र : स्थिति तथा समस्याएँ ; सरकारी तथा निजी संस्थानों में नैतिक चिंताएँ … Read More

[संसार मंथन] मुख्य परीक्षा लेखन अभ्यास – Culture & Heritage GS Paper 1/Part 5

Dr. SajivaCulture, GS Paper 1, History, Sansar Manthan7 Comments

सामान्य अध्ययन पेपर – 1 चैत्यगृहों के उद्भव और विकास पर प्रकाश डालिए. साथ ही चैत्य और विहार में क्या अंतर है, यह भी चर्चा करें. (250 words)  यह सवाल क्यों? यह सवाल UPSC GS Paper 1 के सिलेबस से प्रत्यक्ष रूप से लिया गया है – “भारतीय संस्कृति में प्राचीन काल से आधुनिक काल तक के कला के रूप, … Read More

[संसार मंथन] मुख्य परीक्षा लेखन अभ्यास – Ethics GS Paper 4/Part 1

Sansar LochanGS Paper 45 Comments

सामान्य अध्ययन पेपर – 4 नीतिशास्त्र (Ethics) की परिभाषा लिखें.  नैतिक अभिशासन से आप क्या समझते हैं? (250 words)  यह सवाल क्यों? यह सवाल UPSC GS Paper 4 के सिलेबस से प्रत्यक्ष रूप से लिया गया है – “नीतिशास्त्र तथा मानवीय सह-सम्बन्ध मानवीय क्रियाकलापों में नीतिशास्त्र का सार तत्त्व, इसके निर्धारक और परिणाम : नीतिशास्त्र के आयाम, निजी और सार्वजनिक … Read More

[संसार मंथन] मुख्य परीक्षा लेखन अभ्यास – Polity GS Paper 2/Part 3

RuchiraGS Paper 2, Polity Notes, Sansar Manthan11 Comments

सामान्य अध्ययन पेपर – 2 भारतीय राजनीति के परिप्रेक्ष्य में गठबंधन सरकार के सकारात्मक पहलुओं की चर्चा करते हुए साथ-साथ ऐसी सरकार की कमजोरियों के विषय में भी तर्क प्रस्तुत करें. (250 words)  यह सवाल क्यों? यह सवाल UPSC GS Paper 2 के सिलेबस से अप्रत्यक्ष रूप से लिया गया है – “कार्यपालिका और न्यायपालिका की संरचना, संगठन और कार्य-सरकार … Read More

[संसार मंथन] मुख्य परीक्षा लेखन अभ्यास – Polity GS Paper 2/Part 2

Sansar LochanGS Paper 2, Sansar Manthan9 Comments

सामान्य अध्ययन पेपर – 2 “प्रशासनिक व्यवस्था में विधान परिषद् के औचित्य पर चर्चा करें”. (250 शब्द) यह सवाल क्यों? यह सवाल UPSC GS Paper 2 के सिलेबस से प्रत्यक्ष रूप से लिया गया है – “संसद और राज्य विधायिका – संरचना, कार्य, कार्य-संचालन, शक्तियाँ एवं विशेषाधिकार और इनसे उत्पन्न होने वाले विषय”. सवाल का मूलतत्त्व इस प्रश्न में “औचित्य” … Read More

[संसार मंथन] मुख्य परीक्षा लेखन अभ्यास – Polity GS Paper 2/Part 1

RuchiraGS Paper 2, Sansar Manthan8 Comments

सामान्य अध्ययन पेपर – 2 “भारतीय संविधान का स्वरूप संघात्मक है, परन्तु उसकी आत्मा एकात्मक है.” स्पष्ट करें. (250 शब्द) यह सवाल क्यों? यह सवाल UPSC GS Paper 2 के सिलेबस से प्रत्यक्ष रूप से लिया गया है – “भारतीय संविधान – ऐतिहासिक अधिकार, विकास, विशेषताएँ, संशोधन, महत्त्वपूर्ण प्रावधान और बुनियादी संरचना”. सवाल का मूलतत्त्व प्रश्न टेढ़ा है. इसलिए इस … Read More

[संसार मंथन] मुख्य परीक्षा लेखन अभ्यास – History GS Paper 1/Part 3

Sansar LochanGS Paper 1, Sansar Manthan8 Comments

सामान्य अध्ययन पेपर – 1 साइमन कमीशन की नियुक्ति क्यों हुई थी? भारतीयों द्वारा इसका बहिष्कार क्यों किया गया? इसकी सिफारिशें क्या थीं? (250 words)  यह सवाल क्यों? यह सवाल UPSC GS Paper 1 के सिलेबस से प्रत्यक्ष रूप से लिया गया है – “स्वतंत्रता संग्राम – इसके विभिन्न चरण और देश के विभिन्न भागों से इसमें अपना योगदान देने … Read More

[संसार मंथन] मुख्य परीक्षा लेखन अभ्यास – History GS Paper 1/Part 2

Sansar LochanGS Paper 1, Sansar Manthan8 Comments

सामान्य अध्ययन पेपर – 1 मौर्य शासकों का वास्तुकला की प्रगति में क्या योगदान रहा और अशोकीय कला पर विदेशी प्रभाव का होना कहाँ तक सच है? मूल्यांकन करें . (250 words)  यह सवाल क्यों? यह सवाल UPSC GS Paper 1 के सिलेबस से प्रत्यक्ष रूप से लिया गया है – “भारतीय संस्कृति में प्राचीन काल से आधुनिक काल तक … Read More

[संसार मंथन] मुख्य परीक्षा लेखन अभ्यास – History GS Paper 1/Part 1

Sansar LochanGS Paper 117 Comments

सामान्य अध्ययन पेपर – 1 “प्राचीन भारतीय कला समृद्ध थी” – विभिन्न कालों में इसके विकास की चर्चा करते हुए इस कथन की पुष्टि करें. (250 words)  यह सवाल क्यों? यह सवाल UPSC GS Paper 1 के सिलेबस से प्रत्यक्ष रूप से लिया गया है – “भारतीय संस्कृति में प्राचीन काल से आधुनिक काल तक के कला के रूप, साहित्य … Read More

[संसार मंथन] उच्च शिक्षा आयोग (विश्वविद्यालय अनुदान आयोग अधिनियम निरसन विधेयक, 2018)

Sansar LochanBills and Laws: Salient Features, GS Paper 2, Polity Notes, Sansar Manthan6 Comments

“सरकार ने UGC को निरस्त कर एक नई संस्था “भारतीय उच्च शिक्षा आयोग” बनाने का निर्णय लिया है. इसकी आवश्यकता क्यों पड़ी एवं नए आयोग में कौन-सी विशेषताएँ होंगी? स्पष्ट करें” —— GS Paper 2 प्रसंग मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने एक ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए भारतीय उच्च शिक्षा आयोग (विश्वविद्यालय अनुदान आयोग अधिनियम निरसन विधेयक, 2018) के विषय में सुझाव … Read More