1857 से पूर्व के महत्त्वपूर्ण विद्रोह

Dr. SajivaHistory, Modern History3 Comments

आपने 1857 के विद्रोह के विषय में लिखे हुए हमारे पोस्ट को पढ़ा ही होगा. आज हम 1857 ई. से पूर्व हुए महत्त्वपूर्ण विद्रोहों की चर्चा करेंगे – संन्यासी विद्रोह 1770 इस संन्यासी विद्रोह का उल्लेख बंकिम चन्द्र चटर्जी ने अपने उपन्यास “आनंदमठ” में किया है. तीर्थ स्थानों पर लगे प्रतिबंधों से संन्यासी लोग बहुत क्षुब्ध हुए. संन्यासियों के बीच अन्याय के … Read More

गुरु नानक देव की संक्षिप्त जीवनी और शिक्षाएँ

Dr. SajivaHistory, Modern HistoryLeave a Comment

guru_nanak

गुरु नानक का प्रारंभिक जीवन सिख धर्म के प्रणेता गुरुनानक देव रावी के तट पर स्थित तलवंडी (आधुनिक ननकाना साहिब, पाकिस्तान) में नवम्बर 1469 ई. में एक खत्री परिवार में उत्पन्न हुए थे. उनके पिता का नाम मेहता कालू चंद था. उनका विवाह 18 वर्ष की आयु में ही हो गया था और उन्हें पिता के व्यवसाय से सम्बंधित लेखा-जोखा … Read More

शिवाजी की विजयें और प्रमुख सफलताएँ – List of Conquests

Dr. SajivaHistory, Modern History1 Comment

शिवाजी ने 1645-47 ई. के मध्य जिन तीन किलों पर अधिकार किया वे पहाड़ी दुर्ग थे. कुछ समय बाद (1656 ई. में) उन्होंने जावली (Jawali) पर विजय की. यह विजय शिवाजी के लिए बहुत महत्त्वपूर्ण विजय थी. इस विजय के बाद – अब उनके लिए अपने राज्य को दक्षिण-पश्चिम में फैलाना आसान हो गया. यहाँ से प्राप्त सैनिक (मालवी सैनिक) … Read More

पूना सार्वजनिक सभा 1870 ई. के विषय में विस्तृत जानकारी

Dr. SajivaHistory, Modern History1 Comment

पूना सार्वजनिक सभा (मराठी – पुणे सार्वजनिक सभा) की स्थापना 2 अप्रैल, 1870 ई. को महादेव गोविंद रानडे ने की थी. पूना सार्वजनिक सभा सरकार और जनता के बीच मध्यस्थता कायम करने के लिए बनाई गई थी. भवनराव श्रीनिवास राव इस संस्था के प्रथम अध्यक्ष थे. बाल गंगाधर तिलक, गोपाल हरि देशमुख, महर्षि अण्णासाहेब पटवर्धन जैसे कई प्रतिष्ठित व्यक्तित्वों ने इस संगठन के … Read More

ल्हासा की संधि – Treaty of Lhasa 1904 ई. in Hindi

Dr. SajivaHistory, Modern HistoryLeave a Comment

lhasa_ki_sandhi treaty

आज हम ल्हासा की संधि (Treaty of Lhasa) के बारे में जानेंगे. यह कब हुआ, किनके बीच और किन परिस्थतियों (causes) में हुआ, इन सब के विषय में चर्चा करेंगे. भूमिका लॉर्ड कर्जन की तिब्बत सम्बन्धी नीति उसके वायसराय काल की एक महत्त्वपूर्ण घटना है. गवर्नर जनरल लॉर्ड वारेन हेस्टिंग्स के समय में ब्रिटिश सरकार तिब्बत के साथ व्यापारिक सम्बन्ध … Read More

चित्तरंजन दास (1870-1925 ई.) Biography in Hindi

Dr. SajivaBiography, History, Modern History1 Comment

चित्तरंजन दास का प्रारम्भिक जीवन (Biography) बंगाल के इने-गिने प्रसिद्ध वकीलों में देशबन्धु चित्तरंजन दास का नाम था. उनका जन्म 1870 ई. में मुंशीगंज जिले, बांग्लादेश में हुआ था. उनके पिता का नाम भुवन मोहन दास और माता का नाम निस्तारिणी देवी था. इनका जन्म एक वैद्य-ब्राहमण परिवार में हुआ था. कांग्रेस के प्रति आकर्षण होने के बाद चित्तरंजन दास … Read More

पंडित मोतीलाल नेहरू (1861-1931) Biography in Hindi

Dr. SajivaHistory, Modern HistoryLeave a Comment

मोतीलाल नेहरू का प्रारम्भिक जीवन पंडित मोतीलाल नेहरू का जन्म 6 मई, 1861 ई. को हुआ था. मोतीलाल नेहरू के पूर्वज कश्मीर से आकर इलाहाबाद में बस गए थे. मोतीलाल नेहरू उत्तर प्रदेश के एक प्रसिद्ध वकील थे. उन्होंने स्वदेशी आन्दोलन से आकृष्ट होकर राजनीति में प्रवेश किया. उन्होंने 1912 ई. में इन्डेपेंडेंट (Independent) नामक एक पत्र का प्रकाशन इलाहाबाद से … Read More

मदन मोहन मालवीय (1861-1946 ई.) – Biography in Hindi

Dr. SajivaBiography, History, Modern HistoryLeave a Comment

madan_mohan_malviya

विगत 25 दिसम्बर को प्रधानमंत्री ने मदन मोहन मालवीय को उनकी 158वीं जयंती पर श्रधांजलि अर्पित की. मदन मोहन मालवीय कौन थे? वे एक प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी और समाज सुधारक थे. वे चार बार भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष रहे. उन्हें महामना की उपाधि दी गई थी. 2014 में उन्हें मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया गया था. वे हिंदी … Read More

पबना विद्रोह 1873-76 (Pabna Peasant Revolt in Hindi)

Dr. SajivaHistory, Modern History4 Comments

pabna_revolt

19वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में बंगाल के पबना नामक जगह में भी किसानों ने जमींदारी शोषणों के विरुद्ध विद्रोह किया था. पबना राजशाही राज की जमींदारी के अन्दर था और यह वर्धमान राज के बाद सबसे बड़ी जमींदारी थी. उस जमींदारी के संस्थापक राजा कामदेव राय थे. पबना विद्रोह (Pabna Revolt) जितना अधिक जमींदारों के खिलाफ था उतना सूदखोरों और महाजनों … Read More

पिट्स इंडिया एक्ट (The Pitt’s India Act, 1784) in Hindi

Dr. SajivaHistory, Modern History6 Comments

Regulating Act की कमजोरियों को दूर करने और अंग्रेजों के हितों की रक्षा करने के लिए 1784 ई. में ब्रिटिश संसद ने पिट्स इंडिया एक्ट (Pitt’s India Act) पास किया. इस एक्ट ने कंपनी का मामलों और भारत में उसके प्रशासन पर ब्रिटिश सरकार को सर्वोपरि नियंत्रण का अधिकार दे दिया. आइये जानते हैं Proposals, Significance and Features of Pitt’s … Read More