SWYAM, eg-Pathshala, SWYAM Prabha – डिजिटल ई-शिक्षा पहल

Sansar LochanPIB HindiLeave a Comment

भारत की शिक्षा प्रणाली बहुत तेज़ी से आगे बढ़ रही है. 10 जुलाई, 2017 को गुरु पूर्णिमा के शुभ अवसर पर भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालाय ने 4 डिजिटल ई-शिक्षा की पहल की- SWYAM, eg-Pathshala-SWYAM Prabha, National Academic Depository. भारत सरकार को आशा है कि इस पहल से 2020 तक छात्रों के सकल नामंकान का अनुपात 24.5 से बढ़कर 30 तक पहुँच जाएगा.  चलिए जानते हैं इन शिक्षा पहलों के बारे में —

SWYAM

  1. SWYAM का full form है – Study Webs of Active-Learning for Young Aspiring Minds
  2. आर्थिक रूप से कमजोर और डिजिटल क्रांति से अछूते रह रहे छात्रों को SWYAM से जोड़ने का उद्देश्य है.
  3. इसके अधीन Class 9 से Masters तक विभिन्न पाठ्यक्रमों की विषयवस्तु को ऑनलाइन उपलब्ध कराने का ध्येय है.
  4. विडियो लेक्चर दिया जायेगा.
  5. पठनपाठन की सामग्री PDF के रूप ऑनलाइन उपलब्ध कराई जाएगी.
  6. FAQ/Online Solution सभी सुविधाएँ दी जायेंगी.

National coordinator body of SWYAM

  • IGNOU
  • CEC
  • NCERT
  • UGC
  • NIOS
  • IIM Bangalore
  • NPTEL
  • National Institute of Technical Teachers Training & Research

eg-Pathshala

यह post-graduate छात्रों का एक gateway है. इसके अंतर्गत NME (National Mission on Education) को सरकार के द्वारा निर्देश दिया गया है कि post-graduate level के 77 विषयों के लिए पाठ्यक्रम के अनुसार study-material online उपलब्ध कराया जाए.

SWYAM Prabha

GSAT-15 उपग्रह के माध्यम से सरकार कुछ ऐसे शैक्षणिक कार्यक्रम TV पर प्रसारित करेगी जिससे घर बैठे छात्रों को लाभ होगा. 32 DTH channels पर ये कार्यक्रम प्रसारित होंगे. ये कार्यक्रम सभी छात्रों के लिए होंगे. स्कूल के बच्चों के लिए भी और post-graduate के लिए भी. IGNOU, BISAG (Bhaskaracharya Institute For Space Applications and Geo-Informatics), IIT, IIM आदि द्वारा इन कार्यक्रमों को बनाया जायेगा.

National Academic Depository

भारत में अनेक विश्वविद्यालय, कॉलेज, मुक्त विद्यालय आदि हैं पर फिर भी नामांकन अनुपात 2015-16 में सिर्फ 24.5% था. पुरुषों के लिए यह 25.4% और महिलाओं के लिए 23.5%. ये संस्थान विभिन्न स्तर के विद्यार्थियों को प्रमाण-पत्र, डिप्लोमा, marksheet आदि प्रदान करते हैं. जो लोग job के apply करना चाहते हैं उनके लिए कभी-कभी अपने खोये हुए, चोरी हो गए marksheet, degree को पाना/फिर से पाना मुश्किल हो जाता है. और यदि आपने अपने खोये हुए certificate/degree को संस्थान से निकलवा भी लिया तो जिस कंपनी में आपको जॉब लग रही है, वह कम्पनी भी आपके degree/marksheet को verify करते हैं जिससे यह पूरी प्रक्रिया बहुत लम्बी हो जाती है.

तो सरकार ने सोचा क्यों न इसे भी digitize किया जाए. जिस तरह से shares, bonds को dematerialize पहले ही किया जा चुका है, ठीक उसी प्रकार इन शैक्षणिक अभिलेखों को भी कागजी कार्रवाही से बचने के लिए digitize करना उचित होगा. अब प्रत्येक student अपने marksheet, degree, certificates को online download कर सकेगा जिससे जॉब लेने और देने वाले दोनों को आसानी होगी और फर्जी दस्तावेजों से भी मुक्ति मिलेगी.

Read All PIB Updates Here

Books to buy

Leave a Reply

Your email address will not be published.