[Space] भारत के अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र के बारे में जानें

Sansar LochanScience TechLeave a Comment

rocket
Print Friendly, PDF & Email

अंतरिक्ष कार्यक्रमों (Space Programs) के तहत अनुसंधान व विकास गतिविधियाँ (Research and Development Activities) देश के कई संस्थानों व केन्द्रों (Institutions and Centres) में संचालित हो रही हैं. इनके बारे में संक्षिप्त जानकारी (Brief Information) नीचे दी गई है–

भारत में अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र – List of Space Research Centres in India

विक्रम साराभाई स्पेस सेंटर (Vikram Sarabhai Space Centre – V.S.S.C)

यह अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र त्रिवेन्द्रम (तिरुअनंतपुरम) के थुम्बा नामक स्थान पर स्थित है. इसके दो और केंद्र हैं – – i) वालियामाला ii) वोटीयूरकावू. अलवई में अमोनियम परकोलेट एक्सपेरीमेंट संयत्र हैं. VSSC इसरो (ISRO – भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान) का सबसे बड़ा केंद्र है. केंद्र देशी प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल से Satellite Launch Vehicle विकास कार्य को समर्पित है. VSSC के तहत स्पेस Physics Laboratory भी है.

इसरो सैटेलाइट सेंटर (ISRO Satellite Centre – ISAC) 

यह केंद्र बंगलौर में स्थित है. वैज्ञानिक, प्रौद्योगिकी व अन्य उद्देश्यों के लिए तैयार होने वाले सैटेलाइट से सम्बंधित डिजाइन, परीक्षण व अन्य कार्यों को यहाँ अंजाम दिया जाता है. आर्यभट्ट, भास्कर, एप्पल और IRS-1A सैटेलाइट इसी केंद्र में तैयार किए गए थे. IRS और INSAT शृंखला के satellites यहाँ बनाए जाते हैं.

शार (SHAR) सेंटर 

यह केंद्र आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा आइलैंड पर स्थित है. Sattelite Launch Vehicle (SLV) और rockets को अंतरिक्ष में छोड़े जाने का यही मुख्य केंद्र है. देश का सबसे बड़ा, Solid Propellant Booster Plant (SPROB) भी यहीं स्थित है. यह केंद्र पूरी तरह से computerized है.

लिक्विड प्रोपलसन सिस्टम सेंटर  (Liquid Propulsion Systems Centre)

इस केंद्र के तहत अंतरिक्षयानों को छोड़े जाने से सम्बंधित प्रणाली विकसित की जाती है. इसके लिए बंगलौर में एक केंद्र है. दूसरा केंद्र तिरुअंतपुरम में है जहाँ Launch Vehicle Propalsan System से सम्बंधित कार्य किये जाते हैं. मुख्य परीक्षण व अनुसंधान केंद्र तमिलनाडु के महेंद्रगिरी नामक स्थान पर है.

स्पेस एप्लीकेशंस सेंटर (Space Applications Centre) 

यह केंद्र अहमदाबाद में स्थित है. अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी से सबंधित तमाम तरह के अनुसंधान कार्य यहीं संचालित होते हैं. यह केंद्र नयी परियोजनाओं की रुपरेखा तैयार करती है. TV, दूरसंचार से सबंधित प्रौद्योगिकी पर भी अनुसंधान व विकास कार्य चलते रहते हैं.

डेवेलपमेंट एंड एजुकेशनल कम्युनिकेशंस यूनिट (Development and Educational Communication Unit- DICU)

यह केंद्र अहमदाबाद में स्थित है. यह अंतरिक्ष व दूरसंचार से सबंधित विभिन्न सॉफ्टवेयरों के अनुसंधान व विकास को समर्पित है. दूरदर्शन के कर्मचारियों को प्रशिक्षण व अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल से सबंधित अध्ययन के लिए भी यह केंद्र जाना जाता है.

इसके अतिरिक्त ये संस्थान भी हैं:—

  1. इसरो टेलेमेट्री ट्रेनिंग एंड कमांड नेटवर्क (ISRO Telemetry, Tracking and Command Network)– यह बंगलौर में स्थित है.
  2. इसरो इनर्शियल सिस्टम यूनिट (ISRO Inertial System Unit) — यह तिरुअनंतपुरम में स्थित है.
  3. नेशनल रिमोट सेंसिंग एजेंसी (National Remote Sensing Agency)– यह केंद्र हैदराबाद में स्थित है. अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी, दूरसंचार व इससे सम्बंधित विभिन्न परियोजनाओं को समर्पित है.
  4. फिजिकल रिसर्च लेबोरेटरी (Physical Research Laboratory)– यह केंद्र अहमदाबाद में स्थित है. 

प्रमुख भारतीय उपग्रह

  1. आर्यभट्ट, भास्कर – 1, भास्कर – 2, रोहिणी श्रृंखला, प्रायोगिक संचार उपग्रह: एप्पल, विस्तारित रोहिणी उपग्रह श्रृंखला.
  2. भारतीय राष्ट्रीय उपग्रह (इनसैट) प्रणाली – भारतीय राष्ट्रीय उपग्रह प्रणाली अर्थात् इनसैट प्रणाली एक बहुद्देशीय कार्यरत उपग्रह प्रणाली है, जो एशिया-प्रशांत क्षेत्र में सबसे बड़ी घरेलू संचार उपग्रह प्रणालियों में से एक है.
  3. भारतीय दूरसंवेदी उपग्रह प्रणाली – भारत में राष्ट्रीय प्राकृतिक संसाधन प्रबंध प्रणाली की सहायता के लिए “भारतीय दूरसंवेदी उपग्रह प्रणाली” (Indian Remote Sensing Satellite IRS) का विकास किया गया है, इसका मुख्य उद्देश्य प्राकृतिक संसाधनों (मृदा, जल, भूजल, सागर, वन आदि) का सर्वेक्षण और सतत् निगरानी करना है.

साइंस से रिलेटेड सभी पोस्ट इस पेज पर जोड़े जा रहे हैं:>> Science-Tech

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.