SGQ Important Links for UPSC PRE 2019 – Part 12

Sansar LochanSGQ Series 2019Leave a Comment

Print Friendly, PDF & Email

UPSC Prelims परीक्षा 2019 के लिए Important Topics को highlight करते हुए आपको Quick Links update कर रहा हूँ. पिछले साल की ही तरह इस साल भी Sansar Guess Series (SGQ) में काफी देरी हो गई और सारा कुछ incomplete रह गया. मगर कोई बात नहीं मैं टॉपिक के साथ-साथ लिंक भी दे रहा हूँ. आप लिंक को ओपन कर के जल्दी-जल्दी टॉपिक कवर लें. 

यह रहा Part 12 >>>>

  1. सागर निधि पहल – हाल ही में बंगाल की खाड़ी से सम्बंधित दक्षिण-पश्चिम मानसून में अनिश्चितताओं के कारणों का पता लगाने के लिए भारत-अमेरिका के संयुक्त अभियान के एक भाग के रूप में, इंडियन ओशन रिसर्च व्हीकल (IORV) सागर निधि को हिन्द महासागर में स्थापित किया गया.
  2. हेपेटाइटिस C – हेपेटाइटिस C एक रक्तवाहित वायरस के कारण होता है, जो यकृत को प्रभावित करता है. इसका वायरस मुख्य रूप से आंत्रेतर मार्ग से फैलता है और क्रोनिक हेपेटाइटिस उत्पन्न करता है. यह गंभीर जटिलताओं का कारण बन सकती है जिसमें लीवर सिरोसिस भी शामिल है. यह एक रक्तवाहित वायरस है जिसका प्रसार किसी संक्रमित व्यक्ति के रक्त के सम्पर्क द्वारा होता है. यौन संचरण माध्यम से भी संभव है.
  3. अंतर्राष्ट्रीय उत्तर-दक्षिण परिवहन गलियारा – अंतर्राष्ट्रीय उत्तर-दक्षिण गलियारा ईरान से लेकर रूस तक जाता है और इसमें यह एक भूमि मार्ग है जिसमें समुद्र, रेल, सड़क यातायात का सहारा लिया जायेगा. चाबहार के बंदरगाह से भारत को मध्य एशिया में व्यापार करने में सुविधा तो होगी ही, अंतर्राष्ट्रीय उत्तर-दक्षिण गलियारे (International North-South Transport Corridor) तक उसकी पहुँच भी हो जाएगी.
  4. स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टिट्यूट (SIPRI)
  5. प्रधान मंत्री आरोग्य मित्र (PMAM)
  6. बैंडीकूट रोबोट
  7. जलवायु परिवर्तन आकलन के भारतीय नेटवर्क (INCCA) का 4×4
  8. एक्सपेरिमेंटल फॉरकास्ट्स लैंड सरफेस प्रोडक्ट्स – हाल ही में भारत मौसम विज्ञान विभाग ने पहली बार देशव्यापी मृदा नमी पूर्वानुमान जारी किया है. यह पूर्वानुमान IIT गाँधीनगर और IMD दोनों द्वारा संयुक्त रूप से जारी किया गया है जिसके द्वारा सात और तीस दिनों की समय-सीमा में मृदा नमी पूर्वानुमान प्रदान किया जाएगा. एक्सपेरिमेंटल फॉरकास्ट्स लैंड सरफेस प्रोडक्ट्स नामक इस उत्पाद को “वेरिएबल इन्फिलट्रेशन कैपेसिटी” मॉडल का उपयोग करके विकसित किया गया है, जिसमें मृदा, वनस्पति, भू-उपयोग और भू-आवरण जैसे मानदंडों को शामिल किया गया है.
  9. एन.एल. शारदा समिति – एन.एल. शारदा के नेतृत्व में आधिकारिक सांख्यिकी डेटाबेस के पुनरीक्षण और सुधार हेतु विशेषज्ञों का एक पैनल गठित किया था. इस समिति ने मुद्रास्फीति, औद्योगिक उत्पादन और रोजगार के लिए एक एकल डेटाबेस का सुझाव दिया है.
  10. प्रगति (प्रो एक्टिव गवर्नेंस एंड टाइमली इम्प्लीमेंटेशन : PRAGATI)
  11. प्रोग्राम फॉर इंटरनेशनल स्टूडेंट अस्सेस्मेंट (PISA)
  12. क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक साझेदारी (RCEP)
  13. अप्सरा-अपग्रेडेड (Apsara-U)
  14. चिलर स्टार लेबलिंग प्रोग्राम
  15. राष्ट्रीय लघु बचत कोष (NSSF) – भारत की लोक लेखा के अंतर्गत एक “राष्ट्रीय लघु बचत कोष (NSSF)” स्थापित किया गया जो 1999 से प्रभावी हो गया. सरकारी खातों के प्रमुख और गौण लेखा-विषयों की सूची में एक नया उप-क्षेत्र “राष्ट्रीय लघु बचत कोष” प्रारम्भ किया गया है. लघु बचत उपकरणों को तीन शीर्षों के अंतर्गत वर्गीकृत किया जा सकता है. ये हैं : डाक जमाएँ, बचत प्रमाणपत्र, सामाजिक सुरक्षा योजनाएँ (सार्वजनिक भविष्य निधि – PPF, वरिष्ठ नागरिक बचत योजना – SCSS). केन्द्रीय मन्त्रिमंडल ने अरुणाचल प्रदेश, दिल्ली, केरल और मध्य प्रदेश को छोड़कर अन्य सभी राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों (जहाँ विधानमंडल है) को 01 अप्रैल, 2016 से NSSF में निवेश से बाहर रखने की मंजूरी दे दी है.
  16. डीप ओशन मिशन
  17. पिनाक – हाल ही में भारत में निर्मित लक्ष्य-चिन्हित हथियार प्रणाली – पिनाक – का राजस्थान के पोखरण मरुस्थल में सफल परीक्षण हुआ. इसका निर्माण रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने किया है. मूलतः इसकी पहुँच 30 से 40 किमी. थी जिसे बढ़ाकर 70 से 80 किमी. कर दिया गया है. पिनाक भारतीय सेना द्वारा उपयोग की जाने वाली एक मल्टी बैरल राकेट लांच (MBRL) प्रणाली है. यह 44 सेकंड के भीतर विस्फोटकों से लदे 12 राकेटों को एक साथ दाग सकता है और एक ही समय पर 4 वर्ग किमी. के लक्षित क्षेत्र को नष्ट कर सकता है.
  18. इ-थेक्विनी कम्युनिक (eThekwini Communique) – 18वीं हिन्द महासागर रिम एसोसिएशन (IORA) मंत्रिपरिषद बैठक के परिणाम के रूप में “नेल्सन मंडेला के स्मरणोत्सव पर घोषणा” और “ई- थेक्विनी कम्युनिक” नामक दो घोषणा पत्र प्रस्तुत किये गये जिनसे यह अपेक्षित है कि ये 22 सदस्य देशों के बीच सहयोग बढ़ाने के साथ-साथ एक शान्तिपूर्ण, स्थिर और धारणीय हिन्द महासागर के लिए योगदान करेंगे.
  19. पर्चेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (PMI)
  20. आंतरिक लोकपाल योजना – हाल ही में, आरबीआई ने लोकपाल योजना को कड़ा कर दिया है. आरबीआई ने 10 या उससे अधिक शाखाओं वाले सभी बैंकों को एक ‘स्वतंत्र आंतरिक लोकपाल (आईओ)’ रखने के लिए कहा है, क्योंकि लोगों ने शिकायत की है कि बैंकों द्वारा उनकी शिकायतों का निपटारा नहीं किया जाता है. इसलिए, जिन शिकायतों को आंशिक रूप से या पूरी तरह से खारिज कर दिया जाएगा, उनकी आईओ द्वारा समीक्षा की जाएगी. आईओ को केवल आरबीआई की पूर्व स्वीकृति से हटाया जा सकता है. आरआरबी (क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों) को इस योजना से छूट दी गई है. भारत में दस से अधिक बैंकिंग शाखाओं वाले सभी अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों के लिए (क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों को छोड़कर) IO को नियुक्त करना अनिवार्य है.
  21. मुंबई इंटर-बैंक ऑफर रेट (MIBOR) – MIBOR और मुंबई इंटर-बैंक बिड रेट (MIBID) वे बेंचमार्क दरें हैं, जिन पर भारतीय बैंक एक दूसरे से ऋण का आदान-प्रदान करते हैं. “बिड” वह कीमत होती है जिस पर बाजार द्वारा क्रय किया जाता है और ऑफर (या आस्क) वह कीमत होती है जिस पर बाजार द्वारा विक्रय किया जाता है. MIBOR उस कीमत को प्रतिबिम्बित करती है जिस पर भाग लेने वाले बैंकों को अल्पकालिक धनराशि उपलब्ध कराई जाती है.
  22. ग्लोबल पीस इंडेक्स – Institute for Economics and Peace (IEP) द्वारा जारी किया जाता है. 2018 में भारत का स्थान 136वाँ रहा जबकि 2017 में भारत का स्थान 137वाँ था. GPI के अनुसार, आइसलैंड, न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रिया, डेनमार्क और कनाडा सबसे शांतिपूर्ण देश हैं. फॉर मोर इन्फो – क्लिक
  23. सोशल ह्यूमनॉइड रोबोट “सोफ़िया” – सोफ़िया को आंध्र प्रदेश में आयोजित विजाग फिनटेक फेस्टिवल में भाग लेने हेतु भारत लाया गया था. इसे हांगकांग स्थित हैन्सन रोबोटिक्स द्वरा निर्मित किया गया था. इसका उद्देश्य कृत्रिम रचनाओं के जरिये वृद्धजनों की देखरेख और बड़े आयोजनों में भीड़ का प्रबंधन करना है.
  24. फ्यूचर पॉलिसी गोल्ड अवार्ड
  25. ग्रीन बौंड
  26. प्रोजेक्ट नवलेखा
  27. नार्थ सेंटिनल द्वीप
  28. ताजमहल डिक्लेरेशन – ताजमहल डिक्लेरेशन टू बीट प्लास्टिक प्रदूषण, ताजमहल के आस-पास डिस्पोजेबल या एकल उपयोग वाले प्लास्टिक को समाप्त करने से सम्बंधित है और इसका लक्ष्य इस ऐतिहासिक स्मारक के आस-पास 500 मीटर तक के क्षेत्र को प्लास्टिक-मुक्त क्षेत्र बनाना है.
  29. आर्कटिक परिषद्
  30. जिगजैग तकनीक – ईंट भट्टों के जलने से उत्पन्न वायु प्रदूषण और कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए ज़िगज़ैग तकनीक का उपयोग किया जाता है.
  31. नीलकुरिंजी पुष्प – Prelims Vishesh
  32. स्वजल योजना
  33. स्ट्रेटेजिक ट्रेड ऑथराइजेशन (STA-1) दर्जा – 18th question

Click for previous SGQ Links Series

Books to buy

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.