Sansar डेली करंट अफेयर्स, 22 March 2021

Sansar LochanSansar DCALeave a Comment

Sansar Daily Current Affairs, 22 March 2021


GS Paper 2 Source : PIB

pib_logo

UPSC Syllabus : Issues relating to development and management of Social Sector/Services relating to Health, Education, Human Resources/ Poverty and Hunger.

Topic : SAAMAR

संदर्भ

झारखंड सरकार ने राज्य में कुपोषण से निपटने के लिए “SAAMAR” अभियान” अनावरण किया है. SAAMAR से पूरा नाम (full form) है –  “Strategic Action for Alleviation of Malnutrition and Anaemia Reduction”.

SAAMAR अभियान से सम्बंधित मुख्य तथ्य

  • एनीमिया से पीड़ित महिलाओं और कुपोषित बच्चों की पहचान करने के उद्देश्य से 1000 दिनों के लक्ष्य के साथ SAAMAR अभियान प्रारम्भ किया गया है.
  • SAAMAR अभियान में ग्रामीण विकास विभाग, खाद्य और नागरिक आपूर्ति जैसे कई विभागों को सम्मिलित करने और स्कूल प्रबंधन समितियों और ग्राम सभाओं के साथ जुड़ाव के बारे में बताया गया है ताकि उन्हें पोषण संबंधी व्यवहार के विषय में जागरूक किया जा सके.
  • यह उनकी पोषण संबंधी आवश्यकताओं के लिए प्राथमिक रूप से कमजोर आदिवासी समूहों पर ध्यान केंद्रित करेगा.
  • इस अभियान के अंतर्गत, प्रगति पर नज़र रखने के लिए वार्षिक सर्वेक्षण किया जाएगा.

भारत में भुखमरी की स्थिति

  • कंसर्न वर्ल्डबाइड एवं Welthungerhilfe द्वारा वार्षिक तौर पर जारी वैश्विक भुखमरी सूचकांक 2020 में 107 देशों की सूची में भारत 94वें स्थान पर रहा.
  • इसमें भारत, पड़ोसी देशों- बांग्लादेश (75वें), म्यांमार (78वें) और पाकिस्तान (88वें) के साथ “गंभीर” श्रेणी में हैं.
  • भारत, चाइल्ड वेस्टिंग (लंबाई के अनुसार वज़न) दर की दृष्टि से विश्व मे सबसे खराब स्थिति में है हालाँकि चाइल्ड स्टंटिंग में कमी आई है, परन्तु यह अभी भी चिंताजनक स्तर पर है.

कुपोषण की समस्या से निबटने के प्रयास

  • भारत ने 10 करोड़ से अधिक लोगों को लक्षित करते हुए एक महत्त्वाकांक्षी पोषण अभियान प्रारम्भ किया है, जिसका उद्देश्य शारीरिक विकास में बाधा, कुपोषण, एनीमिया और जन्म के समय कम वजन जैसी समस्या से निजात पाना है. कुपोषण एक वैश्विक समस्या है जिसके कारण दो अरब लोग मूल पोषक तत्वों की कमी से पीड़ित हैं. बच्चों में लगभग 45 प्रतिशत मौतें कुपोषण से सम्बंधित हैं. ऐसे में यह अभियान सही मायने में संयुक्त राष्ट्र के 17 सतत विकास लक्ष्यों में से एक है.
  • अंतर्राष्ट्रीय प्राथमिकताओं के अनुरुप सूक्ष्म पोषक तत्वों लौह, जस्ता, कैल्शियम, सकल प्रोटीन, लाइसिन और ट्रिप्टोफैन की अधिकता वाले गुणवत्ता युक्त प्रोटीन, एन्थोकायनिन, प्रोविटामिन ए और ओलिक एसिड से भरे पोषक तत्त्वों की समृद्ध किस्मों के विकास को सरकार द्वारा सर्वोच्च प्राथमिकता दी गई है.
  • भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) के नेतृत्व में राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान प्रणाली के तहत पिछले पाँच वर्षों के दौरान फसलों की 53 ऐसी किस्मों का विकास किया गया. वर्ष 2014 से पूर्व मात्र एक बायोफॉर्टिफाइड किस्म विकसित की गई थी. 

इस टॉपिक से UPSC में बिना सिर-पैर के टॉपिक क्या निकल सकते हैं?

नीचे कुछ इसी तरह की प्रमुख विशिष्ट एजेंसियों के नाम दिए गए हैं और बगल में उनके मुख्यालय का भी उल्लेख है –

  • FAO (Food and Agriculture Organization) – रोम, इटली
  • ILO (International Labour Organization) – जेनवा, स्विट्ज़रलैंड
  • IMF (International Monetary Fund) – वाशिंगटन DC, अमेरिका
  • UNESCO (United Nations Educational, Scientific and Cultural Organization) – पेरिस, फ़्रांस
  • WHO (World Health Organization) – जेनेवा, स्विट्ज़रलैंड
  • WIPO (World Intellectual Property Organization) – जेनेवा, स्विट्ज़रलैंड.

मेरी राय – मेंस के लिए

 

प्रधानमंत्री द्वारा देश को समर्पित की जाने वाली 8 फसलों की हाल ही में विकसित जैव-विविधता वाली किस्में पोषण के मामले में 3.0 गुना अधिक हैं. चावल की किस्म सीआर धान 315 जस्ता की अधिकता वाली है; गेहूं की एचडी 3298 किस्म प्रोटीन और लौह से जबकि DBW 303 और DDW 48 प्रोटीन और लौह से समृद्ध है. मक्का की हाइब्रिड किस्म 1, 2 और 3 लाइसिन और ट्राइप्टोफैन से, बाजरे की  सीएफएमवी 1 और 2 फिंगर किस्म  कैल्शियम, लोहा और जस्ता से भरपूर है. छोटे बाजारे की सीसीएलएमवी 1 किस्म लौह और जस्ते से भरपूर है.  पूसा सरसों 32 कम एरियूसिक एसिड से जबकि मूंगफली की गिरनार 4 और 5 किस्म  बढ़े हुए ओलिक एसिड से तथा रतालू की श्री नीलिमा तथा डीए 340 किस्म एंथोसायनिन से प्रचुर है.

फसलों की ये किस्में, अन्य खाद्य सामग्री के साथ, सामान्य भारतीय थाली को पोषक तत्वों वाली थाली में बदल देंगी. इन किस्मों को स्थानीय भूमि और किसानों द्वारा विकसित किस्मों   का उपयोग करके विकसित किया गया है. उच्च जस्ता युक्त चावल की किस्म गारो पर्वतीय क्षेत्र तथा  गुजरात के डांग जिले से संग्रहित की गई है.

आईसीएआर ने पोषण संबंधी सुरक्षा को बढ़ाने के लिए परिवार को खेती से जोड़ने के लिए न्यूट्री-सेंसिटिव एग्रीकल्चर रिसोर्सेज एंड इनोवेशंस (NARI) कार्यक्रम शुरू किया है, पोषण सुरक्षा बढ़ाने के लिए पोषक-स्मार्ट गांवों और स्थानीय स्तर पर उपलब्ध सुनिश्चित करने के लिए केवीके द्वारा सूक्ष्म पोषक तत्वों से युक्त स्वस्थ और विविध आहार स्थानीय स्तर पर उपलब्ध कराए जाने के लिए  विशिष्ट पोषण उद्यान मॉडल विकसित और प्रचारित किए जा रहे हैं.  .

कुपोषण को कम करने और प्राकृतिक रूप से समृद्ध खाद्य सामग्री के माध्यम से भारत को कुपोषण से मुक्त बनाने के लिए  जैव-फोर्टिफाइड फसलों की किस्मों के उत्पादन को बढ़ावा देकर इन्हें मध्यान्ह भोजन, आंगनवाड़ी आदि जैसे सरकारी कार्यक्रमों के साथ जोड़ा जाएगा. यह किसानों के लिए अच्छी आमदनी सुनिश्चित करेगा तथा उनके लिए उद्यमिता के नए मार्ग प्रशस्त करेगा.


GS Paper 2 Source : The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : Bilateral, regional and global groupings and agreements involving India and/or affecting India’s interests

Topic : International Day of Happiness

संदर्भ

20 मार्च, 2021 का अंतर्राष्ट्रीय प्रसन्‍नता दिवस (International Day of Happiness) मनाया गया. वर्ष 2021 की थीम– Happiness for All, Forever.

भूटान की पहल पर अंतर्राष्ट्रीय प्रसन्‍नता दिवस को मनाने का संकल्प 12 जुलाई 2012 को संयुक्त राष्ट्र संघ में पारित किया गया एवं वर्ष 2013 से इस दिवस को मनाने की प्रारम्भ की गई.

अंतर्राष्ट्रीय प्रसन्‍नता दिवस 2021 के बारे में

  • युनाइटेड नेशंस सस्टेनेबल डवलपमेंट सॉल्यूशंस नेटवर्क (UN SDSN) ने तीन मुख्य मापदंडों, जीवन का मूल्यांकन (life evaluations). सकारात्मक भावनाएँ (positive emotions) और नकारात्मक भावनाएँ (negative emotions) को आधार मानते हुए विभिनन देशों को वर्ल्ड हैप्पीनंस इंडक्स में रैंकिंग दी है.
  • वर्ल्ड हैप्पीनस रिपोर्ट 2021 के अनुसार लगातार चौथे साल फिनलैंड सबसे खुश देशों में शीर्ष स्थान पर रहा.
  • युद्धग्रस्त अफगानिस्तान में लोग अपने जीवन से सबसे अधिक दुखी हैं.
  • इसके बाद ज़िम्बाब्वे (148), रवांडा (147), बोत्सवाना (146) और लेसोथो (145) हैं.
  • UN वर्ल्ड हैप्पीनेंस रिपोर्ट 2021 की रैंकिंग में भारत 149 देशों में से 139वें स्थान पर है. वर्ष 2019 में भारत 140वें स्थान पर था.
  • भारत के पड़ोसी देशों में पाकिस्तान 105वें, बांग्लादेश 101वें और चीन 84वें स्थान पर हैं.

GS Paper 2 Source : PIB

pib_logo

UPSC Syllabus : Issues related to health.

Topic : National Digital Health Mission (NDHM)

संदर्भ

राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन (National Digital Health Mission – NDHM) के चरण 1 के परिणाम का मूल्यांकन करने तथा नवाचार, भागीदारी और निर्मित विश्वास को प्रोत्साहन देने के लिए सरकार ने राष्ट्रीय डिजीटल स्वास्थ्य मिशन सैंडबॉक्स एनवायरनमेंट (NDHM Sandbox Enviornment) विकसित किया है. यह प्रणाली NDHM मानकों के अनुसार निहित वातावरण में प्रौद्योगिकियों या उत्पादों के परीक्षण की अनुमति देती है.

राष्‍ट्रीय डिजिटल स्‍वास्‍थ्‍य मिशन

  • वर्ष 2020 के स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने पूरे देश के लिए एक “राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन” (National Digital Health Mission) की घोषणा की थी.
  • इस मिशन के अंतर्गत, प्रत्येक भारतीय को हेल्थ आईडी प्रदान की जाएगी. इस हेल्थ आईडी में व्यक्ति की पिछली चिकित्सा स्थिति, उपचार और निदान से संबंधित सभी जानकारी होगी.
  • देश में कहीं भी इलाज के लिए जाएंगे तो आपको कोई जाँच रिपोर्ट या पर्ची आदि नहीं ले जानी होगी, क्योंकि आपकी सारी जानकारी हेल्थ कार्ड में मौजूद होगी.
  • हर मरीज का पूरा मेडिकल डेटा रखने के लिए अस्पताल, क्लीनिक और डॉक्टर्स को एक सेंट्रल सर्वर से लिंक किया जाएगा अर्थात् इसमें अस्पताल, क्लीनिक और डॉक्टर भी पंजीकृत होंगे.
  • डॉक्टर और मरीज की तरह ही प्रत्येक स्वास्थ्य सुविधा जो एक यूनिक इलेक्ट्रॉनिक पहचान दी जाएगी.
  • निजी रिकॉर्ड में नागरिक की सभी स्वास्थ्य से सम्बंधित जानकारियाँ सम्मिलित होंगी. इसमें जन्म से लेकर प्रतिरक्षा, सर्जरी, प्रयोगशाला टेस्ट तक सारी जानकारी होंगी.
  • इसे हर नागरिक की हेल्थ आईडी से लिंक किया जाएगा. निजी हेल्थ रिकॉर्ड का स्वामित्व व्यक्ति के पास ही होगा.
  • जब एक व्यक्ति अपने रिकॉर्ड दिखाने की अनुमति देगा तभी दूसरा डॉक्टर या व्यक्ति उस नागरिक की सारी जानकारी देख पाएगा.
  • अगर कोई व्यक्ति किसी तरह का कैश ट्रांसफर स्कीम का लाभ उठाना चाहता है तो ही उसे अपनी हेल्थ आईडी को आधार कार्ड से लिंक करना होगा और अगर ऐसा नहीं है तो आधार कार्ड से लिंक करने की कोई जरुरत नहीं पड़ेगी.
  • प्रत्येक नागरिक के स्वास्थ्य, डॉक्टर का लेखा-जोखा एक एप या वेबसाइट के जरिए संचालित होगा.

GS Paper 2 Source : Indian Express

indian_express

UPSC Syllabus : Important International institutions, agencies and fora, their structure, mandate.

Topic : United Nations Human Rights Council

संदर्भ

वर्ष 2009 तक चले श्रीलंकाई गृहयुद्ध के दौरान श्रीलंकाई सरकार द्वारा मानवाधिकार उल्लंघन के मामले पर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद् (United Nations Human Rights Council – UNHRC) में एक महत्त्वपूर्ण प्रस्ताव पर मतदान होने जा रहा है. श्रीलंका ने इस मतदान के सम्बन्ध में भारत सहित विभिन्न देशों से समर्थन माँगा है.

पृष्ठभूमि

भारत, पिछली बार वर्ष 2014 में हुए मतदान में अनुपस्थित रहा था. इस मामले में भारत का आधिकारिक रुख दो स्तम्भों पर आधारित है- श्रीलंका की एकता और क्षेत्रीय अखंडता के लिए समर्थन, तथा दूसरा समानता, न्याय, शांति और सम्मान के लिए श्रीलंका के तमिलों की आकांक्षाओं के लिए प्रतिबद्धता का पालन करना. हालाँकि इस वर्ष तमिलनाडु में होने वाले विधानसभा चुनावों के मद्देनजर केंद्र में सत्ताधारी भाजपा पर श्रीलंका के विरुद्ध प्रस्ताव के पक्ष में मतदान करने के लिए विशेष दबाव है क्योंकि श्रीलंकाई तमिलों के प्रति राज्य के लोगों में विशेष सहानुभूति है.

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद् क्या है?

  1. UNHRC संयुक्त राष्ट्र का एक निकाय है जिसकी स्थापना 2006 में विश्व-भर में मानवाधिकार की सुरक्षा एवं संवर्धन के लिए तथा साथ ही मानवाधिकार उल्लंघन के मामलों की जाँच करने लिए की गई है.
  2. UNHRC में 47 देशों के प्रतिनिधि सदस्य हैं जिनका चयन 3 वर्ष के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा (UN General Assembly) द्वारा किया जाता है.
  3. यह परिषद् वर्ष में तीन बार बैठती है और विश्व-भर में चर्चित मानवाधिकार उल्लंघन के मामलों पर विचार करती है तथा बहुमत से अबाध्यकारी संकल्प जारी करती है.
  4. मानवाधिकार परिषद् संयुक्त राष्ट्र के सभी सदस्य देशों में मानवाधिकार की स्थिति की समय-समय पर समीक्षा करती है. समीक्षा के समय यह गैर-सरकारी संगठनों से मानवाधिकार के कथित उल्लंघनों के विषय में सूचना प्राप्त करती है और उनपर जाँच-पड़ताल के बाद अपना निर्णय देती है.
  5. जब2006 में यह परिषद् गठित हुई थी तो उस समय में भी अमेरिका इसमें शामिल नहीं हुआ था क्योंकि तत्कालीन US राष्ट्रपति जॉर्ज बुश का कहना था कि इस परिषद् में वैसे लोग सदस्य बनाए गए हैं जो स्वयं मानवाधिकार के उल्लंघन के दोषी हैं.
  6. हालाँकि ओबामा के काल में अमेरिका इस परिषद् में शामिल हो गया था.

GS Paper 3 Source : PIB

pib_logo

UPSC Syllabus : Infrastructure- energy.

Topic : Gram Ujala Scheme

संदर्भ

भारत ने ग्रामीण क्षेत्रों में सस्ते एलईडी बल्ब प्रदान करने के लिए 19 मार्च, 2021 को ग्राम उजाला योजना का अनावरण किया.

ग्राम उजाला योजना से जुड़े मुख्य तथ्य

  • ग्राम उजाला योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में 10 रूपए में लगभग 60 करोड़ एलईडी बल्ब वितरित किये जायेंगे.
  • सरकार द्वारा संचालित एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (EESL) की सहायक कंपनी कन्वर्जेन्स एनर्जी सर्विसिज लिमिटेड (CBSL) द्वारा बल्बों की पेशकश की गई है.
  • ग्रामीणों से पुराने CFL बल्ब जमा करने के बाद, उन्हें 7 साल की वारंटी के साथ 7 वाट और 12 वाट के एलईडी बल्ब दिए जायेंगे.
  • पहले चरण में, यह योजना बिहार के आरा जिले से शुरू की गई है. इस चरण में आरा (बिहार), विजयवाड़ा (आंध्र प्रदेश), वाराणसी (उत्तर प्रदेश). नागपुर (महाराष्ट्र), और पश्चिमी गुजरात के गांवों में लगभग 15 मिलियन एलईडी बल्ब वितरित किए जाएँगे.

उजाला योजना क्या है?

  • यह कम दाम पर LED के बल्ब वितरित करने की योजना है जो केन्द्रीय ऊर्जा मंत्रालय के अधीनस्थ लोक उपक्रमों के संयुक्त वेंचर एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (EESL) के द्वारा चलाई जा रही है.
  • इसका उद्देश्य प्रकाश की कारगर व्यवस्था करना, कम खर्च वाले LED बल्बों के बारे में लोगों की जानकारी को बढ़ाना और पर्यावरण की रक्षा करना है.
  • उजाला भारत सरकार की एक मूर्धन्य योजना ही जो प्रयास करती है कि भारत के हर घर में लोग LED बल्ब लगायें जिससे बिजली का खर्च घटे और कार्बन उत्सर्जन की दरों पर लगाम लगाया जा सके.

EESL क्या है?

  • एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (EESL) भारत सरकार के NTPC लिमिटेड, ऊर्जा वित्त निगम, ग्रामीण विद्युतीकरण निगम और पॉवर ग्रिड का एक संयुक्त उपक्रम है.
  • इसकी स्थापना भारत सरकार के ऊर्जा मंत्रालय के अधीन ऐसी परियोजनाओं के कार्यान्वयन में सहयोग करने के लिए किया गया था जिनसे ऊर्जा की खपत कम-से-कम हो.

Prelims Vishesh

Baikal Lake :-

baikal lake

  • रूस ने बैकाल झील में गहरे जल के भीतर Baikal-GVD नामक एक टेलीस्कोप को स्थापित किया है.
  • इस टेलीस्कोप को न्यूट्रिनो की खोज करने के लिए डिज़ाइन किया गया है.
  • न्यूट्रिनो विद्युत अनावेशित और लगभग द्रव्यमान-रहित उप-परमाणु कण होते हैं.
  • न्यूट्रिनो सर्वत्र उपलब्ध होते हैं, किंतु वे अपने चारों ओर विद्यमान किसी भी बल के साथ अत्यल्प अंतःक्रिया करते हैं. यही कारण है कि उनका पता लगाना चुनौतीपूर्ण हो जाता है.
  • बैकाल झील दक्षिण-पूर्वी साइबेरिया में अवस्थित है, और विश्व की सबसे पुरानी (25 मिलियन वर्ष) और सबसे गहरी (1,700 मीटर) झील है.
  • इसमें विश्व के कुल अप्रयुक्त ताजे जल का 20% भंडार विद्यमान है.
  • इसे “रूस के गैलापागोस’ (Galapagos) के रूप में जाना जाता है.
  • यह यूनेस्को (UNESCO) की विश्व धरोहर स्थल की सूची में शामिल है.

Click here to read Sansar Daily Current Affairs – Current Affairs Hindi

February, 2020 Sansar DCA is available Now, Click to Download

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.