Sansar डेली करंट अफेयर्स, 22 December 2020

Sansar LochanSansar DCALeave a Comment

Sansar Daily Current Affairs, 22 December 2020


GS Paper 2 Source : The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : Effect of policies and politics of developed and developing countries on India’s interests, Indian diaspora.

Topic : Why India is on US watchlist for ‘currency manipulation’

संदर्भ

हाल ही में, अमेरिकी राजकोष विभाग (U.S. Treasury) द्वारा स्विट्जरलैंड और वियतनाम को मुद्रा के साथ छेड़छाड़ करने वाला देश या ‘करंसी मैन्युपुलटेर्स’ (Currency Manipulators) के रूप में घोषित किया गया है.

अमेरिकी ट्रेज़री द्वारा, ताइवानथाईलैंड और भारत को ‘करंसी मैन्युपुलटेर्स’ निगरानी सूची में जोड़ा गया है, इन देशों पर डॉलर के मुकाबले अपनी मुद्राओं के अवमूल्यन करने हेतु उपाय करने का संदेह किया जा रहा है.

अमेरिका किसी देश को मुद्रा में हेरा-फेरी करने वाला कब और क्यों बताता है?

अमेरिका का ट्रेजरी विभाग वर्ष में दो बार एक प्रतिवेदन प्रकाशित करता है जिसमें वैश्विक, आर्थिक एवं विनियम दर से सम्बन्धित नीतियों की समीक्षा होती है.

किसी देश को “मुद्रा मैनिपुलेटर” का टैग कब मिलता है?

अमरीकी ट्रेजरी विभाग किसी देश को “मुद्रा मैनिपुलेटर” घोषित करने के लिये तीन मानदंडों का प्रयोग करता है :-

  • अमेरिका के साथ द्विपक्षीय व्यापार अधिशेष 20 अरब डॉलर हो.
  • वर्तमान GDP का 3% चालू खाता अधिशेष हो और
  • एक वर्ष में देश से सकल घरेलू उत्पाद के 2% से अधिक विदेशी मुद्रा खरीदी गई हो.

इस प्रकार की घोषणा अमेरिका क्यों करता है?

इस प्रकार की घोषणा कर के अमेरिका का ट्रेजरी विभाग उन देशों के प्रति ध्यान केन्द्रित करता है जिनका अमेरिका के साथ द्विपक्षीय व्यापार अच्छा-ख़ासा होता है और जिनका अमेरिकी और विश्व की अर्थव्यवस्था में अधिक महत्त्व होता है.

आगे क्या होगा?

1988 के विदेश व्यापार और प्रतिस्पर्धा अधिनियम के अधीन अमेरिका को इन देशों से बात-चीत करनी होगी अथवा वह इस मामले को अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) में ले जा सकता है. अमेरिका इस संदर्भ में जो दंडात्मक कार्रवाई कर सकता है, वे हैं –

  1. अमेरिका विकासशील देशों में निवेश करने वाली एजेंसी विदेश निजी निवेश निगम (Overseas Private Investment Corporation) को इन देशों को धनराशि देने से रोक सकता है.
  2. अमेरिका जो सरकारी खरीद करता है उसकी संविदाओं से वह इन देशों को बाहर रख सकता है.

GS Paper 2 Source : The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : Effect of policies and politics of developed and developing countries on India’s interests, Indian diaspora.

Topic : India welcomes UK’s ‘Indo-Pacific tilt’ as Foreign Secretary Raab visits New Delhi

संदर्भ

हाल ही में भारत और यूनाइटेड किंगडम के बीच मंत्रिस्तरीय वार्ता संपन्‍न हुई. भारत ने ब्रिटेन के “भारत-प्रशांत झुकाव” (Indo-Pacific tilt) का स्वागत किया.

मुख्य निष्कर्ष

  • इस वार्ता में दोनों पक्ष 10 वर्ष के रोडमैप पर सहमत हुए. साथ ही, ब्रेक्जिट के पश्चातवर्ती युग में “अपने संबंधों को आगे ले जाने” के बारे में चर्चा की गई.
  • इस रोडमैप को जनवरी 2021 में ब्रिटेन (यूनाइटेड किंगडम) के प्रधान मंत्री की आगामी भारत यात्रा में अपनाया जाएगा.
  • इसमें 5 व्यापक विषयों पर ध्यान केंद्रित किया गया है. इन विषयों में लोगों के बीच संपर्क, व्यापार और समृद्धि, रक्षा एवं सुरक्षा, जलवायु व स्वास्थ्य शामिल हैं.
  • आर्थिक साझेदारी को सुदृढ़ करने के लिए, दोनों पक्षों ने एक व्यापार समझौते पर चर्चाओं को गति प्रदान करने के महत्व के साथ-साथ एक व्यापक प्रवासन और गतिशीलता (आवागमन) साझेदारी समझौते (migration and mobility partnership agreement) को मान्यता प्रदान की है. यह समझौता दोनों देशों में छात्रों और पेशेवरों के तीव्र आवागमन को सुविधाजनक बनाएगा .
  • उल्लेखनीय है कि दोनों देशों के द्विपक्षीय व्यापार में लगातार वृद्धि हुई है और यह वर्ष 2019-20 में 48 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक पहुंच गया था.

भारत-प्रशांत झुकाव

  • ब्रिटेन के विदेश सचिव ने इस तथ्य को रेखांकित किया है कि वर्ष 1960 और वर्ष 1970 के दशक के दौरान इस क्षेत्र में ब्रिटेन की “असंलग्नता की नीति” (policy of disengagement) एक उचित नीति नहीं थी.
  • वर्तमान में ब्रिटेन अपनी विदेश नीति में पूर्व को महत्व प्रदान कर रहा है. भारत उसकी इस विदेश नीति में प्रमुख स्तंभ के रूप में उभर रहा है.
  • ज्ञातव्य है कि ब्रिटेन, ब्रेक्जिट उपरांत युग में क्वाड सुरक्षा वार्ता (QUAD) में शामिल होने के विकल्प पर विचार कर रहा है.

मेरी राय – मेंस के लिए

 

दुनिया के सबसे पुराने और सबसे बड़े लोकतंत्र के रूप में साझा मूल्यों, समान कानूनों और संस्थानों के आधार पर, अपनी रणनीतिक भागीदारी को दृढ़ करने की ब्रिटेन और भारत की स्वाभाविक महत्त्वाकांक्षा है. दोनों देश वैश्विक दृष्टिकोण और एक नियम-आधारित ऐसी अंतरराष्ट्रीय प्रणाली के प्रति वचनबद्धता का हिस्सा हैं जो उन एक तरफा उठाए गए कदमों का ज़ोरदार विरोध करती हैं जो बल के माध्यम से इस प्रणाली को कमज़ोर करना चाहते हैं. दोनों देश अपने संबंधों को रणनीतिक साझेदारी बनाने के लिये प्रतिबद्ध हैं, जिसका विस्तार समूचे विश्व में हो. दोनों देश अपने व्यावसायिक, सांस्कृतिक और बौद्धिक संबंधों को उन अनेकानेक गतिविधियों का पूरा लाभ उठाने के लिये प्रोत्साहित करते हैं जो भारत और ब्रिटेन को पारिवारिक स्तर से लेकर वित्तीय व्यवस्था तथा व्यवसाय से लेकर बॉलीवुड तक और खेल से लेकर विज्ञान तक परस्पर जोड़ते हैं.

भारत ब्रिटेन का महत्त्वपूर्ण व्यापारिक साझेदार है. ब्रिटेन की कुल जीडीपी में प्रवासी भारतीयों का लगभग 6% योगदान है. इन सबके बावजूद भारत-ब्रिटेन का व्यापार काफी कम है, जिसे बढ़ाने की जरूरत है. ब्रिटेन कारों पर आयात कर कम करने के साथ ही वित्तीय सेवाओं और कानूनी फर्मों के भारत में प्रवेश की माँग करता रहा है, लेकिन भारत को अपने हितों पर भी ध्यान देना होगा. यूरोपीय संघ से बाहर होने के बाद ब्रिटेन का इससे व्यापार कम हो जाएगा और इसकी क्षतिपूर्ति हेतु ब्रिटेन भारत से व्यापार बढ़ाने को उत्सुक है.


GS Paper 2 Source : The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : Effect of policies and politics of developed and developing countries on India’s interests, Indian diaspora.

Topic : UIGHUR

संदर्भ

हाल ही में जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, चीन के उत्तर-पश्चिमी शिनजियांग क्षेत्र में सैकड़ों प्रजातीय अल्पसंख्यक मजदूरों को राज्य द्वारा संचालित योजना के तहत बलपूर्वक कपास बीनने पर विवश किया जा रहा है.

इस रिपोर्ट से नाइकी, गैप और एडिडास जैसे वैश्विक ब्रांडों पर अधिक दबाव पड़ने की संभावना है. इन ब्रांडों पर इनकी कपड़ा आपूर्ति श्रृंखलाओं में उइगर बलात श्रम का उपयोग करने का आरोप लगाया जाता है.

पृष्ठभूमि

मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का कहना है कि शिनजियांग प्रांत में अवैध नजरबन्दी शिविरों का बड़ा नेटवर्क है, जिसमे कम से कम दस लाख लोग कैद हैं. चीन द्वारा इन शिविरों को उग्रवाद से निपटने हेतु व्यावसायिक प्रशिक्षण केंद्र बताया जाता है.

उइगर कौन हैं?

  1. उइगर मुसलमानों की एक नस्ल है जो बहुत करके चीन के Xinjiang प्रांत में रहती है.
  2. उइगर लोगउस प्रांत की जनसंख्या के 45% हैं.
  3. विदित हो कि तिब्बत की भांति Xinjiang भी चीन का एक स्वायत्त क्षेत्र घोषित है.

उइगरों के विद्रोह का कारण

  • कई दशकों से Xinjiang प्रांत में चीन की मूल हान (Han) नस्ल के लोग बसाए जा रहे हैं. आज की तिथि में यहाँ 80 लाख हान रहते हैं जबकि 1949 में इस प्रांत में 220,000 हान रहा करते थे.
  • हान लोग अधिकांश नई नौकरियों को हड़प लेते हैं और उइगर बेरोजगार रह जाते हैं.
  • उइगरों की शिकायत है कि सैनिक उनके साथ दुर्व्यवहार करते हैं जबकि सरकार यह दिखाती है कि उसने सभी को समान अधिकार दिए हुए हैं और विभिन्न समुदायों में समरसता है.

चीन की चिंता

  • चीन का सोचना है कि उइगरों का अपने पड़ोसी देशों से सांस्कृतिक नाता है और वे पाकिस्तान जैसे देशों में रहने वाले लोगों के समर्थन से Xinjiang प्रांत को चीन से अलग कर एक स्वतंत्र देश बनाना चाहते हैं.
  • विदित हो Xinjiang प्रांत की सीमाएँ मंगोलिया, रूस, कजाकिस्तान, किर्गिजिस्तान, ताजिकिस्तान और अफगानिस्तान से मिलती है.

GS Paper 2 Source : The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : Related to Health.

Topic : Shigellosis

संदर्भ

हाल ही में केरल के कोझिकोड जिले में शिगेला संक्रमण (Shigella infection) के छह मामले पाए जाने के बाद स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा आपातकालीन बैठकें बुलाई गयीं और निवारक उपायों की शुरुआत की गयी है.

क्या है शिगेला संक्रमण?

  • शिगेला संक्रमण (Shigella infection) को शिगेलोसिस (shigellosis) भी कहा जाता है. यह एक प्रकार का आंतों का संक्रमण है जो शिगेला नामक बैक्टीरिया के कारण होता है.
  • लक्षण: शिगेला संक्रमण का मुख्य लक्षण दस्त (diarrhea) है, जो अक्सर खूनी होता है. शिगेलोसिस भारत में दस्त के प्रमुख कारणों में से एक है. इसके अलावा संक्रमित व्यक्ति बुखार और पेट दर्द होता है.

इसका प्रसरण किस प्रकार होता है?

  • यह बैक्टीरिया, भोज्य पदार्थों के अंतर्ग्रहण के माध्यम से शरीर में प्रवेश करता है, इसके बाद ये बृहदान्त्र की वाहिकाओं अस्तर पर हमला करते हैं, जिसके परिणामस्वरूप कोशिकाओं में सूजन आ जाती है और बाद में गंभीर मामलों की स्थिति में कोशिकाओं को नष्ट कर देता है.
  • किसी व्यक्ति के शरीर में प्रवेश करने और उसे बीमार करने के लिए केवल थोड़ी संख्या में शिगेला बैक्टीरिया काफी होते है.
  • बैक्टीरिया जनित यह संक्रमण व्यक्ति-से-व्यक्ति में फैलता है.
  • समान्यतः 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को शिगेला संक्रमण होने की सबसे अधिक संभावना होती है, लेकिन यह किसी भी उम्र में हो सकता है.

क्या है शिगेला संक्रमण का उपचार?

  • उपचार: यदि संक्रमण हल्का है तो आमतौर स्वच्छता के ध्यान रखने से एक सप्ताह के भीतर रोगी अपने आप सही हो जाता है. लेकिन यदि संक्रामण अधिक हो जाता है तो उपचार की आवश्यकता होती है और इसके लिए डॉक्टर आमतौर पर एंटीबायोटिक दवाओं का प्रयोग करते हैं.
  • शोधकर्ता शिगेला संक्रमण से बचने के प्रभावी वैक्सीन विकसित करने के लिए प्रयास कर रहे हैं.

GS Paper 3 Source : The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : Environment and Biodiversity. 

Topic : Great Indian Bustard

संदर्भ

हाल ही में केंद्रीय विद्युत्‌ मंत्रालयऔर राजस्थान सरकार ने भारतीय वन्यजीव संस्थान के एक प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया है. ज्ञातव्य है कि यह प्रस्ताव सभी विद्युत्‌ पारेषण लाइनों को ग्रेट इंडियन बस्टर्ड पर्यावास स्थलों से होकर भूमिगत रूप से बिछाने से संबंधित था.

पृष्ठभूमि

इससे पूर्व, वर्ष 2019 में राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) के आदेश पर बस्टर्ड की सुरक्षा के लिए कुछ अनुशंसाएं की गई थीं:

  • बस्टर्ड पर्यावास स्थलों को प्राथमिकता देते हुए सभी विद्युत पारेषण लाइनों को कम करके तारों को भूमिगत रूप से बिछाना.
  • ज्ञात प्रजनन स्थलों में शिकारियों से सुरक्षित बाड़ों को विकसित करना.
  • साथ ही, पेशेवर जाल शिकारियों का उपयोग करके कुत्तों, शूकरों, लोमड़ियों और अन्य प्रजातियों जैसे शिकारी समूहों को दूर रखना.
  • राजस्थान वन विभाग बस्टर्ड अनुकूल कृषि प्रथाओं को बढ़ावा देने और उनके द्वारा पसंद की जाने वाली फसलों को उगाने के लिए स्थानीय समुदायों के साथ जुड़ सकता है.
  • राजस्थान और गुजरात में प्राथमिकता आधारित बस्टर्ड पर्यावासों के 13,000 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में नए पवन टर्बाइन एवं सौर फार्मों को स्वीकृति न देना.

ग्रेट इंडियन बस्टर्ड 

  • यह विश्व के सबसे भारी उड़ने वाले पक्षियों में से एक है.
  • यह सबसे अधिक भारत के राजस्थान राज्य में पाया जाता है जहाँ इसे राज्य पक्षी घोषित किया गया है.
  • IUCN की लाल सूची में इसे “विकट रूप से संकटग्रस्त” (Critically Endangered) बताया गया है.
  • यह पक्षी CITES और भारतीय वन्यजीव सुरक्षा अधिनियम, 1972 की अनुसूची I में भी सूचीबद्ध है.

राष्ट्रीय हरित अधिकरण (National Green Tribunal – NGT) अधिनियम, 2010

पर्यावरण संरक्षण और वनों के संरक्षण से जुड़े मामलों के प्रभावी और त्वरित निपटान हेतु राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) की स्थापना की गई, जो औद्योगिक गतिविधियों से सम्बंधित आवश्यक निर्देश जारी करने का कार्य करता है.

इस टॉपिक से UPSC में बिना सिर-पैर के टॉपिक क्या निकल सकते हैं?

हाल ही में गुजरात के गांधीनगर में चल रहे प्रवासी प्रजाति संधि के पक्षकारों के 13वें सम्मेलन में ग्रेट इंडियन बस्टर्ड, एशियाई हाथी और बंगाल फ्लोरिकन को संयुक्त राष्ट्र प्रवासी प्रजाति संधि के परिशिष्ट 1 (Appendix I of UN Convention on Migratory Species) में सम्मिलित करने का निर्णय लिया गया.

बंगाल फ्लोरिकन

  • भारत में यह पक्षी उत्तर प्रदेश, असम और अरुणाचल प्रदेश में पाया जाता है.
  • IUCN लाल सूची में इसे भी “विकट रूप से संकटग्रस्त” (Critically Endangered) दर्शाया गया है.
  • यह पक्षी भी CITES और भारतीय वन्यजीव सुरक्षा अधिनियम, 1972 की अनुसूची I में भी सूचीबद्ध है.

एशियाई हाथी

  • यह हाथी भारत, नेपाल, बांग्लादेश, भूटान और म्यांमार में पाया जाता है.
  • IUCN में इसे संकटग्रस्त” (Endangered) की पदवी मिली हुई है.
  • इसके अतिरिक्त यह निम्नलिखित प्रलेखों में भी सूचीबद्ध है – संकटग्रस्त वन्य जीव एवं वनस्पति अंतर्राष्ट्रीय व्यापार संधि (CITES) तथा भारतीय वन्यजीव सुरक्षा अधिनियम, 1972 की अनुसूची.

Prelims Vishesh

Bangabandhu Sheikh Mujibur Rahman :=

  • यूनेस्को ने उनके नाम पर “रचनात्मक अर्थव्यवस्था” के क्षेत्र में एक अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार आरंभ करने का निर्णय लिया है.
  • वह बांग्लादेश के संस्थापक नेता और देश के प्रथम प्रधानमंत्री थे.

Prime Minister’s Special Scholarship Scheme: PMSSS :-

  • अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद् (AICTE) ने PMSSS के तहत निर्वाह भत्ते के रूप में 20,000/- रुपये की किस्त जारी करने का निर्णय किया है.
  • PMSSS की शुरुआत वर्ष 2010 में की गई थी. इसका उद्देश्य जम्मू और कश्मीर तथा लद्दाख के युवाओं की क्षमता का निर्माण करना था. यह योजना उन्हें साधारण पाठ्यक्रम में प्रतिस्पर्धा करने के लिए शिक्षित, सक्षम और सशक्त बनाने पर केंद्रित है.
  • छात्रवृत्ति के घटक: शैक्षणिक शुल्क और निर्वाह भत्ता
  • यह योजना AICTE द्वारा कार्यान्वित की जा रही है.

Rahim Khane Khanam Tomb :-

  • दिल्ली के निज़ामुद्दीन में स्थित यह मकबरा अब्दुर्रहीम ने अपनी पत्नी के लिए 1598 ईस्वी में बनवाया था.
  • स्थूल गुंबद वितान और मेहराब, चारबाग स्वरूप व लाल बलुआ पत्थर तथा संगमरमर का उपयोग इस इमारत की महत्वपूर्ण विशेषताएँ हैं.
  • विदित हो कि अब्दुर्रहीम अकबर के नवरत्नों में से एक थे. ये एक प्रतिष्ठित सेनापति और एक दरबारी कवि थे. उन्हें सभी को स्वीकारने और सभी को समावेशित करने की संस्कृति को अपनाने वाले एक धर्मनिरपेक्ष प्रस्तावक के रूप में जाना जाता है. उन्होंने बृज, संस्कृत, अरबी और फारसी में कई रचनाएं लिखी थीं. उन्होंने बाबर की आत्मकथा बाबरनामा का तुर्की से फारसी में अनुवाद किया था.

Click here to read Sansar Daily Current Affairs – Sansar DCA

November, 2020 Sansar DCA is available Now, Click to Download

Books to buy

Leave a Reply

Your email address will not be published.