Sansar डेली करंट अफेयर्स, 20 September 2021

Sansar LochanSansar DCALeave a Comment

Sansar डेली करंट अफेयर्स, 20 September 2021

Congratulations - you have completed Sansar डेली करंट अफेयर्स, 20 September 2021. You scored %%SCORE%% out of %%TOTAL%%. Your performance has been rated as %%RATING%%
Your answers are highlighted below.
Question 1
हाल ही में कौन-सा राज्य आदर्श किरायेदारी अधिनियम (Model Tenancy Act) अपनाने वाला देश का पहला राज्य बन गया है?
A
मध्य प्रदेश
B
गुजरात
C
असम
D
महाराष्ट्र
Question 2
सिमलिपाल राष्ट्रीय अभ्यारण्य किस राज्य में अवस्थित है?
A
अरुणाचल प्रदेश
B
मिजोरम
C
मणिपुर
D
ओडिशा
Question 3
गिद्धों की मौत के पीछे एक दवा का नाम आता है. उस दवा का नाम क्या है?
A
मेटफोर्मिन
B
इबुप्रोफेन
C
डाइक्लोफेनेक
D
ग्लिम्पिराइड
Question 3 Explanation: 
पिछले तीन दशक में देश में गिद्धों की संख्या में तेजी से कमी आई है और यह 4 करोड़ से घटकर 4 लाख से भी कम रह गई है। संयुक्त राष्ट्र द्वारा वन्यजीवों की प्रवासी प्रजातियों के संरक्षण (सीएमपी) पर आयोजित 13वीं कॉन्फ्रेंस ऑफ पार्टी (सीओपी 13) से पहले उन्होंने कहा कि जानवरों का इलाज करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवा 'डाइक्लोफेनेक' की वजह से गिद्धों की मौत हुई क्योंकि वे मृत जानवरों को खाते हैं।
Question 4
अक्सर सुर्ख़ियों में रहने वाला शब्द "NATGRID" निम्नलिखित में किससे सम्बंधित है?
A
पारिस्थितिकी तन्त्र परियोजना
B
कार्बन उत्सर्जन को अल्प करने के लिए रखा गया लक्ष्य
C
पक्षी संरक्षण कार्यक्रम
D
आतंकविरोधी कार्यक्रम
Question 4 Explanation: 
नेशनल इंटेलिजेंस ग्रिड (NATGRID) एक आतंकविरोधी कार्यक्रम है जो मुंबई में 26 नवम्बर, 2008 को हुए आतंकवादी आक्रमण के उपरान्त तैयार किया गया था. संदिग्ध आतंकियों पर नजर रखने और आतंकी आक्रमणों को रोकने के लिए NATGRID बिग डाटा और एनेलिटिक्स जैसी तकनीकों का उपयोग करते हुए विभिन्न गुप्त सूचना और प्रवर्तन एजेंसियों से प्राप्त डाटा की विशाल मात्रा का अध्ययन और विश्लेषण करता है.
Question 5
अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (International Atomic Energy Agency – IAEA) का मुख्यालय कहाँ है?
A
ऑस्ट्रिया
B
ऑस्ट्रेलिया
C
स्विट्ज़रलैंड
D
इंडोनेशिया
Question 5 Explanation: 
IAEA संयुक्त राष्ट्र महासभा तथा सुरक्षा परिषद् के प्रति उत्तरदायी होती है. इसका मुख्यालय ऑस्ट्रिया के वियेना शहर में है.
Once you are finished, click the button below. Any items you have not completed will be marked incorrect. Get Results
There are 5 questions to complete.

Important Notice
We have stopped serving web-content of Sansar Daily Current affairs from 14th September, 2021. Download PDF of 20 September from our Telegram Channel (Click to Join) or Download our app for daily PDF notifications (Click here to download). Alternately, kindly support us buying our Monthly or Annual plan

Sansar Daily Current Affairs, 20 September 2021


GS Paper 2 Source : The Hindu

the_hindu_sansar

 

UPSC Syllabus : Government policies and interventions for development in various sectors and issues arising out of their design and implementation.

Topic : Assam first state to adopt Model Tenancy Act

संदर्भ 

असम, आदर्श किरायेदारी अधिनियम अपनाने वाला पहला राज्य बन गया है. इसके साथ ही असम शहरी क्षेत्र किराया नियंत्रण अधिनियम, 1972 निरस्त हो जायेगा.

पृष्ठभूमि

ज्ञातव्य है कि जून 2021 में केंद्रीय कैबिनेट न आदर्श किरायेदारी अधिनियम के मसीदे को मंजूरी दे दी थी. वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट में आदर्श किरायेदारी अधिनियम लाने का ऐलान किया था. इसके बाद आदर्श किरायेदारी अधिनियम (Model Tenancy Act) का मसौदा अब राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों को भंजा गया. राज्यों द्वारा इसे नया कानून बनाकर या वर्तमान किरायेंदार कानून में उपयुक्त संशोधन करके लागू किया जा सकता है.

आदर्श किरायेदारी अधिनियम, 2019 के के विषय में जानकारी

  • अधिनियम के अनुसार यदि कोई मकान मालिक किराए में संशोधन चाहता है तो उसे इसके लिए तीन महीनों की लिखित सूचना देनी होगी.
  • प्रत्येक जिले में जिला कलक्टर को किराया प्राधिकारी नियुक्त किया जाएगा.
  • जो किराएदार विहित समय से अधिक टिके रहेंगे उनपर भारी अर्थदंड लगाया जाएगा. उन्हें किराए का दुगुना और बाद में चौगुना तक देना होगा.
  • किराएदार को जो अग्रिम सिक्यूरिटी राशि जमा करनी है वह अधिकतम दो महीने के किराए के बराबर होगी.
  • मकान मालिक और किराएदार दोनों को किराया समझौते की एक प्रति जिला किराया प्राधिकारी को देनी होगी.
  • क्योंकि भूमि राज्य का विषय है इसलिए प्रस्तावित कानून को अंगीकृत करने का काम राज्यों पर छोड़ दिया गया है.
  • राज्यों को किराया न्यायालय और किराया पंचाट गठित करने होंगे.
  • यदि मकान मालिक मरम्मत करने से मन करता है तो किराएदा र मरमत्त करके उसका पैसा किराए से काट लेगा.
  • कोई भी मकान मालिक किराए पर उठाये हुए परिसर के अन्दर बिना 24 घंटे पूर्व की सूचना के घुस नहीं सकता है.
  • यदि मकान मालिक और किराएदार के बीच कोई विवाद है तो मकान मालिक बिजली और पानी काट नहीं सकता है.
  • यदि मकान मालिक बिजली-पानी काटता है तो किराएदार किराया प्राधिकारी को इसकी सूचना देकर क्षतिपूर्ति की माँग कर सकता है.
  • यदि किराया प्राधिकारी को लगे कि आवेदन यों ही और तंग करने के लिए दिया गया है तो वह मकान मालिक या किरायादार पर अर्थदंड लगा सकता है.

माहात्म्य

प्रस्तावित कानून का महत्त्व यह है कि इससे कई मामले व्यवहार न्यायालयों में जाने से रुक जाएँगे और इस प्रकार उन न्यायालयों का भार हल्का हो जाएगा. साथ ही कानूनी पचड़ों में फंसी किराए पर दी गई परिसम्पत्तियाँ मुक्त हो सकेंगी. इस प्रकार प्रस्तावित विधेयक में किराएदार और मकान मालिक दोनों के हितों पर ध्यान दिया गया है. यह प्रवासियों, औपचारिक और अनौपचारिक क्षेत्र के श्रमिकों, पेशेवरों, छात्रों एवं शहरी निर्धनों सहित समाज के विभिन्‍न वर्गों हेतु समावेशी तथा सतत पारिस्थितिक-तंत्र को बढ़ावा देगा.

चुनौतियाँ

भारत में अधिकांश किराएदारियां अनौपचारिक हैं, इस प्रकार वे अपंजीकृत बनी हुई हैं. अधिनियम मौजूदा व्यवस्था को औपचारिक बनाता है; जिससे किराए भी बढ़ सकते हैं. चूँकि यह अधिनियम राज्यों पर बाध्यकारी नहीं है, इसलिए राज्यों द्वारा आदर्श अधिनियम को लागू नहीं करने की संभावना भी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.