Sansar डेली करंट अफेयर्स, 10 January 2020

Sansar LochanSansar DCALeave a Comment

Sansar Daily Current Affairs, 10 January 2020


GS Paper 2 Source: The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : Indian diaspora.

Topic : Pravasi Bharatiya Divas 2020

संदर्भ

भारत के विकास में विदेश में रहने वाले भारतीयों के योगदान का सम्मान करने के लिए प्रत्येक वर्ष की भाँति इस वर्ष भी 9 जनवरी को प्रवासी भारतीय दिवस मनाया गया.

9 जनवरी ही क्यों?

प्रवासी भारतीय दिवस को मनाने के लिए 9 जनवरी को इसलिए चुना गया क्योंकि इसी दिन 1915 में महात्मा गाँधी दक्षिण अफ्रीका से भारत पहुँचे थे और भारत के स्वातंत्र्य संघर्ष का नेतृत्व किया था.

इस समारोह का महत्त्व

प्रवासी भारतीय दिवस 2003 से मनाया जा रहा है. इस अवसर पर कई सम्मेलन होते हैं जहाँ विदेश में रहने वाले भारतीय समुदाय के लोग भारत की सरकार और अपने पूर्वजों की भूमि के लोगों से मिलते-जुलते हैं और पारस्परिक लाभ वाली गतिविधियाँ चलाते हैं.

इन सम्मेलनों से विभिन्न देशों में रहने वाले प्रवासी भारतीय एक-दूसरे को जानते समझते हैं और अलग-अलग क्षेत्रों में किये गये अपने अनुभवों को आपस में बाँटते हैं.


GS Paper 3 Source: The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : wareness in the fields of IT, Space, Computers, robotics, nano-technology, bio-technology and issues relating to intellectual property rights.

Topic : Black Box in an airplane

संदर्भ

जनवरी 8 को यूक्रेन के लिए चला एक सवारी विमान ईरान में एक खेत में जाकर टकरा गया और उसमें विस्फोट हो गया. इस घटना में 176 सवारी के प्राण चले गये. इस घटना के वास्तविक कारण का अभी तक पता नहीं लग सका है. इस विमान के ब्लैक बॉक्स में मिलने पर ही शंकाओं का समाधान हो सकता है. परन्तु ईरान इसे देने को राजी नहीं है.

ब्लैक बॉक्स क्या होता है?

किसी भी वाणिज्यिक अथवा निगम के विमान में एक कॉकपिट शब्द रिकॉर्डर और एक उड़ान डाटा रिकॉर्डर अनिवार्य रूप से होता है. इन दोनों को ही बोलचाल की भाषा में ब्लैक बॉक्स कहा जाता है. जब विमान हवा में होता है उस समय इन बोक्सों का कोई काम नहीं होता, परन्तु जब दुर्घटना हो जाती है तो इनसे पता चलता है कि दुर्घटना के ठीक पहले विमान में क्या-कुछ घटा.

यदि विमान समुद्र के ऊपर दुर्घटनाग्रस्त होता है तो ये ब्लैकबॉक्स पानी के अन्दर चले जाते हैं, उस दशा में पानी के अंदर काम करने वाली एक मशाल (Underwater Locator Beacon – ULB) से उनकी खोज की जाती है. ब्लैक बॉक्स पानी के अन्दर 14,000 फुट गहराई सभी संदेश भेज सकते हैं. यहाँ पर यह बता देना अप्रासंगिक नहीं होगा कि ब्लैक बॉक्स काले रंग का नहीं होता है अपितु इसका रंग चमकीला नारंगी होता है.


GS Paper 3 Source: The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : Investment models.

Topic : Government Owned Contractor Operated model

संदर्भ

अपने कारखानों और आयुध भंडारों के लिए अभिकल्पित मॉडल – सरकारी स्वामित्व वाले ठेकेदारों के माध्यम से संचालित मॉडल (Government Owned Contractor Operated (GOCO) model) – को कार्यान्वित करने के लिए सेना ने संभावित उद्योगपतियों का पता लगाने की प्रक्रिया आरम्भ कर दी है. इसका उद्देश्य संचालन को पहले से अधिक कुशल बनाना है.

पृष्ठभूमि

युद्ध क्षमता में बढ़ोतरी करने और रक्षा व्यय को फिर से संतुलित करने के लिए ले. जनरल डीबी. शेकटकर (सेवा-निवृत्त) की अध्यक्षता में गठित एक समिति ने कई सुझाव दिए थे. GOCO मॉडल उन्हीं सुझावों में से एक है.

GOCO मॉडल कैसे काम करता है?

  • इसके अन्दर सरकारी स्वामित्व वाली सम्पदाओं का संचालन निजी उद्योग करता है.
  • इसमें निजी कम्पनियों को भूमि, मशीन और अन्य आवश्यक वस्तुओं के लिए निवेश नहीं करना पड़ता है.
  • इसमें सरकार लक्ष्य निर्धारित करती है और निजी प्रक्षेत्र को इन लक्ष्यों को अपने-अपने सर्वोत्तम ढंग से कार्यान्वित करने के लिए पूरी छूट दे दी जाती है.

GOCO मॉडल का लाभ

इस मॉडल का सबसे बड़ा लाभ यह है कि निर्धारित लक्ष्य कम समय में पूरे हो जाते हैं. इससे निजी प्रतिष्ठानों में प्रतिस्पर्धा की भावना को बल मिलता है और इस प्रकार नई-नई तकनीकों के प्रवेश का मार्ग प्रशस्त हो जाता है.


GS Paper 3 Source: The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : Major crops cropping patterns in various parts of the country, different types of irrigation and irrigation systems storage, transport and marketing of agricultural produce and issues and related constraints; e-technology in the aid of farmers.

Topic : Zero Budget Natural Farming

संदर्भ

आंध्र प्रदेश सरकार ने शून्य बजट प्राकृतिक कृषि (ZBNF) के विषय में जर्मनी के KfW नामक प्रतिष्ठान के साथ एक समझौता-पत्र पर हस्ताक्षर कर दिए हैं. इस समझौता पत्र का उद्देश्य राज्य में प्राकृतिक कृषि को बढ़ावा देना है.

इसके लिए सरकार ने ZBNF को 1,015 करोड़ रु. देने का तय किया है और इसके लिए 711 करोड़ रु. का कर्ज भी लिया है.

शून्य बजट प्राकृतिक कृषि क्या है?

जैसा कि इसका नाम बताता है कि शून्य बजट प्राकृतिक कृषि वैसी खेती है जिसमें फसल को उगाने और कटाई में आने वाला खर्च शून्य होता है. ऐसा इसलिए होता है कि इस कृषि में किसान को कोई खाद अथवा कीटनाशक खरीदना नहीं पड़ता है. वह रसायनिक खाद के बदले जैविक खाद तथा कीटनाशक का प्रयोग करता है.

इसमें जो खाद का प्रयोग होता है वह केंचुओं, गोबर, गोमूत्र, सड़े हुए पौधों और मलमूत्र और ऐसे अन्य जैविक खाद डालते हैं. इससे न केवल किसान का खर्च बचता है अपितु मिट्टी भी खराब होने से बच जाती है.

शून्य बजट प्राकृतिक कृषि के लाभ

  • इसमें किसानों की लागत कम होती है क्योंकि वे जिन खादों और कीटनाशकों का प्रयोग करते हैं वे उन्हें स्थानीय स्रोतों से मिल जाते हैं.
  • इसके अतिरिक्त स्थानीय गायों से प्राप्त गोबर आश्चर्यजनक रूप से मिट्टी की उर्वरकता और पौष्टिक महत्त्व को फिर से जीवित कर देता है. माना जाता है कि एक ग्राम गोबर के अन्दर 300 से लेकर 500 करोड़ तक लाभकारी सूक्ष्म जीव होते हैं. ये सूक्ष्म जीव मिट्टी में स्थित सूखे जैविक तत्त्वों को विघटित कर देते हैं और उन्हें पौधों के लिए सहज उपयोग में लाये जाने वाले पोषक तत्त्वों में बदल देते हैं.
  • ज्ञातव्य है कि वैश्विक तापमान बढ़ने से आजकल मानसून हर वर्ष एक जैसा नहीं रहता है और भारत में कई जगह भूजल घटता जा रहा है. अतः यदि शून्य बजट प्राकृतिक कृषि को बड़े पैमाने पर अपनाया जाता है तो न केवल कृषकों को अपितु पूरे देश को लाभ होगा.
  • शून्य बजट प्राकृतिक कृषि में साधारण कृषि की तुलना में 10% जल और 10% बिजली कम लगती है.
  • शून्य बजट प्राकृतिक कृषि में यह क्षमता है कि वह फसलों को परिस्थिति के अनुकूल ढाल देती है.

शून्य बजट प्राकृतिक कृषि की चार महत्त्वपूर्ण विधियाँ

  • मिट्टी की आर्द्रता को सुधारने के लिए जलवाष्प का संघनन.
  • गोबर और मूत्र से बने पदार्थों से बीज को उपचारित करना.
  • घास-पतवार से ढक कर मिट्टी को वायु से युक्त करना.
  • गोबर और गोमूत्र के घोल से मिट्टी की उर्वरता सुनिश्चित करना.

भारत सरकार शून्य बजट प्राकृतिक कृषि के लिए क्या कर रही है?

  • भारत सरकार 2015-16 सेपरम्परागत कृषि विकास योजना (PKVY) और राष्ट्रीय कृषि विकास योजनाओं (RKVY) जैसी समर्पित योजनाओं के माध्यम से जैविक खेती को देश में बढ़ावा देती आई है.
  • 2018 में PKVY से सम्बंधित मार्गनिर्देशों में सुधार करते हुए कई प्रकार की प्राकृतिक कृषि के मॉडल बताये गए हैं, जैसे – प्राकृतिक कृषि, ऋषि कृषि, वैदिक कृषि, गो कृषि, होम कृषि, शून्य बजट प्राकृतिक कृषि इत्यादि. राज्यों को कहा गया है कि वे इनमें से किसी भी कृषि को किसान की पसंद के अनुसार अपना सकती हैं.

GS Paper 3 Source: The Hindu

the_hindu_sansar

UPSC Syllabus : Science and Technology- developments and their applications and effects in everyday life Achievements of Indians in science & technology; indigenization of technology and developing new technology.

Topic : Laser Interferometer Gravitational Wave Observatory (LIGO) project

संदर्भ

LIGO-Virgo वैज्ञानिकों के नेतृत्व में एक अंतर्राष्ट्रीय दल ने गुरुत्व तरंगों की एक नई घटना का पता लगाया है जो दो न्यूट्रोन तारों की टकराहट से उत्पन्न हुई हैं. अभी तक इस प्रकार की दो ही घटनाओं की जानकारी हो सकी है. इससे पहले अगस्त, 2017 में ऐसी तरंगें देखी गई थीं.

 LIGO – भारत परियोजना

LIGO एक बृहद वेधशाला (observatory) है जो ब्रह्मांडीय गुरुत्व तरंगों का पता लगाएगी और उनपर प्रयोग करेगी. इससे अन्तरिक्षीय अध्ययनों में सहायता मिलेगी. इस परियोजना के अंतर्गत तीन गुरुत्वाकर्षण-तरंग डिटेक्टर स्थापित किये जायेंगे. ऐसे दो डिटेक्टर अमेरिका के वाशिंगटन राज्य के हेनफर्ड में और लुजियाना राज्य के लिविंगस्टन में हैं.

LIGO – भारत परियोजना आणविक ऊर्जा विभाग एवं विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग की परियोजना है. इस परियोजना से जुड़े हुए तीन अनुसंधान संस्थान हैं –

  • पुणे का अन्तरिक्ष विज्ञान खगोल विज्ञान एवं खगोल भौतिकी विश्वविद्यालय केंद्र (IUCAA)
  • गांधीनगर का प्लाज्मा अनुसंधान विभाग (IPR)
  • इंदौर का राजा रमन्ना उन्नत प्रौद्योगिकी केंद्र (RRCAT)

भारत को होने वाले लाभ

  • LIGO परियोजना से भारतीय वैज्ञानिकों और इंजिनियरों को गुरुत्वीय तरंगों के बारे में गहन अध्ययन करने का अवसर प्राप्त होगा.
  • भारतीय उद्योग इसके लिए 8 km. लम्बी बीम ट्यूब (beam tube) का निर्माण करेंगे जो समतल भूमि पर अति-उच्च निर्वात में स्थित होगा. इससे भारतीय उद्योग को भी नवीनतम तकनीक जानने और उसका प्रयोग करने का अवसर मिलेगा.
  • LIGO परियोजना की स्थापना से भारत गुरुत्वाकर्षण तरंगों के detectors के वैश्विक नेटवर्क का एक हिस्सा बन जायेगा.
  • भारत में वेधशाला बनने पर गुरुत्वकर्षण तरंगों का सटीक रूप से पता लगाया जा सकेगा क्योंकि दो वेधशालाओं के बीच जितनी दूरी होती है, उतनी ही इस काम में सटीकता आती है.

Prelims Vishesh

Sea Guardians 2020 :-

कराची में पाकिस्तान और चीन की नौसेनाएँ अपना छठा संयुक्त अभ्यास चला रही है जिसे Sea Guardians 2020 का नाम दिया गया है.

Operation Sankalp :

भारतीय झंडों वाले जलयानों को होर्मुज जलडमरूमध्य से गुजरते समय सुरक्षा देने के लिए भारत मध्य-पूर्व क्षेत्र में एक सामुद्रिक सुरक्षा कार्रवाई चलाता है जिसे ऑपरेशन संकल्प कहा जाता है.

MILAN 2020 :-

  • MILAN का पूरा नाम बहुपक्षीय नौसैनिक अभ्यास (Multilateral Naval Exercise) है.
  • यह एक अंतर्राष्ट्रीय अभ्यास है जिसमें कई देशों की नौसेनाएँ सम्मिलित होती हैं.
  • 2020 में इस अभ्यास के लिए 41 नौसेनाओं को आमंत्रित किया गया है जिनमें अभी तक तैयार भी हो चुके हैं.

Click here to read Sansar Daily Current Affairs – Sansar DCA

December, 2019 Sansar DCA is available Now, Click to Download

Books to buy

Leave a Reply

Your email address will not be published.