Sansar डेली करंट अफेयर्स, 10 February 2018

Print Friendly, PDF & Email

Sansar Daily Current Affairs, 10 February 2018


GS Paper 3: Source: The Hindu

Topic: स्वस्थ राज्य, प्रगतिशील भारत रिपोर्ट

  1. NITI आयोग ने राज्यों और संघ शासित प्रदेशों के द्वारा साल-दर-साल स्वास्थ्य के क्षेत्र में की गई प्रगति के आधार पर रैंक किया है.
  2. स्वास्थ्य सूचकांक एक समग्र सूचकांक (weighted composite index) है, जिसमें राज्यों द्वारा स्वास्थ्य के क्षेत्र में की गई प्रगति को तीन संकेतकों के आधार पर मापा जाता है – (i) स्वास्थ्य परिणाम (70%); (ii) शासन और सूचना (12%) (iii) मुख्य suwidhayen और प्रक्रिया (18%)
  3. बड़े राज्यों में केरल, पंजाब और तमिलनाडु समग्र प्रदर्शन के मामले में सबसे ऊपर हैं.
  4. छोटे राज्यों में मिजोरम पहले स्थान पर है और उसके बाद मणिपुर.
  5. केंद्रशासित प्रदेशों में लक्षद्वीप ने सबसे अच्छा समग्र प्रदर्शन किया.

GS Paper 3: Source: The Hindu

Topic: यूनानी चिकित्सा पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन

  1. आयुष चिकित्सा मंत्रालय के तहत यूनानी चिकित्सा पर दो दिनों का अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है.
  2. इस सम्मेलन का theme है – “स्वास्थ्य देखभाल की मुख्य धारा में यूनानी प्रणाली के चिकित्सा का एकीकरण”.
  3. हकीम अजमल खान के योगदान को चिह्नित करने के लिए राष्ट्रीय यूनानी दिवस मनाया जाता है.
  4. हकीम अजमल खान आयुर्वेदिक और यूनानी तिब्बिया (चिकित्सा) कॉलेज, दिल्ली के संस्थापक हैं.
  5. हकीम अजमल खान एक प्रतिष्ठित भारतीय यूनानी चिकित्सक थे और यूनानी चिकित्सा में वैज्ञानिक अनुसंधान के सूत्रधार थे.

GS Paper 3: Source: The Hindu

Topic: Ash Track नामक मोबाइल एप

  1. नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय ने एक वेब आधारित निगरानी प्रणाली की शुरुआत की है और Ash Track नामक मोबाइल एप्लिकेशन का शुभारंभ किया है.
  2. यह वेब प्लेटफार्म और एप तापीय ऊर्जा संयत्रों और सड़क ठेकेदारों, सीमेंट संयत्रों आदि के बीच एक बेहतर आदान-प्रदान की सुविधा मुहैया करेगा.
  3. बिजली संयत्र/थर्मल पॉवर प्लांट्स ऐश यानी अपशिष्ट के रूप में राख का भारी मात्रा में उत्पादन करते हैं जो उनके के लिए किसी उपयोग का नहीं होता.
  4. इस राख का प्रयोग सड़क-निर्माण और construction आदि कार्यों में होता है.
  5. इसलिए यह प्लेटफार्म तापीय बिजली संयंत्रों द्वारा उत्पादित राख के बेहतर प्रबंधन में सहायक होगा.
  6. इस ऐप के जरिये एक निश्चित स्थान से 100 किलोमीटर तथा 300 किलोमीटर के दायरे में स्थापित कोयला आधारित बिजली संयंत्रों को खोजा जा सकता है.
  7. राख खरीदने वाला जहाँ से ये राख लेना चाहता है वह इस Ash Track app के जरिये उस पावर स्टेशन का चयन कर सकता है.

Click here for Daily Sansar Current Affairs >> Daily Sansar Current Affairs

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.