Sansar डेली करंट अफेयर्स, 05 April 2019

Sansar LochanSansar DCA3 Comments

Sansar Daily Current Affairs, 05 April 2019


GS Paper  1 Source: PIB

pib_logo

Topic : Maharshi Badrayan Vyas Samman’ Awards

संदर्भ

हाल ही में उपराष्ट्रपति ने विद्वानों को “राष्ट्रपति सम्मान पत्र” तथा “महर्षि बादरायण व्यास सम्मान” पुरस्कार प्रदान किये.

महर्षि बादरायण व्यास सम्मान क्या है?

  • वर्ष 2002 में आरम्भ किया गया यह पुरस्कार 30 से 45 वर्ष की आयु वाले विद्वानों को शास्त्रीय भाषाओं में उल्लेखनीय योगदान करने के लिए जाता है.
  • इसमें एक सम्मान पत्र, एक स्मारिका और एक लाख रुपये की नकद राशि दी जाती है.
  • जिन शास्त्रीय भाषाओं में यह पुरस्कार दिया जाता है, वे हैं – संस्कृत, फारसी, अरबी, पालि, प्राकृत और शास्त्रीय उड़िया, शास्त्रीय कन्नड़, शास्त्रीय तेलुगु एवं शास्त्रीय मलयालम.

महर्षि बादरायण कौन थे?

बादरायण वेदान्त के न्याय-प्रस्थान के प्रवर्तक ग्रन्थ ब्रह्मसूत्र के रचयिता थे. जितने ब्रह्मसूत्र उपलब्ध हैं, उनका रचयिता एक ही व्यक्ति था और वे बादरायण थे. वाचस्पतिमिश्र के समय से बादरायण को ‘व्यास’ भी कहा जाने लगा था, किन्तु ब्रह्मसूत्रकार बादरायण वेदव्यास या महाभारत के रचयिता ‘कृष्ण द्वैपायन’ से भिन्न व्यक्ति थे. भारतीय दर्शन में ब्रह्मसूत्र का महत्त्व अनेकविध है. सबसे पहले उसका महत्त्व इस बात में है कि उसने उपनिषदों को एक दर्शन का रूप प्रदान किया. वह वेदान्त का संस्थापक बन गया. ब्रह्मसूत्रों का अध्ययन करने से पता चलता है कि बादरायण प्रत्यक्ष, अनुमान, उपमान तथा शब्द या श्रुति को प्रमाण मानते थे.


GS Paper  2 Source: The Hindu

the_hindu_sansar

Topic : GIAN Program

संदर्भ

वैज्ञानिकों और उद्यमियों की प्रतिभा का पता लगाने के उद्देश्य से सरकार द्वारा निर्मित वैश्विक उच्चतर शिक्षा के लिए शैक्षणिक नेटवर्क [Global Initiative of Academic Networks (GIAN) in Higher Education] की वैश्विक पहल की योजना के अंतर्गत तिरुची-स्थित राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान ने एक कार्यक्रम का अनावरण किया है.

GIAN कार्यक्रम क्या है?

  • वैश्विक उच्चतर शिक्षा के लिए शैक्षणिक नेटवर्क (GIAN) एक कार्यक्रम है जो मानव संसाधन विकास के अधीन 2015 में आरम्भ किया गया था.
  • देश में वर्तमान में उपलब्ध शैक्षणिक संसाधनों में परिवर्धन करने के लिए यह कार्यक्रम प्रतिष्ठित वैज्ञानिकों और विद्वानों का एक समूह बनाता है उन्हें उच्च शिक्षा संस्थानों में योगदान करने हेतु लगाया जाता है.
  • आशा की जाती कि है ऐसा करने से भारत की वैज्ञानिक एवं तकनीकी क्षमता पहले से अधिक हो जाएगी.

अभिकल्पित लक्ष्य

  • भारतीय शैक्षणिक संस्थानों में अधिक से अधिक प्रतिष्ठित विदेशी विद्वानों को लाना.
  • देश के शिक्षकों को आधुनिकतम विषयों से सम्बन्धित जानकारी और शैक्षणिक कौशल बढ़ाने का अवसर प्रदान करना.
  • प्रतिष्ठित विदेशी शिक्षकों से ज्ञान और अनुभव प्राप्त करने का भारतीय विद्यार्थियों को अवसर देना.
  • अंतर्राष्ट्रीय विद्वानों के साथ मिल-जुलकर अनुसंधान करने का मार्ग प्रशस्त करना.
  • विडियो और मुद्रित सामग्री के माध्यम से प्रमुख विषयों के लिए उच्च गुणवत्ता वाली पाठ्य सामग्री तैयार करना जिसका उपयोग अधिक से अधिक विद्यार्थी और शिक्षक कर सकें.
  • राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय हित के उभरते हुए विषयों से सम्बंधित नई शैक्षणिक पद्धतियाँ विकसित करना.

GS Paper  2 Source: PIB

pib_logo

Topic : World Health Day

संदर्भ

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने विश्व स्वास्थ्य दिवस समारोहों के अंतर्गत सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज के लिए मिलकर कार्य करने और इस विषय में विद्यमान कमियों को दूर करने हेतु प्रतिबद्धता व्यक्त करते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ मिलकर हाल ही में एक मानव एकता श्रृंखला बनाई. विश्व स्वास्थ्य दिवस 2019 की थीम है – सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज : सभी के लिए, सभी जगह.

विश्व स्वास्थ्य दिवस

  1. विश्व स्वास्थ्य दिवस प्रतिवर्ष विश्व स्वास्थ्य संगठन के तत्त्वावधान में 7 अप्रैल को मनाया जाता है.
  2. इसी दिन विश्व स्वास्थ्य संगठन की स्थापना हुई थी.
  3. यह दिवस जीवन प्रत्याशा की वृद्धि एवं अधिक स्वस्थ जीवनशैली को बढ़ावा देने पर बल देता है.
  4. इस साल 2018 की इसकी theme है – “Universal Health Coverage: Everyone, Everywhere” (हर व्यक्ति को हर कहीं स्वास्थ्य की सुविधा मिले)
  5. WHO हर वर्ष ऐसे 9 स्वास्थ्य कार्यक्रम चलाता है, जैसे –
  • विश्व यक्ष्मा दिवस – 24 मार्च
  • विश्व स्वास्थ्य दिवस – 7 अप्रैल
  • विश्व टीकाकरण सप्ताह – अप्रैल के अंतिम सप्ताह में
  • विश्व मलेरिया दिवस – 25 Aril
  • विश्व नो टोबैकू दिवस – 31 May
  • विश्व रक्त दाता दिवस – 14 June
  • विश्व हेपेटाइटिस दिवस – 28 July
  • विश्व एड्स दिवस – 1 Dec

GS Paper  2 Source: The Hindu

the_hindu_sansar

Topic : Global Cooling Coalition

संदर्भ

हाल ही में डेनमार्क की राजधानी कोपेनहेगन में 2030 एजेंडा और पेरिस समझौते के बीच तालमेल के विषय में आयोजित पहले वैश्विक सम्मेलन में स्वच्छ एवं कारगर शीतलीकरण के बारे में प्रथम वैश्विक गठबंधन का अनावरण किया गया. इसे वैश्विक शीत गठबंधन का नाम दिया गया है.

मुख्य तथ्य

  • वैश्विक शीत गठबंधन वह संयुक्त मोर्चा है जो किगाली संशोधन, पेरिस समझौते और सतत विकास लक्ष्यों के अंतर्गत की गई कार्रवाइयों को जोड़ता है.
  • उद्देश्य :- इसका उद्देश्य महत्त्वाकांक्षा की प्रेरणा देना, समाधानों का पता लगाना, स्वच्छ एवं कारगर शीतलीकरण की दिशा में प्रगति को तेज करने के लिए कार्यकलाप को बढ़ावा देना.
  • समर्थन :- इस गठबंधन के पीछे संयुक्त राष्ट्र संघ का समर्थन तो है ही, जो अन्य संस्थाएँ इसका समर्थन करती हैं, वे हैं – जलवायु एवं स्वच्छ वायु गठबंधन, किगाली शीतलीकरण कार्यकुशलता कार्यक्रम तथा सब के लिए सतत ऊर्जा (S ustainable Energy for All – SEforALL).
  • गठबंधन का स्वरूप :- इस गठबंधन में चिली, रवांडा और डेनमार्क के सरकारी अधिकारियों के अतिरिक्त सिविल सोसाइटी, अनुसंधान संस्थाओं तथा शैक्षणिक संस्थाओं के अग्रणी व्यक्ति रहते हैं.

यह गठबंधन आवश्यक क्यों?

जैसा कि विदित है कि 2018 पूरे संसार के लिए चौथा सबसे गरम वर्ष था. बढ़ती गर्मी के कारण अधिक से अधिक एयर कंडीशनर खरीदे जा रहे हैं. लोगों की आय भी बढ़ रही है और शहरीकरण भी तेजी से हो रहा है. इसलिए आशा की जाती है कि 2050 तक बाजार में 1.2 बिलियन से लेकर 4.5 एयर कंडीशनरों की माँग होगी. अकेले भारत में 1 बिलियन एयर कंडीशनर खरीदे जाएँगे. अगले 20 वर्षों में भारत में शीतलीकरण मशीनों की माँग आठ गुनी बढ़ जायेगी. देश में शीतलीकरण पर होने वाले खर्च का आधा खर्च 2037-38 तक मात्र एयर कंडीशनरों के कारण होगा.


GS Paper  3 Source: The Hindu

the_hindu_sansar

Topic : Asian Development Outlook 2019

संदर्भ

हाल ही में एशियाई विकास बैंक ने एशियाई विकास आउटलुक, 2019 का प्रकाशन किया है.

adbमुख्य निष्कर्ष

  • प्रतिवेदन में बताया गया है कि एशिया के विकासशील देशों में वृद्धि की दर 2019 में 7% और 2020 में 5.6% रहेगी. यदि एशिया की उच्च आय वाली नई औद्योगीकृत अर्थव्यवस्थाओं को छोड़ दिया जाए तो शेष अर्थव्यवस्थाओं में वृद्धि की दर 2018 के 6.4% से घटकर 2019 में 6.2% और 2020 में 6.1% हो जायेगी.
  • तेल के मूल्य में वृद्धि और एशियाई मुद्राओं का अवमूल्यन होने के कारण विगत वर्ष मुद्रा स्फीति बढ़ गयी, परन्तु ऐतिहासिक मानदंडों के अनुसार निम्न ही रही. अभी जिंसों (commodities) के दाम स्थिर हैं इसलिए आशा की जाती है कि 2019 और 2020 दोनों में मुद्रा स्फीति 5% के घटे स्तर पर बनी रहेगी.
  • एशिया की 45 अलग-अलग अर्थव्यवस्थाओं से मात्र 20 अर्थव्यवस्थाओं में 2019 में वृद्धि की गति बढ़ेगी.
  • उप-प्रक्षेत्रों को ले कर चलें तो यह आशा की जाती है कि मध्य एशिया, पूर्व एशिया और द.पू. एशिया में समग्र वृद्धि की दर घट जायेगी जबकि दक्षिण एशिया और प्रशांत क्षेत्र में इस वृद्धि में 2018 की तुलना में वृद्धि की गति अपने पुराने स्तर पर लौट आएगी.
  • प्रतिवेदन के अनुसार पूर्व-एशियाई अर्थव्यवस्था में वृद्धि की दर 2018 में 2% से लेकर 6.0% तक घटी. इसका कारण रहा विदेश व्यापार का कमजोर होना और चीन में सामान्य निवेश का होना.

भारत की स्थिति

वृद्धि दर – प्रतिवेदन में भविष्यवाणी की गई है कि 2019-20 में भारत की वृद्धि दर कम होकर 7.2% पर रहेगी क्योंकि आशा के विपरीत निवेश की माँग में यथोचित वृद्धि नहीं हुई. 2020-21 के वित्तीय वर्ष में वृद्धि दर 7.3% रहने की संभावना है.

भारतीय वृद्धि दर में इन कारणों से बढ़ोतरी हो सकती है – कृषि, घरेलू माँग में वृद्धि, बैंकों और निगमों के स्वास्थ्य में सुधार और मूल्यवर्धित कर योजना का क्रियान्वयन.

वित्त वर्ष 2019 के पूर्वार्द्ध में मुद्रा स्फीति औसतन 4% के आस-पास रहेगी और इसलिए रिज़र्व बैंक पॉलिसी दरों को घटा भी सकती है जिससे साख में वृद्धि हो सके.

एशियाई विकास बैंक के बारे में

  • ADB का मुख्यालय मनीला, फिलीपींस में है.
  • एशियाई विकास बैंक में 67 सदस्य देश शामिल हैं जिसमें 48 एशिया और प्रशांत क्षेत्र से हैं और और बाकी बाहर से हैं.
  • ADB को विश्व बैंक की तर्ज पर ही तैयार किया गया था. इसकी स्थापना 19 दिसम्बर, 1966 में हुई थी.
  • इसमें विश्व बैंक की तरह ही वोटिंग में वेटेज की प्रणाली है अर्थात् जो देश बैंक को जितनी पूँजी देता है, उसके वोट का महत्त्व उतना ही होता है.
  • ADB विश्व पूँजी बाजार में निर्गत बॉन्ड के माध्यम से धन जुटाया करता है. यह अपने सदस्य देशों द्वारा किये गये आर्थिक योगदान, उधार से हुई कमाई एवं ऋणों की वापसी से अपनी आर्थिक जरूरतों को पूरा करता है.
  • इसमें प्रत्येक सदस्य राज्य से एक प्रतिनिधि होता है.
  • बोर्ड ऑफ गवर्नर बैंक के अध्यक्ष का चुनाव करते हैं.
  • इस बैंक के अध्यक्ष का कार्यकाल 5 वर्षों का होता है और इसे पुनः निर्वाचित किया जा सकता है.
  • परंपरागत रूप से अब तक नियुक्त अध्यक्ष सदैव जापान से ही रहे हैं और यह संभवतः इसलिए भी है क्योंकि जापान बैंक के सर्वाधिक बड़े शेयरधारकों में से है.

Prelims Vishesh

Zayed medal :-

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को संयुक्त अरब अमीरात (UAE) ने प्रतिष्ठित जायद मेडल से सम्मानित किया.
  • यह मेडल राजाओं, राष्ट्रपतियों और राज्यों के प्रमुखों को दिया जाने वाला UAE का सर्वोच्च सम्मान है.
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को विभिन्न क्षेत्रों में यूएई और भारत के बीच संबंधों को मजबूत करने के लिए प्रयास करने और उल्लेखनीय भूमिका निभाने के लिए सम्मान दिया गया है.

Bejjur vultures :-

  • तीन विकट रूप से संकटग्रस्त (critically endangered) भारतीय गिद्धों की लगभग दो महीने पहले अज्ञात कारणों से मृत्यु हो गई थी.
  • इन गिद्धों को लॉन्गबिल्ड वल्चर (जिप्स सिग्नस) के रूप में भी जाना जाता है.
  • यह गिद्धों में सबसे छोटी प्रजाति के होते हैं.

Click here to read Sansar Daily Current Affairs – Sansar DCA

[vc_row][vc_column][vc_message message_box_color=”orange” icon_fontawesome=”fa fa-file-pdf-o”]March, 2019 Sansar DCA is available Now, Click to Downloadnew_gif_blinking[/vc_message][/vc_column][/vc_row][vc_row][vc_column][vc_column_text]
Books to buy

3 Comments on “Sansar डेली करंट अफेयर्स, 05 April 2019”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.