सोलह महाजनपद – प्रमुख राज्यों का संक्षिप्त विवरण

Dr. SajivaAncient History, HistoryLeave a Comment

बौद्ध और जैन धार्मिक ग्रन्थों से पता चलता है कि ईसा पूर्व छठी शताब्दी का भारत अनेक छोटे-छोटे राज्यों में विभक्त था. उस समय उत्तरी भारत में सोलह महाजनपद (Sixteen Mahajanapada) अर्थात् बड़े राज्यों का अस्तित्व था. ये राज्य बड़े राज्य इसलिए कहलाते थे क्योंकि इनका आकार वैदिक युगीन कबीलाई राज्यों से बड़ा था. कबीलाई राज्यों के स्थान पर महाजनपद … Read More

Geography के वे सवाल जो आपके Basics को Strong करेंगे

Sansar LochanQuiz5 Comments

नीचे IAS परीक्षा के लिए Geography के कुछ  Questions दिए गए हैं. ये mixed type of geography के questions/सवाल हैं. इस Quiz को ध्यान से खेलें क्योंकि इसमें आप Top Scorer बन सकते हैं और आपका नाम हमारे साइट पर आएगा. इन प्रश्नों का level थोड़ा moderate है क्योंकि यह ख़ास Civil Services Exam के लिए बनाया गया है और … Read More

[भूगोल] वायु (पवन) और चक्रवात – सही-गलत Quiz

Sansar LochanQuizLeave a Comment

नीचे IAS परीक्षा के लिए Geography के कुछ  Questions दिए गए हैं. Topic है Winds, Wind System और Cyclones. इस Quiz को ध्यान से खेलें क्योंकि इसमें आप Top Scorer बन सकते हैं और आपका नाम हमारे साइट पर आएगा. इन प्रश्नों का level थोड़ा moderate है क्योंकि यह ख़ास Civil Services Exam के लिए बनाया गया है. आपका उत्तर … Read More

पुरापाषाण, मध्यपाषाण और नवपाषाण काल के विषय में स्मरणीय तथ्य

Dr. SajivaAncient History, History37 Comments

आज हम आपको पुरापाषाण (Paleolithic Age), मध्यपाषाण (Mesolithic Age) और नवपाषाण (Neolithic Age) काल के विषय में Hindi में बताने जा रहे हैं. पुरातत्त्वविदों ने पाषाण युग को इन तीन भागों में बाँटा है. यह बहुत ही interesting topic है जिसे हम बचपन से पढ़ते आ रहे हैं. पर exam point of view से आज हम इन ages के बारे … Read More

विजयनगर साम्राज्य की स्थापना – Vijayanagara Empire

Dr. SajivaAncient History, History1 Comment

मुहम्मद तुगलक के शासनकाल (1324-1351 ई.) के अंतिम समय में (उसकी गलत नीतियों के कारण) जब अधिकाँश स्थानों पर अव्यवस्था फैली और अनेक प्रदेशों के शासकों ने स्वयं को स्वतंत्र घोषित कर दिया तो दक्षिण के हिन्दू भी इससे लाभ उठाने से नहीं चूके. उन्होंने विजयनगर साम्राज्य (Vijayanagar Empire) की स्थापना सन 1336 ई. में पाँच भाइयों (हरिहर, कंपा प्रथम, … Read More

महासागर के भौगोलिक प्रदेश – Continental Shelves, Slopes and Deep Sea

Sansar LochanGeography, विश्व का भूगोल5 Comments

महासागर को तीन भगौलिक प्रदेशों में बाँटा जा सकता है – 1. महादेशीय निधायों का प्रदेश (Continental Shelves) 2. महादेशीय ढलानों (Continental Slope/slopes) का प्रदेश, और 3. अथाह समुद्री तल (Deep Sea Floor) प्रदेश. चलिए जानते हैं इन सभी के बारे में in Hindi. महादेशीय निधाय (Continental Shelf) Continental Shelf यद्यपि समुद्र से सम्बन्ध रखता है पर यह अन्य दो … Read More

IAS Level History Questions (MCQ) in Hindi

Sansar LochanQuiz8 Comments

नीचे IAS परीक्षा के लिए History Questions दिए गए हैं. इस Quiz को ध्यान से खेलें क्योंकि इसमें आप Top Scorer बन सकते हैं और आपका नाम हमारे साइट पर आएगा. इन प्रश्नों का level थोड़ा moderate है क्योंकि यह ख़ास Civil Services Exam के लिए बनाया गया है. Play Sansar Quiz in Hindi. टोटल टाइम : 7 Minutes Summary … Read More

बिंदुसार (298 ई.पू. – 273 ई.पू.) का जीवन

Dr. SajivaAncient History, History1 Comment

बिंदुसार

चन्द्रगुप्त के बाद उसका पुत्र बिंदुसार (Bindusara) सम्राट बना. आर्य मंजुश्री मूलकल्प के अनुसार जिस समय चन्द्रगुप्त ने उसे राज्य दिया उस समय वह अल्प-व्यस्क था. यूनानी लेखकों ने उसे अमित्रोचेडस (Amitrochades) अथवा अमित्राचेटस (Amitrachates) या अलित्रोचेडस (Allitrochades) के नाम से पुकारा है. विद्वानों के अनुसार इन शब्दों का संस्कृत रूप अमित्रघात अथवा अमित्रखाद (शत्रुओं का विनाश करने वाला) है. … Read More

भारत पर हूणों का आक्रमण और उसका प्रभाव- Huna Invasions Explained

Dr. SajivaAncient History, History2 Comments

hun_envasion

आज हम इस पोस्ट में जानने कि कोशिश करेंगे कि हूण कौन थे, ये कहाँ से आये और भारत पर इनके आक्रमण (Huna Invasion) से भारतीय राजनीतिक और सांस्कृतिक जीवन पर क्या प्रभाव पड़ा? हूण कौन थे? हूण मूलतः मध्य एशिया की एक जंगली और बर्बर जाति थे. जनसंख्या बढ़ जाने के कारण और कुछ अन्य कारणों से उनको मध्य … Read More

तमिल भाषा और संगम साहित्य – Sangam Sahitya in Hindi

Dr. SajivaAncient History, HistoryLeave a Comment

sangam_sahitya

दक्षिण भारत की सर्वाधिक प्राचीन भाषा संभवतः तमिल थी. विद्वानों की राय है कि संभवतः स्थानीय भाषाओं के रूप में यहाँ तेलगु, मलयालम और कन्नड़ भाषाएँ भी प्रयोग में आती रहीं. वैदिक संस्कृति से सम्पर्क के बाद यहाँ संस्कृत भाषा के अनेक शब्द अपनाए गए और ई.पू. तीसरी शताब्दी में 44 वर्णों पर आधारित एक लिपि का विकास किया गया. … Read More