नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइन

Sansar LochanInternational AffairsLeave a Comment

स्वीडन के तट रक्षकों ने 29 सितंबर को कहा कि उन्होंने बाल्टिक के माध्यम से रूस से यूरोप तक गैस ले जाने के लिए डिज़ाइन की गई नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइनों (नॉर्ड स्ट्रीम 1 और नॉर्ड स्ट्रीम 2) में बोर्नहोम (Bornholm) द्वीप के करीब चौथा रिसाव देखा है। स्वीडिश नेशनल सिस्मिक नेटवर्क के अनुसार यह रिसाव पाइपलाइन के निकट हुए दो विस्फोटों के कारण हो सकता है। हालाँकि अभी तक रिसाव के कारणों की जाँच जारी है, लेकिन गुरुवार को जारी एक बयान में, NATO ने कहा कि पाइपलाइन में रिसाव “जानबूझकर किये गये कृत्यों का परिणाम” था और उसने अपने सहयोगियों के महत्त्वपूर्ण बुनियादी ढांचे के खिलाफ किसी भी हमले के लिए “एकजुट और दृढ़ प्रतिक्रिया” का वादा किया।

नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइन क्या है?

नॉर्ड स्ट्रीम 1 एक 1,222 किमी पानी के भीतर गैस पाइपलाइन है जो उत्तर पश्चिमी रूस में वायबोर्ग से बाल्टिक सागर के माध्यम से पूर्वोत्तर जर्मनी में लुबमिन तक चलती है। इसका अधिकांश भाग “गज़प्रोम” (रूस की बहुराष्ट्रीय ऊर्जा निगम) के स्वामित्व में है. यह प्राथमिक नेटवर्क है जिसके माध्यम से गैस जर्मनी तक पहुँचती है। अधिकांश गैस सीधे जर्मनी जाती है, जबकि शेष अन्य देशों के तटवर्ती लिंक के माध्यम से पहुंचाई जाती है।

nord stream pipeline

Source: Indian Express

नॉर्ड स्ट्रीम 1 

नॉर्ड स्ट्रीम 1 एक 1,222 किलोमीटर लंबी पाइपलाइन है जो बाल्टिक सागर के माध्यम से रूस में व्यबोर्ग (Vyborg) से जर्मनी में ग्रिफ्सवाल्ड (Greifswald) तक फैली हुई है। पाइपलाइन वर्ष 2011 से संचालित है, इस पाइपलाइन से जर्मनी को सालाना 55 बिलियन घन मीटर गैस की आपूर्ति की जा रही है।

नॉर्ड स्ट्रीम 2

नॉर्ड स्ट्रीम 2 के निर्माण की शुरुआत वर्ष 2018 में हुई थी, सितम्बर 2021 में इसे पूरा कर लिया गया था। यह रूस में उस्त-लुगा (Ust-Luga) से जर्मनी में ग्रिफसवाल्ड (Greifswald) तक विस्तृत है।

ज्ञातव्य है कि अब नॉर्ड स्ट्रीम 1 एवं 2 के माध्यम से, जर्मनी को प्रतिवर्ष 110 बिलियन क्यूबिक मीटर गैस की आपूर्ति की जाएगी, अत: यह पाइपलाइन जर्मनी की ऊर्जा आवश्यकता को पूरा करने के लिए बहुत जरूरी है।

रूस से यूरोप को गैस आपूर्ति करने के लिए एक पाइपलाइन पहले से मौजूद है जो यूक्रेन और पोलैंड से होकर गुजरती है तथा जिसके लिए रूस को प्रतिवर्ष लगभग 1.2 बिलियन डॉलर की ट्रांजिट फ़ीस इन देशों को देनी पड़ती है। अब नॉर्ड स्ट्रीम 2 के बनने से रूस को वैकल्पिक मार्ग मिल जायेगा.

अमेरिका क्यों नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइन का विरोध करता है?

अमेरिका आरम्भ से ही नॉर्ड स्ट्रीम 2 पाइपलाइन का आलोचक रहा है। उसका मानना है कि इस पाइपलाइन से प्राकृतिक गैस के लिए रूस पर यूरोप की निर्भरता बढ़ेगी, जिससे रूसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन का हौसला बढ़ेगा। उल्लेखनीय है कि वर्तमान में, यूरोपीय संघ के सदस्य प्राकृतिक गैस के लिए अपनी 40% आवश्यकताओं के लिए रूस पर निर्भर हैं।

हालांकि, चूंकि नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइनों का बहुमत रूस के गज़प्रोम द्वारा नियंत्रित किया जाता है, यह स्पष्ट नहीं है कि मॉस्को बुनियादी ढांचे को नुकसान क्यों पहुंचाएगा, जिसमें इसकी बहुसंख्यक हिस्सेदारी है. रूस का आरोप है कि पाइपलाइनों के बंद होने से अमेरिका को बहुत कुछ मिल सकता है, क्योंकि वह ऊर्जा का बड़ा निर्यातक बन सकता है। हालांकि, संयुक्त राज्य अमेरिका ने यदि यह कृत्य किया है तो वह यूरोपीय देशों, विशेष रूप से अपने स्वयं के नाटो सहयोगियों के साथ अपने करीबी संबंधों को तोड़ देगा।

पर्यावरण पर खतरा

वैज्ञानिकों का कहना है कि रूस और यूरोप के बीच चलने वाली क्षतिग्रस्त नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइनों से निकलने वाली मीथेन के परिणामस्वरूप गैस रिसाव होने की संभावना है. बाल्टिक सागर में स्वीडिश आर्थिक क्षेत्र में नॉर्ड स्ट्रीम 1 से काफी गैस रिसाव हो रहा है जिससे जलवायु पर हानिकारक प्रभाव पड़ेगा। यह कार्बन डाइऑक्साइड की तुलना में 82.5 गुना अधिक शक्तिशाली है जो सूर्य की गर्मी को अवशोषित करता है और अल्पावधि में पृथ्वी को गर्म करता है। 

बाल्टिक सागर में समुद्री जीवन और मत्स्य पालन और मानव स्वास्थ्य को तत्काल नुकसान भी होगा क्योंकि बेंजीन और अन्य ट्रेस रसायन आमतौर पर प्राकृतिक गैस में विद्यमान होते हैं। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि पाइप लाइन से निकलने वाली कुल मीथेन का 50 फीसदी से लेकर करीब 100 फीसदी तक वायुमंडल में पहुंच जाएगा। 

Click here to read > International Relations Notes in Hindi

Print Friendly, PDF & Email
Read them too :
[related_posts_by_tax]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.