MOXIE कर रहा है मंगल ग्रह में ऑक्सीजन उत्पादन

Sansar LochanScience TechLeave a Comment

हाल ही में प्रकाशित एक अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने बताया कि वर्ष 2021 के अंत तक, MOXIE सात विभिन्न प्रयोगों के दौरान ऑक्सीजन का उत्पादन करने में सक्षम रहा. 

इसने विभिन्‍न वायुमंडलीय परिस्थितियों, जैसे- दिन और रात के दौरान, और मंगल ग्रह के विभिन्‍न मौसमों, विभिन्न तापमानों के दौरान सफलतापूर्वक ऑक्सीजन का उत्पादन किया।

moxie mars

MOXIE के बारे में

  • MOXIE, परसीवेरेंस (Perserverance) रोवर के साथ मंगल ग्रह पर भेजा गया.
  • MOXIE का पूरा नाम है –  ‘Moxie – the Mars Oxygen In-Situ Resource Utilization Experiment’.
  • यह कार की बैटरी के आकार का एक गोल्डन बॉक्स है। उपकरण का वर्तमान संस्करण Perseverance रोवर पर फिट होने के लिए डिज़ाइन किया गया है इसलिए इसका आकार छोटा है. 
  • इसे मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (MIT) द्वारा डिजाइन किया गया था।
  • यह कार्बन डाई ऑक्साइड अणुओं को कार्बन और ऑक्सीजन में विभाजित करने के लिए बिजली और रसायन का उपयोग करता है।
  • इस प्रक्रिया में, यह एक अतिरिक्त उत्पाद के रूप में कार्बन मोनोऑक्साइड का उत्पादन करता है।
  • इस प्रकार MOXIE पृथ्वी पर एक वृक्ष की भांति, कार्बन डाइऑक्साइड का अवशोषण करता है और ऑक्सीजन का उत्सर्जन करता है। इसे “मैकेनिकल ट्री” भी कहा जाता है।
  • MOXIE ने अपने पहले परीक्षण में 5 ग्राम ऑक्सीजन का उत्पादन किया था। यह एक सामान्य गतिविधि करने वाले अंतरिक्ष यात्री के लिए दस मिनट तक सांस लेने के लिए ऑक्सीजन के बराबर है।
  • MIT के वैज्ञानिकों के अनुसार, MOXIE का एक टन संस्करण 25 टन ऑक्सीजन का उत्पादन करे में सक्षम है।

क्या आप जानते हैं?

मंगल ग्रह के वातावरण में 96% कार्बन डाइऑक्साइड है, जो ऑक्सीजन पर निर्भर रहने वाले मनुष्यों के लिए मददगार नहीं है। मंगल ग्रह का वायुमंडल, पृथ्वी के वायुमंडल से कहीं अधिक परिवर्तनशील है। हवा के घनत्व में 2 डिग्री का उतार-चढ़ाव और तापमान में 100 डिग्री का उतार-चढ़ाव देखने को मिलता है.

महत्त्व

  • MOXIE बाद में मंगल ग्रह पर पहुँचने वाले मनुष्यों के साँस लेने एवं अंतरिक्ष यात्रियों को पृथ्वी पर वापस लाने के लिए एक रॉकेट को ईधन देने के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन का उत्पादन कर सकेगा।
  • मंगल ग्रह पर MOXIE द्वारा ऑक्सीजन उत्पादन, “इन-सीटू रिसोर्स यूटिलाइजेशन” का पहला प्रदर्शन भी है, जो कि संसाधन (जैसे ऑक्सीजन) बनाने के लिए अन्य ग्रह की सामग्री (इस मामले में, मंगल ग्रह पर कार्बन डाइऑक्साइड) का उपयोग करने का विचार है।

Read all articles: Science Notes for UPSC in Hindi

Read them too :
[related_posts_by_tax]

Leave a Reply

Your email address will not be published.