लोन वुल्फ क्या है? जानिए क्या होता है Lone Wolf Attack – Sansar Editorial

Sansar LochanSansar Editorial 2018Leave a Comment

lone wolf attack
Print Friendly, PDF & Email

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने बताया है कि देश में साम्प्रदायिक समरसता को सबसे बड़ा खतरा ऐसे आतंकवादियों से है जो स्वयं अपनी ही पहल पर आतंकवाद की घटनाओं को अंजाम देते हैं. ऐसी घटनाओं को “Do It Yourself (DIY)” अथवा “lone wolf attack” कहते हैं. गृहमंत्री ने इस बात की आवश्यकता जतलाई है कि सोशल मीडिया या ऑनलाइन प्लेटफार्म के माध्यम से कट्टरता (radicalization) को मिल रहे बढ़ावे की रोकथाम के लिए एक ऐसा समर्पित कोषांग (cell) बनाया जाए जो इन पर नजर रख सके.

जैसा कि हम जानते हैं फ़्रांस, जर्मनी, इंग्लैंड आदि देशों में गत वर्ष lone wolf की कई घटनाएँ घट चुकी हैं जिनमें जान-माल की क्षति हुई है. भारत में इस प्रकार की घटना घट सकने की संभावना प्रबल है. गृह मंत्री के इस विचार पर आगे की कार्रवाई करते हुए Investigation Buero (IB) ने एक ऐसी विशेष इकाई बनाने का प्रस्ताव रखा है जो lone wolves के बारे में data जमा करे और प्राप्त सूचनाओं को समय पर केन्द्रीय सुरक्षा एजेंसियों और राज्य पुलिस को मुहैया कराए.

Lone Wolf Attacks

  1. Lone wolf attack करने वाले अक्सर छोटे हथियार रखते हैं, जैसे चाकू, ग्रेनेड आदि.
  2. कई मामलों में ट्रकों और वैनों का भी प्रयोग लोगों को कुचलने में किया गया है.
  3. लोन वुल्फ अटैक में कई बार एक छोटा ग्रुप भी दहशत मचाता है.
  4. ISIS के आतंकी अक्सर ऐसे हमले करते हैं. ISIS कई देशों में “लोन वुल्फ अटैक” के जरिये हमला कर चुका है.
  5. इनके हमले का पता लगाना बहुत मुश्किल होता है.
  6. इन आतंकियों की कोई chain नहीं होती है. ये ग्रुप लीडर से जुड़े बिना ही हमला करते हैं.

अब तक लोन वुल्फ अटैक कहाँ-कहाँ हुए हैं?

  1. अक्टूबर 2017 में अमेरिका के मैनहटन शहर में ट्रक से चढ़ाई करके कई लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया था.
  2. अगस्त 2017 में स्पेन के बार्सिलोना में भीड़ पर वैन चढ़ा दी गई थी जिससे 13 लोगों की मौत हुई थी और 130 जख्मी हुए थे.
  3. जून 2017 में लंदन ब्रिज पर पैदल चल रहे लोगों पर वैन चढ़ा दी गई थी जिससे 7 की मौत हो गई थी और 48 जख्मी हुए थे.
  4. अप्रैल 2017 में स्वीडन के स्टॉकहोम में फुटपाथ पर गाड़ी से चढ़ाई की गई जिससे 5 की मौत हो गई और 14 जख्मी हुए थे.
  5. दिसम्बर 2016 में जर्मनी के बर्लिन में ट्रक से हमला किया गया जिससे 12 की मौत हो गई और 56 जख्मी हुए थे.
  6. जुलाई 2016 में फ़्रांस के नीस शहर में भीड़ पर ट्रक से हमला हुआ था जिससे 84 लोगों की मौत हो गई थी और 400 जख्मी हुए थे.

Read more articles from Sansar Editorial >> Sansar Editorial 2018

Books to buy

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.