भारत और मलेशिया के बीच पाम तेल की कूटनीति

Sansar LochanIndia and non-SAARC countriesLeave a Comment

भारत सरकार ने कच्चे पाम तेल (crude palm oil – CPO) और प्रसंस्कृत, श्वेतिकृत एवं निर्गंधीकृत [refined, bleached and deodorised (RBD) palm oil] पाम तेल पर लगने वाले आयात शुल्क को घटा दिया है और साथ ही RBD तेल को आयात सूची में “निःशुल्क की श्रेणी” से निकालकर “प्रतिबंधित श्रेणी” में डाल दिया है.

मामला क्या है?

माना जा रहा है कि भारत सरकार ने यह कार्रवाई मलेशिया के प्रधानमंत्री महाथिर बिन मुहम्मद के उस बयान की प्रतिक्रियास्वरूप की है जिसमें भारत के जम्मू-कश्मीर और नागरिकता से सम्बंधित अधिनियमों की आलोचना की गई थी.

स्मरण रहे कि मलेशिया 2017 से इस्लामी उपदेशक जाकिर नायक को शरण दिए हुए है, जिसपर मनी लौन्डरिंग, घृणा भाषण, आतंकियों से सम्बन्ध आदि आरोप हैं और जिसे भारत सरकार कार्रवाई के लिए भारत में लाना चाहती है.

क्यों और कैसे यह निर्णय मलेशिया को प्रभावित करेगा?

  • इंडोनेशिया और मलेशिया मिलकर विश्व का 85% पाम तेल उत्पन्न करते हैं और भारत पाम तेल के सबसे बड़े क्रेताओं में से एक है.
  • मलेशिया जितना पाम तेल उत्पन्न करता है, उतना ही पाम तेल वह प्रसंस्कृत भी कर लेता है. इसलिए मलेशिया प्रसंस्कृत पाम तेल का निर्यात करने के लिए तत्पर रहता है. दूसरी ओर, इंडोनेशिया के पास प्रसंस्करण की क्षमता कम है, अतः वह केवल कच्चा पाम तेल ही भारत को भेज सकता है.
  • भारत ने 2019 में मलेशिया से पाम तेल का आयात कम कर दिया था और मलेशिया में उत्पन्न कच्चे पाम तेल का मात्र 23% ही ख़रीदा था. इस कारण मलेशिया के पाम तेल का फ्यूचर जनवरी 10 और जनवरी 17 के बीच 10% गिर गया था. यदि भारत प्रसंस्कृत तेल के आयत के लिए लाइसेंस निर्गत नहीं करेगा तो मलेशिया को अपने उत्पाद के लिए लिए नए क्रेताओं को ढूँढना पड़ जाएगा.

भारत पर इस कदम का प्रभाव

भारत में लोग पाम तेल का व्यवहार नहीं करते हैं. यहाँ कच्चा पाम तेल आयात से आता है. अतः प्रसंस्कृत पाम तेल का आयात घटाने से भारत की खाद्य मुद्रा स्फीति पर कोई तत्काल प्रभाव नहीं पड़ेगा.

भारत को इतना पाम तेल क्यों चाहिए?

  • पाम तेल ऐसा प्राकृतिक रूप से उपलब्ध तेल है जो सबसे सस्ता पड़ता है.
  • पाम तेल लगभग स्वादरहित होता है इसलिए इसका बेक की गई सामग्रियों से लेकर तले हुए स्नैक आदि में सरलता से प्रयोग किया जाता है.
  • पाम तेल ऊचे तापमान पर भी अपेक्षाकृत स्थिर रहता है और इसलिए दुबारा उपयोग और गहन तड़के (deep frying) के लिए उपयुक्त होता है.
  • हाइड्रोजनेटेड वनस्पति तेल का मुख्य अवयव पाम तेल ही होता है.

Tags : Import duty on palm oil cut in Hindi.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.