[History Mains] के लिए Practice Questions for GS और Optional

Dr. SajivaHistory, History Q n A7 Comments

upsc_meme

जिन सौभाग्यशाली और मेहनती छात्रों ने UPSC Prelims clear करके Mains में प्रवेश किया है, उनको बधाई. जिनका history as optional subject है, उनके लिए भी यह पोस्ट important है. साथ ही साथ History GS Paper 1 के लिए भी ये सारे सवाल आपके काम आयेंगे. मैं हर practice question के बाद एक लिंक दूँगा जो आपको सवाल से सम्बंधित article पर ले जाएगी. घर बैठकर अच्छे से लिखने की प्रैक्टिस करें क्योंकि जब तक आपका लिखने में हाथ नहीं खुलेगा, mains clear करना आपके लिए ख्वाब बन कर रह जायेगा. आप चाहें तो कमेंट में ही एक दो सवाल के आंसर लिख कर दे सकते हैं ताकि मैं check कर सकूँ

Modern History

  1. उन परिस्थितियों का विश्लेषण कीजिये जिनके कारण भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का जन्म हुआ. (Ref article: कांग्रेस का जन्म)
  2. दादाभाई नौरोजी के धन सिद्धांत के उद्देश्य और उनकी कार्यप्रणाली की विवेचना कीजिये. (Ref article: दादाभाई नौरोजी)
  3. स्वतंत्रता संग्राम के दौरान समाचार पत्रों और पत्रिकाओं की क्या भूमिका रही, इसकी समीक्षा कीजिये. (Ref article: National Movement Newspapers)
  4. भारतीय राजनीति में 20वीं सदी की प्रथम शताब्दी में उग्रवादियों द्वारा अपनाए गए उद्देश्यों, सिद्धांतों और उनकी कार्य-प्रणालियों का विश्लेषण करें. (Ref article: उग्रवाद का उदय)
  5. “बंगाल विभाजन कर्जन के शासनकाल की सबसे बड़ी भूल थी.” इस कथन की समीक्षा करें और बतायें कि इसका भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन पर क्या प्रभाव पड़ा? (Ref article: बंगाल विभाजन)
  6. बंगाल-विभाजन (1905 ई.) के कारणों और परिणामों की विवेचना कीजिये. (Ref article: बंगाल विभाजन)
  7. भारतीय स्वतंत्रता-संग्राम में लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक की भूमिका का मूल्यांकन कीजिये. (Ref article: बाल गंगाधर तिलक)
  8. लाला लाजपत राय के जीवन और भारतीय इतिहास में उनका क्या स्थान था? इसकी विवेचना करें. (Ref article: लाला लाजपत राय)
  9. स्वराज दल की स्थापना किस परिस्थिति में हुई और उसका पतन इतनी जल्द ही क्यों हो गया? अपने शब्दों में समीक्षा करें. (Ref article: स्वराज दल)
  10. 1909 ई. के मार्ले-मिन्टो सुधार के मुख्य प्रावधानों की विवेचना कीजिये. (Ref article: मार्ले-मिन्टो सुधार)
  11. गाँधीजी के असहयोग आन्दोलन (Non-cooperation movement) शुरू करने के पीछे सबसे प्रमुख क्या कारण था? (Ref article: असहयोग आन्दोलन)
  12. 1919 ई. के मोंटेग्यू-चेम्सफोर्ड सुधारों की मुख्य विशेषताएँ क्या हैं? विवेचना करें. (Ref article: Montague-Chelmsford)
  13. रोलेट एक्ट में क्या प्रावधान थे? यह एक्ट किस प्रकार जालियाँवाला बाग़ हत्याकांड का कारण बना? (Ref article: Rowlatt Act)
  14. मुस्लिम लीग की स्थापना क्यों हुई? इसने भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन को कैसे प्रभावित किया? (Ref article: Muslim League)
  15. महात्मा गाँधी की ग्यारह सूत्री योजना क्या थी? (Ref article: 11 सूत्रीय योजना)
  16. खिलाफत आन्दोलन और चंपारण के किसान आन्दोलन में गांधी जी के भूमिका का वर्णन करें. (Ref article: खिलाफत आन्दोलन और चंपारण आन्दोलन)
  17. चंपारण आन्दोलन और खेड़ा सत्याग्रह किस तरह सामान थे? उदाहरण के साथ चर्चा करें. (Ref article: चंपारण आन्दोलन और खेड़ा सत्याग्रह)
  18. सविनय अवज्ञा आन्दोलन के स्वरूप और महत्त्व का परिक्षण कीजिये. (Ref article: सविनय अवज्ञा आन्दोलन)
  19. 1935 ई. के भारत सरकार अधिनियम के दोष और भारतीयों की प्रतिक्रिया पर प्रकाश डालें.
  20.  1935 ई. से 1947 ई. तक भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन के इतिहास की चर्चा करें. (Ref article: राष्ट्रीय आन्दोलन)
  21. भारतीय समस्या का समाधान करने के लिए कैबिनेट आयोग द्वारा की गई सिफारिशों का विश्लेषण करें. (Ref article: Cabinet Mission)
  22. भारत के विभाजन के कारणों और परिणामों का वर्णन कीजिये. (Ref article:भारत का विभाजन)

आगे भी यह पोस्ट updated होते रहेगा…(Topics included: आधुनिक, मध्यकालीन और प्राचीन इतिहास)

वैसे History के सभी नोट्स नीचे दिए गए लिंक पर उपलब्ध हैं >>

[stextbox id=’info’ color=’362e2e’ bgcolor=’f2fa7f’ bgcolorto=’ed9715′] History Notes in Hindi[/stextbox]

Books to buy

7 Comments on “[History Mains] के लिए Practice Questions for GS और Optional”

      1. Que- दादाभाई नौरोजी के धन निष्कासन सिध्दांत के उद्देश्य और उनकी कार्यप्रणाली की विवेचना कीजिये?
        Ans- दादाभाई नौरोजी ने 1868 में प्रकाशित अपनी पुस्तक ‘दी पॉवर्टी एन अनब्रिटिश रूल इन इंडिया’ में धन निष्कासन के सिद्धांत का प्रतिपादन किया था।
        – दादाभाई के द्वारा धन निकासी का सिद्धांत-
        1-ब्रिटिश बलपूर्वक बहुत सी वस्तुएं यूरोप ले जा रहे थे इससे उन्हें बहुत ज्यादा आमदनी होती थी
        2-भारतीय व्यापारियों को वस्तुओं के बेचने पर कुछ लाभ नही होता था क्योंकि उनके ऊपर बहुत से कर आरोपित थे और वस्तु का मूल्य भी उचित नही मिलता था
        3-इंग्लैंड जाने वाला सैनिक भी बहुत धन लेके जाता धन केवल सामान के रूप में ही नही बल्कि धातु के रूप में भी ।
        4- भारत से लूटा धन इंग्लैंड के लोग इसे अप्रत्यक्ष उपहार समझते थे।
        -धन निकासी का प्रमुख स्रोत-
        1-ब्रिटिश कर्मचारियों के वेतन भत्ते
        2- बोर्ड ऑफ कंट्रोल और बोर्ड ऑफ डायरेक्टर का वेतन
        3- कम्पनी की देनदारियां
        4- उपहार से मिला धन
        5- निजी व्यापार से प्राप्त धन
        6- रक्षा का बजट ज्यादा
        7- भारतीय पूंजीपतियों से धन का निष्कासन
        धन निकासी सिध्दांत के माध्यम से दादाभाई नौरोजी ने भारत मे राष्ट्रीय आय की गणना की जिसमे भारत मे एक वर्ष में प्रतिव्यक्ति आय 20 रुपये बताई । अर्थव्यवस्था की खस्ता हालत गिरता जीवन स्तर और बढ़ती गरीबी के बारे में बताया अग्रेजो ने इस तरह शोषण किया था हमारे संसाधनों का की एक ब्रिटिश अधिकारी ने खुद कहा कि”हमारी सिस्टम एक स्पंज की तरह कार्य करती है जो गंगा नदी का पानी सोख कर टेम्स नदी के गिराती है”।

Leave a Reply

Your email address will not be published.