जिला खनिज फाउंडेशन (DMF)

Sansar LochanPolity Current AffairsLeave a Comment

खान मंत्रालय के नवीनतम आँकड़ों के अनुसार, देश के 23 राज्यों के 622 जिलों में जिला खनिज फाउंडेशन (District Mineral Foundation – DMF) का गठन हो गया है.

यूपीएससी सिलेबस: वैधानिक, नियामक और विभिन्न अर्ध-न्यायिक निकाय।

जिला खनिज फाउंडेशन (DMF) क्या हैं?

ये लाभरहित न्यास हैं  जो 2015 के खान एवं खनिज संशोधन अधिनियम के द्वारा गठित हुए हैं. इनका उद्देश्य खनन से दुष्प्रभावित लोगों और क्षेत्रों के हितों की रक्षा करना और उन्हें लाभ पहुँचाना है. DMF सम्बंधित राज्य सरकार के अधिकार क्षेत्र के अधीन आता है.

DMF के उच्च प्राथमिकता वाले विषय

प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना के अनुसार DMF का प्रयोग जिन उच्च प्राथमिकता वाले मामलों में होना चाहिए, वे हैं – पेयजल, स्वास्थ्य, महिला एवं बाल कल्याण, शिक्षा, आजीविका एवं कौशल विकास, वृद्ध एवं दिव्यांग कल्याण, स्वच्छता.

DMFT क्या है?

DMFT की स्थापना छत्तीसगढ़ के सभी जिलों में की गई है. इसमें एक प्रशासी परिषद् और एक प्रबंधन समिति होती है जिनको अलग-अलग उत्तरदायित्व सौंपा गया है. इस परिसर और समिति के गठन के पीछे यह भावना थी कि निर्णय लेते समय संतुलन हो सके. परिषद् और समिति दोनों का प्रमुख जिला कलेक्टर होता है. इसमें कुछ अन्य सदस्य भी होते हैं जो या तो अधिकारी होते हैं या चुने हुए प्रतिनिधि. इसमें खनन से दुष्प्रभावित लोगों का कोई प्रतिनिधित्व नहीं होता है.

Click here for – Polity Notes in Hindi

Read them too :
[related_posts_by_tax]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.