[COVID-19] जैव-चिकित्सा अपशिष्ट निपटान – जैव-चिकित्सा अपशिष्ट प्रबंधन नियमवाली, 2016

Sansar LochanPollutionLeave a Comment

NGT raises concern over COVID-19 bio-medical waste disposal राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (National Green Tribunal – NGT) ने राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और प्रदूषण नियंत्रण समिति से कोरोना वायरस के इलाज के दौरान निकलने वाले जैव-चिकित्सा अपशिष्ट के अवैज्ञानिक निपटान से होने वाले संभावित जोखिम को रोकने के लिए निर्देश जारी किए हैं. चिंता का विषय अप्राधिकृत स्वास्थ्य सेवा प्रतिष्ठानों द्वारा … Read More

ग्रेट इंडियन बस्टर्ड, एशियाई हाथी और बंगाल फ्लोरिकन संयुक्त राष्ट्र प्रवासी प्रजाति संधि के परिशिष्ट 1 में सम्मिलित

Sansar LochanBiodiversityLeave a Comment

Species included in Appendix I of UN Convention on Migratory Species गुजरात के गांधीनगर में चल रहे प्रवासी प्रजाति संधि के पक्षकारों के 13वें सम्मेलन में ग्रेट इंडियन बस्टर्ड, एशियाई हाथी और बंगाल फ्लोरिकन को संयुक्त राष्ट्र प्रवासी प्रजाति संधि के परिशिष्ट 1 (Appendix I of UN Convention on Migratory Species) में सम्मिलित करने का निर्णय लिया गया है. एशियाई … Read More

स्टेट ऑफ़ इंडिया बर्ड 2020 रिपोर्ट (SoIB)

Sansar LochanBiodiversityLeave a Comment

State of India’s Birds 2020 गुजरात के गाँधीनगर में चल रहे प्रवासी प्रजाति संधि (Convention on Migratory Species) के पक्षकारों के 13वें संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन के अवसर पर पिछले दिनों 10 संस्थानों एवं अनेक वैज्ञानिकों के द्वारा तैयार अनुसंधान पत्र निर्गत किया गया जिसे ‘State of India’s Birds 2020’ (SoIB) शीर्षक दिया गया है. इस अनुसंधान पत्र के किये आँकड़ों … Read More

जैव विविधता प्रबंधन समिति (BMC) क्या है? – गठन एवं कार्य

Sansar LochanBiodiversityLeave a Comment

Biodiversity management committees (BMC) राष्ट्रीय जैव विविधता प्राधिकरण (National Biodiversity Authority – NBA) राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण (National Green Tribunal) को यह निवेदन करने जा रहा है कि उसने जनवरी 2020 तक 243,499 जैव विविधता प्रबंधन समितियाँ (biodiversity management committees – BMC) तथा 95,525 जन जैव विविधता पंजियाँ (people’s biodiversity registers – PBR) बना ली हैं. पृष्ठभूमि राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण एक … Read More

फ्यूचर ऑफ अर्थ प्रतिवेदन – Future of Earth 2020

Sansar LochanClimate ChangeLeave a Comment

फ्यूचर ऑफ अर्थ प्रतिवेदन 2020 दक्षिण एशियाई फ्यूचर अर्थ प्रादेशिक कार्यालय के द्वारा 2020 का फ्यूचर ऑफ अर्थ प्रतिवेदन प्रकाशित हो गया है. यह प्रतिवेदन इस उद्देश्य से तैयार हुआ है कि किस प्रकार कार्बन फुटप्रिंट घटाया जाए और 2050 तक वैश्विक तापमान को 2 डिग्री सेल्सियस से नीचे रोक दिया जाए. ज्ञातव्य है कि 2014 से 2018 के बीच … Read More

वैश्विक संरक्षण सूची, CMS संधि और बोन कन्वेंशन

Sansar LochanBiodiversityLeave a Comment

Global conservation list explained in Hindi एशियाई हाथ और ग्रेट इंडियन बस्टर्ड को वैश्विक संरक्षण सूची (Global conservation list) में  लाने के लिए भारत ने प्रयास करने की सोची है. विदित हो कि इस सूची में आने वाली प्रजाति का संरक्षण बहुत जोर-शोर से किया जाता है. वर्तमान में वैश्विक संरक्षण सूची (अपर नाम Appendix 1) में 173 प्रजातियाँ अंकित … Read More

सुरक्षित विशेष कृषि जोन – Protected Special Agricultural Zone (PSAZ)

Sansar LochanPollutionLeave a Comment

Protected Special Agricultural Zone (PSAZ) Explained in Hindi तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ने कावेरी डेल्टा को सुरक्षित विशेष कृषि जोन (Protected Special Agricultural Zone – PSAZ) घोषित कर दिया है. इसके लिए शीघ्र ही एक कानून बनाया जाएगा. सुरक्षित विशेष कृषि जोन (Protected Special Agricultural Zone – PSAZ) में तंजावुर, तिरुवरुर और नागपट्टनम जिले तथा त्रिची, अरियालुर, कुड्डलौर और पुडुकोट्टइ के … Read More

टिड्डियों का आक्रमण (locust attacks) – टिड्डे कैसे क्षति पहुँचाते हैं?

Sansar LochanBiodiversityLeave a Comment

Locust attacks – EXPLAINED IN HINDI पिछले कुछ सप्ताहों से पश्चिम और दक्षिण एशिया तथा पूर्व अफ्रीका के कई देशों में टिड्डियों का आक्रमण (locust attacks) देखा जा रहा है. इनसे कौन-से देश प्रभावित हो रहे हैं? संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (FAO) ने टिड्डियों के प्रकोप के तीन हॉटस्पॉट का पता लगाया है जहाँ परिस्थिति अत्यंत ही … Read More

रामसर स्थल क्या है? – रामसर संधि और मोंट्रेक्स रिकॉर्ड

Sansar LochanBiodiversity1 Comment

Ramsar sites in India भारत ने रामसर संधि द्वारा सुरक्षित स्थलों में 10 नई आर्द्रभूमियों को जोड़ दिया है. इस प्रकार रामसर संधि के अंतर्गत भारत में मान्यता प्राप्त स्थलों की संख्या 37 हो गई है. कौन 10 नए स्थल जोड़े गये हैं? नंदुर मदमेश्वर – महाराष्ट्र (1) केशोपुर-मियानी, ब्यास संरक्षण रिजर्व और नांगल – पंजाब (3) नवाबगंज, पार्वती आगरा, … Read More

पोलिक्रैक क्या है? – Polycrack technology Explained

Sansar LochanEnergyLeave a Comment

Polycrack technology Explained in Hindi पिछले दिनों ओडिशा में मंचेश्वर कैरेज रिपेयर वर्कशॉप में देश का पहला सरकारी कचरे से ऊर्जा उत्पादित करने वाला संयंत्र चालू किया गया. इस संयंत्र में पोलिक्रैक नामक एक पेटेंट-कृत तकनीक (Polycrack technology) अपनाई गई है. इस प्रकार का यह देश का चौथा और भारतीय रेलवे का पहला संयंत्र है. यह अनेक प्रकार के फीड … Read More